Zandu Lalima Syrup

उत्पादक: Zandu Pharmaceutical Works Ltd

सामग्री / साल्ट:

रखने का तरीका: सामान्य तापमान में रखें

929 लोगों ने इसको हाल ही में खरीदा

Zandu Lalima Syrup

उत्पादक: Zandu Pharmaceutical Works Ltd

सामग्री / साल्ट:

रखने का तरीका: सामान्य तापमान में रखें

929 लोगों ने इसको हाल ही में खरीदा

₹100.0

एक बोतल में 200 ml सिरप

दवा उपलब्ध नहीं है

929 लोगों ने इसको हाल ही में खरीदा

cashback
cashback
पर्चा अपलोड करके आर्डर करें

पर्चा अपलोड करके ऑर्डर करें वैध पर्चा कैसा होता है ? आपके अपलोड किए गए पर्चे

क्या आप इस प्रोडक्ट के विक्रेता हैं? हमारे साथ जुड़े

Zandu Lalima की जानकारी

Zandu Lalima Syrup बिना डॉक्टर के पर्चे द्वारा मिलने वाली आयुर्वेदिक दवा है, जो मुख्यतः मुंहासे, ब्लड इन्फेक्शन के इलाज के लिए उपयोग किया जाता है। इसके अलावा Zandu Lalima Syrup का उपयोग कुछ दूसरी समस्याओं के लिए भी किया जा सकता है। इनके बारे में नीचे विस्तार से जानकारी दी गयी है। Zandu Lalima Syrup के मुख्य घटक हैं गिलोय, हल्दी, कपूर, नीम, केसर, त्रिफला, शहद, गेहूं के बीज का तेल जिनकी प्रकृति और गुणों के बारे में नीचे बताया गया है। Zandu Lalima Syrup की उचित खुराक मरीज की उम्र, लिंग और उसके स्वास्थ्य संबंधी पिछली समस्याओं पर निर्भर करती है। यह जानकारी विस्तार से खुराक वाले भाग में दी गई है। 

  1. Zandu Lalima की सामग्री - Zandu Lalima Syrup Active Ingredients in Hindi
  2. Zandu Lalima के लाभ - Zandu Lalima Syrup Benefits Hindi
  3. Zandu Lalima की खुराक - Zandu Lalima Syrup Dosage in Hindi
  4. Zandu Lalima कैसे खाएं - Zandu Lalima Syrup How to take in Hindi

Zandu Lalima की सामग्री - Zandu Lalima Syrup Active Ingredients in Hindi

गिलोय
  • ये एजेंट मुक्त कणों को साफ करके ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करने में मदद करते हैं।

  • सूक्ष्म जीवों को बढ़ने से रोकने वाले या खत्म करने वाले एजेंट।

हल्दी
  • शरीर में मौजूद ऑक्सीजन के मुक्त कणों को निकालने के लिए उपयोग होने वाले पदार्थ।

  • ये एजेंट शरीर के किसी विशेष हिस्से में होने वाली सूक्ष्मजीवों की वृद्धि के खिलाफ प्रभावी होते हैं।

  • बैक्टीरिया को बढ़ने से रोकने और उन्हें मारने वाली दवाएं।

  • वे एजेंट्स जो सूक्ष्‍म जीवों को नष्‍ट या उनके कार्य को रोक कर माइक्रोबियल रेप्लिका (सूक्ष्‍म जीवों की प्रतिकृति) और इसको बढ़ने से बचाते हैं।

कपूर
  • ये एजेंट शरीर के किसी विशेष हिस्से में होने वाली सूक्ष्मजीवों की वृद्धि के खिलाफ प्रभावी होते हैं।

  • एक ऐसा एजेंट या पदार्थ जो अंदरूनी अंगों में सूजन रोकने के लिए त्‍वचा की ऊपरी सतह पर सूजन पैदा करता है।

  • वासोडिलेटर गुणों वाले तत्व रक्त के प्रवाह में वृद्धि के कारण होने वाली त्वचा की लालिमा और जलन का कारण बनते हैं।

नीम
  • ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस (शरीर में एंटीऑक्सीडेंट्स और फ्री रेडिकल्स के बीच असंतुलन पैदा होना) को कम करने वाली दवाएं।

  • दवाएं जो त्वचा के छिद्रों को कम करती हैं और शरीर की कोशिकाओं को संकुचित।

  • फंगल संक्रमण का उपचार करने वाले तत्व।

  • बैक्‍टीरिया को बढ़ने से रोकने वाली दवाएं।

  • वो दवा या एजेंट जो सूक्ष्म जीवों को नष्ट और उन्हें बढ़ने से रोकता है।

केसर
  • शरीर में मौजूद ऑक्सीजन के मुक्त कणों को निकालने के लिए उपयोग होने वाले पदार्थ।

