myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

नी रिप्लेसमेंट सर्जरी क्या है?

नी रिप्लेसमेंट सर्जरी से उन लोगों को घुटने के गंभीर दर्द से आराम मिल सकता है, जिनपर लंबे समय से कोई ट्रीटमेंट असर नहीं कर पा रहा है। घुटने की रिप्लेसमेंट पूरी तरह से भी की जा सकती है या फिर आधी भी की जा सकती है यह स्थिति की गंभीरता पर निर्भर करता है। सर्जरी के दौरान प्रभावित हिस्स्से को प्रोस्थेटिक से बदला जाएगा। सर्जरी के लिए जनरल या स्पाइन एनेस्थीसिया की जरूरत होगी।

सर्जरी से पहले कुछ टेस्ट और डेंटल चेक अप करवाने की जरूरत पड़ेगी ताकि यह देखा जा सके कि आप सर्जरी की लिए तैयार हैं। सर्जरी के बाद एक व्यायाम या फिजियोथेरेपी प्रोग्राम बनाया जाएगा, ताकि आपको रोजाना की दिनचर्या पर वापस लाया जा सके। नी रिप्लेसमेंट सर्जरी से घुटने के गंभीर दर्द में आराम मिलता है और जीवन की गुणवत्ता को सुधारने में मदद मिलती है। हालांकि, कुछ स्थितियों में जोखिम हो सकते हैं।

नी रिप्लेसमेंट सर्जरी एक ऑपरेटिव प्रक्रिया है, जो कि उन लोगों में की जाती है, जिन्हें गंभीर रूप से घुटने में चोट लगी हो और जो ट्रीटमेंट के अन्य तरीकों से ठीक न हो पा रही हो। उदाहरण के तौर पर घुटने को क्षति "एडवांस्ड नी आर्थराइटिस" से होती है। एडवांस्ड नी आर्थराइटिस में घुटने के कार्टिलेज के टूटने से घुटने की सतह सूखी, रूखी, खराब और सख्त हो जाती है। इससे घुटने में दर्द, अकड़न व अस्थिरता आ जाती है, जिससे  शरीर की सीधे या संरेखण में बदलाव आ जाता है।

इस सर्जरी की सलाह उन लोगों को भी दी जा सकती है, जिनके घुटने के जोड़ किसी रोग या चोट के कारण कमजोर होते हैं। सर्जरी से उन्हें एक स्वस्थ जीवन जीने में मदद मिलती है।

घुटने में तीन कम्पार्टमेंट या भाग होते हैं - इनर (मेडिकल), आउटर (लेटरल) और नी कैप। कितना अधिक घुटने का जोड़ रिप्लेस हुआ है इसके आधार पर दो तरह की नी रिप्लेसमेंट सर्जरी की जाती हैं -

  • टोटल नी एंथ्रोप्लास्टी (रिप्लेसमेंट) प्रक्रिया - इस प्रक्रिया में सर्जन घुटने के जोड़ की क्षतिग्रस्त हड्डी व कार्टिलेज को धातु और प्लास्टिक से बने कृत्रिम हिस्से के साथ बदल देते हैं।
  • पार्शियल नी एंथ्रोप्लास्टी - इसमें आमतौर पर घुटने के जोड़ के किसी एक भाग को बदला जाता है। यह सर्जरी आमतौर पर घुटने के आंतरिक भाग को बदलने के लिए की जाती है।
  1. घुटनों का ऑपरेशन क्यों किया जाता है - Knee replacement surgery kyon kiya jata hai in hindi
  2. घुटनों की सर्जरी से पहले तैयारी - Ghutno ke operation ki taiyari
  3. घुटनों का ऑपरेशन कैसे किया जाता है? - Ghutno ka operation kaise hota hai?
  4. घुटने की सर्जरी के बाद सावधानियां - Ghutne ka operation hone ke baad dekhbhal
  5. घुटने की सर्जरी के बाद जटिलताएं - ghutne ka operation hone ke baad sambhavit khtatre
  6. नी रिप्लेसमेंट सर्जरी के बाद डॉक्टर के पास कब जाएं - Ghutno ki surgery ke baad doctor ke paas kab jaein
  7. घुटने बदलने का ऑपरेशन या नी रिप्लेसमेंट सर्जरी के डॉक्टर
  8. क्रिकेटर सुरैश रैना की हुई घुटने की सर्जरी, जानिए इसके बारे में

नी रिप्लेसमेंट सर्जरी क्यों की जाती है?

