myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत
संक्षेप में सुनें

गुर्दे का संक्रमण क्या है?

गुर्दे का संक्रमण (पाइलोनेफ्रिटिस: Pyelonephritis) एक विशिष्ट प्रकार का मूत्र पथ संक्रमण (यूटीआई) है जो आमतौर पर आपके मूत्रमार्ग या मूत्राशय से शुरू होता है और आपके गुर्दे तक जाता है।

किडनी इन्फेक्शन के लिए तत्काल चिकित्सा की आवश्यकता होती है। यदि ठीक तरह से इलाज नहीं किया जाए, तो गुर्दे का संक्रमण आपके गुर्दे को स्थायी रूप से नुकसान पहुंचा सकता है या बैक्टीरिया आपके खून में फैल सकता है जिससे जानलेवा संक्रमण हो सकता है।

गुर्दे के संक्रमण के इलाज में आमतौर पर एंटीबायोटिक का इस्तेमाल शामिल है और अक्सर अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता होती है।

  1. किडनी इन्फेक्शन के लक्षण - Kidney Infection Symptoms in Hindi
  2. गुर्दे का संक्रमण के कारण और जोखिम कारक - Kidney Infection Causes & Risk Factors in Hindi
  3. किडनी इन्फेक्शन से बचाव - Prevention of Kidney Infection in Hindi
  4. किडनी इन्फेक्शन का परिक्षण - Diagnosis of Kidney Infection in Hindi
  5. गुर्दे का संक्रमण का इलाज - Kidney Infection Treatment in Hindi
  6. गुर्दे का संक्रमण की जटिलताएं - Kidney Infection Complications in Hindi
  7. गुर्दे का संक्रमण की दवा - Medicines for Kidney Infection in Hindi
  8. गुर्दे का संक्रमण के डॉक्टर

किडनी इन्फेक्शन के लक्षण - Kidney Infection Symptoms in Hindi

गुर्दे के संक्रमण के लक्षण क्या हैं ?

गुर्दे के संक्रमण के निम्नलिखित लक्षण होते हैं -

  1. बुखार। (और पढ़ें - बुखार कम करने के घरेलू उपाय)
  2. ठंड लगना।
  3. पीछे की ओर, एक तरफ या पेट और जांध के बीच के भाग में दर्द होना।
  4. पेट दर्द। (और पढ़ें - पेट दर्द के घरेलू उपाय)
  5. बार-बार पेशाब आना।
  6. पेशाब करने के दौरान जलन या दर्द होना।
  7. मतली और उल्टी
  8. मूत्र में मवाद या रक्त आना। (और पढ़ें - पेशाब में खून आना)
  9. मूत्र में बदबू आना या धुंधला मूत्र आना।

(और पढ़ें - किडनी फेलियर)

गुर्दे का संक्रमण के कारण और जोखिम कारक - Kidney Infection Causes & Risk Factors in Hindi

गुर्दे में संक्रमण क्यों होता है?

गुर्दे के संक्रमण के निम्नलिखित कारण होते हैं -

जब आपके मूत्र पथ की नली में बैक्टीरिया प्रवेश करते हैं और गुणन करते हैं व गुर्दों तक पहुंच जाते हैं, तो आपको गुर्दे का संक्रमण हो सकता है। यह कारण गुर्दे के संक्रमण का सबसे आम कारण होता है।

शरीर में कहीं और जगह का संक्रमण रक्तप्रवाह के माध्यम से आपके गुर्दे तक फैल सकता है। यद्यपि इस तरह से गुर्दे का संक्रमण होना असामान्य है लेकिन यह हो सकता है। उदाहरण के लिए - यदि आपने कृत्रिम जोड़ या हृदय में वाल्व लगवाया है जो संक्रमित हो जाता है।

किडनी की सर्जरी के बाद, गुर्दे के संक्रमण होने की सम्भावना कम होती है।

गुर्दे के संक्रमण के जोखिम कारक क्या होते हैं ?

