myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

एलर्जी की प्रतिक्रिया के कारण होने वाली सूजन एलर्जिक राइनाइटिस के रूप में परेशान कर सकती है। इसमें आप आम सर्दी के समान कई लक्षणों का अनुभव कर सकते हैं जैसे बहती नाक, बंद नाक और सिरदर्द आदि। आम सर्दी एक वायरल संक्रमण की वजह से होती है, जबकि एलर्जिक राइनाइटिस एलर्जन की वजह से होती है। दिन भर इसके लक्षणों से निपटना थोड़ा मुश्किल हो सकता है इसलिए इस स्थिति का उपचार करना आवश्यक है। विशेषज्ञ की सहायता प्राप्त करने से पहले, कुछ सरल घरेलू उपचार करने की कोशिश करें जो एलर्जिक राइनाइटिस के इलाज में बहुत प्रभावी साबित हो सकते हैं।

  1. एलर्जिक राइनाइटिस के उपाय करें स्टीम से - Allergic rhinitis se bachne ka upay hai steam in Hindi
  2. एलर्जिक राइनाइटिस से छुटकारा पाने का तरीका है प्याज - Allergic rhinitis se chutkara dilata hai onions in Hindi
  3. एलर्जिक राइनाइटिस दूर करने का नुस्खा है सेब का सिरका - Naak ki allergy ka gharelu upay hai apple vinegar in Hindi
  4. एलर्जिक राइनाइटिस से बचने का उपाय है आयल पुल्लिंग - Naak ki allergy ke upay hai oil pulling in Hindi
  5. नाक की एलर्जी के घरेलू उपाय करे पुदीना से - Naak ki allergy ka nuskha hai peppermint oil in Hindi
  6. नाक की एलर्जी से बचने का घरेलू उपाय है नमक का पानी - Salt Water Treatment for Allergies in Hindi
  7. नाक की एलर्जी से छुटकारा दिलाता है घी - Naak ki allergy se bachne ka desi tarika hai ghee in Hindi
  8. नाक की एलर्जी का देसी नुस्खा है हल्दी - Nasal allergy se chutkara dilata hai turmeric in Hindi
  9. एलर्जिक राइनाइटिस का घरेलू नुस्खा है तुलसी - Nasal allergy bache tulsi se in Hindi
  10. परागज ज्वर से बचने का तरीका है अदरक - Naak ki allergy dur karne ka tarika hai ginger in Hindi
  11. परागज ज्वर का घरेलू उपाय है लहसुन - Hay ever ka upay hai garlic in Hindi
  12. एलर्जिक राइनाइटिस से राहत दिलाता है लेमनग्रास चाय - Allergic rhinitis ka gharelu upay hai lemongrass in Hindi
  13. नाक की एलर्जी को कम करता है मुलेठी - Allergic rhinitis ko kam karta hai licorice in Hindi

यह शायद सबसे आसान और परेशानी मुक्त घरेलू उपाय है। इन्हैलींग स्टीम नाक की नली से एलर्जी को समाप्त करने के लिए बंद नाक को खोलने में मदद करता है। इसके लिए आप अपने पसंदीदा आवश्यक तेल का उपयोग करें और गर्म पानी से भरे एक बड़े कटोरे में 5-6 बूंद किसी भी आवश्यक तेल की डालें। अपने सिर पर एक तौलिया लें और धीरे-धीरे 7-8 मिनट के लिए भाप को श्वास के द्वारा अंदर खीचें।

प्याज में मौजूद आंतरिक गुण सूजन को कम करने में मदद करते हैं। इसमें एंटी-हिस्टामाइन गुण भी होते हैं जो एलर्जी के उपचार के लिए अच्छे होते हैं। आप अपने आहार में प्याज, विशेषकर कच्ची प्याज शामिल कर सकते हैं। यह आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को भी मजबूत करता है। (और पढ़ें – हरे प्याज के फायदे)

सेब के सिरके में शक्तिशाली एंटी-हिस्टामिन गुण होते हैं। यह सूजन को कम करने में प्रभावी है। यह बहती नाक और नाक की रुकावट को नियंत्रित करने में भी मदद करता है। यह सिरदर्द से भी राहत प्रदान करता है जो लगातार छींकने से उत्पन्न हो सकता है। आप शहद के साथ एक गिलास गर्म पानी में एक स्पून सेब का सिरका पिएं। आप एक दिन में इस गर्म पेय के दो गिलास पी सकते हैं। (और पढ़ें – सेब के सिरके के फायदे और नुकसान)

आयल पुल्लिंग एक पुरानी तकनीक है जो आपके शरीर को डिटॉक्सिफाइ करने में मदद करती है। यह एलर्जी की वजह से बुखार को ठीक करने में भी प्रभावी है। आप अपने मुंह में एक बड़ा स्पून नारियल के तेल का डालें और लगभग 20 मिनट के लिए मुँह में घुमाएँ। इससे मुहं के सारे बैक्टीरिया मर जाते हैं। इसके बाद इसको थूक दें। (और पढ़ें – नारियल तेल के फायदे और नुकसान)