डॉक्टर नी रिप्लेसमेंट सर्जरी की सलाह निम्न मामलों में दे सकते हैं -

  • घुटने में आर्थराइटिस की गंभीरता और अत्यधिक दर्द जिसके कारण आप रोजाना के कार्य नहीं कर पा रहे हैं और सोने में भी तकलीफ हो रही है -

    • चलने में तकलीफ या पैरों पर ठीक से खड़े न हो पाना
    • ठीक से खड़े न होने और चल न पाने के कारण सामान्य जीवन न जी पाना
  • ज्यादा चल-फिर न पाने और दर्द के कारण अवसाद
  • यदि अन्य ट्रीटमेंट से दर्द को कम करने में मदद नहीं मिल पा रही है

नी रिप्लेसमेंट सर्जरी करवाने से पहले क्या करें?

सर्जरी से पहले डॉक्टर आपसे एक अनुमति का फॉर्म भरवाएंगे, जिसमें आपको प्रक्रिया के लिए सहमति जतानी होगी। डॉक्टर आपको प्रक्रिया से संबंधित सभी बातें समझा देंगे, यदि आपको  इस बारे में कोई भी प्रश्न हो तो आप डॉक्टर से पूछ सकते हैं। सर्जरी से पहले की रात को आपको आठ घंटे के लिए भूखे रहने को कहा जा सकता है।

आपके संपूर्ण स्वास्थ्य की जांच करने के लिए डॉक्टर कुछ टेस्ट करेंगे। इसके साथ ही आपको कुछ प्रकार के ब्लड टेस्ट व अन्य परीक्षणात्मक टेस्ट करवाने को कहा जा सकता है -

  • एनीमिया की जांच और किडनी की कार्यशीलता का पता करने के लिए ब्लड टेस्ट
  • संक्रमण की जांच करने के लिए यूरिन टेस्ट
  • नाक, कांख या जांघ के आसपास के भागों में कुछ विशेष दवाओं से बैक्टीरियल रेसिस्टेंट की जांच करने के लिए एमआरएसए (मेथिसिलिन-रेसिसटेंट स्टेफीलोकॉकस अउरुस बैक्टीरिया) स्वैब (कॉटन) टेस्ट
  • हृदय के स्वास्थ्य को सुनिश्चित करने के लिए इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम (जो हृदय की इलेक्ट्रिक गतिविधियों को रिकॉर्ड करता है)

आपके ब्लड शुगर स्तर (विशेषकर जब आपको डायबिटीज हो) और ब्लड प्रेशर की भी जांच की जाएगी। डेंटल चेक अप भी किया जा सकता है, ताकि अगर दांत में कोई संक्रमण है तो उसे रक्त में फैलने से रोका जा सके।

डॉक्टर को निम्न बातों के बारे में जानकारी अवश्य दें -

  • किसी दवा, टेप, लेटेक्स और एनीथिसिया दवा से एलर्जी
  • वे सभी दवाएं जो आप इस दौरान नियमित रूप से ले रहे हैं इसमें हेल्थ सप्लीमेंट और विटामिन भी शामिल हैं
  • यदि आप गर्भवती हैं या फिर आपको गर्भवती होने का संदेह है
  • रक्त संबंधी विकारों का खतरा है या फिर थक्का रोधी (रक्त को पतला करने वाली) दवाएं, एस्पिरिन या फिर ऐसी कोई अन्य दवा ले रहे हैं जो कि ब्लड प्रक्रिया प्रभावित कर सकती हैं

सर्जरी से पहले आपसे कुछ दवाएं न लेने को कहा जा सकता है।

ऑर्थोपेडिक सर्जन आपको कुछ ऐसे व्यायामों के बारे में बताएंगे, जिससे आपकी जांघ की मांसपेशियां मजबूत होंगी और आप तेजी से ठीक हो पाएंगे। इसके साथ ही आपको फिजियोथेरपिस्ट के पास जाने की आवश्यकता होगी जो कि आपको सर्जरी के बाद की जाने वाली एक्सरसाइज के बारे में बताएंगे और साथ ही उन उपकरणों की जानकारी देंगे, जिनकी जरूरत आपको सर्जरी की बाद चलने-फिरने के लिए पड़ सकती है, जैसे केन, वॉकर या व्हील चेयर।

नी रिप्लेसमेंट सर्जरी कैसे की जाती है?

