myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

हैजा (कॉलरा) क्या है?

हैजा (कॉलरा) एक संक्रामक रोग है जो गंभीर दस्त का कारण बनता है, जिससे निर्जलीकरण हो सकता है और अगर इलाज न हो तो मृत्यु भी हो सकती है। विब्रियो कॉलरे (Vibrio cholerae) नामक जीवाणु से दूषित भोजन या पानी पीने के कारण हैजा (कॉलरा) होता है। अस्वच्छ, भीड़, युद्ध और अकाल से ग्रस्त स्थानों में यह रोग सबसे आम है। सही इलाज के साथ कॉलरा ग्रस्त व्यक्ति 5 से 7 दिन के भीतर ठीक हो सकता है।

(और पढ़ें - दस्त रोकने के उपाय

भारत में हैजा:

ओडिशा के गंजम जिले में 14 अप्रैल 2017 को इस बीमारी का प्रकोप हुआ है। दूषित "पाना" (गंजम का एक परंपरागत पय) का उपभोग करने से कदुवा गांव में तीन व्यक्तियों की मौत हो गई है। ओडिशा के अलावा, हैदराबाद शहर की सीमा में कॉलरा के 36 अन्य मामलों को दर्ज किया गया है। यद्यपि भारत में इस बीमारी की घटना बहुत दुर्लभ है - (प्रति वर्ष 1 laakh से कम मामले) - विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने चेतावनी दी है कि हैजा भारत में फिर से उभर सकता है। 

  1. हैजा के लक्षण - Cholera Symptoms in Hindi
  2. हैजा के कारण - Cholera Causes in Hindi
  3. हैजा से बचाव - Prevention of Cholera in Hindi
  4. हैजा का परीक्षण - Diagnosis of Cholera in Hindi
  5. हैजा का इलाज - Cholera Treatment in Hindi
  6. हैजा से होने वाले नुकसान और जटिलताएं - Cholera Complications in Hindi
  7. हैजा में परहेज़ - What to avoid during Cholera in Hindi?
  8. हैजा में क्या खाना चाहिए? - What to eat during Cholera in Hindi?
  9. हैजा का टीका
  10. हैजा के घरेलू नुस्खे
  11. हैजा की दवा - Medicines for Cholera in Hindi
  12. हैजा की दवा - OTC Medicines for Cholera in Hindi
  13. हैजा के डॉक्टर

हैजा के लक्षण - Cholera Symptoms in Hindi

हैजा के लगभग 80 प्रतिशत रोगी किसी भी लक्षण से ग्रस्त नहीं होते हैं, और रोग अपने आप ही कुछ समय में सही हो जाता है। लेकिन WHO के मुताबिक, रोगी तब भी वातावरण में बैक्टीरिया को फैला सकता है। 

  • ऊष्मायन अवधि (संक्रमित होने और लक्षणों के विकास के बीच का समय)
    यह कुछ घंटों से लेकर 5 दिन तक का समय लेता है, आमतौर पर 2 से 3 दिन का समय।
     
  • संक्रामक अवधि (समय जिसके दौरान संक्रमित व्यक्ति दूसरों को संक्रमित कर सकता है)
    तीव्र चरण के दौरान और रिकवरी के कुछ दिनों बाद तक हालांकि, कुछ लोग (जिन्हें 'रोग वाहक (Carriers)' कहा जाता है) जिनमे हैजा के लक्षण नहीं आते हैं, तब भी बैक्टीरिया फैला सकते हैं और संक्रामक हो सकते हैं, कभी-कभी महीनों या कुछ वर्षों तक।

जिन लोगों में लक्षण विकसित होते हैं उनमें से लगभग 80 प्रतिशत रोगी केवल हलके फुल्के लक्षण ही अनुभव करते हैं। अन्य 20 प्रतिशत लोग गंभीर दस्त, उल्टी और पैर की ऐंठन का अनुभव करते हैं।

हैजा के अन्य लक्षण निम्न हैं:

  1. अत्यधिक पतला मल आना, जिसे राइस वॉटर स्टूल्स (Rice-water stools; मल में सफ़ेद दारे की मौजूदगी) भी कहा जाता है।
  2. उल्टी आना।
  3. दिल का दर तेज़ होना। (और पढ़ें - पल्स रेट कितना होना चाहिए)
  4. त्वचा का लचीलापन कम होना।
  5. श्लेष्म झिल्ली का शुष्क हो जाना।
  6. बीपी लो होना भी इसका एक लक्षण होता है।
  7. अत्यधिक प्यास लगना।
  8. मांसपेशियों में ऐंठन
  9. बेचैनी या चिड़चिड़ापन
  10. गंभीर हैजा से ग्रस्त व्यक्ति तीव्र गुर्दे की विफलता, कोमा और गंभीर इलेक्ट्रोलाइट असंतुलन विकसित कर सकते हैं। अगर यह अनुपचारित रहता है तो गंभीर निर्जलीकरण के कारण, शौक (Shock; शारीरिक अंगों में ऑक्सीजन और खून सही मात्रा में न पहुंच पाना) और मृत्यु हो सकती है। 

हैजा के कारण - Cholera Causes in Hindi

हैजा क्यों होता है?

निम्नलिखित हैजा के कारण एवं आम स्रोतों में शामिल हैं:

  1. नगरपालिका द्वारा उपलब्ध कराया गया अशुद्ध पानी पीना।
  2. नगरपालिका द्वारा उपलब्ध कराये गए अशुद्ध पानी से बनाई गयी बर्फ का उपयोग करने से।
  3. सड़क विक्रेताओं द्वारा बेचीं जाने वाली बांसी और अशुद्ध खाद्य और पेय सामग्री का सेवन करने से।
  4. मानव अपशिष्टों युक्त पानी से उगाई गयी सब्जियां खाने से ।
  5. प्रदूषित जल में पाया जाने वाले सी फूड को खाना भी इसका एक मुख्य कारण होता है।
  6. जब कोई व्यक्ति दूषित भोजन या पानी की खपत करता है, तो उसमे मौजूद जीवाणु आंतों में विष छोड़ देते हैं जो गंभीर दस्त का कारण बन सकता है।

आप एक संक्रमित व्यक्ति के साथ आकस्मिक संपर्क से हैज़ा ग्रस्त नहीं हो सकते हैं।

कॉलरा जीवाणु के दो अलग-अलग जीवन चक्र होते हैं - एक पर्यावरण में और दूसरा इंसानों में। इनके बारे में और जानते हैं:

  • वातावरण में:
    कोलेरा जीवाणु तटीय जल में प्राकर्तिक रूप से मौजूद होते हैं, जहां वे कॉपपोड़स (Copepods) नामक छोटे क्रस्टेशियंस (Crustaceans) से जुड़ जाते हैं। हैजा बैक्टीरिया इनके साथ जुड़ कर, दुनिया भर में फैल जाते हैं।
     
  • इंसानों में:
    जब लोग कॉलरा जीवाणुओं का उपभोग करते हैं तो, वे खुद बीमार नहीं होते हैं, लेकिन वे अपने मल से  बैक्टीरिया फैला सकते हैं। जब मानव मल भोजन और पानी स्त्रोतों को दूषित करते हैं, तो दोनों इस जीवाणु के लिए आदर्श प्रजनन आधार के रूप में काम करते हैं।

हैजा होने का जोखिम किन कारकों से बढ़ जाता है?

  1. अस्वच्छ परिस्थिति में हैजा बढ़ने की अधिक संभावना होती है।
  2. पेट में एसिड कम या न के बराबर होना (हाइपोक्लोरहाइड्रिया या एक्लोरहाइड्रिया; Hypochlorhydria or Achlorhydria)  - पेट में एसिड के कम स्तर वाले लोग - जैसे कि बच्चों, बुज़ुर्गों, और एन्टासिड्स  एच -2 ब्लॉकर्स या प्रोटॉन पंप अवरोधकों को लेने वाले लोगों को हैज़ा होने का अधिक खतरा होता है।
  3. घरेलू कारक: यदि आप किसी ऐसे व्यक्ति के साथ रहते हैं जो इससे पीड़ित हैं तो आप कॉलरा होने के काफी अधिक जोखिम में हैं।
  4. O ब्लड ग्रुप के लोग अन्य रक्त प्रकार वाले लोगों की तुलना में हैज़ा के प्रति दोगुना ज़्यादा संवेदनशील होते हैं, हालांकि ऐसा क्यों है इसका कारण अभी तक पता नहीं चल सका है।