गुर्दे के संक्रमण के खतरे को बढ़ाने वाले कारक निम्नलिखित हैं -

  • महिलाएं - महिलाओं में मूत्रमार्ग पुरुषों की तुलना में छोटा होता है, जो बैक्टीरिया को से शरीर के बाहर से मूत्राशय तक जाने के लिए आसान बनाता है। मूत्राशय में प्रवेश करने से, संक्रमण गुर्दे में फैल सकता है। गर्भवती महिलाएं गुर्दे संबंधी संक्रमण के उच्च जोखिम में होती हैं।
  • प्रतिरक्षण प्रणाली कमज़ोर होना - ऐसी चिकित्सा स्थितियां जो आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को खराब करती हैं, जैसे शुगर (मधुमेह) और एचआईवी। कुछ दवाएं, जैसे प्रत्यारोपित अंगों की अस्वीकृति को रोकने के लिए ली गई दवाओं का भी समान प्रभाव पड़ता है।
  • मूत्राशय के आसपास नसों की क्षति - नसों या रीढ़ की हड्डी की क्षति, मूत्राशय के संक्रमण की उत्तेजना को रोक सकते हैं जिससे आप यह महसूस नहीं कर पाते हैं कि यह कब गुर्दे का संक्रमण बन जाता है।
  • मूत्र कैथेटर (Catheter) का उपयोग करना - मूत्र कैथेटर मूत्राशय से मूत्र निकालने के लिए उपयोग की जाने वाली ट्यूब होती हैं। कुछ सर्जरी और नैदानिक परीक्षणों के दौरान और उसके बाद आपको कैथेटर का उपयोग करना पड़ सकता है। यदि आप बिस्तर पर हैं, तो आपको लगातार इसका उपयोग करना पड़ सकता है।
  • एक ऐसी स्थिति जिसमें मूत्र का गलत प्रवाह होता है - वेसिकुरेटेरल रिफ्लक्स (vesicoureteral reflux) में, मूत्राशय से मूत्र की एक छोटी मात्रा वापस मूत्रवाहिनी और गुर्दे में जाने लगती है। ऐसी स्थिति वाले लोग बचपन और वयस्कता के दौरान गुर्दे के संक्रमण के उच्च जोखिम पर होते हैं।

किडनी इन्फेक्शन से बचाव - Prevention of Kidney Infection in Hindi

गुर्दे के संक्रमण से कैसे बच सकते हैं?

गुर्दे के संक्रमण से बचने के लिए निम्नलिखित बातों का ध्यान रखें -

  1. तरल पदार्थ पिएँ, विशेष रूप से पानी। तरल पदार्थ के सेवन से आपके शरीर से बैक्टीरिया पेशाब के माध्यम से निकल जाते हैं।
  2. ज़्यादा पेशाब करें। जब आपको पेशाब की उत्तेजना हो, तो पेशाब करने में देरी न करें।
  3. यौन सम्बन्ध बनाने के बाद पेशाब करें। सम्भोग के बाद जितनी जल्दी हो सके पेशाब करें जिससे मूत्रमार्ग से बैक्टीरिया निकल सके और संक्रमण का खतरा कम हो।
  4. पेशाब या मल त्याग करने के बाद अपने अंगों को ठीक से धोएं जिससे बैक्टीरिया मूत्रमार्ग तक न फ़ैल सके।
  5. जानांग में डिओडरंट स्प्रे या ऐसे अन्य उत्पादों के प्रयोग से मूत्रमार्ग में संक्रमण हो सकता है।

किडनी इन्फेक्शन का परिक्षण - Diagnosis of Kidney Infection in Hindi

गुर्दे के संक्रमण का परिक्षण कैसे होता है ?

