शरीर के जोड़ों के प्रतिस्थापन (ज्वाइंट रिप्लेसमेंट) करवाने के बाद मरीज को ठीक होने में लगभग 6 से 8 हफ्ते का समय लगता है। ज्यादा मूवमेंट करने या किसी भी प्रकार के कार्य को करने की कोशिश नहीं करनी चाहिए क्योंकि इससे अन्य समस्या खड़ी हो सकती है। आइए जानते हैं कि ज्वाइंट रिप्लेसमेंट के बाद किन बातों के ध्यान रखने की आवश्यकता होती है -

(और पढ़ें - घुटने का ऑपरेशन कैसे होता है)

समय पर डॉक्टर को दिखाते रहें और दवाएं लें
सर्जरी के बाद जब अस्पताल से छुट्टी दे दी जाती है तो कई बातों का ध्यान रखना होता है। इसमें इस बात का विशेष ध्यान रखें कि डॉक्टर अगली बार के लिए जो निश्चित तारीख देते हैं, उस समय पर जाना ना भूलें। सर्जरी के बाद दवाएं भी बदली जाती हैं, तो दवाओं के प्रिसक्रिप्शन का भी विशेष ध्यान में रखें।

बिना सहारे के बिल्कुल न चलें
चलते समय बिना सहारे के बिल्कुल भी चलने की कोशिश न करें। चलने के लिए छड़ी या वॉकर का इस्तेमाल जरूर करें। इसके अतिरिक्त सर्जरी वाले जगह पर यदि सूजन आ जाए या खून निकलने लगे और बुखार, दर्द, जलन और ठंडापन महसूस हो और पैर पीले या नीले नजर आए तो डॉक्टर से तुरंत संपर्क करें।

(और पढ़ें - पर्सनल एक्सीडेंट इन्शुरन्स)

सर्जरी वाले स्थान की देखभाल
जिस जगह सर्जरी हुई है, उस स्थान को साबुन और पानी के साथ धीरे-धीरे धोना चाहिए और साफ तौलिए के साथ हल्का लगाकर सुखा लेना चाहिए। सर्जरी वाले स्थान के आसपास लोशन या पाउडर लगा सकते हैं, इससे टांके पर घाव नहीं होता। ध्यान रहे कि टांके वाले स्थान पर 2 सप्ताह तक पानी ना लगने दें। टांकों को ठीक होने में 7 से 10 दिन लग सकते हैं और यदि 2 सप्ताह के बाद भी टांके नहीं गिरते हैं, तो इन्हें डॉक्टर की सलाह पर धीरे से खींच कर हटा सकते हैं।

इन शारीरिक गतिविधियों में विशेष सावधानी रखें

  • डॉक्टरों के अनुसार, घुटने की सर्जरी के बाद नहाते और पट्टी बदलते समय सबसे अधिक सावधानी की जरूरत होती है।
  • जहां बैठे हैं, वहां आधे घंटे से ज्यादा समय तक ना बैठें। कुछ-कुछ देर में टहलते रहें। लगातार एक ही स्थान पर एक जैसी स्थिति में बिल्कुल न बैठें।
  • टहलते समय अपने साथ वॉकर या छड़ी का उपयोग करें, ताकि एकदम से गिरने की आशंका ना रहे। सर्जरी के बाद कार चलाने से भी बचना चाहिए। सीढ़ियां चढ़ने-उतरने का काम भी डॉक्टर के परामर्श के बाद ही कुछ सप्ताह बाद करना चाहिए, लेकिन यह भी बिना किसी सहारे के बिल्कुल ना करें।
  • यदि कुल्हे में ज्वाइंट रिप्लेस कराए हैं तो सोते समय पीठ की ओर सोना चाहिए और दोनों पैरों के बीच तकिया रखकर सोएं। दोनों पैरों के बीच 8 से 12 इंच की दूरी होनी चाहिए। जोड़ ठीक हो जाने के बाद कुछ महीनों तक किसी भी खेल गतिविधि से भी बचना चाहिए।
  • साइकिल या स्विमिंग आदि व्यायाम वाली सभी गतिविधियों से भी कुछ माह के लिए परहेज करना चाहिए। जोड़ ठीक होने के बाद डॉक्टर ने जो व्यायाम बताएं है, सिर्फ उन्हें ही नियमित तौर पर करें। इन व्यायामों को नियमित नहीं करेंगे तो जोड़ के मूवमेंट में समस्या हो सकती है। इसके अलावा ज्यादा दर्द नहीं हो तो जोड़ वाले स्थान पर घाव ठीक होने के कुछ समय बाद हल्की मालिश भी करनी चाहिए। इस बारे में डॉक्टर से भी सलाह ली जा सकती है।
  • डॉक्टरों के अनुसार, हिप रिप्लेसमेंट के  बाद खून बहना, खून के थक्के जमना और पैरों की बदली हुई लंबाई सबसे बड़े जोखिम होते हैं।
और पढ़ें ...
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