myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

फंगी या कवक हमारे पूरे पर्यावरण में मौजूद है। कई सूक्ष्म जीवों की तरह, कुछ कवक उपयोगी होते हैं, उदाहरण के लिए भोजन या दवा के रूप में और कुछ कवक हानिकारक होते हैं, जैसे भोजन पर पैदा होने वाली फफूंद या बीमारियां पैदा करने वाले कवक बीजाणु।

जब हानिकारक फंगस या कवक शरीर पर आक्रमण करता है, तो उन्हें मारना मुश्किल हो सकता है, क्योंकि वे किसी भी तरह के पर्यावरण में जीवित रह सकते हैं और ठीक होने की कोशिश कर रहे व्यक्ति में फिर से संक्रमण कर सकते हैं।

(और पढ़ें - फंगल संक्रमण के घरेलू उपाय)

कवक न तो पौधे और न ही पशुओं के समूह के होते हैं उनका स्वयं का एक अलग समूह वैज्ञानिकों ने निर्धारित किया हैं। यीस्ट, जंग (रस्ट), कंड कवक(स्मटस), फफूंद और मशरूम सहित फंगल जीवों की लगभग 99,000 ज्ञात प्रजातियां पाई जाती हैं।

अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन (आईएसएस) समेत, जहां वे भोजन को विघटित करने के लिए पाए जाते थे, लगभग किसी भी आवास में फंगियां पाई जाती हैं। कुछ बीजाणु माइक्रोग्रिटी में 5 महीने तक जीवित रहते हैं।

कई कवक मिट्टी या पानी में रहते हैं कुछ अन्य पौधों या जानवरों के साथ परजीवी या सहजीवी संबंध रखते हैं। वे मशरूम और बेकरी के खमीर जैसे खाद्य पदार्थों में मौजूद रहते हैं और उनकी दवा बनाने और पर्यावरण संरक्षण में महत्वपूर्ण भूमिकाएं हैं।

इस लेख में विस्तार से बताया गया है कि फंगस क्या है, कवक के प्रकार, फंगस शरीर पर क्यों लगता है, कवक से होने वाली बीमारियां कौनसी हैं।

  1. फंगस क्या है - Fungus kya hai in hindi
  2. कवक के प्रकार - Fungi ke prakar in hindi
  3. फंगस शरीर पर क्यों लगता है - Why does Fungus grow on body in hindi
  4. कवक से होने वाली बीमारियां - Kavak se hone wale rog in hindi

कवक एक प्रकार के जीवित जीव होते हैं। इनको अंग्रेजी के एकवचन में फंगस और बहुवचन में फंगी कहा जाता है। वैज्ञानिक पहले कवक या फंगस को एनिमल किंगडम का हिस्सा मानते थे, मुख्य रूप से इसलिए क्योंकि उनको अपनी स्वयं की ऊर्जा शक्ति के द्वारा आगे बढ़ने में असमर्थ माना जाता था। बाद के अध्ययनों से वैज्ञानिकों की यह धारणा बदल गयी और इसलिए कवक या फंगी को एक अलग किंगडम में रखा गया।

पौधों और फंगस में सबसे स्पष्ट अंतर यह है कि फंगी सूरज की रोशनी और कार्बन डाइऑक्साइड से भोजन नहीं बनाती हैं। फंगी पशुओं के जैसे तरीके से पर्यावरण से जो कुछ उन्हें चाहिए उसे पचा और अवशोषित करके भोजन की आवश्यकता पूरी करते हैं।

चिपचिपी फफूंद और ओमीसीट्स (पानी की फफूंद) समेत कई कवक जैसे जीव भी हैं, जो कि फंगी किंगडम से संबंधित नहीं हैं लेकिन उन्हें अक्सर फंगस या कवक कह दिया जाता है। इन कवक जैसे कई जीवों को क्रोमिस्टा किंगडम में शामिल किया गया है। फंगी धरती पर सबसे व्यापक रूप से वितरित जीवों में से एक हैं और इनका पर्यावरण और चिकित्सा के क्षेत्र में बहुत अधिक महत्व हैं।

पहले कवक को उनके शरीर विज्ञान, आकार और रंग के अनुसार वर्गीकृत किया गया था। आधुनिक तंत्र कवक को वर्गीकृत करने के लिए मॉलिक्यूलर आनुवंशिकी और प्रजनन के तरीके पर भरोसा करते हैं। ध्यान रखें, निम्नलिखित वर्गीकरण कोई पत्थर की लकीर नहीं हैं। कवक विज्ञान के वैज्ञानिक विभिन्न प्रजातियों के नामों को लेकर एकमत नहीं हैं।