लक्षणों के बारे में पूछने के बाद, आपके डॉक्टर पेशाब की निम्नलिखित जाँच कर सकते हैं -

  1. पेशाब में रक्त, मवाद और बैक्टीरिया की जांच के लिए मूत्र विश्लेषण।
  2. बैक्टीरिया के प्रकार को देखने के लिए यूरीन कल्चर परीक्षण।

आपके डॉक्टर इन परीक्षणों का उपयोग भी कर सकते हैं -

  • अल्ट्रासाउंड या सीटी स्कैन
    आपके मूत्र पथ में रुकावट की जांच के लिए आमतौर पर अल्ट्रासाउंड टेस्ट या सीटी स्कैन किया जाता है यदि उपचार पहले 3 दिनों में काम नहीं करता।
  • वायडिंग सिस्टोस्टोयुरेथ्रोग्राम (वीसीयूजी) [Voiding cystourethrogram (VCUG)]
    मूत्रमार्ग और मूत्राशय में समस्याओं के निदान के लिए वीसीयूजी एक्स-रे का एक प्रकार है। इन्हें अक्सर उन बच्चों के लिए उपयोग किया जाता है जिन्हें वेसिकुरेटेरल रिफ्लक्स (vesicoureteral reflux) है।
     
  • डिजिटल रेक्टल परीक्षण (पुरुषों के लिए) (Digital rectal exam)
    इस परीक्षण में आपके डॉक्टर प्रोस्टेट की सूजन की जांच करने के लिए आपके गुदा में उंगली डालकर जाँच करते हैं।
     
  • डाइमरकैपसोसकसीनिक एसिड (डीएमएसए) सिनटिग्राफी (Dimercaptosuccinic acid scintigraphy)
    यह एक प्रकार का इमेजिंग टेस्ट है जो किडनी के संक्रमण और नुक्सान को बेहतर देखने के लिए रेडियोधर्मी सामग्री का उपयोग करता है।

गुर्दे का संक्रमण का इलाज - Kidney Infection Treatment in Hindi

गुर्दे के संक्रमण का इलाज कैसे होता है?

किडनी इन्फेक्शन के निम्नलिखित उपचार हैं -

  • एंटीबायोटिक्स
    गुर्दे के संक्रमण के लिए एंटीबायोटिक्स सबसे पहला उपचार होता है। दवा का प्रकार और उपयोग आपके स्वास्थ्य और आपके मूत्र परीक्षण में पाए गए बैक्टीरिया के प्रकार पर निर्भर करता है।

    आमतौर पर, गुर्दे के संक्रमण के लक्षण कुछ दिनों के उपचार के भीतर ठीक होने लगते हैं। लेकिन आपको एक सप्ताह या उससे अधिक समय तक एंटीबायोटिक दवाओं का उपयोग करने की आवश्यकता हो सकती है। अपने डॉक्टर द्वारा बताई गई पूरी अवधि के लिए एंटीबायोटिक दवाइयां लें।
     
  • गंभीर मामलों में अस्पताल में भर्ती
    यदि आपके गुर्दे का संक्रमण गंभीर है, तो आपके डॉक्टर आपको अस्पताल में भर्ती कर सकते हैं। अस्पताल में उपचार के लिए आपको एंटीबायोटिक्स और तरल पदार्थ दिए जा सकते हैं। आम तौर से ये आपको आपकी बांह में एक शिरा के माध्यम से दिए जाते हैं। 
     
  • बार-बार होने वाले किडनी इन्फेक्शन के लिए उपचार
    एक अंतर्निहित चिकित्सा समस्या से आपको गुर्दे का संक्रमण बार-बार हो सकता है। ऐसी स्थिति में, आपको जाँच के लिए एक किडनी विशेषज्ञ या मूत्र सर्जन (मूत्र रोग विशेषज्ञ) के पास भेजा जा सकता है। संरचनात्मक असामान्यता के उपचार लिए आपको सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है।

गुर्दे का संक्रमण की जटिलताएं - Kidney Infection Complications in Hindi

गुर्दे के संक्रमण से क्या जटिलताएं हो सकती हैं?

