संक्षेप में सुनें

 पेशाब में दर्द व जलन होना क्या होता है?

पेशाब के दौरान परेशानी, दर्द और जलन होने की स्थिति को 'डिस्यूरिया' (Dysuria) कहा जाता है। आम तौर पर यह मूत्राशय से मूत्र को बाहर ले जाने वाली ट्यूब (मूत्रमार्ग) में या फिर जननांगों के आस-पास के क्षेत्र में महसूस होता है। पेशाब में जलन होना अपने आप में एक बीमारी नहीं है, बल्कि यह अन्य बीमारियों का लक्षण होता है। पेशाब में जलन महसूस होने पर उसी समय डॉक्टर के पास उसका परीक्षण व मूल्यांकन करवाने के लिए जाना चाहिए। यह पुरुषों की तुलना में महिलाओं में अधिक होता है और युवा पुरुषों की तुलना में यह बूढ़े पुरूषों में अधिक पाया जाता है। अक्सर यह मूत्र पथ के संक्रमण का संकेत देता है एवं कई बार यह यौन संचारित संक्रमण का संकेत भी देता है।

(और पढ़ें - पेशाब में खून आने का इलाज)

  1. पेशाब में दर्द और जलन के लक्षण - Painful Urination (Dysuria) Symptoms in Hindi
  2. पेशाब में दर्द और जलन के कारण - Painful Urination (Dysuria) Causes in Hindi
  3. पेशाब में दर्द और जलन के बचाव के उपाय - Prevention of Painful Urination (Dysuria) in Hindi
  4. पेशाब में दर्द और जलन का परीक्षण - Diagnosis of Painful Urination (Dysuria) in Hindi
  5. पेशाब में दर्द और जलन का उपचार - Painful Urination (Dysuria) Treatment in Hindi
  6. पेशाब में दर्द और जलन के घरेलू उपाय
  7. पेशाब में दर्द और जलन की दवा - Medicines for Painful Urination in Hindi
  8. पेशाब में दर्द और जलन की दवा - OTC Medicines for Painful Urination in Hindi
  9. पेशाब में दर्द और जलन के डॉक्टर

पेशाब में दर्द व जलन के लक्षण व संकेत क्या हो सकते हैं?

संक्रमण से जुड़े निम्न लक्षण शामिल हो सकते हैं-

कभी-कभी पेशाब में जलन योनि के संक्रमण से भी जुड़ी हो सकती है, जिनमें निम्न लक्षण शामिल हो सकते हैं-  

यौन संचारित संक्रमण जैसे एड्स, क्लामिडिया या सिफलिस भी पेशाब में दर्द व जलन का कारण बन सकते हैं। ये निम्न लक्षणों का भी कारण बन सकते हैं जैसे:

डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए?

आपको तुरंत डॉक्टर से बात करनी चाहिए अगर पेशाब में दर्द और जलन-

  • अचानक से शुरू हो जाए।
  • अचानक से बार-बार हो रही हो।
  • पेशाब करने की शुरूआत और बाद में महसूस होती हो।

अगर पेशाब में दर्द और जलन निम्न लक्षणों के साथ दिखाई दे-

अगर पेशाब में दर्द और जलन के साथ मूत्र प्रवाह में भी बदलाव दिखाई दे रहा हो, जैसे-

अगर पेशाब में दर्द और जलन के साथ-साथ उसके स्वरूप में भी परिवर्तन दिखाई दे रहा है तो यह परिवर्तन निम्न हो सकते हैं-

  • रंग
  • मात्रा
  • मूत्र में खून आना
  • मूत्र में पस (मवाद, पीब)
  • धुंधला पेशाब

(और पढ़ें - महिलाओं में पेशाब रोक न पाने की समस्या)

पेशाब में दर्द व जलन क्यों होता है?

