आजकल हम इतने व्यस्त हो गए हैं, कि शरीर पर ध्यान देने के लिए हमारे पास समय ही नहीं है और इन कारणों से हमें कई स्वास्थ्य समस्याएं होने लगती हैं। उच्च रक्तचाप यानि हाई बीपी भी इनमें से एक है, जो एक खराब जीवनशैली के कारण होती है। भारत में एक बड़ी आबादी उच्च रक्तचाप की समस्या से ग्रस्त है, जो एक चेतावनी देने वाला आंकड़ा है। इस बीमारी का कोई स्थायी इलाज नहीं है और कारणवश इसे नियंत्रित रखने के लिए जीवनभर दवाएं खानी पड़ सकती हैं।

आजकल की महंगाई को देखते हुए एक आम आदमी के लिए जीवनभर दवाओं का खर्च उठाना लगभग न के ही बराबर है। लेकिन हाई ब्लड प्रेशर एक गंभीर बीमारी है और जीवन को बचाने के लिए इसे नियंत्रित करके रखना भी जरूरी है। ऐसे में सिर्फ एक ही विकल्प सामने आता है और वह है एक उचित हेल्थ इन्शुरन्स प्लान

इस लेख में हम आपको बताएंगे कि उच्च रक्तचाप के मरीजों के लिए हेल्थ इन्शुरन्स एक अच्छा विकल्प कैसे है और प्लान खरीदते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

(और पढ़ें - हाई बीपी का आयुर्वेदिक इलाज)

  1. क्या है हाई बीपी
  2. क्यों जरूरी है हाई बीपी के लिए स्वास्थ्य बीमा
  3. हाई बीपी के लिए हेल्थ इन्शुरन्स लेते समय किन बातों का ध्यान रखें
  4. हाई बीपी के लिए हेल्थ इन्शुरन्स के क्या लाभ हैं
हाई ब्लड प्रेशर के लिए हेल्थ इन्शुरन्स के डॉक्टर

हाई ब्लड प्रेशर के लिए एक उचित हेल्थ इन्शुरन्स प्लान का चुनाव करने से पहले आपको इस बीमारी के बारे में जानना जरूरी है। हृदय द्वारा शरीर के सभी हिस्सों में रक्त पंप करने के दबाव को ब्लड प्रेशर कहा जाता है। जब यह प्रेशर सामान्य स्तर से अधिक बढ़ जाता है, तो रक्त वाहिकाओं में रक्त का दबाव अधिक बढ़ने लगता है। दबाव के कारण रक्त वाहिकाएं फूलने लगती हैं और इस स्थिति को हाई बीपी (हाइपरटेंशन) कहा जाता है।

लंबे समय तक रक्त वाहिकाओं में दबाव बने रहने के कारण हृदय पर प्रभाव पड़ने लगता है और परिणामस्वरूप हृदय संबंधी रोग होने लगते हैं। जीवनशैली में सुधार और डॉक्टर द्वारा दी गई दवाओं को निर्देशानुसार लेकर हाई बीपी का इलाज किया जा सकता है।

(और पढ़ें - हाई बीपी के घरेलू उपाय)

हाई बीपी को “साइलेंट किलर” के नाम से भी जाना जाता है, जिससे आप अंदाजा लगा सकते है कि यह कितना भयानक रोग है। लंबे समय तक उच्च रक्तचाप अनियंत्रित रहना कई हृदय रोगों को जन्म देता है जिसमें हार्ट फेलियर, हार्ट अटैक, स्ट्रोक, एन्यूरिज्म और डिमेंशिया आदि शामिल हैं।

उच्च रक्तचाप से ग्रस्त व्यक्ति के जीवन को बचाए रखने के लिए अच्छी जीवनशैली के साथ-साथ नियमित रूप से डॉक्टर से जांच करवाना जरूरी है। इस बढ़ती महंगाई को देखते हुऐ नियमित रूप से डॉक्टर से संपर्क करना आपकी जेब पर असर डालता है और इसलिए एक विशेष हेल्थ इन्शुरन्स प्लान खरीदना जरूरी है, जो बीपी संबंधी सभी समस्याओं पर कवरेज प्रदान करे। यदि आप या परिवार में किसी भी व्यक्ति को हाई बीपी होता है, तो उसके लिए विशेष कवरेज वाली स्वास्थ्य बीमा योजना खरीदना एक अच्छा विकल्प हो सकता है।

(और पढ़ें - हेल्थ इन्शुरन्स में क्या-क्या कवर होता है)

