लो ब्लड प्रेशर - Low Blood Pressure in Hindi

Dr. Anurag Shahi (AIIMS)MBBS,MD

November 21, 2017

September 11, 2021

लो ब्लड प्रेशर
लो ब्लड प्रेशर

लो ब्लड प्रेशर या निम्न रक्तचाप क्या है?

लो ब्लड प्रेशर (निम्न रक्तचाप) तब होता है जब रक्तचाप सामान्य से काफी कम हो जाता है। ऐसा होने पर हृदय, मस्तिष्क और शरीर के अन्य भागों में पर्याप्त रक्त नहीं पहुंच पाता है।

आदर्श रूप से ब्लड प्रेशर 120/80 (सिस्टोलिक/डायस्टोलिक) से कम और 90/60 से ज्यादा होना चाहिए। 90/60 से कम होने पर इसे लौ ब्लड प्रेशर या मेडिकल भाषा में "हाइपोटेंशन" कहा जाता है।

कभीकभी ब्लड प्रेशर कम होने पर कोई लक्षण नहीं होते हैं। ऐसे में आमतौर पर इसे हानिकारक नहीं माना जाता है। 

चक्कर आना और बेहोशी दोनों लो बीपी के मुख्य लक्षण हैं। ये लक्षण सबसे ज्यादा तब महसूस होते हैं जब व्यक्ति लेटने या बैठने के बाद खड़ा होता है। लो बीपी के सामान्य कारण हैं रक्त की मात्रा में कमी, हृदय रोग और कुछ दवाएं।

दोनों लो और हाई ब्लड प्रेशर का जोखिम आमतौर पर उम्र बढ़ने के साथ-साथ बढ़ता है। लो बीपी का इलाज इसके होने के कारण पर निर्भर करता है।

बीपी लो या कम कितना होता है? - How much blood pressure is low in Hindi

कुछ विशेषज्ञ 90 मिमी एचजी सिस्टोलिक या 60 मिमी एचजी डायस्टोलिक से कम रीडिंग को लो ब्लड प्रेशर परिभाषित करते हैं। दोनों में से कोई भी संख्या इससे कम है, तो आपका ब्लड प्रेशर सामन्य से कम है।

आपके लिए जितना ब्लड प्रेशर कम हो, ऐसा हो सकता है कि किसी और के लिए वह सामान्य हो। ज्यादातर डॉक्टर ब्लड प्रेशर को बहुत कम तब मानते हैं जब वह लक्षण पैदा करता है।

रक्तचाप में अचानक गिरावट खतरनाक हो सकती है। सिर्फ 20 मिमी एचजी का परिवर्तन - उदाहरण के लिए 110 से 90 मिमी एचजी सिस्टोलिक तक की गिरावट - होने से मस्तिष्क को रक्त कम मिलने लग सकता है जिससे चक्कर आ सकते हैं और व्यक्ति बेहोश हो सकता है।

(और पढ़ें - नार्मल ब्लड प्रेशर कितना होता है)

लो ब्लड प्रेशर के लक्षण - Low Blood Pressure Symptoms in Hindi

बीपी लो या कम होने के क्या लक्षण है?

लो ब्लड प्रेशर के सबसे आम लक्षण हैं चक्कर आना और बेहोशी

कुछ मामलों में ब्लड प्रेशर कम होना एक अंतर्निहित समस्या का संकेत होता है, खासकर जब यह अचानक गिरता है या बीपी गिरने पर यह लक्षण होते हैं -

  • चक्कर आना
  • बेहोशी
  • धुंधला दिखना या लुप्त होती दृष्टि
  • जी मिचलाना
  • थकान
  • एकाग्रता में कमी

अगर ब्लड प्रेशर बहुत ज्यादा गिर जाए तो इंसान "शॉक" में जा सकता है जो कि घातक हो सकता है। यह एक इमरजेंसी स्थिति है और तुरंत इलाज की आवश्यकता होती है।

लो ब्लड प्रेशर के कारण - Low Blood Pressure Causes in Hindi

बीपी कम होने का क्या कारण है?

