myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

कैंसर एक रोग है, जो असामान्य कोशिकाओं के विकास के द्वारा होता है जो कि विभिन्न तरीकों से शरीर को नुकसान पहुचाती हैं। कैंसर के 100 से अधिक प्रकार हैं जैसे स्तन, त्वचा, डिम्बग्रंथि, फेफड़े, अग्नाशय, पेट, प्रोस्टेट और लिंफोमा आदि।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अनुसार, नए कैंसर के मामलों में अगले 15 से 20 वर्षों में करीब 70 प्रतिशत की वृद्धि की उम्मीद है।

ऐसे कुछ ज्ञात कारक हैं जिनसे कैंसर का खतरा बढ़ जाता है जैसे अत्यधिक धूम्रपान, अत्यधिक शराब का सेवन, मोटापा, हानिकारक रसायनों का जोखिम और दूसरों के द्वारा धूम्रपान का खुद पर प्रभाव और आनुवंशिकी आदि।

आप वंशानुगत और कुछ पर्यावरणीय कारकों को नियंत्रित नहीं कर सकते हैं, किंतु आप स्वस्थ आहार और जीवन शैली विकल्पों को अपनाकर भी कैंसर के खतरे को कम कर सकते हैं। एक सुनियोजित आहार कई तरह के कैंसर को रोकने में मदद कर सकता है। वास्तव में, ऐसे कई एंटीऑक्सीडेंट और फाइटोकेमिकल्स से संपन्न खाद्य पदार्थ हैं जो कि कैंसर विरोधी लाभ देते हैं।

ऐसे ही कुछ के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं -

  1. कैंसर से बचने का अचूक इलाज है ब्रोकली - Broccoli for Cancer in Hindi
  2. कैंसर से बचाव के लिए पिएं हरी चाय - Green Tea for Cancer Cure in Hindi
  3. कैंसर से लड़ने वाले आहार हैं टमाटर - Tomatoes to Treat Cancer in Hindi
  4. कैंसर को रोकने के लिए उपयोगी है ब्लूबेरी - Blueberries Prevent Cancer in Hindi
  5. कैंसर का आयुर्वेदिक इलाज है अदरक - Ginger to Treat Cancer in Hindi
  6. कैंसर की रोकथाम में सहायक है लहसुन - Garlic Cure Cancer in Hindi
  7. कैंसर को मात दें पालक से - Spinach for Cancer Patients in Hindi
  8. कैंसर से बचाव के लिए करें अनार का सेवन - Pomegranate for Cancer Treatment in Hindi
  9. कैंसर से बचने के लिए खाएं अखरोट - Walnuts for Cancer in Hindi
  10. कैंसर को रोकने के उपाय हैं अंगूर - Grapes Good for Cancer in Hindi

ब्रोकली खाने से कैंसर होने का खतरा कम हो जाता है। इस सब्ज़ी में यौगिक होते हैं जिनको ग्लूकोसाइनोलेट्स कहा जाता है, जिनसे शरीर में सुरक्षात्मक एंज़ाइमों का उत्पादन होता है।

इन एंज़ाइमों में से एक है सल्फोराफेन (sulforaphane), जो कैंसर के लिए ज़िम्मेदार केमिकल्स को बाहर करके कैंसर के खतरे को कम करने में मदद करता है। सल्फोराफेन कैंसर स्टेम सेल्स को भी निशाना बनाते हैं जो कि ट्यूमर के विकास में सहायक हैं।

एक 2011 के अध्ययन में ओरेगन स्टेट यूनिवर्सिटी में लिनस पॉलिंग संस्थान में वैज्ञानिकों ने निष्कर्ष निकाला है कि ब्रोकोली में पाया सल्फोराफेन कैंसर को रोकने में मदद करता है।

ब्रोकोली मुंह, स्तन, जिगर, फेफड़े, मूत्राशय, एसोफेगल और पेट के कैंसर के खिलाफ भी रक्षा करने में प्रभावी है।

2 कप ब्रोकोली, उबली हुई या स्टीम्ड, प्रति सप्ताह 2 या 3 बार खाएं।

(और पढ़ें – ठंड के मौसम में खाएं ब्रोकोली)

हरी चाय एक लोकप्रिय पेय है जो कि विभिन्न तरह के कैंसर के खतरे को कम करने में मदद कर सकती है। हरी चाय में कटेचिंस (catechins), एपीगल्लॉकातेचीन-3-गल्लते (epigallocatechin-3-gallate) और एपीकातेचीन (epicatechin) के रूप में यौगिक पाए जाते हैं, जो कैंसर कोशिकाओं के विकास को रोकने में मदद करते हैं। हरी चाय भी मुक्त कणों (free-radicals) को रोकने में मदद करती है जो कोशिकाओं को नुकसान पहुँचाते हैं।

2008 में चाइनीज़ मेडिसिन पत्रिका में हरी चाय और कैंसर की रोकथाम पर प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, हरी चाय जठरांत्र, स्तन, फेफड़े और प्रोस्टेट कैंसर पर अपने सुरक्षात्मक प्रभावो को दर्शाती है। हालाँकि, इसके लिए और अधिक संभावित अध्ययन की जरूरत है।