  • मूत्र पथ के संक्रमण (मूत्रमार्ग, मूत्राशय या गुर्दे) 'डिस्यूरिया' का सबसे आम कारण होता है।
  • मूत्राशय में संक्रमण, पौरुष ग्रंथि (Prostate) में संक्रमण और मूत्र पथ में सूजन आदि ये सबसे सामान्य प्रकार के संक्रमण होते हैं।
  • यौन संचारित रोग (STD) भी पेशाब में जलन के लक्षण उत्पन्न कर सकते हैं।

डिस्यूरिया के अन्य कारण जिनमें निम्न शामिल हैं-

  • आघात - सामान्य चोट, यौन संपर्क या कैथेटर आदि लगाने से भी जलन होती है। ( और पढ़ें - सुरक्षित सेक्स के तरीके और sex kaise kare)
  • रुकावट - असामान्य रूप से पौरुष ग्रंथि का आकार बढ़ने या मूत्र मार्ग संकुचित होने के कारण पेशाब करने में रुकावट हो सकती है।
  • बाहरी घावों के कारण जलन – अगर जननांगों की बाहरी त्वचा पर घाव आदि बने हुऐ हैं, तो उन पर पेशाब लगने से दर्द व जलन आदि हो सकती है।
  • बाहरी उत्तेजनाएं और प्रतिक्रियाएं – बार-बार ड्यूशिंग व अन्य जलन व परेशानी करने वाले उपकरणों का इस्तेमाल करने से भी पेशाब करने में जलन एवं परेशानी हो सकती है।
  • हार्मोनल - पोस्टमेनोपोजल (मेनोपॉज के बाद) के प्रभाव जैसे, योनी में सूखापन
  • न्यूरोलॉजिक की स्थिति - किसी भी नस की समस्या जो मूत्राशय खाली करने में कठिनाई का कारण बन सकती है।
  • कैंसर -  जैसे मूत्र पथ, मूत्राशय, शिश्न, योनि या पौरुष ग्रंथि में कैंसर
  • मेडिकल परिस्थितियां - जैसे शुगर और अन्य दीर्घकालिक स्थिति, जो प्रतिरक्षा प्रणाली को दबा देती है। ( और पढ़ें - शुगर का घरेलू नुस्खा)
  • साबुन, क्रीम और अन्य व्यक्तिगत देखभाल के उत्पाद।
  • गुर्दे में पथरी। ( और पढ़ें - पथरी में क्या खाएं)
  • मूत्राशय में पथरी।
  • जननांग दाद।
  • योनि यीस्ट संक्रमण

जोखिम कारक:

कुछ कारक जो 'डिस्यूरिया' होने के जोखिम को बढ़ा देते हैं, उनमें निम्न शामिल हैं-

डिस्यूरिया की रोकथाम कैसे की जा सकती है?

  • अधिक मात्रा में तरल पदार्थ पीएं। (और पढ़ें - पानी पीने के फायदे)
  • सोते समय और यौन संभोग के बाद पेशाब करें। (और पढ़ें - सेक्स करने के फायदे)
  • अत्यधिक देर तक मूत्र को अंदर ना रखें।
  • यौन स्वच्छता और अच्छी स्वास्थ्य बनाएं रखें।
  • अगर आपको डिस्यूरिया की समस्या है तो जननांगों को उत्तेजित करने वाले किसी भी उत्पाद का सेवन करने से बचें।
  • कई साथियों के साथ असुरक्षित यौन संबंध बनाने से बचें। (और पढ़ें - सेक्स के दौरान की जाने वाली गलतियां)
  • सुरक्षित सेक्स का अभ्यास करें जैसे हमेशा कंडोम का उपयोग करना।
  • मूत्राशय को परेशान करने वाले पदार्थों से बचें, जैसे शराब और कॉफी। (और पढ़ें - शराब के नुकसान)
  • नियमित रूप से पेशाब करें और अपने मूत्राशय को पूरी तरह से खाली रखें।
  • सूती और ढीली अंडरवियर पहनें, नॉन-बाइडिंग कपड़े पहनें जो गर्मी और नमी को नहीं खींचती। 

(और पढ़ें - पेशाब नहीं रोक पाने का इलाज)

पेशाब में दर्द और जलन का परीक्षण कैसे किया जाता है?