  • श्‍लेष्‍मा झिल्‍ली (म्‍यूकस मेंब्रेन) में सूजन या जलन से राहत पाने में मदद करने वाली दवाएं।

  • ये तत्व त्वचा की नमी में सुधार करते हैं जिससे यह नरम हो जाती है।

त्रिफला
  • ये एजेंट मुक्त कणों को साफ करके ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करने में मदद करते हैं।

  • दवाएं जो त्वचा के छिद्रों को कम करती हैं और शरीर की कोशिकाओं को संकुचित।

  • बैक्टीरिया को बढ़ने से रोकने और उन्हें मारने वाली दवाएं।

शहद
  • ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस (शरीर में एंटीऑक्सीडेंट्स और फ्री रेडिकल्स के बीच असंतुलन पैदा होना) को कम करने वाली दवाएं।

  • वे तत्व जो सूक्ष्म जीवों को बढ़ने से रोकने के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं।

  • ये दवाएं चिड़चिड़ी या सूजन युक्त श्लेष्म झिल्ली की पीड़ा को दूर करने में मदद करती हैं।

  • बैक्‍टीरिया को बढ़ने से रोकने वाली दवाएं।

  • वो दवा या एजेंट जो सूक्ष्म जीवों को नष्ट और उन्हें बढ़ने से रोकता है।

गेहूं के बीज का तेल
  • वे घटक जिनका इस्‍तेमाल फ्री रेडिकल्‍स की सक्रियता को कम करने और ऑक्‍सीडेटिव स्‍ट्रेस (मुक्त कणों के बनने और उनके शरीर के प्रति हानिकरक प्रभाव को न रोक पाने के बीच का असंतुलन) को रोकने के लिए किया जाता है।

  • ये तत्व त्वचा की नमी में सुधार करते हैं जिससे यह नरम हो जाती है।

Zandu Lalima के लाभ - Zandu Lalima Syrup Benefits in Hindi

Zandu Lalima इन बिमारियों के इलाज में काम आती है -

  1. मुंहासे मुख्य (और पढ़ें - मुंहासे हटाने के घरेलू उपाय)
  2. स्किन इन्फेक्शन (और पढ़ें - स्किन इन्फेक्शन के घरेलू उपाय)
  3. ब्लड इन्फेक्शन मुख्य

Zandu Lalima की खुराक - Zandu Lalima Syrup Dosage in Hindi

2 चम्मच (10 मिलीलीटर) दिन मे दो बार।

दवाई की मात्र देखने के लिए लॉग इन करें

Zandu Lalima के नुकसान, दुष्प्रभाव और साइड इफेक्ट्स - Zandu Lalima Syrup Side Effects in Hindi

चिकित्सा साहित्य में Zandu Lalima के दुष्प्रभावों के बारे में कोई सूचना नहीं मिली है। हालांकि, Zandu Lalima का इस्तेमाल करने से पहले हमेशा अपने डॉक्टर से सलाह-मशविरा जरूर करें।

Zandu Lalima कैसे खाएं - Zandu Lalima Syrup How to take in Hindi

आप Zandu Lalima को निम्नलिखित के साथ ले सकते है:

  • क्या Zandu Lalima को गुनगुना पानी के साथ ले सकते है?Zandu Lalima लेने के लिए आप गुनगुने पानी का उपयोग कर सकते हैं; यह बिल्कुल सुरक्षित है।
इस जानकारी के लेखक है -
Dr. Braj Bhushan Ojha
BAMS, गैस्ट्रोएंटरोलॉजी, डर्माटोलॉजी, मनोचिकित्सा, आयुर्वेदा, सेक्सोलोजी, मधुमेह चिकित्सक
10 वर्षों का अनुभव

संदर्भ

  1. Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. [link]. Volume 1. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 1986: Page No 53-55
  2. Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. [link]. Volume 1. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 1986: Page No 60-61
  3. Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. [link]. Volume VI. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 2008: Page No CCXLIV-CCXLV
  4. Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. [link]. Volume 2. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 1999: Page No - 131 - 135
  5. Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. [link]. Volume- IV. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 2004: Page No 59-61
  6. Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. [link]. Volume- IV. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 2004: Page No 54-56
  7. Ministry of Health and Family Welfare. Department of Ayush: Government of India. [link]. Volume VI. Ghaziabad, India: Pharmacopoeia Commission for Indian Medicine & Homoeopathy; 2008: Page No CCXLVIII-CCXLIX