लौ ब्लड प्रेशर के कारणों में शामिल हैं कुछ बीमारियां (जैसे डायबिटीज या थायराइड), गर्भावस्था और कुछ दवाइयां। कभी-कभी ब्लड प्रेशर कम होने का कारण पता नहीं चल पाता है।

कुछ परिस्थितियों या बिमारियों में ब्लड प्रेशर लंबे समय तक कम रह सकता है, और इसका इलाज न होने पर खतरनाक हो सकता है। इनमें शामिल हैं -

  • गर्भावस्था - माँ और बढ़ते भ्रूण दोनों को अधिक रक्त की जरुरत के कारण
  • चोट - चोट लगने पर बड़ी मात्रा में रक्त की हानि
  • हार्ट अटैक - दिल के दौरे या हृदय वाल्व में गड़बड़ी के कारण रक्त परिसंचरण में समस्या
  • निर्जलीकरण - कमजोरी और शॉक की स्थिति जो कभी-कभी निर्जलीकरण के साथ होती है
  • एनाफिलेक्टिक शॉक (जो कि एलर्जी की प्रतिक्रिया का एक गंभीर रूप है)
  • रक्त सम्बंधित संक्रमण
  • एंडोक्राइन रोग जैसे कि डायबिटीज और थायरॉयड रोग

कुछ दवाओं के कारण भी रक्तचाप गिर सकता है, जैसे बीटा-ब्लॉकर्स और नाइट्रोग्लिसरीन, जिनका उपयोग हृदय रोग के इलाज के लिए किया जाता है। मूत्रवर्धक, ट्राइसाइक्लिक एंटीडिप्रेसेंट्स और स्तंभन दोष की दवाएं भी ब्लड प्रेशर कम होने का कारण बन सकती हैं।

लो ब्लड प्रेशर से बचाव - Prevention of Low Blood Pressure in Hindi

लो बीपी से बचने के निम्नलिखित उपाय हैं -

  1. शराब पीना बंद या कम करें - शराब शरीर में पानी की कमी करती है और ब्लड प्रेशर कम कर सकती है।
  2. स्वस्थ खाएंअनाज, फल, सब्ज़ियां और मछली सहित विभिन्न प्रकार के खाद्य पदार्थ खाएं जिनसे आपको अच्छे स्वास्थ्य के लिए आवश्यक सभी पोषक तत्व मिलें।
  3. अपने शरीर की मुद्रा का ध्यान रखें - बैठने की स्थिति के बाद धीरे से खड़े हों। एक पैर को दूसरे पैर पर चढ़ाकर न बैठें।
  4. कम कार्ब-युक्त भोजन खाएं - भोजन के बाद रक्तचाप के तेज़ी से कम होने को रोकने के लिए, दिन में कई बार छोटे हिस्से में भोजन खाएं और आलू, चावल, पास्ता और रोटी जैसे उच्च कार्बोहाइड्रेट वाले खाद्य पदार्थों का सेवन कम करें।

आपके डॉक्टर आपको भोजन के साथ कैफीन-युक्त कॉफी या चाय पीने की सलाह दे सकते हैं ताकि अस्थायी रूप से आपका ब्लड प्रेशर बढ़ जाए लेकिन कैफीन अन्य समस्याएं पैदा कर सकता है इसीलिए अधिक कैफीनयुक्त पेय पदार्थ पीने से पहले अपने चिकित्सक से बात करें।

लो बीपी (लो ब्लड प्रेशर) का परीक्षण - Diagnosis of Low Blood Pressure in Hindi

लो बीपी के निदान के लिए आपके चिकित्सक इतिहास की जाँच और शारीरिक परीक्षा की जाती है। यदि कम रक्तचाप बिना किसी अन्य लक्षण के मौजूद होता है, तो भविष्य में जाँच के दौरान चिकित्सक को आसानी होगी।

शारीरिक परीक्षा में आपकी मुद्रा संबंधी महत्वपूर्ण लक्षण शामिल हो सकते हैं। इसमें लेटने और खड़े होने पर मरीज़ का ब्लड प्रेशर और पल्स रेट लिया जाता है। यदि रक्तचाप कम होता है या पल्स की दर बढ़ जाती है, तो यह निर्जलीकरण या रक्तस्राव के कारण संचार प्रणाली में कम रक्त के होने का सूचक हो सकता है।

आपके डॉक्टर आपके निम्नलिखित परीक्षण भी कर सकते हैं -

  1. ब्लड टेस्ट - ब्लड टेस्ट से आपके ब्लड शुगर के कम (हाइपोग्लाइसीमिया) या ज्यादा (हाइपरग्लाइसीमिया या डायबिटीज) या कम लाल रक्त कोशिका की गिनती (एनीमिया) के बारे में भी बता सकता है जिनके कारण लो बीपी होता है।
  2. इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम (ईसीजी) - ईसीजी से आपके दिल के विद्युत संकेतों का पता लगता है।
  3. इकोकार्डियोग्राम - ईको टेस्ट में आपकी छाती का अल्ट्रासाउंड टेस्ट किया जाता है।
  4. स्ट्रेस टेस्ट - कुछ हृदय की समस्याएं जो निम्न रक्तचाप करती हैं, उनका विश्लेषण करना तब आसान होता है जब आपका हार्ट पर स्ट्रेस डाला जाता है।

लो ब्लड प्रेशर का इलाज - Low Blood Pressure Treatment in Hindi

अगर ब्लड प्रेशर लो होने पर लक्षण कम या नहीं होते तो इलाज की आमतौर पर जरुरत नहीं होती है।

