हर जिंदगी जरूरी है... और हर व्यक्ति को स्वास्थ्य सुरक्षा की जरूरत भी है। महंगाई दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही है और किसी भी बीमारी का इलाज करवाना भी आम लोगों के लिए आसान नहीं है। इसी वजह से देश में दो दर्जन से ज्यादा इन्शुरन्स कंपनियां आज हेल्थ इन्शुरन्स बेच रही हैं। लेकिन इन हेल्थ इन्शुरन्स कंपनियों की पॉलिसी का प्रीमियम चुकाना भी हर व्यक्ति के बस की बात नहीं है। हालांकि, myUpchar बीमा प्लस जैसी कुछ हेल्थ इन्शुरन्स पॉलिसियां भी हैं, जो कम प्रीमियम में अच्छी हेल्थ सेवाएं उपलब्ध करवाती हैं। myUpchar बीमा प्लस पॉलिसी के तहत बीमाधारकों को 24x7 मुफ्त टेली ओपीडी की भी सुविधा मिलती है। केंद्र सरकार और राज्य सरकारें भी गरीबों और निम्न आयवर्ग के लोगों के लिए बीमा योजनाएं चलाती हैं, जिनका प्रीमियम सरकार स्वयं चुकाती है। ऐसी ही एक योजना ओडिशा सरकार भी चलाती है, जिसका नाम बीजू स्वास्थ्य कल्याण योजना है।

(और पढ़ें - हेल्थ इन्शुरन्स में क्या क्या कवर होता है)

  1. बीजू स्वास्थ्य कल्याण योजना क्या है - What is Biju Swasthya Kalyan Yojana in Hindi?
  2. बीजू स्वास्थ्य कल्याण योजना के लिए पात्रता - Who is eligible BSKY in Hindi?
  3. बीजू स्वास्थ्य कल्याण योजना के लाभ - Benefits under BSKY Scheme in Hindi?
  4. वार्षिक कवरेज राशि की गणना कैसे करें - How do we calculate annual coverage amount under BSKY in Hindi?
  5. बीजू स्वास्थ्य कल्याण योजना के लिए नामांकन प्रक्रिया क्या है - Is there any enrolment process in BSKY in Hindi?
  6. कितने सदस्यों को मिलेगा मुफ्त इलाज - How many members in family are eligible to avail cashless treatment under BSKY?
  7. बीएसकेवाई कार्ड खो जाए तो डुप्लीकेट कार्ड कैसे बनवाएं - How to get duplicate BSKY card in Hindi?

ओडिशा (उड़ीसा) के आम लोगों को गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराने के लिए राज्य सरकार ने बीजू स्वास्थ्य कल्याण योजना (बीएसकेवाई) का शुभारंभ किया। खासतौर पर निम्न आयवर्ग के परिवारों को ध्यान में रखकर यह योजना शुरू की गई है। अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए बीएसकेवाई के दो प्रमुख घटक हैं -

पहला तो इस योजना के तहत मिलने वाली सभी सेवाओं का पूरा खर्च राज्य सरकार ही उठाती है। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि परिवार की आय क्या है, समाजिक स्थिति क्या है और किस क्षेत्र में रहता है। इस योजना के तहत राजधानी और अन्य क्षेत्रों में मौजूदी राज्य सरकार के अस्पतालों, जिला मुख्यालय और सरकारी मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल व ब्लड बैंक तक में सुविधाएं मिलती हैं।

(और पढ़ें - हेल्थ इन्शुरन्स क्या कवर नहीं करती)

सूचीबद्ध प्राइवेट अस्पतालों में इलाज करवाने के पर राज्य के 92.5 लाख आर्थिक रूप के कमजोर परिवारों के स्वास्थ्य देखभाल का खर्च राज्य सरकार वहन करती है। बीजू स्वास्थ्य कल्याण योजना के तहत हर परिवार को प्रतिवर्ष 5 लाख रुपये तक की हेल्थ कवरेज मिलती है। यही नहीं पहले पांच लाख की सम-इनश्योर्ड राशि खत्म हो जाने पर परिवार की महिला सदस्यों के लिए 5 लाख रुपये की अतिरिक्त कवरेज भी मिलती है।

