myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

ब्लास्टोमायकोसिस क्या है?

ब्लास्टोमायकोसिस संक्रामक रोग है, जो फंगस ब्लास्टोमाइसिस डर्मेटाइटिडिस (Blastomyces dermatitidis) के कारण होता है। यह संक्रमण बहुत ही दुर्लभ होता है, मतलब बहुत ही कम मामलों में देखने को मिलता है। यदि ब्लास्टोमायकोसिस लंबे समय से है तो इस से शरीर की त्वचा व फेफड़े प्रभावित हो जाते हैं। कुछ मामलों में इससे जेनिटोयूरीनरी सिस्टम (मूत्र तंत्र) और हड्डियां भी प्रभावित हो जाती हैं। 

(और पढ़ें - फंगल इन्फेक्शन का इलाज)

ब्लास्टोमायकोसिस के लक्षण क्या हैं?

ब्लास्टोमाइसिस से ग्रस्त कुछ लोगों में से लगभग आधे लोगों में इसके लक्षण व संकेत दिखाई देने लग जाते हैं। ब्लास्टोमायकोसिस के लक्षण अक्सर फ्लू और अन्य प्रकार के संक्रमणों के जैसे होते हैं। इसके लक्षणों में मुख्य रूप से बुखार, खांसी, रात को पसीना आना, मांसपेशियों में दर्द, जोड़ों में दर्द, वजन घटना, सीने में दर्द और थकान होना आदि शामिल है। 

(और पढ़ें - वजन बढ़ाने के तरीके)

ब्लास्टोमायकोसिस क्यों होता है?

ब्लास्टोमायकोसिस रोग ब्लास्टोमाइसिस डर्मेटाइटिडिस नामक एक फंगस के कारण होता है। यह फंगी पर विकसित होता है और सांस के द्वारा मनुष्य के शरीर में चला जाता है। शरीर के अंदर जाकर यह फंगस यीस्ट में बदल जाता है और फेफड़ों को प्रभावित व क्षतिग्रस्त कर देता है। ये फंगस खून के माध्यम से पूरे शरीर में फैल जाता है। ब्लास्टोमायकोसिस मुख्य रूप से  उन लोगों को ज्यादा प्रभावित करता है, जिनको प्रतिरक्षा प्रणाली से जुड़ी समस्याएं होती हैं। 

(और पढ़ें - फंगल संक्रमण के घरेलू उपाय)

ब्लास्टोमायकोसिस का इलाज कैसे होता है?

स्थिति का परीक्षण करने के लिए डॉक्टर आपके लक्षणों की जांच करते हैं और आपके स्वास्थ्य संबंधी पिछली स्थिति के बारे में पूछते हैं। इसके अलावा डॉक्टर कुछ प्रकार के लैब टेस्ट भी कर सकते हैं। ब्लास्टोमायकोसिस का परीक्षण करने के लिए आमतौर पर डॉक्टर आपके खून या पेशाब का सेंपल लेते हैं और जांच के लिए उसे लेबोरेटरी में भेज देते हैं।

(और पढ़ें - पेशाब टेस्ट कैसे किया जाता है)

ब्लास्टोमायकोसिस से ग्रस्त ज्यादातर लोगों का इलाज करने के लिए डॉक्टर कुछ प्रकार की एंटीफंगल दवाएं लिखते हैं। इसके जो मामले गंभीर नहीं होते उनका इलाज करने के लिए आमतौर पर इट्राकोनाजॉल नामक एंटीफंगल दवा का उपयोग किया जाता है। ब्लास्टोमायकोसिस के गंभीर मामलों जब संक्रमण फेफड़ों तक पहुंच जाता है या शरीर के अन्य भागों में फैल जाता है, तो इस स्थिति का इलाज एम्फोटेरिसिन बी नामक दवा की मदद से किया जाता है। 

इसके इलाज का कोर्स 6 महीनों से 1 साल तक भी चल सकता है, यह रोग की गंभीरता और मरीज रोग प्रतिरोधक क्षमता पर निर्भर करता है। 

(और पढ़ें - लंग इन्फेक्शन का इलाज)

  1. ब्लास्टोमायकोसिस की दवा - Medicines for Blastomycosis in Hindi

ब्लास्टोमायकोसिस की दवा - Medicines for Blastomycosis in Hindi

ब्लास्टोमायकोसिस के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

Medicine Name
Canditral खरीदें
Syntran खरीदें
Candiforce Capsule खरीदें
Onitraz खरीदें
Onitraz Forte खरीदें
Itorate Forte खरीदें
Panitra खरीदें
Zyitra खरीदें
Lantraz खरीदें
Siditra खरीदें
Itgood खरीदें
Sporanox खरीदें
Itroxil खरीदें
Keorash खरीदें
Tinitraz खरीदें
Titra खरीदें
Ketorob C खरीदें
Traco Gold खरीदें
Itrabest DS खरीदें
Ketorob Z खरीदें
Canditz खरीदें
Itrakey खरीदें
Ceastra Xl खरीदें
Entozole खरीदें

क्या आप या आपके परिवार में किसी को यह बीमारी है? सर्वेक्षण करें और दूसरों की सहायता करें

References

  1. MedlinePlus Medical Encyclopedia: US National Library of Medicine; Blastomycosis
  2. U.S. Department of Health & Human Services. Symptoms of Blastomycosis. Centre for Disease and Prevention
  3. Miceli A, Krishnamurthy K. Blastomycosis. Blastomycosis. StatPearls [Internet]. Treasure Island (FL): StatPearls Publishing; 2019 Jan-
  4. Michael Saccente, Gail L. Woods. Clinical and Laboratory Update on Blastomycosis. Clin Microbiol Rev. 2010 Apr; 23(2): 367–381. PMID: 20375357
  5. Michael Saccente, Gail L. Clinical and Laboratory Update on Blastomycosis. American Society of Microbiology
और पढ़ें ...
ऐप पर पढ़ें