myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

आज के समय में हर कोई फास्ट या जंक फ़ूड का दीवाना होता जा रहा है। आजकल लोग पौष्टिक आहार को कम अहमियत देने लगे हैं। बच्चों से लेकर बड़ों तक सभी को जंक फूड खाने का बहाना चाहिए। जंक फूड से होने वाले नुकसान के बारे में सब अच्छे से जानते हैं, लेकिन बावजूद इसके इस चीज के सेवन में कमी नहीं आ रही है। कई अध्ययनों से पता चला है कि फास्ट फूड और प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों से बचपन में मोटापे, हृदय रोग और मधुमेह और अन्य बीमारियों में वृद्धि हुई है।

(और पढ़ें - वजन कम करने के लिए क्या खाएं और मधुमेह में क्या खाना चाहिए)

फास्ट-फूड में मौजूद अतिरिक्त कैलोरी से वजन बढ़ता है। यह मोटापे का कारण हो सकता है। अस्थमा और सांस लेने में तकलीफ सहित, यह कई प्रकार की श्वसन समस्याओं के लिए यह जोखिम को बढ़ाता है। अतिरिक्त वजन आपके दिल पर दबाव डाल सकता है। इससे आप चलने, सीढ़ियों पर चढ़ने या कसरत करने में परेशानी महसूस कर सकते हैं। विशेष रूप से बच्चों के लिए, श्वसन समस्याओं का खतरा अधिक बढ़ जाता है। एक अध्ययन में पाया गया कि जो बच्चे सप्ताह में कम से कम तीन बार फास्ट फूड खाते हैं उन्हें अस्थमा होने की अधिक संभावना होती है। तो आइये जानते हैं जंक फूड से होने वाले नुकसान के बारे में -

(और पढ़ें - अस्थमा के उपाय)

  1. जंक फूड बनता है सिरदर्द का कारण - Junk Food causes Headaches in Hindi
  2. फास्ट फूड बन सकता है अवसाद का कारण - Fast Food can lead to Depression in Hindi
  3. जंक फूड का सेवन है मुँहासे का कारण - Fast Food can Cause Acne in Hind
  4. दांतों की सड़न का कारण है जंक फूड - Junk Food Causes Tooth Decay in Hindi
  5. हार्ट डिजीज का कारण बन सकता है फास्ट फूड - Fast Food can Cause Heart Disease in Hindi
  6. हाई ब्लड प्रेशर का कारण बनता है फास्ट फूड - Fast Food Causes High Blood Pressure in Hindi
  7. फास्ट फूड के नुकसान बढ़ाए मोटापा - Fast Food Leads to Obesity in Hindi
  8. फास्ट फूड है हाई कोलेस्ट्रॉल का कारण - Fast food is the cause of high cholesterol
  9. जंक फूड बन सकता है डायबिटीज का कारण - Junk food can cause diabetes in Hindi
  10. फास्ट फूड के अन्य नुकसान - Other Side Effects of Fast Food in Hindi
  11. जंक फूड खाने से परीक्षा के दौरान बढ़ सकता है तनाव
  12. क्यों जरूरी है प्रोसेस्ड फूड से दूरी बनाए रखना

सोडियम से भरपूर फ़ास्ट फ़ूड का सेवन, जैसे कि फ्रेंच फ्राइज़ आदि से सिरदर्द का खतरा बढ़ सकता है। ऐसे में आपको जंक फूड का अधिक सेवन न करके अधिक से अधिक मात्रा में पानी पीना चाहिए। 

(और पढ़ें - सिर दर्द के घरेलू उपाय)

फास्ट फूड और प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों का अधिक मात्रा में सेवन अवसाद के लिए आपके जोखिम को बढ़ा सकता है। ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि जंक फूड के अधिक सेवन से शरीर के हार्मोन का संतुलन बिगड़ जाता है। जिसके कारण डिप्रेशन की समस्या हो सकती है। 

(और पढ़ें - डिप्रेशन के उपाय)

जंक फूड जैसे खाद्य पदार्थ आपकी त्वचा को प्रभावित कर सकते हैं, लेकिन हो सकता है कि आपको इनका पता हों। चॉकलेट और अन्य फ़ास्ट फ़ूड को मुंहासे के लिए जिम्मेदार माना जाता है। फ़ास्ट फ़ूड में मौजूद कार्ब्स मुँहासे पैदा कर सकते हैं। फ्रेंच फ्राइज़, हैमबर्गर बन्स और आलू के चिप्स जैसे कार्ब-हैवी फास्ट फूड मुँहासे के ब्रेकआउट का कारण हो सकते हैं। 

(और पढ़ें - मुँहासे हटाने के घरेलू उपाय)

फास्ट फूड में मौजूद कार्ब्स और चीनी एसिड का उत्पादन करते हैं जो दाँत तामचीनी (Tooth enamel) को नष्ट कर सकते हैं। इसके अलावा ये कैविटीज़ का भी कारण बन सकते हैं। 

(और पढ़ें - बच्चों के लिए दांतों में कैविटी से बचने के उपाय)