इस योजना के तहत राज्य के सभी परिवार सरकारी स्वास्थ्य देखभाल केंद्रों से लेकर जिला मुख्यालय अस्पताल और सरकारी मेडिकल कॉलेज अस्पताल व ब्लड बैंक स्तर तक स्वास्थ्य सेवाएं पाने के लिए पात्र हैं, जिसके लिए पूरी लागत राज्य सरकार वहन करती है। सभी बीएसकेवाई स्मार्ट कार्ड धारक और राष्ट्रीय खाद्य और सुरक्षा अधिनियम/राज्य खाद्य और सुरक्षा अधिनियम के तहत कार्ड धारक इस योजना के लिए पात्र हैं।

(और पढ़ें - सबसे सस्ता स्वास्थ्य बीमा कौन सा है?)

सरकारी मेडिकल कॉलेज अस्पताल स्तर तक के सभी सरकारी स्वास्थ्य संस्थानों में दवाओं और पैथोलॉजी टेस्ट से लेकर डायलिसिस, कैंसर कीमोथेरेपी, ऑपरेशन थिएटर, आईसीयू, अस्पताल में भर्ती होने और ब्लड बैंक की सेवाओं तक सभी खर्चे राज्य सरकार वहन करती है। लाभार्थियों की सुविधा के लिए सूचीबद्ध निजी अस्पतालों के प्रत्येक हेल्प डेस्क पर स्वास्थ्य मित्र तैनात किए जाते हैं।

जिन परिवारों के पास बीजू स्वास्थ्य कल्याण योजना के तहत बीएसकेवाई स्मार्ट हेल्थ कार्ड है, वे राज्य और राज्य से बाहर किसी भी सूचीबद्ध प्राइवेट अस्पताल में कैशलेस ट्रीटमेंट का लाभ ले सकते हैं। बीएसकेवाई स्मार्ट हेल्थ कार्ड धारक परिवार किसी भी सूचीबद्ध प्राइवेट अस्पताल में रजिस्ट्रेशन, डॉक्टर कंसल्टेशन, मेडिकल टेस्ट, पैथोलॉजी, इलाज, ओपीडी और फॉलोअप कंसल्टेशन जैसी सुविधाओं का लाभ ले सकते हैं और इसका पूरा खर्च (5 लाख रुपये तक) राज्य सरकार वहन करती है।

(और पढ़ें - सबसे अच्छा हेल्थ इन्शुरन्स कौन सा है?)

बीएसकेवाई स्मार्ट कार्ड धारक सूचीबद्ध प्राइवेट अस्पतालों में कैशलेस इलाज करवा सकते हैं। इमरजेंसी के दौरान यदि उनके पास बीएसकेवाई कार्ड न भी हो तो उन्हें स्वास्थ्य सुविधाएं मिलेंगी। ऐसी स्थिति में उन्हें 72 घंटे के अंदर अपना बीएसकेवाई कार्ड अस्पताल के बीएसकेवाई हेल्पडेस्क काउंटर पर जमा करवाना होता है।

सभी बीएसकेवाई स्मार्ट कार्ड धारकों के स्वास्थ्य से जुड़े खर्चों को ओडिशा सरकार वहन करती है। इसके लिए सीमा प्रति परिवार 5 लाख रुपये है, इसके अलावा परिवार की महिला सदस्यों के लिए अतिरिक्त पांच लाख रुपये का कवरेज मिलता है। महिलाओं को मिलने वाला अतिरिक्त पांच लाख रुपये का कवरेज पूरे परिवार को मिलने वाले 5 लाख के सम-इनश्योर्ड के पूरी तरह से खत्म हो जाने पर ही मिलता है। बीजू स्वास्थ्य कल्याण योजना के तहत कोई भी नागरिक किसी भी सूचीबद्ध अस्पताल में तय राशि तक का इलाज करवा सकता है।

उदाहरण के लिए मान लेते हैं कि एक परिवार में सिर्फ दो ही व्यक्ति हैं, उनमें से एक पुरुष है और एक महिला। ऐसे में बीएसकेवाई स्मार्ट कार्ड धारकों के सामने तीन स्थितियां आ सकती हैं - 