यदि आपको लक्षण होते हैं, तो आपका उपचार उसके होने के कारणों पर निर्भर करेगा। उदाहरण के लिए, जब लो बीपी दवाओं के कारण होता है, तो आमतौर पर दवा बदलने या रोकने या खुराक कम करने से उसका उपचार किया जाता है।

यदि यह स्पष्ट नहीं होता है कि लो बीपी किस कारण हो रहा है या इसका कोई इलाज नहीं है, तो आपके रक्तचाप को बढ़ाने और लक्षणों को बेहतर करने के लिए इलाज किया जाता है।
आपकी उम्र, स्वास्थ्य और आपके लो बीपी के प्रकार के आधार पर आप निम्नलिखित तरीकों से इलाज कर सकते हैं -

  1. अधिक नमक का प्रयोग करें
    आमतौर पर आहार में नमक को सीमित रखने की सलाह दी जाती है क्योंकि सोडियम रक्तचाप बढ़ा सकता है। कम रक्तचाप से ग्रस्त लोगों के लिए, नमक अच्छा हो सकता है लेकिन अधिक सोडियम हृदय की विफलता का कारण बन सकता है, इसीलिए अपने आहार में नमक बढ़ाने से पहले अपने चिकित्सक से परामर्श करें।
     
  2. अधिक पानी पिएं
    द्रव, रक्त की मात्रा में वृद्धि करते हैं और निर्जलीकरण को रोकने में मदद करते हैं जो दोनों ही लो बीपी के इलाज में महत्वपूर्ण होते हैं।
     
  3. दबाव वाले मोज़े पहनें
    दबाव वाले मोज़े जो पैरों में दर्द और सूजन को दूर करते हैं, वह आपके पैरों में रक्त के थक्कों को कम करने में मदद करते हैं।
     
  4. दवाएं
    बैठकर या सोकर उठने के बाद खड़े होने पर होने वाले लो बीपी (आर्थोस्टेटिक हाइपोटेंशन) के उपचार के लिए कई दवाओं का इस्तेमाल किया जा सकता है। चिकित्सक पुराने आर्थोस्टेटिक हाइपोटेंशन से ग्रस्त लोगों के इलाज के लिए अक्सर मीडोडराइन (ओर्वेटन) नामक दवा का उपयोग करते हैं। यह आपकी रक्त वाहिकाओं की विस्तार करने की क्षमता को सीमित करती है, जो रक्तचाप को बढ़ाती है।

लो बीपी (लो ब्लड प्रेशर) की जटिलताएं - Hypotension Complications in Hindi

लो बीपी की जटिलताएं -

यदि कम रक्तचाप शरीर के अंगों में रक्त के प्रवाह की कमी करता है, तो उन अंगों का विफल होना शुरू हो सकता है जिससे स्ट्रोक, दिल का दौरा, गुर्दे की विफलता और आंत्र इस्किमिया (छोटी और बड़ी आंत में रक्त की कमी) हो सकते हैं।

स्ट्रोक और मृत्यु लंबे समय तक कम रक्तचाप का अंतिम परिणाम होते हैं



संदर्भ

  1. National Health Service [internet]. UK; Low blood pressure (hypotension)
  2. National Heart, Lung, and Blood Institute [Internet]. Bethesda (MD): U.S. Department of Health and Human Services; https://www.emedicinehealth.com/low_blood_pressure/article_em.htm#exams_and_tests_for_low_blood_pressure
  3. Kim A.W., Maxhimer J.B. (2008) Hypotension in the Postoperative Patient. In: Myers J.A., Millikan K.W., Saclarides T.J. (eds) Common Surgical Diseases. Springer, New York, NY
  4. American Heart Association, American Stroke Association [internet]: Texas, USA AHA: Low Blood Pressure - When Blood Pressure Is Too Low
  5. Munir Zaqqa, Ali Massumi. Neurally Mediated Syncope. Tex Heart Inst J. 2000; 27(3): 268–272. PMID: 11093411
  6. MSD mannual consumer version [internet].Postprandial Hypotension. Merck Sharp & Dohme Corp. Merck & Co., Inc., Kenilworth, NJ, USA
  7. The Merck Manual of Diagnosis and Therapy [internet]. US; Orthostatic Hypotension
  8. MedlinePlus Medical Encyclopedia: US National Library of Medicine; Low blood pressure

लो ब्लड प्रेशर के डॉक्टर

Dr. Peeyush Jain Dr. Peeyush Jain कार्डियोलॉजी
34 वर्षों का अनुभव
Dr. Dinesh Kumar Mittal Dr. Dinesh Kumar Mittal कार्डियोलॉजी
15 वर्षों का अनुभव
Dr. Vinod Somani Dr. Vinod Somani कार्डियोलॉजी
27 वर्षों का अनुभव
Dr. Vinayak Aggarwal Dr. Vinayak Aggarwal कार्डियोलॉजी
27 वर्षों का अनुभव
डॉक्टर से सलाह लें

