myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

पुदीने (पेपरमिंट) में एंटीमाइक्रोबायल गुण होते हैं। यह जड़ी बूटी औषधीय रूप से उपयोग की जाती है। कई अन्य जड़ी-बूटियों और औषधीय तेलों के विपरीत, पुदीने व पुदीने के तेल से स्वास्थ्य लाभों को शोध द्वारा साइंस ने भी सिद्ध किया है। यह तेल कैप्सूल और गोलियों के रूप में भी बेचा जाता है। वैकल्पिक तथा आधुनिक चिकित्सा में डॉक्टरों द्वारा देने की सलाह दी जाती है। पेपरमिंट तेल का उपयोग स्वाद बढ़ाने के लिए भी किया जा सकता है।

(और पढ़ें - पुदीने की चाय के फायदे)

  1. पुदीने के तेल के फायदे - Pudine ke Tel ke Fayde
  2. पुदीने के तेल के नुकसान - Pudine ke Tel ke Nuksan

पेपरमिंट तेल स्वास्थ्य लाभों से भरपूर होने के कारण अपच, सांस की समस्याओं, सिरदर्द, मतली, बुखार, पेट की समस्याओं के साथ साथ दर्द का इलाज करने में मदद करता है।

पुदीने के तेल में कई खनिज पदार्थ और पोषक तत्व पाए जाते हैं जिनमें मैंगनीज, लौह, मैग्नीशियम, कैल्शियम, फोलेट, पोटेशियम और कॉपर (तांबा) आदि शामिल हैं। इसमें ओमेगा -3 फैटी एसिड, विटामिन ए और विटामिन सी भी पाए जाते हैं। तो आइये जानते हैं इसके लाभों के बारे में:

(और पढ़ें - पेट की समस्याओं का इलाज)

  1. पुदीने के तेल के फायदे करें मसल्स के दर्द को दूर - Pudine ke tel ke fayde karen muscles ke dard ko dur
  2. पुदीने के तेल के लाभ है साइनस में - Pudine ke tel ke labh sinus ke liye
  3. पुदीने के तेल के गुण हैं एलर्जी में लाभकारी - Pudine ke tel ke gun hai allergy mein labhkari
  4. पुदीने के तेल का उपयोग करे बुखार में - Pudine ke tel ka upyog kare bukihar mein
  5. पुदीने के तेल का प्रयोग हैं मुहांसों में लाभकारी - Pudine ke tel ka pryog hai muhanson mein labhkari
  6. पुदीने के तेल के औषधीय गुण दिलाएं सिरदर्द से छुटकारा - Pudine ke tel ke aushdhiya gun dilayen sirdard se chutkara
  7. पुदीने के तेल का इस्तेमाल करें बालों के विकास में मदद - Pudine ke tel ka istemal karen balon ke vikas mein madad
  8. पेपरमिंट ऑयल के फायदे रखें पाचन को बेहतर - Pachan ko behtar rakhen pudine ke tel se
  9. पिपरमिंट तेल के फायदे करें तनाव को दूर - Pudine ke tel ka sewan hain tanav mein faydemand
  10. पिपरमेंट ऑयल के फायदे है मौखिक स्वास्थ्य में - Pudine ke tel ke sewan ke fayde moukhik swasthy ke liye
  11. पुदीना आयल के लाभ है खून साफ करने में - Peppermint oil for blood purification in hindi
  12. पुदीना तेल के फायदे रखे इम्यून सिस्टम को मजबूत - Immune system ko majboot rakhen pudine ke tel se

पुदीने के तेल के फायदे करें मसल्स के दर्द को दूर - Pudine ke tel ke fayde karen muscles ke dard ko dur

मसल्स में दर्द से राहत प्राप्त करने के लिए, पेपरमिंट आयल को बाहरी रूप से उपयोग किया जा सकता है। ऐसा माना जाता है कि पेपरमिंट आयल में मौजूद कैल्शियम अंटागोनिस्म प्रभावित क्षेत्रों से दर्द को दूर करने में मदद करता है। इसलिए चोट या घाव के मामले में, यह सूजन को कम करने और दर्द से छुटकारा पाने में मदद कर सकता है।

(और पढ़ें - मांसपेशियों में दर्द के घरेलू उपाय)

