आर्थ्राल्जिया का अर्थ है जोड़ों का दर्द और गठिया यानि आर्थराइटिस जोड़ों में सूजन है, जो जोड़ों में दर्द और कठोरता का कारण बन सकती है। इस लेख में गठिया और आर्थ्राल्जिया या जोड़ों के दर्द और उनके बीच संबंध के बारे में जानेंगे । गठिया कई प्रकार का होता है और इसका इलाज किया जा सकता है, जबकि आर्थ्राल्जिया जोड़ों का दर्द है जो सामान्य होता है। 

(और पढ़ें :युवाओं में गठिया के लक्षण और कारण)

 
  1. गठिया रोग की पहचान
  2. गठिया के प्रकार
  3. जोड़ों का दर्द क्यों होता है
  4. आर्थ्राइटिस बनाम आर्थ्राल्जिया का संबंध
  5. जोड़ों का दर्द के लक्षण
  6. आर्थराइटिस के लक्षण
  7. गठिया के कारण
  8. जोड़ों के दर्द के कारण
  9. डॉक्टर को कब दिखाएँ?
  10. जोड़ों के दर्द का इलाज
  11. जोड़ों के दर्द के जोखिम
  12. जोड़ों के दर्द के घरेलू उपाय
  13. जोड़ों के दर्द के चिकित्सकीय इलाज
  14. सारांश

गठिया में एक या एक से अधिक जोड़ों में सूजन आ जाती है है। जो जोड़ों में उपास्थि, हड्डी और स्नायुबंधन के साथ-साथ आसपास के ऊतकों को भी प्रभावित करता है। घुटने के दर्द या किसी भी अन्य प्रकार के दर्द के लिए माई उपचार का Sarv Sukham Pain Relief Oil जरूर लें।

Joint Pain Oil
₹494  ₹549  10% छूट
खरीदें

ऑस्टियोआर्थराइटिस: ऑस्टियोआर्थराइटिस एक ऐसी बीमारी है जिसमें जोड़ों की उपास्थि समय के साथ टूटने लगती है। जिसके कारण  हड्डियाँ आपस में रगड़ने लगती हैं,जिससे क्षति और सूजन आ जाती है ।

रूमेटोइड गठिया: रुमेटीइड गठिया (आरए) में, शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली जोड़ों में और उसके आसपास की स्वस्थ कोशिकाओं पर हमला करती है।

सोरियाटिक गठिया: आरए की तरह, सोरियाटिक गठिया एक ऑटोइम्यून स्थिति है जो जोड़ों के संयुक्त ऊतकों को प्रभावित करती है जिसमें सोरायसिस भी साथ में होता है।

गाउट: गाउट सूजन से संबंधित गठिया का एक सामान्य रूप है। यह तब होता है जब यूरिक एसिड जोड़ में जमा हो जाता है , जिससे सूजन आ जाती है । यूरिक एसिड हमारे शरीर में स्वाभाविक रूप से उत्पन्न होने वाला अपशिष्ट पदार्थ है।

(और पढ़ें :क्या अर्थराइटिस से थकान होती है)

 

आर्थ्राल्जिया का मतलब है जोड़ों में दर्द होना। जो चोट लगने , किसी प्रकार के संक्रमण होने  या गठिया होने  के कारण हो सकता है।अगर एक से अधिक जोड़ों में दर्द होने लगे तो इसे पॉलीआर्थ्राल्जिया कहा जाता है।ऑस्टियोआर्थराइटिस ,रुमेटीइड गठिया और जोड़ों के दर्द को काम करने के लिए माई उपचार का Sarv Sukham Joint Support Capsule ट्राइ करें।

Joint Capsule
₹719  ₹799  10% छूट
खरीदें

आर्थ्राल्जिया जोड़ों में दर्द है, जबकि गठिया का इलाज संभव है । हो सकता है कि गठिया से पीड़ित व्यक्ति को आर्थ्राल्जिया या जोड़ों का दर्द भी हो जाए लेकिन आर्थ्राल्जिया में ये जरूरी नहीं कि दर्द के साथ सूजन भी हो। 