हाई कोलेस्ट्रॉल और उच्च रक्तचाप हृदय रोग और स्ट्रोक के जोखिम बढ़ाने वाले दो मुख्य कारण हैं। फास्ट फूड आम तौर पर सोडियम से भरपूर होते हैं जो रक्तचाप को बढ़ा सकती हैं, जिसमें हृदय की विफलता भी शामिल है। 

(और पढ़ें - हृदय को स्वस्थ रखने के लिए क्या खाएं)

सोडियम हाई ब्लड प्रेशर वाले लोगों के लिए भी खतरनाक हो सकता है। सोडियम आपके रक्तचाप को बढ़ा सकता है और आपके दिल और हृदय प्रणाली पर तनाव डाल सकता है। एक अध्ययन के अनुसार, लगभग 90 प्रतिशत वयस्कों को यह पता नहीं लगा कि उनके फास्ट-फूड भोजन में कितना सोडियम है।एक अध्ययन 993 वयस्कों का सर्वेक्षण किया और पाया गया कि उनका अनुमान वास्तविक संख्या (1,292 मिलीग्राम) से छह गुना कम है। अमेरिकी हार्ट एसोसिएशन ने वयस्कों को प्रति दिन 2,300 मिलीग्राम से अधिक सोडियम खाने से मना किया है। 

(और पढ़ें - हाई बीपी का आयुर्वेदिक इलाज)

अतिरिक्त कैलोरी अधिक वजन का कारण हो सकती है। बिना व्यायाम कैलोरी में वृद्धि मोटापे को जन्म दे सकती है। मोटापे की वजह से श्वास में कमी हो सकती है। हालांकि यदि आपको लगता है कि आप स्वस्थ भोजन कर रहे हैं, फिर भी आपको कैलोरी की संख्या को कम नहीं आंक सकते हैं। इससे अनजाने में वजन बढ़ सकता है। 

(और पढ़ें - मोटापा कम करने के उपाय और वजन घटाने के तरीके)

फ्राइड खाद्य पदार्थ ट्रांस वसा से भरे होते हैं। ये वसा एलडीएल कोलेस्ट्रॉल के स्तरों को बढ़ाने के लिए जानी जाती है। ट्रांस वसा की कोई मात्रा अच्छा या स्वस्थ नहीं होती है। ऐसे खाद्य पदार्थों का सेवन, आपके एलडीएल (खराब) कोलेस्ट्रॉल को बढ़ा सकता है और एचडीएल (अच्छे) कोलेस्ट्रॉल को कम कर सकता है और टाइप 2 मधुमेह और हृदय रोग के जोखिम में वृद्धि कर सकता है। 

(और पढ़ें - कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए क्या खाएं)

फ़ास्ट फ़ूड में मौजूद चीनी का स्तर ब्लड शुगर बढ़ने का कारण बन सकता है। यह शरीर की प्राकृतिक इंसुलिन प्रतिक्रिया को भी बदल सकता है। अधिकांश फास्ट फूड कार्बोहाइड्रेट से भरे हुए होते हैं और इसमें कोई फाइबर नहीं होती है। जब आपका पाचन तंत्र इन खाद्य पदार्थों को तोड़ता है, तो यह आपके रक्तप्रवाह में ग्लूकोज (चीनी) के रूप में रिलीज़ होते हैं। नतीजतन, आपका रक्त शर्करा बढ़ता है आपका अग्न्याशय इंसुलिन को रिलीज़ करके ग्लूकोज में बढ़ोतरी करता है। इसलिए फास्ट फूड का अधिक सेवन आपके पाचन और ह्रदय के स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायी हो सकता है। 

(और पढ़ें - डायबिटीज कम करने के घरेलू उपाय)

  1. फास्ट फूड कम समय के लिए भूख को संतुष्ट कर सकता है, लेकिन इसके परिणाम सकारात्मक नहीं होते हैं। जो लोग फास्ट फूड और प्रोसेसेड पेस्ट्री खाते हैं, उनको दूसरे लोगों की तुलना में 51 प्रतिशत अधिक अवसाद होने की संभावना अधिक होती है, जो उन खाद्य पदार्थों को नहीं खाते हैं या फ़ास्ट फ़ूड का सेवन बहुत कम करते हैं। (और पढ़ें - भूख कम करने के उपाय)
  2. जंक फूड और फास्ट फूड की सामग्री का आपकी प्रजनन क्षमता पर असर पड़ सकता है। फास्ट फूड का अधिक मात्रा में सेवन आपके शरीर में हार्मोन के कार्यों को बाधित कर सकता है। (और पढ़ें - प्रजनन क्षमता बढ़ाने के उपाय)
  3. मोटापा भी हड्डी घनत्व और मांसपेशियों की जटिलताओं को जन्म दे सकता है। जो लोग मोटापे से पीड़ित होते हैं, उनकी हड्डियों के टूटने का अधिक जोखिम होता हैं। मांसपेशियों को बनाने के लिए वर्कआउट करना महत्वपूर्ण है, जो आपकी हड्डियों के लिए अच्छी होता है और साथ ही हड्डियों के नुकसान को कम करने के लिए स्वस्थ आहार भी जरूरी है।

(और पढ़ें - संतुलित आहार किसे कहते है)

और पढ़ें ...