अगर आप वजन घटाने के बारे में सोच रहे हैं, तो आपको ज्यादातर लोग यही कहेंगे कि चावल खाना बंद कर दो, क्योंकि चावल खाने से वजन बढ़ता है। ऐसे बहुत से लोग हैं, जिन्हें चावल खाना पसंद होता है, लेकिन सिर्फ इस डर से कहीं उनका वजन न बढ़ जाए, चावल को अपनी डाइट से बाहर कर देते हैं या कम खाते हैं। चावल दुनियाभर में सबसे ज्यादा खाए जाने वाले अनाज में से एक है, लेकिन क्या सचमुच चावल, मोटापे के लिए जिम्मेदार है?

सफेद चावल संशोधित या रिफाइंड होता है। इसमें कार्बोहाइड्रेट की मात्रा अधिक होती है। इसका ग्लाइसेमिक इंडेक्स भी अधिक होता है और संशोधन की प्रक्रिया के दौरान इसमें से फाइबर समेत कई मिनरल्स खत्म हो जाते हैं। इस कारण जब कोई व्यक्ति सफेद चावल खाता है, तो शरीर में शुगर तुरंत टूटकर खून में रिलीज हो जाता है। यही मुख्य कारण है जिस वजह से ज्यादातर लोग सफेद चावल को मोटापा या वजन बढ़ने के लिए जिम्मेदार मानते हैं।

आज इस लेख में आप विस्तार से जानेंगे कि चावल खाने से मोटापा होता है या नहीं -

वजन घटाने का आयुर्वेदिक इलाज जानने के लिए कृपया यहां दिए लिंक पर क्लिक करें।

  1. चावल खाने व मोटापे पर स्टडी
  2. ब्राउन राइस या वाइट राइस- क्या है बेहतर?
  3. चावल को हेल्दी चीजों के साथ मिलाकर खाएं
  4. चावल की मात्रा पर रखें कंट्रोल
  5. सारांश
चावल खाने से मोटापा बढ़ता है या नहीं के डॉक्टर

2019 में हुई एक स्टडी चावल के बारे में कुछ और ही राय रखती है। जापान के क्योटो स्थित दोशीशा विमेन्स कॉलेज ऑफ लिबरल आर्ट्स के अनुसंधानकर्ताओं ने 136 देशों के आंकड़ों को इक्ट्ठा कर उसकी जांच की। इस दौरान अनुसंधानकर्ताओं ने पाया कि वैसे देश जहां के लोग रोजाना करीब 150 ग्राम चावल का सेवन करते हैं वहां पर लोगों के बीच मोटापे की दर उन देशों की तुलना में कम है, जहां पर लोग चावल की वैश्विक औसत मात्रा से कम लगभग 14 ग्राम चावल प्रतिदिन खाते हैं। 

शोधकर्ताओं ने इस दौरान स्टडी के नतीजों को प्रभावित करने वाले कई कारकों को ध्यान में रखा जिसमें शिक्षा का औसत स्तर, धूम्रपान दर, कुल कैलोरी की खपत, स्वास्थ्य पर खर्च किए गए धन, 65 से अधिक जनसंख्या का प्रतिशत, और प्रति व्यक्ति सकल घरेलू उत्पाद दर शामिल है। ये सभी कारक उन देशों में काफी कम थे, जिनके निवासी सबसे ज्यादा चावल खाते थे। हालांकि, अपने विश्लेषण में इन चीजों का हिसाब रखने के बाद भी शोधकर्ताओं ने पाया कि मोटापे पर चावल का सकारात्मक प्रभाव बना रहा।

(और पढ़ें : मोटापा कम करने की दवा और उनके नुकसान)

myUpchar के डॉक्टरों ने अपने कई वर्षों की शोध के बाद आयुर्वेद की 100% असली और शुद्ध जड़ी-बूटियों का उपयोग करके myUpchar Ayurveda Medarodh Capsule बनाया है। इस आयुर्वेदिक दवा को हमारे डॉक्टरों ने कई लाख लोगों को वजन कम करने के लिए सुझाया है, जिससे उनको अच्छे प्रभाव देखने को मिले हैं।
Weight Control Tablets
₹899  ₹999  10% छूट
खरीदें

