myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

नहाने, स्विमिंग करने या मुंह धोने के बाद कई बार हमारे कानों में पानी चला जाता है। वैसे सामान्यतः कान में पानी चले जाने पर वह अपने आप ही बाहर आ जाता है, लेकिन कुछ मामलों में वह कान में भी रह सकता है। ऐसा एक या दोनों ही कानों में हो सकता है। हम सभी कभी न कभी इस तरह की समस्या का सामना करते रहते हैं। किसी भी तरह से कान में पानी जाने से सुनाई देने में परेशानी होने के साथ ही काफी असहजता भी हो सकती है।

कान में बाहरी नलिका में (outer ear canal) में पानी रह जाने से स्विमर्स इयर नामक संक्रमण होने की संभावना बढ़ जाती है। कान में पानी जाने पर व्यक्ति को कान के अंदरुनी हिस्से में गुदगुदी का अहसास होता है, जो उसके गले और जबड़े तक फैल सकता है। कान में पानी जाने पर होने वाली परेशानी से बचने के लिए व्यक्ति को किसी भी तरह की चीज जैसे – पेन, उंगली, पिन, रूई आदि का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

इस लेख में आपके कान में पानी जाने पर क्या करे इसके बारे में विस्तार से बताया गया है। साथ ही कान में पानी चला जाए तो कैसे निकाले, कान से पानी निकालने के उपाय, तरीके और विधि को भी विस्तार से बताने का प्रयास किया गया है। 

(और पढ़ें - कान में संक्रमण का इलाज)

  1. कान में पानी जाने पर क्या करना चाहिए - Kaan me pani jane par kya kare
  2. कान से पानी निकालने का तरीका - Kaan se pani nikalne ke tarika
  3. कान में पानी जाने पर कैसे निकाले - kaan me pani jane pr kaise nikale

कान में पानी जाने पर निकाले कान को हिलाना कर - Kaan me pani jane par nikale kaan ko hila kar

कान से पानी निकालने के लिए कई लोग सबसे पहले इसी उपाय को आजमाते है। दरअसल यह उपाय बेहद ही आसान होता है। इसके लिए आपको जिस कान में पानी गया है उसको नीचे की ओर करते हुए कान के निचले हिस्से (earlobe) को हल्के हाथों से हिलाना पड़ता है। अगर आपके दोनों ही कानों में पानी चला गया है तो आप इस उपाय को बारी बारी से दोनों कान के लिए आजमा सकते हैं।

(और पढ़ें - कान के रोग का इलाज)

कान में पानी घुस जाने पर करे मुंह खोलने या चबाने की क्रिया - Kaan me pani ghus jane par kare muh kholne aur chabane ki kirya

कान में पानी चला जाये तो आप किसी चीज को चबाने या उबासी लेने की तरह क्रिया करें। इससे आपके यूस्टेकियन ट्यूब (Eustachian tube) में तनाव कम होता है। यह ट्यूब कान के मध्य भाग से नाक के पिछले भाग तक जाती है, जो आपके वायु दबाव को नियंत्रित करती है। पानी आपकी यूस्टेकियन ट्यूब को बंद कर देता है, लेकिन इस क्रिया से यूस्टेकियन ट्यूब खुल जाती है और इसमें फंसा हुआ पानी बाहर आ जाता है।

इसमें आप तेज से सांस छोड़ने की क्रिया को भी अपना सकते हैं, इससे भी आपकी यूस्टेकियन ट्यूब खुलती है और कान का पानी बाहर निकल जाता है। इसको करने के लिए आपको नाक के नथुनो को उंगलियों की मदद से बंद करना होगा और गहरी सांस लेते हुए हवा को मुंह में भरना होगा। इसके बाद आप धीरे धीरे धीरे सांस को बाहर छोड़े, ऐसा करते समय आपको कान का पानी बाहर आने की आवाज सुनाई देगी, इसका मतबल होता है कि यूस्टेकियन ट्यूब दोबारा से खुल चुकी है। 

(और पढ़ें - कान में खुजली का इलाज)