यदि उपचार न किया जाए, तो गर्दे के संक्रमण से संभावित गंभीर जटिलताएं हो सकती हैं, जैसे -

  1. किडनी की स्थायी क्षति - किडनी की स्थायी क्षति से गुर्दे की बीमारी हो सकती है।
  2. रक्त विषाक्तता (सेप्टीसीमिया: Septicemia) - आपके गुर्दे आपके खून से गंदगी को हटाकर खून को शरीर के बाकी हिस्सों में संचारित करते हैं। यदि आपको गुर्दे का संक्रमण है, तो बैक्टीरिया फैल सकता है क्योंकि गुर्दे रक्त परिसंचरण करते हैं।
  3. गर्भावस्था के दौरान होने वाली समस्याएं - जिन महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान गुर्दे का संक्रमण होता है, वह कम वज़न के बच्चों को जन्म देने के जोखिम मे होती हैं।
Dr. Vijay Kher

Dr. Vijay Kher

गुर्दे की कार्यवाही और रोगों का विज्ञान

Dr. Shyam Bihari Bansal

Dr. Shyam Bihari Bansal

गुर्दे की कार्यवाही और रोगों का विज्ञान

Dr. Pranaw Kumar Jha

Dr. Pranaw Kumar Jha

गुर्दे की कार्यवाही और रोगों का विज्ञान

गुर्दे का संक्रमण की दवा - Medicines for Kidney Infection in Hindi

गुर्दे का संक्रमण के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

Medicine NamePack SizePrice (Rs.)
Rite O CefRite O Cef 100 Mg Tablet60
ExtacefExtacef 200 Mg Tablet Dt68
CeftasCeftas 100 Mg Suspension53
MiliximMilixim 100 Mg Tablet47
ZifiZIFI 400MG TABLET 5S0
Rite O Cef CvRite O Cef Cv 200 Mg/125 Mg Tablet216
Gramocef CvGramocef Cv 200 Mg/125 Mg Tablet236
Taxim OTaxim-O 200 Tablet84
Ritolide 250 Mg TabletRitolide 250 Mg Tablet168
PhexinPhexin 125 Mg Dry Syrup76
SporidexSporidex 100 Mg Drop46
RevobactoRevobacto 200 Mg/200 Mg Tablet156
PidPid 200 Mg Tablet72
TraxofTraxof 100 Mg/100 Mg Tablet Dt52
Qucef (Dr Cure)Qucef 200 Mg Tablet Dt93
Vicocef OVicocef O Tablet159
Lotepred TLotepred T Eye Drop122
QuixQuix 1000 Mg Injection51
Vilcocef OVilcocef O Tablet79
LotetobLotetob 0.3/0.5% Eye Drops76
Quix CdQuix Cd 100 Mg Tablet43
Zeefix OxZeefix Ox Tablet96
TobaflamTobaflam Eye Drop129
RaximRaxim 250 Mg Tablet230
R CefiR Cefi 100 Mg Tablet100

क्या आप या आपके परिवार में किसी को यह बीमारी है? सर्वेक्षण करें और दूसरों की सहायता करें

References

  1. National Institute of Diabetes and Digestive and Kidney Diseases [internet]: US Department of Health and Human Services; Kidney Infection (Pyelonephritis)
  2. Science Direct (Elsevier) [Internet]; Prevention and treatment of complicated urinary tract infection Volume 27, Issue 4, December 2016, Pages 186-189
  3. Leelavathi Venkatesh et al. Acute Pyelonephritis - Correlation of Clinical Parameter with Radiological Imaging Abnormalities. J Clin Diagn Res. 2017 Jun; 11(6): TC15–TC18. PMID: 28764263
  4. Petra Lüthje, Annelie Brauner. Novel Strategies in the Prevention and Treatment of Urinary Tract Infections. Pathogens. 2016 Mar; 5(1): 13. PMID: 26828523
  5. Kunin CM. Does kidney infection cause renal failure? Kunin CM.. Annu Rev Med. 1985;36:165-76. PMID: 3888049
और पढ़ें ...