आर्थ्रोग्राम एक इमेजिंग परीक्षण है जहां इंजेक्शन के माध्यम से एक विशेष कंट्रास्ट एजेंट प्राप्त होता है जिस का उपयोग बाद एक्स-रे, फ्लोरोस्कोपी, एमआरआई स्कैन या सीटी स्कैन किया जाता है। आर्थ्रोग्राम उन परीक्षण की तुलना में ज्यादा अच्छा परिणाम देते हैं जो बिना कंट्रास्ट के होते हैं। दर्द का कारण जानने के लिए अक्सर उनका उपयोग जोड़ों पर बारीकी से नज़र रखने के लिए किया जाता है। आर्थ्रोग्राम में उपयोग किया जाने वाला कंट्रास्ट तरल पदार्थ डॉक्टरों को ऊतकों और हड्डियों के बारे में सारी जानकारी प्राप्त करने में सहायता देता है। इस प्रकार का इमेजिंग परीक्षण आम तौर पर सुरक्षित माना जाता है, लेकिन जोड़ों के संक्रमण या गठिया वाले लोगों या गर्भवती महिलाओं के लिए आर्थ्रोग्राम नहीं किया जाता ।  

और पढ़ें - (जोड़ों में दर्द के लक्षण)

  1. आर्थ्रोग्राफी की जांच कैसे होती है ?
  2. आर्थ्रोग्राम टेस्ट कैसे किया जाता है ?
  3. आर्थ्रोग्राम टेस्ट के प्रकार
  4. आर्थ्रोग्राम टेस्ट के जोखिम और जटिलताएँ
  5. सारांश

जोड़ों के दर्द या गतिशीलता संबंधी समस्याओं का मूल कारण जानने के लिए आर्थ्रोग्राम का उपयोग किया जाता है। ये परीक्षण से आपके जोड़ों के स्नायुबंधन, टेंडन, उपास्थि में दरारों और अव्यवस्थित जोड़ों या हड्डी की भी जांच कर सकता है जो दर्द का कारण बनते हैं। यदि आपकी कोई जॉइन्ट सर्जरी हुई है और कहीं पर भी कोई जोड़ हैं जो बाहर से लगाए गए हैं तो आर्थ्रोग्राम टेस्ट के द्वारा कृत्रिम अंग को देखा जा सकता है ।  

और पढ़ें - (जोड़ों में दर्द के घरेलू उपाय )

बदन दर्द, कमर दर्द , जोड़ों में दर्द , साइटिका , मांसपेशियों में दर्द और जोड़ों के दर्द से राहत पाने के लिए आजमाएँ माई उपचार आयुर्वेद द्वारा निर्मित जॉइन्ट पेन ऑइल 

Joint Capsule
₹719  ₹799  10% छूट
खरीदें

आर्थ्रोग्राम की सटीक प्रक्रिया इस बात पर निर्भर करेगी कि आपने परीक्षण आउट पेशेंट क्लिनिक में किया है या अस्पताल में। समग्र स्वास्थ्य कारक भी इस में भूमिका निभाते हैं। हालाँकि, कुछ सामान्य चरण प्रत्येक आर्थ्रोग्राम प्रक्रिया का हिस्सा होते हैं। जिस में शामिल है-

