यूरिन कल्चर टेस्ट क्या है?

यूरिन कल्चर टेस्ट एक लैब टेस्ट है, जो यूरिन में मौजूद सूक्ष्म जीवों जैसे बैक्टीरिया और यीस्ट का पता लगाने के लिए किया जाता है। यूरिन किडनी में बनता है, जिसकी मदद से शरीर का अतिरिक्त पानी और अपशिष्ट पदार्थ शरीर से बाहर निकल जाते हैं। यह टेस्ट बच्चों व वयस्कों दोनों में यूरिन संक्रमण (यूटीआई) का पता लगाता है।

जिन लोगों को बार-बार यूरिन संक्रमण होता रहता है उनके लिए संवेदनशीलता परीक्षण (Suceptibility Testing) जैसे कुछ अन्य टेस्ट भी किए जा सकते हैं।

  1. यूरिन कल्चर टेस्ट क्यों किया जाता है - Urine Culture Kyu Kiya Jata Hai
  2. यूरिन कल्चर टेस्ट से पहले - Urine Culture Test Se Pahle
  3. यूरिन कल्चर टेस्ट के दौरान - Urine Culture Test Ke Dauran
  4. यूरिन कल्चर टेस्ट के परिणाम और नॉर्मल रेंज - Urine Culture Test Result and Normal Range

यूरिन कल्चर टेस्ट किसलिए किया जाता है?

डॉक्टर यूरिन कल्चर टेस्ट की सलाह निम्न कारणों से देते हैं:

  • मूत्र पथ में संक्रमण के कारण का पता लगाने के लिए
  • संवेदनशीलता परीक्षण या फिर संक्रमण के इलाज के लिए सबसे अच्छी दवा का चयन करने के लिए
  • यह पता लगाने के लिए की यूरिन इन्फेक्शन के इलाज के लिए दी गई दवाएं ठीक से काम कर पा रही हैं या नहीं।

इसके अलावा यदि किसी व्यक्ति को मूत्राशय में संक्रमण या यूटीआई के कुछ लक्षण महसूस हो रहे हैं, जैसे पेशाब में जलन या दर्द महसूस होना, तो ऐसी स्थिति में भी यूरिन कल्चर टेस्ट करवाने की सलाह दी जाती है।

यूरिन कल्चर टेस्ट से पहले क्या तैयारी करें?

इस टेस्ट के लिए कोई विशेष तैयारी करने की आवश्यकता नहीं होती है। यदि टेस्ट से पहले या हाल ही में एंटीबायोटिक या अन्य कोई दवा ली है, तो उस के बारे में डॉक्टर को पहले ही बता देना चाहिए। टेस्ट से एक घंटे पहले तक पेशाब न करें। डॉक्टर आपको टेस्ट से 20 मिनट पहले एक गिलास पानी पीने को कह सकते हैं, ताकि सेंपल लेते समय पर्याप्त मात्रा में पेशाब निकल सके।

यूरिन कल्चर टेस्ट कैसे किया जाता है? 

जिस व्यक्ति का टेस्ट किया जा रहा है उससे मिडस्ट्रीम (आधा पेशाब करने के बाद) यूरिन सैंपल लेने को कहा जाएगा। ज्यादातर मामलों में डॉक्टर मरीज को दिन में सबसे पहले पेशाब से सेंपल लेने की सलाह देते हैं, क्योंकि इसमें बैक्टीरिया सबसे अधिक मात्रा में पाए जाते हैं। यूरिन सेंपल लेते वक्त निम्न तरीकों को अपनाना चाहिए:

  • यूरिन सेंपल लेने से पहले महिलाओं को जननांग क्षेत्र को और पुरुषों को पेनिस को साफ़ कर लेना चाहिए ताकि त्वचा पर लगे बैक्टीरिया सैंपल में न मिल पाएं। 
  • महिलाओ को जननांग क्षेत्र आगे से पीछे तक साफ़ कर लेने चाहिए।
  • यूरिन की शुरुआती कुछ बूँद नहीं लेनी चाहिए |
  • दिए गए कंटेनर में लगभग 60 मि.ली. यूरिन लेना चाहिए।
  • कंटेनर के ढक्कन को अच्छे से बंद कर के लैब में भेज देना चाहिए।