पुदीने में सूजन को कम करने वाले शक्तिशाली गुण हैं। इसके पत्ते भी गले में शांति प्रदान करते हैं। आप दिन के किसी भी समय पेपरमिंट के पत्तों को चबा सकते हैं या आप 5 मिनट के लिए पेपरमिंट ऑयल का उपयोग करके स्टीम ले सकते हैं। (और पढ़ें – कान दर्द का घरेलू नुस्ख़ा है पुदीने की पत्तियां)

स्वच्छ और स्वस्थ रहने के लिए आपको नाक को भी गहराई से धोना चाहिए। नमक का पानी नाक की रुकावट को कम करने में मदद करता है और आपकी नाक से अतिरिक्त बलगम को भी निकालता है। इस प्रक्रिया के लिए, आपको नेज़ल बल्ब की आवश्यकता होगी। नेज़ल बल्ब में पानी गर्म करने के लिए नमक और बेकिंग सोडा की एक चुटकी मिलाएँ। इस घोल को नाक के एक छेद में डालकर दूसरे छेद से निकाला जाता है। इससे अतिरिक्त बलगम से छुटकारा मिलेगा। आप इस प्रक्रिया को दिन में कई बार दोहरा सकते हैं।  (और पढ़ें – नमक के इन फायदो से होंगे आप बिल्कुल अंजान)

घी एलर्जी की वजह से बुखार के लक्षणों से राहत दिलाने में मदद करता है। आप सोने से पहले रात में दोनों नाक में एक चम्मच तरल घी डाल सकते हैं। (और पढ़ें – गाय के घी के फायदे और नुकसान)

हल्दी पाउडर आम तौर पर 'पवित्र पाउडर' के रूप में बताया जाता है, हल्दी पाउडर हल्दी पौधों की जड़ से तैयार किया जाता है। यह सूजन के खिलाफ शक्तिशाली कार्रवाई करने के लिए जाना जाता है। यह एलर्जी से लड़ने में भी मदद करता है। यह बंद नाक से संबंधित अन्य समस्याओं से राहत में भी मदद करता है। आप खाना पकाने में इसका उपयोग करके अपने आहार में हल्दी शामिल कर सकते हैं।आप प्रत्येक दिन सोने से पहले एक स्पून हल्दी का सेवन एक गिलास गर्म दूध के साथ भी सकते हैं। (और पढ़ें – हल्दी दूध बनाने की विधि, फायदे और नुकसान)

तुलसी एक बहुत ही लाभप्रद जड़ी बूटी है जिसका उपयोग अति प्राचीन काल से आयुर्वेदिक उपचार में किया गया है। इसमें सूजन को कम करने वाले गुण हैं जो नाक की सूजन को कम करने में सहायता करते हैं। यह कफ की स्थिति में भी राहत प्रदान करती है। तुलसी की पत्तियों नाक की रुकावट और एलर्जी राइनाइटिस के अन्य लक्षणों से लड़ने में मदद करती है। आप हर रोज 2-3 कप टुलाई की चाय पी सकते हैं। (और पढ़ें – तुलसी के फायदे और नुकसान)

अदरक एलर्जी राइनाइटिस के उपचार में भी काफी प्रभावी है। इसमें एंटीहिस्टामाइन गुण होते हैं जो सूजन को कम करने में सहायता करते हैं। यह गले की समस्याओं के उपचार में भी फायदेमंद है। आप 5 मिनट के लिए एक गिलास पानी में अदरक की जड़ का एक छोटा टुकड़ा उबालें और एक बदी स्पून नींबू का रस और एक स्पून शहद को मिलाएँ। आप इसे दैनिक रूप से पी सकते हैं। (और पढ़ें – अदरक की चाय के फायदे)

लहसुन में एंटीहिस्टामाइन होता है जो एलर्जी की प्रतिक्रिया के उपचार में प्रभावी होता है। एलर्जी राइनाइटिस के कारण एलर्जी को हटाने में यह काफी फायदेमंद होता है। आप रोजाना लहसुन की 2 कच्ची कलियों का सेवन कर सकते हैं। (और पढ़ें – वजन कम करने में है लाजवाब लहसुन)

यह जड़ी बूटी नाक की रुकावट से राहत दिलाने में मदद करती है। यह आपकी नाक और गले को शांति प्रदान करती है। आम सर्दी के समान लक्षणों का इलाज करने के लिए लेमनग्रास चाय पीने की सलाह दी जाती है। एक गिलास पानी में 10 मिनट के लिए पत्तियों को उबालते हुए एक कप गर्म चाय तैयार करें। आप प्रति दिन 2 कप का सेवन कर सकते हैं

लीकोरिस या मुलेठी एक अन्य प्रभावी जड़ी बूटी है जिसमें एंटीहिस्टामाइन गुण होते हैं। इसे एलर्जिक राइनाइटिस जैसे एलर्जी प्रतिक्रियाओं के उपचार में इलाज के रूप में जाना जाता है। आप 10-15 मिनट के लिए एक गिलास पानी में मुलेठी को उबाल कर इसका सेवन कर सकते हैं। यह सूजन को भी कम कर देती है। (और पढ़ें – मुलेठी के फायदे और नुकसान)

और पढ़ें ...