हैजा से बचाव - Prevention of Cholera in Hindi

कॉलरा से बचाव के उपाए:

  1. हैजा से ग्रस्त इलाकों में जाने से पहले आवश्यक टीकाकरण कराएं।
  2. साबुन और पानी से कई बार हाथ धोएं।
  3. फलों और सब्जियों को साफ़ करने, ब्रश करने, भोजन तैयार करने, बर्तन धोने या बर्फ जमाने के लिए बोतलबंद (bottled), उबला हुआ (boiled), या रासायनिक तरीके से शुद्ध किये गए पानी (chemically treated) का उपयोग करें। 
  4. पूरी तरह से पका हुआ और गरम खाना खाएं।
  5. जिन सब्ज़ियों और फलों को आप स्वयं छील सकें उनका उपभोग करें।
  6. बिना उबले हुए दूध और इसके उत्पादों से बचें।
  7. उन जगहों पर न रहे जहां ठहरा हुआ पानी हो।
  8. पानी और खाद्य स्रोतों के प्रदूषण को रोकने के लिए मल त्याग खुले में न करें (शौचालय का इस्तेमाल करें)।
  9. जंक फूड खाने से बचें।
  10. हैजा वैक्सीन (Cholera vaccine)- वर्तमान में विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) द्वारा सुझाए गए हैजा के लिए तीन टीके हैं। ये Dukoral , Shanchol और Euvichol हैं। तीनों के पूर्ण सुरक्षा देने के लिए इनकी दो-दो खुराक की आवश्यकता होती है। हालांकि हैजा के खिलाफ वैक्सीन मौजूद है, WHO आमतौर पर इसकी सलाह नहीं देते हैं, क्योंकि यह इसे प्राप्त करने वाली संख्या में से केवल आधे लोगों की ही रक्षा कर पाती हैं और यह केवल कुछ महीने तक ही असर करती है।

(और पढ़ें - शिशु टीकाकरण चार्ट)

हैजा का परीक्षण - Diagnosis of Cholera in Hindi

इसका निदान करने का एकमात्र तरीका है मल के नमूने में बैक्टीरिया की पहचान करना। किसी अन्य रोगाणु के कारण हुए संक्रमण की वजह से होने वाले पतले दस्त और हैजा में फर्क बता paana मुश्किल होता है. इसके लिए मल जांच की आवश्यकता पड़ती है। Vibrio cholerae serogroup O1 या O139 को अलग करने और पहचानने के लिए मल के नमूने की जांच करना हैजा का निदान करने के लिए सभी चिकित्सकों का पहला विकल्प होता है।

इसके निदान के लिए रैपिड कॉलरा डिपस्टिक परीक्षण (Rapid cholera dipstick tests) का उपयोग किया जाता है। ऐसे क्षेत्रों में जहां हैजा होना काफी आम है, डिप्स्टिक परीक्षण अक्सर उपलब्ध होते हैं। इसमें मल के नमूने में एक डिपस्टिक पट्टी डाली जाती है और फिर उसकी बनी पंक्तियों को जांचा जाता है अगर दो लाल रेखाएं डिप्स्टिक पर दिखाई देती हैं, तो हैजा के होने की पुष्टि हो जाती है परन्तु अगर केवल एक पंक्ति आती है तो हैजा नहीं होता है परीक्षण के लिए बस 2 से 15 मिनट के बीच लगते हैं।

विब्रियो कोलेरे के खिलाफ एंटीबॉडी के लिए रक्त परीक्षण के माध्यम से भी निदान किया जा सकता है।

हैजा का इलाज - Cholera Treatment in Hindi

हैजा का उपचार किया जा सकता है, लेकिन क्योंकि इसमे निर्जलीकरण जल्दी हो सकता है, इसीलिए इसका उपचार जल्द से जल्द किया जाना चाहिए। कॉलरा को तुरंत उपचार की आवश्यकता होती है क्योंकि इस बीमारी के कारण मरीज़ की घंटों के भीतर मौत हो सकती है। संक्रमण के लिए उपचार का मुख्य मकसद उलटी और दस्त के कारण हुए पानी और शरीरिक लवण के नुक्सान की पूर्ती करना होता है।