फंगी किंगडम के अंतर्गत सबसे महत्वपूर्ण सब-डिवीजन या 'फीला' निम्नलिखित हैं -

बेसीडियोमाइकोटा
इसमें मशरूम और टॉड स्टूल जैसी कवक प्रजातियां शामिल हैं।

अस्कोमाईकोटा
कभी-कभी इन्हें सैक फंगी भी कहा जाता है।ये अक्सर आँखों से दिखने वाले विविध फल वाली संरचनाएं होती है। इस समूह में पेनिसिलिन प्रजातियां भी शामिल हैं जो हमें सबसे पहला प्रभावी एंटीबायोटिक प्रदान करती हैं।

निओकलीमस्टीगोमाईकोटा
ये भेड़ जैसे पौधों को खाने वाले जानवरों के पाचन तंत्र में रहते हैं। जिन एंजाइम का वे उत्पादन करते हैं, वे सेल्यूलोज़ जैसे पॉलीसाक्राइड्स को तोड़ते हैं वो मजबूत सामग्री जो पौधों को अपनी ताकत देती है। इससे भेड़ सरल कार्बोहाइड्रेट का उपयोग भोजन के रूप में कर सकते हैं।

ब्लास्टोक्लॉडिओमाईकोटा
ये ज्यादातर मिट्टी में रहते हैं जो सभी प्रकार के विघटित पदार्थों को पचाते हैं।

ग्लोमेरोमाईकोटा
फंगी का एक बहुत ही विशिष्ट समूह जो लिवरवार्ट्स (काई के समान छोटे पौधे) के साथ फायदेमंद सहजीवन में रहता है।

सिट्रीडिओमाइकोटा
कवक का एक प्राचीन समूह जो केरटिन (त्वचा और बालों में पाया जाता है) और काइटिन (विशेष रूप से कीड़ों की बाहरी शैल में होता है) जैसे मजबूत प्रोटीन को पचाता है। (और पढ़ें - केरटीन ट्रीटमेंट क्या है)

माइक्रोस्पोरिडिया
एक कोशिका वाले परजीवी का एक छोटा सा समूह जो मुख्य रूप से कीड़ों को संक्रमित करता है।

फंगी माइक्रोस्कोप से दिखने लायक सूक्ष्म स्पोर्स के फैलने से पुनरुत्पादित होती है। ये स्पोर्स अक्सर हवा और मिट्टी में मौजूद होते हैं, जहां से वे हमारी श्वास में जा सकते हैं या शरीर की सतह, मुख्य रूप से त्वचा के संपर्क में आ सकते हैं। नतीजतन, फंगल संक्रमण आम तौर पर फेफड़ों या त्वचा से शुरू होता है।

त्वचा या फेफड़ों में श्वास के माध्यम से अंदर आने वाले विभिन्न प्रकार के स्पोर्स के ज्यादातर प्रकार संक्रमण का कारण नहीं बनते हैं। कुछ प्रकार केवल उन लोगों में संक्रमण का कारण बनते हैं जिनका प्रतिरक्षा तंत्र कमजोर होता है या जिनके शरीर में चिकित्सा उपकरण जैसे कि कृत्रिम जॉइंट या हृदय वाल्व सहित कोई बाहरी चीज होती है।

(और पढ़ें - प्रतिरक्षा बढ़ाने के लिए क्या खाएं)

फंगल संक्रमण तब होता है जब शरीर कमजोरी के समय कवक के संपर्क में आता है। यह कमजोरी एक कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले या ऐसे व्यक्ति में हो सकती है जो अपने शरीर पर कवक के उगने के लिए एक गर्म, नम वातावरण प्रदान करता है। कुछ त्वचा संक्रमण के अलावा, फंगल संक्रमण शायद ही कभी एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है।

(और पढ़ें - त्वचा संक्रमण के घरेलू उपाय)

फंगस हर जगह पायी जाती है। पृथ्वी पर लाखों अलग-अलग फंगल प्रजातियां मौजूद हैं, लेकिन उनमें से केवल 300 प्रजातियों को लोगों को बीमार बनाने के लिए जाना जाता है। एक तिहाई फंगल रोग अक्सर ऐसे कवक के कारण होते हैं जो पर्यावरण में आम हैं। फंगस से होने वाली बीमारियां निम्नलिखित हैं -