यह प्रक्रिया शुरू करने से तुरंत पहले आपको सिडेटिव दिया जा सकता है, जिससे आप खुद को रिलैक्स कर पाएंगे। आप सर्जन और एनेस्थीसिया देने वाले डॉक्टर से किसी भी विषय में सवालों को जानने के लिए मिल सकते हैं।

इसके बाद आपको सामान्य एनेस्थीसिया दिया जाएगा, जिससे आप सर्जरी के दौरान बेहोश होंगे या फिर एपिड्यूरल या स्पाइनल एनेस्थीसिया भी दिया सकता है, जिसमें आप जगे होंगे, लेकिन कमर के नीचे आपको कुछ भी महसूस नहीं होगा। एनेस्थीसिया ऑपरेशन थिएटर में दिया जा सकता है या फिर जब आपको ऑपरेशन थिएटर में ले जाया जा रहा है उस दौरान भी दिया जा सकता है।

सर्जरी के दौरान डॉक्टर खराब हिस्से को प्रोस्थेसिस से बदल देंगे, जो कि नाप कर प्लास्टिक और मेटल से बनाया जाता है। इसमें या तो घुटने का थोड़ा सा हिस्सा बदला जाएगा या फिर पूरे घुटने को ही बदला जा सकता है। यह चोट और क्षति की गंभीरता पर निर्भर करता है।

टोटल नी रिप्लेसमेंट सर्जरी में एक से तीन घंटे का समय लगता है और घुटने को दोनों तरफ से बदल दिया जाता है। यह प्रक्रिया निम्न तरह से की जाती है -

  • सर्जन प्रभावित घुटने को खोलने के लिए उस पर एक कट लगाएंगे ताकि घुटने के जोड़ को देखा जा सके।
  • वे क्षतिग्रस्त भागों को हटा देंगे और उन्हें ठीक तरह से नापेंगे, ताकि उसी के आकार का प्रोस्थेटिक बनाया जा सके।
  • यहां एक प्रतिरूपी जॉइंट लगाकर चेक किया जाएगा कि घुटने का जोड़ ठीक तरह से काम कर रहा है या नहीं इसके बाद फाइनल प्रॉस्थेटिक लगा दिया जाएगा।
  • जांघ की हड्डी का अंतिम सिरा कर्व्ड मेटल प्रोस्थेटिक से बदला जाएगा और एक पतली मेटल की प्लेट शिन बोन के अंतिम सिरे पर लगा दी जाएगी।
  • हड्डी को ठीक करने के लिए एक विशेष हड्डी "सीमेंट" का उपयोग किया जा सकता है या उन्हें एक कोटिंग के साथ इलाज किया जा सकता है ताकि हड्डी को प्रतिस्थापित भागों के साथ मिलाया जा सके।
  • घर्षण को कम करने के लिए सर्जन मेटल के टुकड़ों के बीच एक प्लास्टिक स्पेसर लगा देंगे जो कि कार्टिलेज की तरह कार्य करता है।
  • आवश्यकता पड़ने पर, नी कैप के पिछले भाग को भी बदला जा सकता है।
  • एक बार यह प्रक्रिया पूरी हो जाने पर डॉक्टर घाव को स्टेपल और टांकों की मदद से बंद कर देंगे और ड्रेसिंग कर दी जाएगी।
  • केवल गंभीर मामलों में स्पलिंट (प्लास्टर) लगाया जा सकता है, लेकिन आमतौर पर घुटने की कार्यशीलता को जल्दी से जल्दी शुरू कर दिया जाता है।

ओस्टियोआर्थराइटिस से ग्रस्त एक चौथाई लोगों में पार्शियल नी रिप्लेसमेंट किया जाता है। यह सर्जरी कम से कम कट लगाकर की जा सकती है। यह आमतौर पर काफी सरल तकनीक है जिसमें छोटा सा चीरा लगाया जाता है। यह एक साधारण सर्जरी है जिसमें हड्डी का छोटा टुकड़ा अलग किया जाता है। रिकवरी का समय और अस्पताल में रहने का समय भी पार्शियल नी रिप्लेसमेंट में कम होता है। पार्शियल नी रिप्लेसमेंट के बाद घुटने जल्द ही सामान्य रूप से कार्य करने लग जाते हैं और आप सामान्य जीवन आसानी से शुरू कर सकते हैं जो कि टोटल नी रिप्लेसमेंट के मामले में नहीं हो पाता है। इस सर्जरी के लिए खून चढ़ाने की आवश्यकता पड़ती है।