इसके कैंसर विरोधी लाभ लेने के लिए हरी चाय दैनिक रूप से 3 से 4 कप पिएं। आप अपने चिकित्सक से परामर्श के बाद हरी चाय का अर्क भी ले सकते हैं।

(और पढ़ें – ग्रीन टी पीने का सही समय)

यह रसदार फल लाइकोपीन का एक अच्छा स्रोत है और एक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट है जो कि कैंसर से लड़ने में मदद करता है। लाइकोपीन प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ा देता है और नुकसान से कोशिकाओं की रक्षा करता है। यह असामान्य कोशिकाओं की वृद्धि को भी रोकता है। इसके अलावा, यह विटामिन ए, सी और ई, जो शरीर में मुक्त कणों से नुकसान को रोकने का एक अच्छा स्रोत है।

2013 में पोषण विज्ञान और विटामिनोलॉजी के जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन में शोधकर्ताओं ने पाया कि जो मनुष्य अधिक टमाटर और टमाटर आधारित उत्पादों, दोनों कच्चे और पके हुए, का सेवन करता है, उनमें प्रोस्टेट कैंसर के विकसित होने की संभावना कम होती है। टमाटर एंडोमेट्रियल, स्तन, फेफड़े और पेट के कैंसर के खतरे को भी कम करने में प्रभावी रहते हैं।

आप दैनिक आधार पर 1 कप कटे हुए टमाटर खाएँ। अधिकतम कैंसर विरोधी लाभों का आनंद लेने के लिए, आप टमाटर सॉस, पेस्ट और रस को भी अपने आहार में शामिल कर सकते हैं।

ब्लूबेरी कैंसर से लड़ने वाले फाइटोन्‍यूट्रीएंट्स और एंटीऑक्सीडेंट्स में संपन्न हैं। ये ब्लूबेरी मुक्त कणों को बेअसर करते हैं जो कि कोशिकाओं को नुकसान और कैंसर सहित अन्य बीमारियों को जन्म दे सकते हैं। इसमें विटामिन C और K, मैंगनीज और डाइटरी फाइबर भी होते हैं, जो कैंसर के खतरे को कम करने में भी मदद करते हैं।

2013 में मैडिसिनल कैमिस्ट्री जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन ने ब्लूबेरी का एक कैंसर विरोधी फल के रूप में समर्थन किया।

ब्लूबेरी कैंसर के विभिन्न प्रकार, मुंह, डिम्बग्रंथि, पेट, जिगर, प्रोस्टेट, फेफड़े, त्वचा और स्तन आदि, के जोखिम को कम करने में मदद करती हैं।

कैंसर विरोधी लाभ लेने के लिए, दैनिक रूप से आधे कप से 1 कप तक ताजा या फ्रोजन ब्लूबेरी खाएँ।

अदरक भी विभिन्न तरह के कैंसर के प्रकार के जोखिम को कम करने में मदद करता है। इसके एंटीऑक्सीडेंट गुण कैंसर कोशिकाओं के विकास को रोकते हैं।

BMC कौम्पलीमेंटरी एंड आल्टरनेटिव मैडिसिन जर्नल में प्रकाशित एक 2007 का अध्ययन अदरक की गर्भाशय के कैंसर का मुकाबला करने की क्षमता को दर्शाता है। यह बढ़ते हुए कैंसर को रोकता है और इसके फैलने की क्षमता को अवरुद्ध करता है। इसके अलावा, 2012 में प्रकाशित न्यूट्रीशन के ब्रिटिश जर्नल में एक अध्ययन में पाया गया कि अदरक प्रोस्टेट कैंसर को रोकने में कारगर है।

अदरक कोलोरेक्टल, फेफड़े, स्तन, त्वचा और अग्नाशय के कैंसर की शुरुआत को भी रोक सकता है।

दैनिक रूप से अदरक की चाय के 2 से 3 कप पिएं और अपना खाना पकाने में अदरक को शामिल करें। 

(और पढ़ें – चेहरे के चकत्तों का इलाज है अदरक)

लहसुन में सल्फर के साथ ही आर्जिनिन, ओलिगोसैचैराइड,  फ्लेवोनोल्स और सेलेनियम जैसे घटक शामिल हैं, जो विभिन्न तरह के कैंसर के खतरे को कम करने के लिए फायदेमंद होते हैं। नियमित रूप से लहसुन का सेवन कैंसर कोशिका के विकास की प्रगति को धीमा करता है। 

(और पढ़ें - लहसुन के फायदे)

कैंसर रिसर्च अमेरिकन एसोसिएशन द्वारा एक 2013 के अध्ययन में निष्कर्ष निकाला गया कि कच्चे लहसुन के सेवन और फेफड़ों के कैंसर के बीच एक सुरक्षात्मक संघ है।