लेकिन कुछ मामलों में आर्थ्राल्जिया आगे चल कर गठिया संबंधी स्थिति के लक्षण दिखा सकता है। 

(और पढ़ें :गठिया के दर्द का इलाज, उपचार और दवा)

 

आर्थ्राल्जिया का सामान्य अर्थ है जोड़ में दर्द। इस जोड़ों के दर्द के साथ-साथ, व्यक्ति को अन्य अनुभव भी हो सकते  है जैसे :

  • कठोरता
  • जोड़ों का दर्द

  • जोड़ों को हिला ही न पाना 

आर्थ्राल्जिया के सामान्य लक्षण यही होते हैं। दूसरी ओर, गठिया जोड़ों की सूजन के कारण होता है। 

(और पढ़ें :अर्थराइटिस के लिए सप्लीमेंट्स)

 
  • जोड़ों में विकृति आ जाना 

  • हड्डी और उपास्थि में परेशानी आना , जिससे चलने की स्थिति बिल्कुल ही खत्म हो जाती है। 

  • हड्डियों के एक-दूसरे से रगड़ने से बहुत ज्यादा दर्द होने लगता है 

  • जोड़ में कोई चोट लग जाना 

  • मोटापा, क्योंकि इससे जोड़ों पर बहुत ज्यादा वजन पड़ता है

  • किसी अप्रिय घटना के कारण जोड़ों का टूट जाना 

  • धूम्रपान

जोड़ों के स्वास्थ्य और गतिशीलता के लिए, हड्डी और जोड़ों के दर्द में आराम के लिए Sprowt Joint Support Supplement with Glucosamine ट्राइ करें।

(और पढ़ें :गठिया रोग में क्या खाना चाहिए)

 
Joint Support Tablet
₹626  ₹695  9% छूट
खरीदें
  • जोड़ों का खिच जाना या मुड़ जाना 

  • जोड़ों का अपनी जगह से हट जाना 

  • हाइपोथायरायडिज्म

  • हड्डी का कैंसर

(और पढ़ें :जोड़ों में दर्द के घरेलू उपाय)

 

आर्थ्राल्जिया कई स्थितियों में हो सकता है। जब आपको आर्थ्राल्जिया हो तो ऐसे लक्षण भी आपको दिख सकते हैं जिसमें आपको लगे कि आपको गठिया हो गया है। जोड़ों की ज्यादातर स्थितियों में लक्षण समान होते हैं।इसलिए यदि आपको जोड़ों में दर्द, कठोरता या सूजन का अनुभव हो तो अपने डॉक्टर से बात करें।

यदि किसी चोट के कारण जोड़ों में दर्द होता है, तो जल्दी से जल्दी डॉक्टर को दिखाना चाहिए। खासकर अगर दर्द बहुत ज्यादा है और साथ में सूजन भी है तो। यदि आपको जोड़ों को हिलाने में भी परेशानी का अनुभव हो रहा है तो चिकित्सकीय सहायता लें।

 

जोड़ों के सभी दर्द के लिए आपातकालीन देखभाल की आवश्यकता नहीं होती है। यदि आपको हल्का या मध्यम दर्द है, तो नियमित रूप से डॉक्टर से मिलते रहें। 

आर्थ्राल्जिया या गठिया के इलाज के लिए निम्न लिखित परीक्षण हो सकते हैं:

  • रक्त परीक्षण, जो सी-रिएक्टिव प्रोटीन स्तर की जांच के लिए होता है 
  • एंटीसाइक्लिक साइट्रुलिनेटेड पेप्टाइड (एंटी-सीसीपी) एंटीबॉडी परीक्षण