  1. पुनर्जलीकरण (Rehydration) -
    इसका उद्देश्य रेहाइड्रैशन सॉलूशन जैसे ओआरएस (ORS) की मदद से शरीर में हुई पानी और एलेक्ट्रोल्य्तिस की कमी को पूरा करना है।
     
  2. इंट्रावीनस तरल पदार्थ (Intravenous fluids; तरल पदार्थों को नसों के माध्यम से शरीर में पहुँचाना) -
    अधिकांश लोगों को अकेले मौखिक रीहाइड्रेशन से मदद मिल सकती है, लेकिन गंभीर रूप से निर्जलित लोगों को इंट्रावीनस तरल पदार्थ की आवश्यकता हो सकती है।
     
  3. एंटीबायोटिक दवा -
    कुछ एंटीबायोटिक्स गंभीर रूप से बीमार लोगों में हैजा के कारण हुए दस्त की अवधि को कम कर सकती हैं।
     
  4. जस्ता (ज़िंक) की खुराक -
    अनुसंधानों के अनुसार बच्चों में ज़िंक दस्त की अवधि को कम कर सकता है।

पहले के समय में हैजा के महामारी बनने के कारण लोगों की भारी संख्या में मृत्यु,  जन संसाधन और अर्थव्यवस्था को काफी नुक्सान पहुँचता था। हालांकि अब लोगों को हैजा की पर्याप्त जानकारी है जिससे की इसके महामारी होने की सम्भावना नहीं है।

किसी भी प्रकार की जटिलता से बचने के लिए, इन्हें लेने या उपयोग करने से पहले कृपया अपने चिकित्सक से परामर्श करें।

हैजा से होने वाले नुकसान और जटिलताएं - Cholera Complications in Hindi

हैजा के लिए जटिलता कारक निम्नलिखित हैं: 

कॉलरा जल्दी ही घातक रूप ले सकता है। अधिक गंभीर मामलों में, भारी मात्रा में तरल पदार्थ और इलेक्ट्रोलाइट्स का तेजी से नुकसान होने के कारण दो से तीन घंटे के भीतर रोगी की मौत हो सकती है।

  1. निम्न रक्त शर्करा (Hypoglycemia; हाइपोग्लाइसीमिया) -
    खाना न खा पाने के कारण रक्त में शर्करा का सत्र बहुत कम हो जाता है। बच्चों में इसका जोखिम सबसे अधिक है।
     
  2. पोटेशियम की कमी होना (Hypokalemia; हाइपोकलिमिया) -
    हैज़ा ग्रस्त लोग अपने मल के ज़रिये खनिजों जैसे पोटेशियम को भारी मात्रा में खो देते हैं। कम पोटेशियम स्तर दिल और तंत्रिका कार्यव्यवस्था में हस्तक्षेप कर सकता है जो जानलेवा हो सकता है। (और पढ़ें - पोटेशियम की कमी के लक्षण)
     
  3. किडनी फेल होना -
    जब गुर्दे अपनी फिल्टरिंग की क्षमता खो देते हैं, तो आपके शरीर में अधिक मात्रा में तरल पदार्थ, कुछ इलेक्ट्रोलाइट्स और कचरे का निर्माण होता है। जिसके कारण अक्सर गुर्दे की विफलता और शॉक हो सकता है। (और पढ़ें - किडनी फेल होने के लक्षण)
     
  4. अन्य समस्याएं -
    गंभीर हैजा से ग्रस्त लोगों में, तीव्र द्रव की कमी के कारण हुए निर्जलीकरण, सेप्टिक शॉक और यहां तक कि मृत्यु का भी कारण बन सकता है - कभी-कभी कुछ घंटों के भीतर ही व्यक्ति की मौत हो जाती है। 

हैजा में परहेज़ - What to avoid during Cholera in Hindi?