पहली यह कि परिवार का पुरुष बीमार पड़ जाए और उसके इलाज पर बीएसकेवाई स्मार्ट हेल्थ कार्ड से 3 लाख रुपये का खर्च हुआ। अब यदि उसी वर्ष महिला भी बीमार पड़ जाती है तो उसके इलाज के लिए 7 लाख का कवरेज अब भी उपलब्ध रहेगा।

(और पढ़ें - प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना)

दूसरी स्थिति यह हो सकती है कि पुरुष को कुछ नहीं होता, लेकिन महिला सदस्य बीमार पड़ जाती है तो उस महिला को बीएसकेवाई स्मार्ट कार्ड की मदद से 10 लाख रुपये तक का कैशलेस इलाज सूचीबद्ध प्राइवेट अस्पताल में मिल सकता है।

एक तीसरी स्थिति यह भी बन सकती है कि पहले महिला बीमार पड़ जाए और उसके इलाज पर सिर्फ तीन लाख का खर्च आए। यह खर्च बीएसकेवाई स्मार्ट हेल्थ कार्ड से चुकाया गया तो अब यदि पुरुष बीमार पड़ जाता है तो उसके लिए सिर्फ 2 लाख की राशि ही बचेगी, जबकि महिला और भी 7 लाख तक का कैशलेस इलाज करवा सकती है।

बीएसकेवाई के तहत कोई प्रत्यक्ष नामांकन प्रक्रिया नहीं है। हालांकि, ओडिशा में राष्ट्रीय खाद्य और सुरक्षा अधिनियम/राज्य खाद्य और सुरक्षा अधिनियम के तहत कार्ड धारक इसके लिए स्वत: ही नामांकित हो जाते हैं। कोई भी परिवार जो बीएसकेवाई कार्ड के मास डिस्ट्रिब्यूशन के दौरान अपना कार्ड हासिल न कर पाया हो वह एमओ सेवा केंद्र पर अपना राष्ट्रीय खाद्य और सुरक्षा अधिनियम/राज्य खाद्य और सुरक्षा अधिनियम के तहत बने राशन कार्ड दिखाकर इसे प्राप्त कर सकता है।

(और पढ़ें - सीजीएचएस क्या है, कैसे काम करता है)

राष्ट्रीय खाद्य और सुरक्षा अधिनियम/राज्य खाद्य और सुरक्षा अधिनियम के तहत पंजीकृत परिवार के सभी सदस्य जिनके पास बीएसकेवाई समार्ट कार्ड है वे पांच लाख तक के कैशलेस इलाज के लिए पात्र हैं। इसके अलावा परिवार की महिला सदस्यों के लिए पांच लाख रुपये की अतिरिक्त सम-इनश्योर्ड राशि भी मिलती है और वे किसी भी सूचीबद्ध प्राइवेट अस्पताल में इस सीमा तक मुफ्त इलाज करवा सकती हैं।

(और पढ़ें - ईएसआई क्या है, कवरेज, लाभ)

यदि बीजू स्वास्थ्य कल्याण योजना के लाभार्थी का बीएसकेवाई कार्ड खो जाए या टूट जाए तो उसके लिए कैशलेस स्वास्थ्य सेवाएं लेना मुश्किल हो सकता है। इसके लिए उन्हें पहले एक डुप्लीकेट बीएसकेवाई कार्ड बनवाना होगा। डुप्लीकेट बीएसकेवाई कार्ड बनवाने के लिए लाभार्थी को एमओ सेवा केंद्र पर जाना होगा और वहां अपना राष्ट्रीय खाद्य और सुरक्षा अधिनियम/राज्य खाद्य और सुरक्षा अधिनियम के तहत बना राशन कार्ड दिखा कर नया बीएसकेवाई स्मार्ट कार्ड जारी करवाना होगा। यही नहीं यदि आपके बीएसकेवाई कार्ड में कोई गड़बड़ी है या किसी अन्य सदस्य का नाम उसमें जोड़ना या हटाना है इसके लिए भी आप एमओ सेवा केंद्र सर्विस प्वाइंट पर जा सकते हैं और राशन कार्ड दिखाकर यह काम कर सकते हैं। इसके अलावा आप bsky.odisha.gov.in वेब पोर्टल पर जाकर भी यह काम कर सकते हैं।

(और पढ़ें - ट्रेवल इन्शुरन्स क्या होता है, कैसे काम करता है)

और पढ़ें ...
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