नी रिप्लेसमेंट सर्जरी के बाद आपको घुटने को मोड़ने में कुछ तकलीफ होगी।

सर्जरी के तुरंत बाद आपको एक रिकवरी रूम में ले जाया जाएगा और आपके जरूरी शारीरिक संकेतों जैसे सांस, ब्लड प्रेशर और पल्स को चेक किया जाएगा। यदि आवश्यकता हुई तो आपको मास्क या फिर ट्यूब की मदद से ऑक्सीजन भी दी जा सकती है। इसके बाद आपको खून भी दिया जा सकता है। यदि आप ठीक हैं और आपके सभी जरूरी संकेत ठीक तरह से कार्य कर रहे हैं तो आपको अस्पताल के सामान्य वार्ड में ले जाया जाएगा जहां आपको कुछ दिन बिताने होंगे।

घाव को बचाए रखने के लिए घुटने की ड्रेसिंग की जाएगी। सर्जरी के स्थान पर रक्त को निकालने के लिए और इसमें घाव बनने से रोकने के लिए एक ट्यूब लगाई जाएगी। जब तक घाव ठीक नहीं हो जाता है ड्रेसिंग को नियमित रूप से बदला जाएगा। आपको दवाओं को ठीक तरह से लेने को कहा जाएगा।

जिस दौरान आप ठीक हो रहे हैं आपको एक फिजियोथेरेपिस्ट से मिलना होगा ताकि आप अपने व्यायाम करने के तरीकों को ठीक तरह से समझ लें, जो कि अस्पताल में शुरू होगा और आपके डिस्चार्ज के बाद तब तक चलेगा जब तक कि आपकी मांसपेशियों की मजबूती वापस नहीं आ जाती है और आपका घुटना ठीक तरह से कार्य नहीं करने लग जाता है। आपको घर के लिए या फिर रिहैबिलिटेशन केंद्र में डिस्चार्ज कर दिया जाएगा।

घर पर आपको सर्जरी के स्थान की विशेष देखरेख करनी होगी और साफ़-सफाई बनाए रखनी पड़ेगी, जिसके लिए आपको नहाते समय निम्न निर्देशों का पालन करना होगा -

  • नहाना - शावर लेने से पहले चौबीस घंटे का इंतज़ार करें। नहाने से पहले निम्न बातों को ध्यान में रखें -
    • नहाने से बेहतर होगा कि आप शावर लें, जिसका मतलब है कि आप फव्वारे से नहाएं क्योंकि घाव को गीला करने से क्षतिग्रस्त हुए ऊतक खुल सकते हैं। ऐसे में भी यदि आप नहाना चाहते हैं तो यह ध्यान में रखें कि घाव गीला न हो।
    • कोई भी साबुन, बॉडी लोशन, टेलकम पाउडर या अन्य कोई भी नहाने से जुड़े पदार्थों का प्रयोग न करें क्योंकि उनसे संक्रमण या त्वचा संबंधी अन्य समस्याएं हो सकती हैं।
    • यदि ड्रेसिंग वाटर प्रूफ है तो आप उसे लगे रहने दे सकते हैं लेकिन अगर यह गीली हो सकती है तो आपको उसे उतारना होगा। इसके बारे में आप डॉक्टर से पूछ लें।
    • यदि घाव पर थोड़ा सा पानी चला गया है तो ज्यादा चिंता न करें।
    • घाव को रगड़े नहीं क्योंकि यह दर्दनाक हो सकता है और ठीक होने की प्रक्रिया धीमी हो सकती है।
    • घाव को एक साफ़ और सूखे तौलिये से हल्के हाथ से सुखाएं। 
  • पट्टी को बदलना - पट्टी को दो दिन में बदला जा सकता है या फिर डॉक्टर की सलाह के अनुसार आप इसे बदल सकते हैं। हालांकि, अगर घाव के स्थान पर तकलीफ हो रही है तो आप इसे बदल सकते हैं यदि ऐसा नहीं है तो ड्रेसिंग को दो दिन तक लगे रहने दें। यदि पट्टी किसी द्रव या रक्त के कारण गीली हो जाती है तो इसे बदलने की जरूरत पड़ेगी। ड्रेसिंग बदलने से पहले निम्न बातों को ध्यान में रखें -
    • अपने हाथों को साबुन और पानी से ठीक से धोएं
    • प्रयोग किए हुए स्थान को बिना छुए ड्रेसिंग उतारें
    • घाव को उंगलियों से छूने से बचें
    • नई पट्टी की साफ़ सतह को ना छुएं ताकि संक्रमण से बचा जा सके
    • ड्रेसिंग के अंदर कोई भी एंटीसेप्टिक क्रीम ना लगाएं