अगर आप हैजा से ग्रस्त हैं तो आपको निम्नलिखित चीज़ों से परहेज़ करना चाहिए। ये आपकी रिकवरी में सहायक हो सकता है।  

  1. समुद्री भोजन विशेष रूप से मछली और शेलफ़िश खाने से बचें क्युकी हैजा के बैक्टीरिया ज़्यादातर अधिक नमकीन पानी में पाए जाते हैं। 
  2. मांस खाना भी कॉलरा में आपको नुक्सान पंहुचा सकता है। 
  3. कच्ची सब्जियों के सेवन से हैजा के दौरान जितना हो सके उतना बचें क्युकी उनमे हैजा के बैक्टीरिया के होने की सम्भावना काफी अधिक होती है। 
  4. बाहर बनी हुई बर्फ का उपयोग न करें अगर आप हैजा से ग्रस्त हैं।  
  5. आपको जंक फूड का सेवन करने से बचना चाहिए  ।  
  6. बिना उबाला हुआ दूध और उसके उत्पादों का प्रयोग करना असुरक्षित हो सकता है।  
  7. अस्वच्छ स्थानों से दूर रहें क्युकी हैजा ज़्यादातर गंदगी के कारण ही फैलता है। 

हैजा में क्या खाना चाहिए? - What to eat during Cholera in Hindi?

  1. शरीर में तरल पदार्थों की कमी को पूरा करने के लिए सादा पानी, सोडा या नारियल पानी पीना चाहिए। शरीर के तापमान को कम करने और उल्टी को रोकने के लिए बर्फ को चूसा जा सकता है।
  2. तीव्र चरण के बाद नारियल पानी, जौ का पानी और छाछ दिए जा सकते हैं। जब थोड़ी रिकवरी हो तो दही के साथ मिश्रित नरम चावल दिया जा सकता है। अधिक तरल और नरम पदार्थों को धीरे-धीरे खाया जा सकता है।
  3. खट्टे फलों जैसे नीम्बू, संतरा आदि का उपभोग करें ये बैक्टीरिया को जल्द ही ख़तम करने में सहायक होते हैं। 

* किसी भी प्रकार की जटिलता से बचने के लिए, इन्हें लेने या उपयोग करने से पहले कृपया अपने चिकित्सक से परामर्श करें।

Dr. Neha Gupta

Dr. Neha Gupta

संक्रामक रोग

Dr. Jogya Bori

Dr. Jogya Bori

संक्रामक रोग

Dr. Lalit Shishara

Dr. Lalit Shishara

संक्रामक रोग

हैजा की दवा - Medicines for Cholera in Hindi

हैजा के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

Medicine NamePack SizePrice (Rs.)
SeptranSEPTRAN 400/80MG SYRUP 60ML0
Microdox LbxMicrodox Lbx Capsule55
Doxt SlDoxt Sl Capsule66
ShancholShanchol Oral Vaccine259
Doxy 1Doxy 10
Ec DoxEc Dox 30 Mg/100 Mg Tablet44
SBL Euphorbia lathyris DilutionSBL Euphorbia lathyris Dilution 1000 CH86
Schwabe Ocimum gratissimum MTSchwabe Ocimum gratissimum MT 88
Bjain Epilobium palustre DilutionBjain Epilobium palustre Dilution 1000 CH63
Schwabe Epilobium palustre CHSchwabe Epilobium palustre 1000 CH96
Adoxy Lb CapsuleAdoxy Lb Capsule47
Doxol LbDoxol Lb Tablet0
Doxy 1 Ld R ForteDoxy 1 Ld R Forte Capsule56
CodoCodo Capsule Xl44
Doxy Plus LbDoxy Plus Lb Tablet41
DoxytasDoxytas Tablet8
Zedox LbZedox Lb Capsule25
Rez Q DRez Q D 600 Mg/100 Mg Tablet178
Bjain Euphorbia lathyris DilutionBjain Euphorbia lathyris Dilution 1000 CH63

हैजा की दवा - OTC medicines for Cholera in Hindi

हैजा के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

OTC Medicine NamePack SizePrice (Rs.)
Baidyanath Sanjivani BatiBaidyanath Sanjivani Bati Combo Pack Of 2131

क्या आप या आपके परिवार में किसी को यह बीमारी है? सर्वेक्षण करें और दूसरों की सहायता करें

References

  1. World Health Organization [Internet]. Geneva (SUI): World Health Organization; Cholera
  2. B.L. Sarkar et al. How endemic is cholera in India?. Indian J Med Res. 2012 Feb; 135(2): 246–248. PMID: 22446869
  3. MedlinePlus Medical Encyclopedia: US National Library of Medicine; Cholera
  4. U.S. Department of Health & Human Services. Sources of Infection & Risk Factors. Centre for Disease Control and Prevention
  5. U.S. Department of Health & Human Services. Cholera - Vibrio cholerae infection. Centre for Disease and Prevention
और पढ़ें ...