इसके अलावा, अमेरिकन सोसायटी फौर क्लीनिकल न्यूट्रीशन पत्रिका में 2000 में प्रकाशित एक अध्ययन में कहा गया है कि कच्चे या पके हुए लहसुन की उच्च मात्रा पेट और कोलोरेक्टल कैंसर के खिलाफ एक सुरक्षात्मक प्रभाव प्रदान करती है।

कैंसर विरोधी लाभ के लिए, कच्चे और पके हुए लहसुन की खुराक, लहसुन के पूरक (supplement) की तुलना में अधिक प्रभावी है। तो इस घातक बीमारी को रोकने के लिए लहसुन का सेवन शुरू कर दे।

(और पढ़ें – उच्च रक्तचाप का घरेलू उपचार है लहसुन)

पालक लूटीइन (lutein) का एक समृद्ध स्रोत है और यह एक एंटीऑक्सीडेंट भी है जो कि कैंसर के खिलाफ रक्षा करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसके अलावा, पालक में ज़ियेजैंथिन (zeaxanthin)और कैरोटिनॉइड (carotenoids) होते हैं जो मुक्त कणों के नुकसान से आपके शरीर की रक्षा करते हैं। पालक में बीटा कैरोटीन, विटामिन ए, फोलेट और फाइबर भी कैंसर को रोकने में एक प्रमुख भूमिका निभाते हैं।

इस गहरी हरी पत्तेदार सब्जी का मुंह, डिम्बग्रंथि, फेफड़े, एंडोमेट्रियल, कोलोरेक्टल, एसोफेगल और पेट के कैंसर के खिलाफ रक्षा करने के लिए नियमित सेवन करें।

एक सप्ताह में कई बार 1 कप पालक खाएँ। इसको आप अपने सलाद, सूप या मिश्रित सब्जियों के रस में मिलाएं। पालक ऑक्सैलिक एसिड में उच्च है जो शरीर में लोहे और कैल्शियम के अवशोषण को रोक सकता है, इसलिए जब आप पालक खाते हैं तब एक गिलास संतरे का रस या टमाटर का रस लें। पालक खाने से बचें अगर आप एक ऑक्सेलेट-प्रतिबंधित आहार पर हैं।

(और पढ़ें – माँ का दूध बढ़ाने के लिए अच्छा है पालक)

अनार - एक और सुपेरफूड़ है जिसमें विरोधी कैंसर लाभ है, जिसमें एंटीऑक्सीडेंट की एक अच्छी मात्रा होती है। इसके पोलीफेनॉल्स, विशेष रूप से, विभिन्न जैविक कैंसर रोगजनन और प्रगति में शामिल घटनाओं पर नियंत्रण रखने में मदद करते हैं। अनार स्तन, पेट, जिगर, त्वचा और प्रोस्टेट कैंसर के जोखिम को कम करने में प्रभावी है।

(और पढ़ें - अनार के फायदे)

कैंसर से लड़ने के लिए इस फल को खाएँ या इसका रस पीते रहें।

अखरोट कैंसर के खतरे को कम कर देता है। इन स्वस्थ नट्स में पोलीफेनॉल्स और फाइटोकेमिकल्स एंटीऑक्सीडेंट के गुण होते हैं। ये इलैजिटैनिन और अल्फा-लिनोलेनिक एसिड के रूप में कैंसर रोधी यौगिकों में भी संपन्न होते हैं।

एक 2012 के अमेरिकन इन्स्टिट्यूट फॉर कैंसर रिसर्च से पता चलता है कि अखरोट पशुओं में स्तन कैंसर को रोकने में मदद करता है। यह प्रोस्टेट और त्वचा कैंसर के खतरे को भी कम कर सकता हैं।

(और पढ़ें – अखरोट के फायदे और नुकसान)

कैंसर विरोधी लाभ लेने के लिए, दैनिक रूप से 1 औंस अखरोट खाएं। आप सलाद, सूप के लिए अखरोट मिला सकते हैं।

दोनों अंगूर और अंगूर के बीज का अर्क एंटीऑक्सीडेंट रेसवेरट्रोल में संपन्न है जो कि कैंसर विरोधी लाभ प्रदान करता है। यह एक प्रोटीन की कार्रवाई को ब्लॉक करता है जो कि कैंसर वृद्धि का कारण बनता है। इसके अलावा, अंगूर में सूजन को रोकने के गुण कैंसर के दो मुख्य कारण - पुराने ऑक्सीडेटिव तनाव और पुरानी सूजन, को रोकता है।

(और पढ़ें – कब्ज का उपचार है अंगूर)

इसके अलावा, न्यूट्रीशन के जर्नल में प्रकाशित एक 2009 के अध्ययन में निष्कर्ष निकाला गया कि दोनों अंगूर और अंगूर आधारित उत्पाद विभिन्न कैंसर विरोधी एजेंटों का बेहतरीन स्रोत हैं।

दैनिक रूप से अंगूर का एक कप खाएं। अगर आपको अंगूर के बीजो का अर्क लेना पसंद है, तो सही खुराक के लिए अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

और पढ़ें ...