भारत में 30 से भी अधिक हेल्थ इन्शुरन्स कंपनियां हैं, लोगों की जरूरतों के अनुसार अलग-अलग प्लान देती हैं। कई प्लान होने के कारण अक्सर हम असमंजस में पड़ जाते हैं और यह निश्चित नहीं कर पते हैं कि हमारे लिए कौन सा प्लान सही है। ठीक ऐसा ही हाई बीपी के लिए उचित हेल्थ इन्शुरन्स प्लान का चुनाव करते समय भी आपको कुछ विशेष बातों का ध्यान रखना होगा जिनमें निम्न शामिल है -

  • कवरेज -
    कोई भी स्वास्थ्य बीमा योजना खरीदते समय कवरेज का ध्यान रखना बेहद जरूरी है। जब आप उच्च रक्तचाप के इलाज पर कवरेज प्राप्त करने जाएं तो यह देख लें कि उसमें हृदय संबंधी सभी बीमारियों पर कवरेज दी जा रही है या नहीं।
     
  • वेटिंग पीरियड -
    जब आप कोई भी हेल्थ इन्शुरन्स प्लान खरीदते हैं, तो आपको शुरुआती कुछ दिनों तक प्रतीक्षा अवधि में रखा जाता है। यह वह पीरियड होता है, जिसमें आप योजना का लाभ उठा पाते हैं। यदि आप हाई ब्लड प्रेशर के इलाज पर कवरेज प्राप्त करने के लिए बीमा योजना खरीद रहे हैं, तो यह ध्यान रखें कि वेटिंग पीरियड कम से कम समय का हो। उदाहरण के लिए कुछ कंपनियां 30 दिन का वेटिंग पीरियड देती हैं, यदि आपको उससे भी कम समय का पीरियड मिलता है तो वह एक अच्छा विकल्प हो सकता है।
     
  • प्री-एग्जिस्टिंग डिजीज कवरेज -
    हाई बीपी पर कवरेज प्राप्त करने के लिए जो व्यक्ति हेल्थ इन्शुरन्स प्लान खरीदने के बारे में सोच रहे हैं, उनके लिए प्री-एग्जिस्टिंग डिजीज के बारे में जानना बेहद जरूरी है। यदि स्वास्थ्य बीमा योजना खरीदने से पहले ही आपको कोई बीमारी है, तो वह प्री-एग्जिस्टिंग डिजीज की श्रेणी में आती है। जब आप स्वास्थ्य बीमा खरीदें तो इस बात का ध्यान रखें कि प्री-एग्जिस्टिंग डिजीज कवरेज पर वेटिंग पीरियड कितना है। ऐसा इसलिए क्योंकि पहले से मौजूद बीमरियों पर कवरेज प्राप्त करने के लिए अलग से वेटिंग पीरियड पूरा करना पड़ता है।
     
  • कम से कम प्रीमियम -
    यदि आप किसी विशेष बीमारी पर कवरेज प्राप्त करने के लिए स्वास्थ्य बीमा योजना खरीद रहे हैं, तो ध्यान रहे कि कम से कम प्रीमियम हो। ऐसा इसलिए है ताकि आप सिर्फ उन्हीं बीमारियों के लिए प्रीमियम भरें जिनपर कवरेज चाहते हैं।

(और पढ़ें - भारत में मौजूद हेल्थ इन्शुरन्स कंपनियां)

उच्च रक्तचाप से ग्रस्त व्यक्ति के सिर पर कई जानलेवा बीमारियां होने क खतर मंडराता रहता है, जिनसे बचने के लिए बार-बार डॉक्टर से परामर्श, विभिन्न टेस्ट और दवाओं की आवश्यकता पड़ती है। ऐसे में यदि आपने पहले से ही हाई बीपी के लिए हेल्थ इन्शुरन्स प्लान खरीद रखा है, तो आप बिना पैसे की चिंता किए अपना इलाज करा सकते हैं। इसके अलावा स्वास्थ्य बीमा धारकों को आयकर में भी विशेष छूट मिलती है।

(और पढ़ें - हेल्थ इन्शुरन्स से मिलने वाले इनकम टैक्स के लाभ)

Dr. Shradha Chaubey

Dr. Shradha Chaubey

कार्डियोलॉजी
4 वर्षों का अनुभव

Dr. Peeyush Jain

Dr. Peeyush Jain

कार्डियोलॉजी
34 वर्षों का अनुभव

Dr. Dinesh Kumar Mittal

Dr. Dinesh Kumar Mittal

कार्डियोलॉजी
15 वर्षों का अनुभव

Dr. Vinod Somani

Dr. Vinod Somani

कार्डियोलॉजी
27 वर्षों का अनुभव

और पढ़ें ...
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