पुदीने के तेल के लाभ है साइनस में - Pudine ke tel ke labh sinus ke liye

पेपरमिंट या पुदीने के तेल में मेन्थॉल पाया जाता है जो श्वसन पथ को साफ कर सकता है। पुदीने के तेल की खुशबू में सांस लेने से साइनस के कारण, बंद नाक की समस्या से छुटकारा मिल सकता है। इसके साथ ही यह बंद नाक, अस्थमा, ब्रोंकाइटिस, सर्दी और खांसी सहित अन्य समस्याओं को रोकने में भी मदद करता है। आप इसे छाती पर भी लगा सकते हैं या बंद नाक खोलने के लिए इसे सांस के माध्यम से भी ले सकते हैं।

(और पढ़ें - साइनस के घरेलू उपाय)

पुदीने के तेल के गुण हैं एलर्जी में लाभकारी - Pudine ke tel ke gun hai allergy mein labhkari

पेपरमिंट तेल एलर्जी की समस्या को दूर करने के लिए लाभकारी हो सकता है। यदि आप लौंग के तेल और नीलगिरी के तेल के साथ पुदीने के तेल को मिक्स करके सूंघते हैं, तो आपको पराग कणों के कारण होने वाली एलर्जी की समस्या से छुटकारा मिल सकता है।

पुदीने के तेल को आप लैवेंडर तेल और नींबू के तेल के साथ मिलाकर भी एलर्जी का एक प्रभावी उपचार तैयार कर सकते हैं। हालांकि, इस तरह का कोई भी मिश्रण बनाने से पहले ये देख लें कि मिश्रण में उपयोग होने वाले किसी अन्य तेल से आपको एलर्जी तो नहीं है।

(और पढ़ें - एलर्जी होने पर क्या करें)

पुदीने के तेल का उपयोग करे बुखार में - Pudine ke tel ka upyog kare bukihar mein

पुदीने के तेल की तासीर ठंडी होती है और इसका उपयोग बुखार को कम करने के लिए किया जाता है। इसे अक्सर "गर्मी शांत करने वाला" कहा जाता है। क्योंकि इसमें किसी भी प्रभावित क्षेत्र को जल्दी से ठंडा करने वाले गुण होते हैं।

पुदीने के तेल को बुखार के लिए उपयोग करने का सबसे प्रभावशाली तरीका इससे छाती पर मालिश करना है। पुदीने के तेल के साथ किसी अन्य तेल को मिलाकर उपयोग करने से इसके प्रति सवेंदनशीलता वाले लोग किसी तरह की परेशानी या जलन से बच सकते हैं।

(और पढ़ें - बुखार भगाने के घरेलू उपाय )

पुदीने के तेल का प्रयोग हैं मुहांसों में लाभकारी - Pudine ke tel ka pryog hai muhanson mein labhkari

हमारे चेहरे पर एक छोटा सा पिंपल भी हमारे मूड और रात की नींद को खराब कर देता है। लेकिन ऐसे में आप पुदीने के तेल का सहारा ले सकते हैं। पेपरमिंट आयल में मेन्थॉल होता है, जो त्वचा के लिए बहुत ही लाभकारी होता है क्योंकि इससे ठंडक मिलती है। इसके अलावा, यह डल स्किन को पोषण देने और तैलीय त्वचा से बचाता है।

(और पढ़ें - तैलीय त्वचा के लिए घरेलू नुस्खे)

पुदीने के तेल में पाए जाने वाले एंटीमाइक्रोबायल गुण त्वचा को जीवाणुओं से मुक्त करके, मुंहासे से बचाने में मदद करते हैं। यह तेल त्वचा के लिए बहुत ही लाभकारी और सुरक्षित होता है क्योंकि यह मुंहासे की समस्या को जड़ से दूर करने के लिए जाना जाता है।

(और पढ़ें - मुंहासे हटाने के घरेलू उपाय)

पुदीने के तेल के औषधीय गुण दिलाएं सिरदर्द से छुटकारा - Pudine ke tel ke aushdhiya gun dilayen sirdard se chutkara

सिरदर्द से राहत पाने के लिए पुदीने का तेल सबसे अच्छे प्राकृतिक इलाज में से एक है। पेपरमिंट आयल में शांत रखने और सूजन को कम करने वाले गुण होते हैं। इन्हीं गुणों के कारण यह तेल मतली और सिरदर्द के लिए एक बहुत ही अच्छा घरेलू उपाय है। सिरदर्द को जल्दी से कम करने के लिए, इसे सीधे माथे पर लगाएं।