  • आपको अस्पताल का गाउन पहनना होगा और अपने शरीर पर पहने गए गहने, छेदन और अन्य धातु के सामान हटाना होगा। तकनीशियन द्वारा इमेजिंग परीक्षण करने के लिए आपको एक मेज पर लेटने के लिए कहा जाएगा।
  • तकनीशियन प्रभावित जोड़ के आसपास की त्वचा को एंटीसेप्टिक से साफ करेगा।
  • क्षेत्र को सुन्न करने के लिए आपको जोड़ में एक इंजेक्शन लगाया जाएगा। इससे प्रक्रिया के दौरान आपको दर्द महसूस नहीं होगा। यह पहला इंजेक्शन असुविधाजनक हो सकता है।
  • एक सुई और सिरिंज का उपयोग करके, तकनीशियन आपके जोड़ में जमा हुए तरल पदार्थ को निकाल देगा।
  • फिर वे एक लंबी और पतली सुई का उपयोग करके आपके जोड़ में कंट्रास्ट डाई इंजेक्ट करेंगे। डाई इंजेक्ट करते समय अधिकांश लोगों को दबाव और असुविधा महसूस होती है, लेकिन अधिक दर्द महसूस नहीं होता।
  • कंट्रास्ट डाई को पूरे जोड़ में फैलने में मदद करने के लिए आपको अपने जोड़ को हिलाने के लिए कहा जा सकता है। यह महत्वपूर्ण है क्योंकि कंट्रास्ट डाई वह है जो स्पष्ट छवियां बनाती है ।
  • एक बार जब डाई फैल जाएगी, तो तकनीशियन एक्स-रे लेगा। अलग अलग तरीके से कई बार एक्स रे लिए जाएंगे ।
  • डॉक्टर एक्स-रे के बाद फ्लोरोस्कोपी, एमआरआई स्कैन या सीटी स्कैन भी करवा सकते हैं।  

और पढ़ें - (जोड़ों को स्वस्थ रखने के लिए टिप्स)

आर्थ्रोग्राम दो प्रकार के होते हैं: एक प्रत्यक्ष आर्थ्रोग्राम और एक अप्रत्यक्ष आर्थ्रोग्राम।

प्रत्यक्ष आर्थ्रोग्राम के दौरान, कंट्रास्ट डाई को सीधे आपके जोड़ में इंजेक्ट किया जाता है। अप्रत्यक्ष आर्थ्रोग्राम के दौरान, डाई को प्रभावित जोड़ के पास आपके रक्तप्रवाह में इंजेक्ट किया जाता है। फिर यह आपकी रक्त वाहिकाओं द्वारा अवशोषित हो जाता है और जोड़ों में चला जाता है। इस के अलावा दूसरे टेस्ट भी आर्थ्रोग्राम के बाद किए जा सकते हैं जैसे -

  • फ्लोरोस्कोपी -  फ्लोरोस्कोपी एक विशेष प्रकार का एक्स-रे है जो शरीर के अंदर की वीडियो या चलती-फिरती छवियां बनाता है। इस प्रकार की इमेजिंग से तकनीशियन को वास्तविक समय में संरचनाओं को देखने की सुविधा मिलती है।
  • एमआरआई स्कैन -  एमआरआई आपके शरीर के अंदर की कंप्यूटर-जनित छवियां बनाने के लिए चुंबकीय क्षेत्र और रेडियो तरंगों का उपयोग करता है। एमआरआई उन अंगों और उपास्थि को देख सकता है जो एक्स-रे नहीं देख सकते।
  • सीटी स्कैन - सीटी स्कैन आपके शरीर के अंदर की 3डी कंप्यूटर छवियां बनाने के लिए एक्स-रे की एक श्रृंखला का उपयोग करता है।

इमेजिंग प्रक्रिया इस बात पर निर्भर करेगी कि आपको किस प्रकार के आर्थ्रोग्राम की आवश्यकता है और कितने टेस्ट किए जाने हैं। डॉक्टर आपको आर्थ्रोग्राम के बारे में और तकनीशियन इस में लगने वाले समय के बारे में बताएंगे ।  

और पढ़ें - (जोड़ों के दर्द के लिए 12 दवाइयाँ)

Joint Support Tablet
₹449  ₹695  35% छूट
खरीदें

आर्थ्रोग्राम को बहुत सुरक्षित माना जाता है। फिर भी, सभी प्रक्रियाओं की तरह, इसमें जोखिम भी शामिल हैं जैसे :