(और पढ़ें - लैब टेस्ट)

काफी लोगों को पेशाब करने के दौरान अचानक से तकलीफ महसूस होने लगती है। आमतौर पर यह जलन के कारण होता है और इसका इलाज करने की आवश्यकता नहीं होती है। हालांकि, यदि पेशाब का दर्द लगातार गंभीर हो रहा है या फिर लंबे समय से आपको यह समस्या हो रही है, तो आपको अपने डॉक्टर को दिखा लेना चाहिए। इसका परीक्षण आपके रोग लक्षण, यौन आदतों, शारीरिक और मेडिकल संबंधी पिछली जानकारीयों के आधार पर होते हैं। शारीरिक परीक्षण के दौरान डॉक्टर जननांगों की जांच करते हैं और गुर्दे में दर्द या गुर्दे के रोग आदि जैसी समस्याओं का पता लगाते हैं। महिलाओं के लिए इस परीक्षण के दौरान पेल्विक परीक्षण (योनि की जांच) किया जा सकता है। जिन पुरूषों में पौरुष ग्रंथि का आकार बढ़ने का संदेह है, उनका शारीरिक परीक्षण किया जाता है।

(और पढ़ें - पैप स्मीयर टेस्ट)

 जांच:

  • पेशाब टेस्ट - यदि मूत्राशय में संक्रमण का संदेह हो रहा है तो आमतौर पर एक मूत्र परीक्षण के द्वारा इसकी पुष्टी की जा सकती है। (और पढ़ें - यूरिन टेस्ट क्या होता है)
  • बैक्टीरियल कल्चर के सैम्पल - मूत्र पथ और योनि में बैक्टीरियल संक्रमण की जांच करने के लिए, संक्रमित जगह से एक स्वैब (एक प्रकार का उपकरण) की मदद से कुछ द्रव या पदार्थ को सैम्पल के तौर पर ले लिया जाता है।
  • खून टेस्ट - यदि आपको बुखार या उससे संबंधित अन्य लक्षण हैं, तो खून में बैक्टीरिया की जांच के लिए लेबोरेटरी में खून के सैम्पल की जांच की जा सकती है। (और पढ़ें - ब्लड टेस्ट क्या है)
  • यौन संचारित बीमारियों के लिए परीक्षण - अगर कई पार्टनर्स के साथ आपके असुरक्षित यौन संबंध हैं और आपको पेशाब करते समय दर्द या जलन महसूस होती है, तो विभिन्न प्रकार के यौन संचारित बीमारियों जैसे कि सिफलिस, क्लैमाडिया और एचआईवी आदि के जानकारी के लिए अलग-अलग टेस्ट करने की आवश्यकता पड़ सकती है।

(और पढ़ें - एचआईवी टेस्ट क्या है)

पेशाब में दर्द और जलन का उपचार कैसे किया जाता है?

पेशाब के दौरान दर्द और जलन का उपचार उसके कारणों के आधार पर किया जाता है:

संक्रमण, सूजन, आहार कारकों या मूत्राशय में से पेशाब के जलन का असली कारण निर्धारित करना इसके उपचार का सबसे पहला कदम होता है। 

(और पढ़ें - सूजन का इलाज)