टिनिया संक्रमण
त्वचा, बाल और नाखूनों की सतह पर फंगल संक्रमण होना बेहद आम हैं। इन संक्रमणों को चिकित्सा शब्द टिनिया द्वारा जाना जाता है, जो शरीर पर लगभग कहीं भी हो सकते हैं। उदाहरणों में दाद, जॉक खुजली और एथलीट फुट शामिल हैं। ओवर-द-काउंटर एंटीफंगल क्रीम या स्प्रे सीमित संक्रमण के लिए अक्सर प्रभावी होते हैं। लेकिन इनमें से कुछ संक्रमण, जैसे सिर का दाद, आमतौर पर ऐसे कवक को मारने के लिए डॉक्टर की लिखी दवा से उपचार की आवश्यकता होती है।

कैंडिडिअसिस
कैंडिडा परिवार में विभिन्न प्रजाति के यीस्ट के कारण होने वाले फंगल संक्रमण का एक आम प्रकार कैंडिडिअसिस कहलाता है। कैंडिडा यीस्ट शरीर की नम सतहों पर उगता है और योनि के संक्रमण का एक आम कारण है, इसलिए इसे कैंडिडा सक्रमण भी कहा जाता है। इससे मुंह या गले का संक्रमण भी हो सकता है, जिसे थ्रश कहा जाता है। असामान्य रूप से, कैंडिडा हमारे शरीर में रक्त के प्रवाह पर हमला करता है और शरीर के अन्य क्षेत्रों में फैलता है। कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले लोग इस प्रकार के आक्रामक कैंडिडिअसिस के लिए सबसे कमजोर शिकार होते हैं, जिससे उनकी जान को भी खतरा हो सकता है।

अस्पेर्गिल्लस
अस्पेर्गिल्लस मिट्टी, वनस्पति के क्षय, इन्सुलेट सामग्री, एयर कंडीशनिंग वेंट्स और धूल में पाया जाने वाला एक आम कवक है। अस्पेर्गिल्लस स्पोर्स हवा में तैरते हैं और नाक और फेफड़ों में श्वास के माध्यम से अंदर जा सकते हैं। ज्यादातर मामलों में, अस्पेर्गिल्लस स्पोर्स से कोई नुकसान नहीं होता है। हालांकि, कुछ लोगों में, एस्परगिलस फेफड़ों में संक्रमण पैदा कर सकते हैं।

कोक्सीडीआइओमायकोसिस
कोक्सीडीआइओमायकोसिस - इसे सैन जोएक्विन फीवर या वैली फीवर भी कहा जाता है, जो कोकोडिओइड्स के कारण होने वाला एक फंगल रोग है। है। यह कवक शुष्क क्षेत्रों में रहता है। कोकोडिओइड्स स्पोर्स से दूषित धूल सांस के साथ फेफड़ों में चली जाती है, जिससे कवक विकसित हो जाते हैं। यद्यपि अधिकांश लोग कुछ हफ्तों के भीतर कोक्सीडीआइओमायकोसिस से ठीक हो जाते हैं, लेकिन कुछ लोगों में लगातार रहने वाला फेफड़ों का संक्रमण या कवक का एक सुनियोजित आक्रमण शुरू हो जाता है जिसमें कवक शरीर के अन्य हिस्सों को संक्रमित करता है।

हिस्टोप्लाज्मोसिस
हिस्टोप्लाज्मा कैप्सूलैटम के कारण होने वाले फंगल संक्रमण को हिस्टोप्लाज्मोसिस के रूप में जाना जाता है। चमगादड़ और पक्षी की बिट मिट्टी में हिस्टोप्लाज्मा कैप्सूलैटम के विकास को प्रोत्साहित करती हैं। चमगादड़ और पक्षी की बिट वाली जगहों पर और कुक्कुट पालन घरों से निकलने वाले अपशिष्ट अक्सर हिस्टोप्लाज्मा को पैदा करते हैं।

दूषित मिट्टी खोदने या उड़ने पर हिस्टोप्लाज्मा स्पोर्स हमारी सांस में चले जाते हैं। हिस्टोप्लाज्मा कैप्सूलैटम से संक्रमित अधिकांश लोग बीमार नहीं होते हैं। हालांकि, कुछ लोगों को श्वसन की बीमारी का अनुभव होता है, जिसमें सुखी खांसी, बुखार, भूख न लगना, मांसपेशियों में दर्द और सीने में दर्द जैसे लक्षण महसूस होते हैं। असामान्य रूप से, यह श्वसन की बीमारी लंबे समय तक चलती रहती है, जिससे फेफड़ों को नुकसान होता है। कुछ विरले उदाहरणों में, हिस्टोप्लाज्मा कवक रक्त प्रवाह में प्रवेश कर लेते हैं और अन्य अंगों को संक्रमित करते हैं।

और पढ़ें ...