  • कंट्रास्ट इंजेक्शन स्थल पर दर्द और सूजन जोड़ में कंट्रास्ट इंजेक्शन के बाद थोड़ा दर्द होना आम बात है, लेकिन सूजन, लालिमा और दर्द संक्रमण या डाई से एलर्जी की प्रतिक्रिया का संकेत हो सकता है। यदि आप इन लक्षणों का अनुभव कर रहे हैं तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें। अत्यधिक रक्तस्राव होने पर भी ऐसा हो सकता है।   
  • चिंता, घबराहट, या क्लौस्ट्रफ़ोबिया - परीक्षण करवाना कुछ लोगों के लिए तनावपूर्ण हो सकता है और मानसिक या भावनात्मक परेशानी का कारण बन सकता है। यह सुइयों, विकिरण, या तेज़ आवाज़ के कारण हो सकता है। यदि आप दिए गए इमेजिंग परीक्षणों को लेकर घबराए हुए हैं तो अपने डॉक्टर को पहले ही बता दें। आपको चिंता कम करने और आर्थ्रोग्राम को प्रबंधनीय बनाने में मदद करने के लिए एक बार उपयोग की जाने वाली दवा दी जा सकती है।
  • बार-बार विकिरण का खतरा - कई इमेजिंग परीक्षणों में विकिरण का जोखिम शामिल होता है, लेकिन एक एक्स-रे या सीटी स्कैन के दौरान विकिरण की मात्रा नुकसान नहीं पहुंचाती है हालाँकि, लंबे समय तक बार-बार इमेजिंग परीक्षण करने से कैंसर सहित कुछ बीमारियों का खतरा बढ़ सकता है।

और पढ़ें - (सेप्टिक गठिया)

आर्थ्रोग्राम किसे करवाना चाहिए?
जोड़ों के दर्द के लिए आर्थ्रोग्राम किया जाता है, लेकिन यह सभी मामलों में सुरक्षित नहीं है। अगर आपको निम्न लिखित समस्याएँ हैं तो इस से बचना चाहिए जैसे -

  • जोड़ों में अगर कोई संक्रमण है तो 
  • गठिया 
  • गर्भवती महिलायें 

गठिया का परीक्षण रक्त परीक्षण और एक्स-रे या एमआरआई के माध्यम से किया जा सकता है। यदि आप गर्भवती हैं लेकिन आपके आर्थ्रोग्राम का कारण आपातकालीन स्थिति है, तो विशेष सावधानी बरती जा सकती है।

रिपोर्ट आने में कितना समय लगता है
ज्यादातर मामलों में, आपके आर्थ्रोग्राम के परिणाम प्राप्त करने में एक या दो दिन लगेंग। टेस्ट रिपोर्ट आने के बाद आपके डॉक्टर इलाज के सभी तरीके बताएंगे ।  

और पढ़ें - (जोड़ों के दर्द के लिए एक्सरसाइज)

Vitamin D3 Capsules
₹729  ₹899  18% छूट
खरीदें

आर्थ्रोग्राम एक इमेजिंग परीक्षण है जो जोड़ों को अधिक विस्तृत रूप से देखने के लिए कंट्रास्ट, एक डाई-जैसे तरल पदार्थ का उपयोग करता है। आर्थ्रोग्राम में एक्स-रे, एमआरआई स्कैन, या सीटी स्कैन और बहुत कुछ शामिल हो सकता है। आपके डॉक्टर कई इमेजिंग परीक्षण करवा सकते हैं।  जोड़ों के दर्द और गतिशीलता संबंधी समस्याओं के कारणों की जांच के लिए अक्सर आर्थ्रोग्राम का उपयोग किया जाता है। परीक्षण जोड़ों की अव्यवस्था या नरम ऊतकों के फटने की पहचान कर सकता है और सर्जरी के बाद कृत्रिम जोड़ों की स्थिति की जांच कर सकता है।

ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