  • डिस्यूरिया का सबसे सामान्य कारण मूत्र पथ संक्रमण होता है, जिसका इलाज एंटीबायोटिक दवाओं के साथ किया जाता है। सबसे अधिक सामान्य संक्रमणों का इलाज सिर्फ तीन दिन दवाओं का सेवन करने से हो जाता है। लेकिन कुछ प्रकार की दवाएं या कुछ जीवों (Organisms) के कारण इलाज में एक हफ्ते तक का समय भी लग सकता है। कुछ जटिल संक्रमण, जैसे गुर्दे में संक्रमण या वे संक्रमण और अन्य मेडिकल स्थिति जो प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर कर देती हैं, उनको आमतौर पर उपचार के लिए एक लंबे कोर्स की आवश्यकता पड़ सकती है। उपचार का कोर्स पूरा करना जरूरी होता है। बार-बार मूत्र परीक्षण करने के लिए आपको कई बार आने को कहा जा सकता है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि आपके मूत्र में अब संक्रमण ख़त्म हो चुका है।
  • जिन लोगों को बार-बार मूत्राशय में संक्रमण हो जाता है, उनके लिए अतिरिक्त 6 महीने के लिए एंटीबायोटिक की खुराक का सुझाव दिया जा सकता है। जिन लोंगों के संक्रमण यौन गतिविधियों से संबंधित हैं, उनको एंटीबायोटिक की एक छोटी मात्रा लेने को कहा जा सकता है, (प्रत्येक समय जब वे संभोग करते हैं।) (और पढ़ें - एंटीबायोटिक दवा लेने से पहले रखें ध्यान)
  • अगर परीक्षण उन बैक्टीरिया की मौजूदगी का संकेत दे रहा है, जो शुरूआती एंटीबायोटिक को प्रतिक्रिया नहीं देते, तो इसकी जानकारी के बाद डॉक्टर दवाओं में बदलाव कर सकते हैं। यीस्ट संक्रमण का इलाज एंटीफंगल दवाओं के साथ किया जाता है, ये दवाएं खाने के लिए टेबलेट और जननांगों में लगाने के लिए क्रीम के रूप में आती हैं।
  • अगर शरीर में से संक्रमण को खत्म करने में देरी होती है, तो एक गंभीर समस्या भी पैदा हो सकती है। (और पढ़ें - सेक्स से जुड़े सच और झूठ)
  • अगर पेशाब में दर्द व जलन का कारण संक्रमण नहीं है, तो डॉक्टरों को आगे टेस्ट करने की आवश्यकता पड़ती है।
  • यदि आप यौन सक्रिय हैं और आपका यौन संचारित बीमारी के कारण होने वाली जलन का इलाज किया जा रहा है, तो आपके पार्टनर का भी इसके लिए इलाज किया जाना चाहिए। (और पढ़ें - गुप्त रोगों का उपचार)
  • त्वचा में जलन के कारण होने वाले सूजन का इलाज आमतौर पर उत्तेजित करने वाले पदार्थों से बचने के माध्यम से किया जा सकता है।
  • पेशाब में दर्द और जलन जैसी परेशानी को कम करने के लिए कई कदम उठाए जा सकते हैं, जिसमें अत्यधिक पानी पीना और ऑवर-द-काउंटर दवाएं लेना (बिना डॉक्टर की पर्ची के मेडिकल स्टोर पर मिलने वाली दवाओं को ऑवर द काउंटर दवाएं कहते हैं) शामिल है।
  • मूत्राशय के मामूली संक्रमण घरेलू उपचार पर जल्दी प्रतिक्रिया देकर ठीक हो जाते हैं, जैसे अधिक मात्रा में तरल पदार्थ पीना। (और पढ़ें - यूरिन इन्फेक्शन के उपाय)
  • महिलाओं में पोस्टमेनोपोजल के दौरान यह समस्या दुबारा होने से रोकथाम के लिए कुछ डॉक्टर, हार्मोन एस्ट्रोजन (Oestrogen) दवाओं का सुझाव देते हैं, ये दवाएं लगाने वाली क्रीम और खाने वाली गोलियों के रूप में मिलती हैं।
  • जिन मामलों में पेशाब के दौरान दर्द और जलन रुकावट से हुई है, जैसे कि किडनी में पथरी या पौरुष ग्रंथि का बढ़ना आदि, तो ऐसे में सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है।

स्वतः देखभाल-

  • जब तक आप पूरी तरह से ठीक नहीं हो जाते, हर रोज दो गिलास नारियल का पानी पीएं।
  • खुद को रिलेक्स रखने के लिए कुछ सामान्य तकनीकों का इस्तेमाल करने की कोशिश करें। क्योंकि तनाव व चिंता आपकी स्थिति को गंभीर बना सकती है। (और पढ़ें - तनाव दूर करने के उपाय)
  • महिलाओं को अपने जननांग क्षेत्र साफ और सूखा रखना चाहिए, बार-बार अपने सेनिटरी नैपकिन्स को बदलते रहना चाहिए। (और पढ़ें - सेनेटरी पैड क्या है)
  • ज्यादा समय तक ज्यादा गीले कपड़े या स्विम सूट न पहनें।
  • सूती अंडरवियर पहनें और अधिक तंग जीन्स न पहनें।
  • सुरक्षित सेक्स का अभ्यास करें और संभोग से पहले और बाद में जननांगों को धो लें। बैक्टीरिया को बाहर निकालने के लिए संभोग करने के बाद पेशाब करें। (और पढ़ें - शादी से पहले सेक्स)
  • कैफीन, मसालेदार भोजन, कृत्रिम मीठे और कार्बोनेटेड ड्रिंक जैसे खाद्य व पेय पदार्थों से बचें, क्योंकि वे स्थिति को और खराब कर सकते हैं।  (और पढ़ें - संतुलित आहार किसे कहते है)
  • विटामिन C में उच्च खाद्य पदार्थ या विटामिन C के सप्लिमेंट्स लेने के लिए डॉक्टर से पूछें।
  •  धूम्रपान और शराब के अत्याधिक सेवन से बचें। 