(और पढ़ें - सिर में दर्द हो तो क्या करें)

इस तेल के उपयोग से मतली और मॉर्निंग सिकनेस की समस्या को खत्म किया जा सकता है। इसके अलावा एक रूमाल पर इस तेल की कुछ बूंदों को छिड़कें और सिरदर्द से छुटकारा पाने के लिए रुमाल को सूंघें। यह उपाय माइग्रेन के साथ साथ तनाव से छुटकारा प्राप्त करने में प्रयोग किया जाता है। 2007 में किए गए एक अध्ययन के अनुसार, पुदीने के तेल द्वारा की गई 15 मिनट की मसाज से कुछ रोगियों में माइग्रेन के दर्द को कम करने में मदद मिली।

(और पढ़ें - सिर दर्द से छुटकारा पाने के उपाय)

 

पुदीने के तेल का इस्तेमाल करें बालों के विकास में मदद - Pudine ke tel ka istemal karen balon ke vikas mein madad

क्या समय के साथ साथ आपके बालों की गिनती कम हो रही है? क्या आपको गंजेपन का डर सता रहा है? तो ऐसे में आपको पुदीने के तेल का उपयोग करना चाहिए। क्योंकि पुदीने के तेल का उपयोग बालों के लिए लाभकारी साबित हो सकता है। यह तेल गंजेपन से पीड़ित लोगों में बालों को बढ़ाने और उन्हें चमकदार बनाने में मदद कर सकता है। पुदीने के तेल में एंटीसेप्टिक और री- जेनरेटिव गुण होते हैं जो सिर की त्वचा के रूखेपन (dry scalp) और जलन से छुटकारा दिलाने में मदद करते हैं। 

(और पढ़ें - रूखे बालों का इलाज)

पुदीने का तेल रक्त परिसंचरण को बढ़ाने में मदद करता है जिससे बालों के विकास को बढ़ाने में मदद मिल सकती है। यह सभी जरूरी पोषक तत्वों को प्रदान करने के साथ बालों की जड़ों को मजबूत बनाता है।

(और पढ़ें - बालों की देखभाल कैसे करें)

पेपरमिंट ऑयल के फायदे रखें पाचन को बेहतर - Pachan ko behtar rakhen pudine ke tel se

पुदीने का तेल अपच का इलाज करने में मदद कर सकता हैं। आप पुदीने के तेल का उपयोग, अपने भोजन में स्वाद बढ़ाने वाले तत्व के रूप में कर सकते हैं। इसके अलावा आप भोजन करने के बाद एक गिलास गर्म पानी में कुछ बूंद पुदीने का तेल डालकर पी सकते हैं। क्योंकि पेपरमिंट आयल में पेट की गैस को दूर करने वाले गुण होते हैं, इसलिए इसके सेवन से पेट की परेशानियों को कम करने में मदद मिल सकती है।

(और पढ़ें - अपच होने पर क्या करें)

इसके अलावा यह तेल उन लोगों के लिए भी एक टॉनिक के रूप में कार्य करता है जो भूख न लगना, सूजन, पेट में दर्द, मतली और पेट की समस्याओं का इलाज करना चाहते हैं। कुछ रिसर्च के अनुसार यदि जीरे के तेल के साथ पुदीने के तेल का सेवन किया जाए तो यह छाती की जलन के इलाज में मदद कर सकता है।

(और पढ़ें - पाचन शक्ति बढ़ाने के उपाय)

पिपरमिंट तेल के फायदे करें तनाव को दूर - Pudine ke tel ka sewan hain tanav mein faydemand

अन्य औषधीय तेलों की तरह, पुदीने के तेल में तनाव, अवसाद और मानसिक थकावट से राहत दिलाने वाले गुण होते हैं। पेपरमिंट आयल तनाव से छुटकारा दिलाने में लाभकारी साबित हो सकता है। पुदीने का तेल लंबे और थकाऊ दिन के बाद तनाव और दर्द को कम कर सकता है।

(और पढ़ें - थकान का इलाज)