हालांकि, इतने बड़े स्तर पर हुई इस स्टडी में अनुसंधानकर्ताओं की टीम ने इस बात की जांच नहीं की कि आबादी का एक बड़ा हिस्सा किस तरह के चावल का सेवन करता है। उदाहरण के लिए- फाइबर और पोषक तत्वों से भरपूर साबुत अनाज ब्राउन राइस को वजन घटाने के लिए बेहतर माना जाता है। वहीं, सफेद चावल जो बहुत ज्यादा संशोधित होता है, उसमें फाइबर की मात्रा बिलकुल नहीं होती। लिहाजा कोई व्यक्ति कितने फाइबर का सेवन कर रहा है यह भी मोटापे के खतरे में अहम रोल निभाता है। कोरिया के 10 हजार वयस्कों पर की गई एक स्टडी में यह बात सामने आई थी कि सफेद चावल वाले डाइट का सेवन करने वालों में मोटापे का खतरा था।

(और पढ़ें : ब्राउन राइस या वाइट राइस, अच्छी सेहत के लिए किसका सेवन है बेहतर)

हालांकि, ज्यादातर हेल्थ एक्सपर्ट्स और न्यूट्रिशनिस्ट्स की मानें तो पके हुए आधा कप चावल में सिर्फ 120 कैलोरी होती है, जोकि एक छोटी-सी रोटी या ब्रेड के बराबर है। अगर आप चावल को किसी अनहेल्दी चीज के साथ खा रहे हैं, तो इससे आपका वजन बढ़ सकता है। वहीं, अगर आप चावल को प्रोटीन से भरपूर दाल और पोषक तत्वों से भरपूर सब्जी जैसी हेल्दी चीजों के साथ खाएं, तो यह वेट लॉस में मदद कर सकता है।

इसके अलावा पोर्शन कंट्रोल भी बेहद जरूरी है यानी कि आप कितने चावल खा रहे हैं, इस पर भी नियंत्रण रखना चाहिए। सिर्फ चावल ही नहीं, बल्कि किसी भी चीज को अगर आप बहुत ज्यादा खाएंगे, तो आपके शरीर को इसका नुकसान उठाना पड़ेगा। भारत में ही ऐसे कई राज्य हैं फिर चाहे वे दक्षिण भारत के राज्य हों या फिर पूर्वी भारत के जहां दिन में कम से कम एक बार सफेद चावल जरूर खाया जाता है। जापान व चीन समेत एशिया के कई देशों में तो दिन में 4 बार तक सफेद चावल खाया जाता है। 

(और पढ़ें : मोटापे की आयुर्वेदिक दवा और इलाज)

इस लेख से यह स्पष्ट होता है कि चावल खाने से मोटापा होता है। इसलिए, अगर कोई वजन घटाने के बारे में सोच रहा है, तो उसे अपनी डाइट में चावल की मात्रा कम करनी चाहिए। साथ ही इस बात का ध्यान रखना भी जरूरी है कि व्हाइट राइज की जगह ब्राउन राइज सेहत के लिए अच्छा होता है। इतना ही नहीं, बल्कि अगर सफेद चावल ही खाने हैं, तो उसे कम मात्रा में और पौष्टिक चीजों के साथ खाना सही रहता है।

Dr. Arun Mathur

Dr. Arun Mathur

सामान्य चिकित्सा
15 वर्षों का अनुभव

Dr. Siddhartha Vatsa

Dr. Siddhartha Vatsa

सामान्य चिकित्सा
3 वर्षों का अनुभव

Dr. Harshvardhan Deshpande

Dr. Harshvardhan Deshpande

सामान्य चिकित्सा
13 वर्षों का अनुभव

Dr. Supriya Shirish

Dr. Supriya Shirish

सामान्य चिकित्सा
20 वर्षों का अनुभव

ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