(और पढ़ें - शराब की लत छुड़ाने के घरेलू उपाय)

Dr. Jaspreet Singh

Dr. Jaspreet Singh

यूरोलॉजी

Dr. Sachin Patil

Dr. Sachin Patil

यूरोलॉजी

Dr. Hiren Rathod

Dr. Hiren Rathod

यूरोलॉजी

पेशाब में दर्द और जलन के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

Medicine NamePack SizePrice (Rs.)
FlavateFlavate 200 Mg Tablet142.0
FlavocipFlavocip 200 Mg Tablet125.0
FlavospasFlavospas 200 Mg Tablet129.5
UrifreeUrifree 200 Mg Tablet154.0
UrikindUrikind 200 Mg Tablet108.9
UrinetUrinet 200 Mg Tablet95.0
UrisolUrisol 200 Mg Tablet163.6
Urispas TabletUrispas 200 Mg Tablet258.22
UticeptUticept 200 Mg Tablet111.0
VoxateVoxate 200 Mg Tablet124.0
BladospasBladospas Tablet105.0
FlavoguardFlavoguard 200 Mg Tablet124.0
FlavomedFlavomed 200 Mg Tablet120.0
FlavorideFlavoride 200 Mg Tablet119.5
FlavotaryFlavotary 200 Mg Tablet99.0
FlavtbFlavtb Tablet107.62
RelaxuroRelaxuro 200 Mg Tablet82.88
SperoxateSperoxate 200 Mg Tablet130.0
UrelyUrely 200 Mg Tablet130.34
UripilUripil 200 Mg Tablet141.8
FlavdidFlavdid 200 Mg Tablet110.0
FlavozanFlavozan 200 Mg Tablet94.73
HerflavHerflav 200 Mg Tablet91.0
KonflavKonflav 200 Mg Tablet95.0
UriflaxUriflax 200 Mg Tablet108.0
UrilivUriliv Tablet116.18
UrixateUrixate Tablet120.97
UrozaUroza 200 Mg Tablet110.0
Verin UtiVerin Uti 200 Mg Tablet85.71
Flavoride PlusFlavoride Plus 200 Mg/200 Mg Tablet138.8
Urifree OUrifree O 200 Mg/200 Mg Tablet167.5
Urisol OUrisol O 200 Mg/200 Mg Tablet149.0
UroconkitUroconkit 200 Mg/200 Mg Tablet32.05
Zenflox UtiZenflox Uti 200 Mg/200 Mg Tablet140.0
Flavospas DFlavospas D 200 Mg/200 Mg Tablet109.52
Flavospas OFlavospas O 200 Mg/200 Mg Tablet150.0
Joxate OJoxate O 200 Mg/200 Mg Tablet149.71
Konflav OKonflav O 200 Mg/200 Mg Tablet125.0
Zanocin FZanocin F 200 Mg/200 Mg Tablet136.5

पेशाब में दर्द और जलन के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

OTC Medicine NamePack SizePrice (Rs.)
Baidyanath Shweta ParpatiBaidyanath Shweta Parpati69.0
Baidyanath Chandraprabha VatiBaidyanath Chandra Prabha Bati110.0
Baidyanath Chandanadi VatiBaidyanath Chandanadi Vati Tablets130.0
Baidyanath Kaishore GugguluBaidyanath Kaishore Guggulu190.0
Baidyanath Kanchanar GugguluBaidyanath Kanchanar Guggulu105.0
Baidyanath Pathrina TabletsBaidyanath Patharina Tablets115.0
Himalaya Renalka Syrup Himalaya Renalka Syrup 200 Ml90.0
Baidyanath ProstaidBaidyanath Prostaid Tablet120.0
Zandu Chandraprabha VatiZandu Chandraprabha Vati Tablet42.0

क्या आप या आपके परिवार में किसी को यह बीमारी है? सर्वेक्षण करें और दूसरों की सहायता करें

और पढ़ें ...