कान में पानी घुस जाए तो करें गुरुत्वाकर्षण तकनीक का उपयोग - Kaan me pani ghus jaye to kare gravity force ka upyog

कान से पानी नहीं निकल पा रहा हो या आपको कान से पानी निकालने के बारे में ज्यादा कुछ पता नहीं हो तो आप इस तकनीक को अपना सकते है। यह तकनीक बेहद ही आसान है और कुछ ही मिनटों में आपको आराम प्रदान कर सकती है। इस तकनीक में कान से पानी निकालने के लिए गुरुत्वाकर्षण बल की मदद ली जाती है। गुरुत्वाकर्षण बल आपके कान में फंसे पानी को बाहर निकाल देता है।

इस उपाय को करने के लिए आपके जिस कान में पानी गया है उसी कान को नीचे की ओर करते हुए कुछ मिनटों के लिए जमीन पर लेटना होगा और ऐसा करते समय आप अपना सिर तौलिए पर रखें। इस प्रक्रिया में कान में फंसा हुआ पानी धीरे धीरे बाहर निकल जाता है।

(और पढ़ें - कान बहने का उपचार)

कान में पानी चला जाए तो करें गर्म सिकाई - Kaan se pani chala jaye to kare garam sikai

कान से पानी निकालने के लिए आपको गर्म सिकाई करनी चाहिए। प्रभावित कान की करीब 30 सेकेंड तक सिकाई करें और फिर एक मिनट के अंतराल में यही प्रक्रिया चार से पांच बार दोहराते रहें। कान की सिकाई करने के बाद आप कान को नीचे की ओर रखते हुए लेट जाएं इससे भी आपके कान का पानी बाहर आने में मदद मिलती है।  

(और पढ़ें - बर्फ की सिकाई के फायदे)

कान में पानी चला जाए तो ड्रायर से निकालें - Kaan me pani chala jaye to nikale dryer se

कान से पानी निकालने के लिए ड्रायर का उपयोग करना आपको थोड़ा अजीब लग सकता है। लेकिन सांइस साबित करती है कि जब गर्म हवा पानी से गुजरती है तो वह पानी को भाप में बदलने लगती है। कान से पानी निकालने के लिए आप इस तकनीक का भी सहारा ले सकते हैं।

(और पढ़ें - कान की खुजली दूर करने के उपाय)

इसे इस्तेमाल करने के लिए आप ड्रायर की गर्म हवा और एयर फ्लो को बेहद ही कम स्तर पर सेट करें। इसके बाद आप अपने कान के निचले हिस्से को थोड़ा बाहर की ओर खींचे और ड्रायर को चालू करें। इस प्रक्रिया को अपनाते समय ध्यान दें कि कान से ड्रायर को कम से कम एक फुट दूर रखें और इस उपाय को करते समय गर्म हवा को करीब 30 मिनट तक ही कान के अंदर जाने दें।   

(और पढ़ें - कान बहना रोकने के घरेलू उपाय)

कान में पानी चला जाए तो करना चाहिए वैक्यूम विधि का उपयोग - Kaan se pani chala jaye to karna chahiye vacuum vidhi ka upyog

कान में पानी जाने पर आप वैक्यूम विधि को अपना सकते हैं। जैसा कि आपको पहले भी बताया जा चुका है कि कान में पानी आपके यूस्टेकियन ट्यूब में फंस जाता है। इसको निकालने के लिए निम्नलिखित तरीके से वैक्यूम विधि को अपनाएं।

  • इसके लिए आप अपने हाथ की हथेलियों को कान पर रखना होगा और प्रभावित कान को नीचे की ओर झुकाना होगा। (और पढ़ें - कान के दर्द के लिए क्या करें)
  • इसके बाद आपको अपनी हेथली से एक कप का आकार बनाते हुए उसमे बंद हवा को तेजी से बाहर की ओर खिंचना होगा।
  • ऐसा करने से आपके कान में वैक्यूम की तरह दबाव बनेगा और कान में फंसा पानी आसानी से बाहर आ जाएगा। 

(और पढ़ें - क्या कान में तेल डालना चाहिए)

और पढ़ें ...