दूसरे हफ्ते की क्लिनिक विजिट तक आपके घाव पर से स्टेपल और टांकें हटा दिए जाएंगे। डॉक्टर की सलाह के अनुसार आप पेन किलर लेते रहें। ध्यान रहे कि आप केवल डॉक्टरों द्वारा सुझाई गई दवाएं ही लें, ताकि किसी भी तरह के रक्तस्त्राव का खतरा आपको न हो।
जब तक डॉक्टर द्वारा विशेष रूप से न कहा जाए तब तक आहार में आप कुछ भी खा सकते हैं। जब तक डॉक्टर न कहें गाड़ी चलाना शुरू न करें। ये रोकथाम अन्य क्रियाओं जैसे बैठने, घुटना मोड़ने और सीढ़ियों से चढ़ने व उतरने पर भी लगाई जा सकती है।
जल्दी ठीक होने के लिए आप अपने घर में कुछ जरूरी बदलाव कर सकते हैं जैसे -

  • सभी सीढ़ियों, बाथरूम और शावर के पास हैंडरेल लगवा लें।
  • टॉयलेट सीट की ऊंचाई बढ़ा लें।
  • नहाते समय कुर्सी का प्रयोग करें।
  • एक स्थिर कुर्सी पर बैठें जिस पर अपनी बांह को आराम से रख सकें और जिस पर पीछे तकिया रखा हुआ हो इससे घुटने को कूल्हों से नीचे की पोजीशन में रहने में मदद मिलती है।
  • नहाने के लिए पाइप वाले शावर का प्रयोग करें या फिर स्पॉन्ज बाथ लें।
  • चीज़ों तक पहुंचने के लिए रीचिंग स्टिक का प्रयोग करें।
  • बैठते समय किसी मुलायम तकिये का प्रयोग करें ताकि आपके कूल्हों का स्तर घुटने से ऊपर हो।
  • घर में से ढीले तार, कारपेट और चटाइयां हटा दें, ताकि आपके गिरने का खतरा न रहे

नी रिप्लेसमेंट सर्जरी के निम्न फायदे हैं -

  • नी रिप्लेसमेंट सर्जरी से घुटने के दर्द में राहत मिल सकती है
  • बहुत से लोग एक बार ठीक हो जाने के बाद बिना किसी सहारे के चल पाते हैं
  • सबसे ज्यादा आर्टिफिशियल घुटने के जोड़ दस से पंद्रह साल तक चलते हैं और कुछ बीस साल तक भी चल सकते हैं

डॉक्टर के पास कब जाएं?

यदि आपको निम्न में से कुछ भी महसूस होता है तो डॉक्टर को बता दें -

  • सर्जरी हुई जगह पर दर्द
  • बुखार और कंपकंपी
  • जिस टांग पर सर्जरी की गई है उस पर झुनझुनी या फिर उस टांग का सुन्न पड़ना
  • सर्जरी के स्थान से किसी भी तरह का रक्तस्त्राव, लालिमा, सूजन या द्रव का निकलना

नी रिप्लेसमेंट सर्जरी के साथ कौन से खतरे जुड़े हुए हैं?