लो ब्लड प्रेशर की दवा - Medicines for Low Blood Pressure in Hindi

लो ब्लड प्रेशर के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

लो ब्लड प्रेशर की ओटीसी दवा - OTC Medicines for Low Blood Pressure in Hindi

लो ब्लड प्रेशर के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

लो ब्लड प्रेशर की जांच का लैब टेस्ट करवाएं

लो ब्लड प्रेशर के लिए बहुत लैब टेस्ट उपलब्ध हैं। नीचे यहाँ सारे लैब टेस्ट दिए गए हैं:

लो ब्लड प्रेशर पर आम सवालों के जवाब

सवाल 2 साल से अधिक पहले

मैं 31 साल की महिला हूं। मेरा ब्लड प्रेशर 90/60 रहता है और हार्ट बीट 80-85 बीट प्रति मिनट। क्या मुझे अपने हेल्थ को लेकर काॅन्शस होना चाहिए?

Dr. Ayush Pandey MBBS , सामान्य चिकित्सा

जो रेंज आप बता रही हैं, इसके मुताबिक आप अपने आहार में नमक की जरा सी मात्रा बढ़ा दें। इसके अलावा नियमित वॅाक करें। अपनी जीवनशैली में कुछ बदलाव करके अपनी स्थिति को सुधार सकते हैं।अगर ऐसा न हो, तो डाक्टर से पर्सनली मिलकर अपने हेल्थ के बारे में बताएं।

सवाल 2 साल से अधिक पहले

लो बीपी का तुरंत इलाज कैसे करें?

Dr. B. K. Agrawal MBBS, MD , कार्डियोलॉजी, सामान्य चिकित्सा, आंतरिक चिकित्सा

एकाएक बीपी लो होने पर उसे तुरंत हाई किया जाना जरूरी है। इसके लिए निम्न उपायों को आजमाएं-

  • सॅाल्टी स्नैक: हाईपरटेंशन होने पर नमक कम खाया जाना चाहिए। जबकि लो ब्लड प्रेशर में ऐसा नहीं है। लो ब्लड प्रेशर होने पर सॅाल्टी बिस्किट खाएं। इससे लो बीपी को नियंत्रित कर सकते हैं।
  • पानी पिएं: लो ब्लड प्रेशर होने की एक वजह डिहाइड्रेशन यानी निर्जलीकरण है। मतलब यह कि जब भी लो बीपी हो तो तुरंत खूब पानी पिएं। फर्क दिखने लगेगा।
  • कैफीन पिएं: कैफीन रक्त धमनियों को संकुचित करता है, जिससे ब्लड प्रेशर बढ़ता है। इसलिए जब भी ब्लड प्रेशर लो हो तो तुरंत कैफीन का सेवन करें।
 

सवाल 2 साल से अधिक पहले

मेरी उम्र 22 साल है। मेरा बीपी हमेशा लो रहता है। कृपया बताएं कि मुझे अपना बीपी सामान्य रखने के लिए क्या करना चाहिए?

Dr. Haleema Yezdani MBBS , सामान्य चिकित्सा

क्या आपने बीपी किसी डाक्टर से करवाया है या फिर खुद किया है? वैसे आपने यह भी नहीं बताया कि आपके बीपी की रेंज कितनी है? बिना रेंज जाने उपाय बताना संभव नहीं है। इसके अलावा बीपी कम होने की कई वजह हो सकती है जैसे प्रेगनेंसी, एनीमिया, किसी दवाई का प्रभाव। बेहतर है आप किसी डाक्टर से संपर्क करें।

सवाल 2 साल से अधिक पहले

ब्लड प्रेशर लो होने से क्या होता है?

Dr. Braj Bhushan Ojha BAMS , गैस्ट्रोएंटरोलॉजी, डर्माटोलॉजी, मनोचिकित्सा, आयुर्वेद, सेक्सोलोजी, मधुमेह चिकित्सक

अचानक ब्लड प्रेशर लो होने पर आपको निम्न समस्याएं हो सकती हैं-

  • चक्कर आना।
  • धुंधला दिखना।
  • कमजोरी आना।
  • मितली और उल्टी आना।
  • त्वचा का नीला पड़ जाना।
  • त्वचा में चिपचिपापन और ठंडापन महसूस करना।
  • चीजों को लेकर कंफ्यूज होना।
  • सांसों की गति का तीव्र होना।
  • बहुत ज्यादा प्यास लगना।
  • हर समय नींद आना।

cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