अपने शरीर पर पेपरमिंट आयल की कुछ बूंदों से मसाज करें और उसके बाद स्नान करें। इस तेल के ताज़ा रखने वाले गुण आपको ऊर्जा प्रदान करेंगे और इसके शीतलन गुण शरीर के दर्द को दूर करने में मदद करेंगे। इसके अलावा, यह तेल मानसिक कार्य को बेहतर करने, दिमाग को शांत रखने और समझ या अनुभूति को बढ़ाने में मदद करता है।

(और पढ़ें - तनाव दूर करने के घरेलू उपाय)

पिपरमेंट ऑयल के फायदे है मौखिक स्वास्थ्य में - Pudine ke tel ke sewan ke fayde moukhik swasthy ke liye

पुदीने के तेल उपयोग लगभग हर टूथपेस्ट में स्वाद और ताजगी के लिए किया जाता है। यदि यह आपके टूथपेस्ट में नहीं है, तो आप इसे स्वयं अपने टूथपेस्ट में मिक्स कर सकते हैं। अपने टूथपेस्ट पर पेपरमिंट तेल की दो बूंदें रखें और इससे ब्रश करें। इससे मुंह की बदबू और दांतों की बदबू को दूर करने में मदद मिल सकती है। यह दांतों की देखभाल और हानिकारक रोगाणुओं के खिलाफ लड़ने का सबसे अच्छा तरीका है।

(और पढ़ें - मुंह की बदबू कैसे दूर करें)

पुदीने के तेल में एंटीसेप्टिक गुण होते हैं, जो सांसों की बदबू को ख़त्म, रोगाणुओं से लड़ने और दांतों की समस्याओं का इलाज करने में मदद करते हैं।

(और पढ़ें - दांतों का पीलापन दूर करने के उपाय)

पुदीना आयल के लाभ है खून साफ करने में - Peppermint oil for blood purification in hindi

पुदीने का तेल स्फूर्ति देने वाले गुणों से भरपूर होता है जो रक्त परिसंचरण को बढ़ाने में मदद करते हैं। इस तेल का उपयोग करने से यह शरीर के सभी अंगों को ऑक्सीजन पहुंचाने में मदद करता है। यह चयापचय को बढ़ाने, अल्जाइमर और डिमेंशिया जैसी बीमारियों को रोकने में मदद करता है।

(और पढ़ें - ब्लड सर्कुलेशन बढ़ाने के उपाय)

कुछ अध्ययनों से भी पता चला है कि पुदीने के तेल से मालिश करने पर नाड़ी की दर (पल्स रेट) और रक्त परिसंचरण को बढ़ाने में मदद मिली है।

(और पढ़ें - खून को साफ करने वाले आहार)

पुदीना तेल के फायदे रखे इम्यून सिस्टम को मजबूत - Immune system ko majboot rakhen pudine ke tel se

पुदीने के तेल में इम्युनिटी को मजबूत करने वाले गुण होते हैं। यह तेल व्यक्ति को विभिन्न बीमारियों से बचाने के लिए प्रतिरक्षा को मजबूत कर सकता है। कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले लोग, अक्सर बीमार रहते हैं। पुदीने के तेल में एंटीवायरल, जीवाणुरोधी और एंटीफंगल गुण भी होते हैं। इसी कारण इसका उपयोग कई प्रकार के वैकल्पिक उपचार करने के लिए किया जाता है।

(और पढ़ें - रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ाने के उपाय)

फायदों के साथ-साथ पुदीने के तेल के कुछ नुकसान भी हो सकते हैं, जैसे: 

  • इस तेल के सेवन से कुछ लोगों को एलर्जी हो सकती है। जिससे आपको जलन, जीभ में अकड़न और आपके मुंह में छाले हो सकता है।
  • इसके अधिक मात्रा में सेवन से छाती में जलन हो सकती है। (और पढ़ें - छाती में जलन के उपाय)
  • अधिक मात्रा में सेवन करने से आपको सिरदर्द की समस्या भी हो सकती है। (और पढ़ें - सिर दर्द होने पर क्या लगाना चाहिए)
  • पेपरमिंट आयल का उपयोग करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह जरूर करें। यदि आप बिना किसी सलाह के इस तेल का उपयोग कर रहे हैं तो आपको शुरुआत में इसकी बहुत कम खुराक लेनी चाहिए।

(और पढ़ें - मुंह के छाले दूर करने के उपाय)

और पढ़ें ...