जोखिमों के कारण व्यक्ति के ठीक होने की संभावना कम हो जाती है और सर्जरी के पॉजिटिव परिणाम आने की सम्भावना ही घट जाती है। ऐसा देखा गया है कि जो व्यक्ति यह सर्जरी करवाते हैं, उनमें से 20 प्रतिशत तक लोग परिणामों से संतुष्ट नहीं होते हैं। इस टेस्ट से जो जोखिम हो सकते हैं वे निम्न हैं -

  • पेरेनियल नर्व पाल्सी (पेरोनियल नस का लकवा - पेरेनियल नस टांग के निचले हिस्से में होती है)
  • पटेल्लर कलङ्क सिंड्रोम (नी कैप के पास गांठ बन जाती है, जिसके कारण घुटने खोलने पर तड़क जैसी आवाज आती है।)
  • प्रोस्थेटिक के हिस्सों का ढीला हो जाना
  • जॉइंट रिप्लेसमेंट के बाद संक्रमण जिससे आगे सर्जरी की जरूरत पड़ सकती है 
  • घुटने में अकड़न
  • बदले गए घुटने के पास की हड्डी में फ्रैक्चर
  • घुटने के जोड़ के पास असंभावित रक्तस्त्राव
  • टांग की गहरी नसों में रक्त के थक्के जमना
  • पल्मोनरी एम्बोलिस्म (रक्त के थक्के जमने से फेफड़ों की आर्टरी का अवरुद्ध होना)
  • सर्जरी के दौरान नस और अन्य ऊतकों का नष्ट होना
  • घुटने में दर्द
  • घुटने का अपनी जगह से स्थगित हो जाना

डॉक्टर आपको सर्जरी के बाद एक फॉलो अप के लिए दो हफ्ते के बाद क्लिनिक में बुला सकते हैं। इस समय पर आपके स्टेपल और टांकें घाव पर से हटाए जाएंगे।

सर्जरी की प्रगति की जांच करने के लिए छह से बारह हफ्ते बाद एक अपॉइंटमेंट दी जाएगी। फॉलो अप अपॉइंटमेंट में घुटने का एक्स रे किया जा सकता है।

Dr. Deep Chakraborty

Dr. Deep Chakraborty

ओर्थोपेडिक्स
10 वर्षों का अनुभव

Dr. Darsh Goyal

Dr. Darsh Goyal

ओर्थोपेडिक्स
10 वर्षों का अनुभव

Dr. Vinay Vivek

Dr. Vinay Vivek

ओर्थोपेडिक्स
6 वर्षों का अनुभव

Dr. Vivek Dahiya

Dr. Vivek Dahiya

ओर्थोपेडिक्स
26 वर्षों का अनुभव

और पढ़ें ...

References

  1. MedlinePlus Medical Encyclopedia [Internet]. US National Library of Medicine. Bethesda. Maryland. USA; Knee Replacement
  2. Hospital for Special Surgery [internet]. New York. US; Knee Replacement
  3. American Academy of Orthopaedic Surgeons [Internet]. Illinois. US; Treatment of osteoarthritis of the knee: evidence-based guideline 2nd edition
  4. Mihalko WM. Campbell's Operative Orthopaedics. 13th ed. Philadelphia: Elsevier; 2017. Chapter 7, Arthroplasty of the knee.
  5. Feng JE, Novikov D, Anoushiravani AA, Schwarzkopf R. Total knee arthroplasty: improving outcomes with a multidisciplinary approach. J Multidiscip Healthc. 2018 Jan 25;11:63-73. PMID: 29416347.
  6. National Health Service [internet]. UK; Knee replacement
  7. Cedars Sinai [Internet]: Cedars Sinai Medical Center. Los Angeles. US; Knee Replacement Surgery
  8. Versus arthritis [Internet]. Chesterfield. UK; Knee replacement surgery
  9. Johns Hopkins Medicine [Internet]. The Johns Hopkins University, The Johns Hopkins Hospital, and Johns Hopkins Health System. US; Arthroplasty
  10. Sankar B, et al. The role of MRSA screening in joint-replacement surgery. Int Orthop. 2005 Jun;29(3):160-163. PMID: 15864590.
  11. Oxford University Hospitals [internet]: NHS Foundation Trust. National Health Service. U.K.; Caring for surgical wounds at home
  12. Patient education: Bone and joint center [Internet]. University of Washington Medical Center. US; After Total Knee replacement: caring for your knee at home.
  13. Varacallo M, Luo TD, Johanson NA. Total Knee Arthroplasty (TKA) Techniques. [Updated 2020 Feb 21]. In: StatPearls [Internet]. Treasure Island (FL): StatPearls Publishing; 2020 Jan
  14. Smith LK, et al. Empirical support for radiographic review: a follow-up study of total hip arthroplasty. Hip Int 2013;23(01):80–86.
ऐप पर पढ़ें