  • ल्यूपस की जांच के लिए एंटी-न्यूक्लियर एंटीबॉडी (एएनए) परीक्षण।

  • रूमेटोइड कारक परीक्षण

  • बैक्टीरियल कल्चर और क्रिस्टल विश्लेषण के लिए संयुक्त द्रव को हटाने के लिए परीक्षण 

  • ऊतकों की बायोप्सी

(और पढ़ें :जोड़ों के दर्द के लिए एक्सरसाइज)

हड्डियों को मजबूती प्रदान करने के लिए Sprowt Vitamin D3 600 IU + K2 Tablet ट्राइ करें।

 
Vitamin D3 Capsules
₹809  ₹899  10% छूट
खरीदें

उचित उपचार के बिना, गठिया के कई रूप संभावित रूप से गंभीर परेशानियाँ पैदा कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, रुमेटीइड गठिया के कारण निम्न हो सकते हैं:

इसके अलावा, ऑस्टियोआर्थराइटिस ऊतकों के फ्रैक्चर का कारण बन सकता है। गठिया जोड़ों को प्रभावित करता है, इसलिए ज्यादा परेशानी होने पर  लोगों को चलने फिरने में, कोई गतिविधि करने में दिक्कत होती है और जीवन की समग्र गुणवत्ता को प्रभावित कर सकती हैं।आर्थ्राल्जिया की जटिलताएँ आम तौर पर गंभीर नहीं होती हैं जब तक कि आर्थ्राल्जिया में सूजन न हो।

आर्थ्राल्जिया बीमारी से ज्यादा लक्षण है, इसलिए आमतौर पर जोड़ों के दर्द के कोई गंभीर कारण होंगे तो ही जटिलताएँ आएंगी। 

(और पढ़ें :क्या अर्थराइटिस से थकान होती है)

घरेलू उपचार से भी जोड़ों के दर्द को कम किया जा सकता है। 

  • प्रतिदिन कम से कम आधा घंटा व्यायाम 
  • तैराकी जोड़ों के दबाव को कम करने में मदद कर सकती हैं।

  • ध्यान 

  • जोड़ों के दर्द और जकड़न से राहत पाने के लिए गर्म या ठंडी सिकाई 

  • मांसपेशियों में थकान और कमजोरी के लक्षणों से बचाने के लिए आराम 

  • इबुप्रोफेन या एसिटामिनोफेन जैसी ओवर-द-काउंटर दर्द निवारक दवा

(और पढ़ें: ये बुरी आदतें जोड़ों को पहुंचाती हैं नुकसान)

 

गठिया या आर्थ्राल्जिया के अधिक गंभीर मामलों में, डॉक्टर दवा या सर्जरी की सलाह दे सकते है। गंभीर गठिया के कुछ उपचारों में शामिल हैं:

  • रुमेटीइड गठिया के लिए एंटीर्यूमेटिक दवाएं (डीएमएआरडी)।
  • सोरियाटिक गठिया के लिए दवाएं, जैसे एडालिमुमैब (हुमिरा), सर्टोलिज़ुमैब (सिमज़िया)

  • संयुक्त प्रतिस्थापन या पुनर्निर्माण सर्जरी

अपने डॉक्टर से बात करें कि आपके गठिया के प्रकार के लिए कौन सा इलाज सबसे अच्छा रहेगा। हो सकता है कि दवाओं के दुष्प्रभाव हों और सर्जरी के लिए जीवनशैली में बदलाव की आवश्यकता हो।  उपचार पर निर्णय लेने से पहले इन परिवर्तनों को जानना सही रहेगा।

 

लोग गठिया और आर्थ्राल्जिया दोनों को अक्सर एक ही समझ लेते हैं लेकिन ये दोनों अलग अलग हैं। गठिया में जोड़ों के दर्द में सूजन भी आती है जबकि आर्थ्राल्जिया में सूजन के बिना जोड़ों का दर्द होता है।कोई भी परेशानी जो बहुत गंभीर लगे तो अपने डॉक्टर से जरूर बात करें।

ऐप पर पढ़ें