जिन लोगों को यूरिन नली (कैथीटर) लगी होती है उनके यूरिन का सेंपल एक प्रशिक्षित डॉक्टर मूत्रमार्ग में एक पतली ट्यूब डालकर लेते हैं। यदि यूरिन सैंपल लेबोरेटरी में एक घंटे में नहीं भेजा जाता तो सैंपल को रेफ्रिजरेटर में रख देना चाहिए।

यदि सेंपल को कैथीटर या ट्यूब से लिया जा रहा है, तो इससे मूत्रमार्ग या मूत्राशय में छेद होने का खतरा भी हो  सकता है।

यूरिन कल्चर टेस्ट के परिणाम और नॉर्मल रेंज

यूरिन टेस्ट का रिजल्ट आने में आमतौर पर एक से तीन दिन का समय लगता है, कभी-कभी इससे भी ज्यादा समय लग सकता है क्योंकि कुछ सूक्ष्म जीवों को बढ़ने में अधिक समय लगता है।

सामान्य परिणाम: यूरिन कल्चर टेस्ट के सामान्य रिजल्ट दिखाते हैं कि व्यक्ति को किसी प्रकार का संक्रमण नहीं है। टेस्ट का सामान्य मान हर लैब के अनुसार अलग-अलग हो सकता है। 

असामान्य परिणाम: यूरिन कल्चर टेस्ट के असामान्य या पॉजिटिव रिजल्ट यूरिन में यीस्ट और बैक्टीरिया की मौजूदगी दिखाते हैं, जो कि पित्त की थैली का संक्रमण या यूटीआई होने का संकेत दे सकता है। 

पॉजिटिव यूरिन कल्चर टेस्ट में निम्न नतीजे आते हैं:

  • सौ से कम गणना: इसका मतलब है कि व्यक्ति को किसी प्रकार का संक्रमण नहीं है, या फिर यह भी हो सकता है कि व्यक्ति कोई एंटीबायोटिक दवाई ले रहा हो। 
  • 100 से 100,000 गणना: यह बताता है कि यूरिन सेंपल दूषित हुआ है या कोई संक्रमण है (ऐसे में टेस्ट को दोबारा करने की सलाह दी जा सकती है)
  • 100,000 बैक्टीरिया/ मि.ली: यह संक्रमण के संकेत देता है। 

पॉजिटिव परिणाम आने पर सेंसिटिव टेस्ट करवाने की सलाह भी दी जा सकती है।

और पढ़ें ...

संदर्भ

  1. Dean AJ, Lee DC. Bedside laboratory and microbiologic procedures. In: Roberts JR, Custalow CB, Thomsen TW, eds. Roberts and Hedges' Clinical Procedures in Emergency Medicine and Acute Care. 7th ed. Philadelphia, PA: Elsevier; 2019:chap 67.
  2. Germann CA, Holmes JA. Selected urologic disorders. In: Walls RM, Hockberger RS, Gausche-Hill M, eds. Rosen's Emergency Medicine: Concepts and Clinical Practice. 9th ed. Philadelphia, PA: Elsevier; 2018:chap 89.
  3. Schaeffer AJ, Matulewicz RS, Klumpp DJ. Infections of the urinary tract. In: Wein AJ, Kavoussi LR, Partin AW, Peters CA, eds. Campbell-Walsh Urology. 11th ed. Philadelphia, PA: Elsevier; 2016:chap 12.
  4. National Institute of Diabetes and Digestive and Kidney Diseases [internet]: US Department of Health and Human Services; Bladder Infection (Urinary Tract Infection—UTI) in Adults
  5. Michigan Medicine: University of Michigan [internet]; Urine Culture
  6. MedlinePlus Medical Encyclopedia: US National Library of Medicine; Urine culture
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