myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

पेट में दर्द की परेशानी एक बहुत आम समस्या है जिसमे कई तरह के लक्षण और असहजता देखने को मिलती है। पेट में दर्द हल्के से गंभीर, ऐंठन, गैस, मतली, दस्त, सूजन और उल्टी का अनुभव सभी को होता है। पेट में दर्द के कुछ सामान्य कारण जैसे अपच, गैस, सीने में जलन, कब्ज आदि शामिल हैं। हालांकि पेट में दर्द अधिक गंभीर समस्याओं के कारण भी हो सकता है जैसे अल्सर, हर्निया, गुर्दे में पथरी, मूत्र संक्रमण और अपेंडिसाइटिस

जब हमारे पेट में दर्द होता है तो किसी भी चीज़ पर ध्यान केंद्रित करना मुश्किल हो जाता है। कुछ प्राकृतिक और सरल घरेलू उपायों से आपको जल्द राहत मिल सकती है। ये घरेलु उपाय विशेष रूप से अपच, गैस, सूजन आदि पेट की समस्या के लिए फायदेमंद हैं। (और पढ़ें - पेट दर्द के लक्षण, कारण, उपचार)

तो आईये आज हम आपको बताते हैं पेट के दर्द से निपटने के लिए कुछ घरेलू उपाए जिनके इस्तेमाल से आप कभी पेट दर्द की शिकायत नहीं करेंगे।

  1. पेट दर्द का घरेलू उपाय है अदरक - Pet dard ka gharelu upay hai ginger in Hindi
  2. पेट दर्द ठीक करने का घरेलू उपाय है सौफ - Pet dard thik karne ka gharelu upay hai fennel in Hindi
  3. पेट दर्द रोकने का तरीका है हींग - Pet dard rokne ka tarika hai hing in Hindi
  4. पेट दर्द कम करने के उपाय करें कैमोमाइल से - Pet dard kam karne ka nuskha hai chamomile in Hindi
  5. पेट के दर्द के लिए घरेलू नुस्खा है बेकिंग सोडा - Stomach pain ke liye gharelu upay hai baking soda in Hindi
  6. पेट दर्द से बचने के तरीके में करें पुदीना का उपयोग - Stomach pain ka desi nuskha hai peppermint in Hindi
  7. पेट दर्द से तुरंत राहत दिलाता है सेब का सिरका - Pet dard se turant rahat dilata hai apple vinegar in Hindi
  8. पेट के दर्द का घरेलु नुस्खा है दही - Pet dard dur karne ka gharelu tarika hai dahi in Hindi
  9. पेट दर्द से आराम दिलता है चावल का पानी - Pet dard se aram dilata hai rice water in Hindi
  10. पेट दर्द दूर करने का घरेलू उपाय है गर्म बोतल - Pet dard dur kare warm compress se in Hindi

अदरक में एंटीऑक्सिडेंट और सूजनरोधी गुण पाए जाते हैं जो पाचन प्रक्रिया को नियंत्रित करने में मदद करते हैं। अदरक पेट के दर्द को दूर करता है। इसके अलावा अदरक मुक्त कणों के उत्पादन को कम करता है और पाचन क्रिया को बढ़ाने में भी मदद करता है। इसके साथ ही अदरक पेट में मौजूद अम्ल को भी कम रखता है।

अदरक का इस्तेमाल कैसे करें –

  1. एक अदरक को सबसे पहले बीच में से काट लें।
  2. अब उसे छील लें और पतले आकार में उसको काटें।
  3. अब एक कप पानी को उबालें और उसमे पतले आकार में काटे गए अदरक को डाल दें।
  4. अदरक को तीन मिनट तक उबलने दें।
  5. अब तीन मिनट बाद मिश्रण को छान लें और उसमे हल्का शहद मिला दें।
  6. धीरे धीरे इस मिश्रण को पियें।
  7. पेट के दर्द को कम करने के लिए और पाचन क्रिया को सुधारने के लिए अदरक के मिश्रण को पूरे दिन में दो से तीन बार ज़रूर पियें। (और पढ़ें - अदरक के फायदे और नुकसान)

अपच के कारण होने वाले दर्द के लिए सौंफ़ के बीज आपको जल्दी राहत देने में मदद करेंगे। क्योंकि सौफ में पोषक तत्व, मूत्रवर्धक तत्व, दर्द को कम करने और रोगाणुरोधी के गुण पाए जाते हैं। सौफ आपको अन्य लक्षणों से भी राहत देने में मदद करता है जैसे गैस, सूजन आदि। (और पढ़ें - पेट में गैस दूर करने के घरेलू उपाय)

सौफ का इस्तेमाल कैसे करें –

  1. एक कप गर्म पानी में एक चम्मच पिसे हुए सौफ के बीज को डाल दें। अब आठ से 10 मिनट के लिए इसे उबलते रहने दें। फिर बर्तन को आंच पर से हटा दें। अब इसे ठंडा होने के लिए रख दें। ठंडा होने के बाद मिश्रण को छान लें। इस मिश्रण में शहद डालें और धीरे धीरे इसे पियें।
  2. इसके अलावा आप सौफ के बीज को खाना खाने के बाद कच्चा भी चबा सकते हैं। पेट के दर्द को कम करने के लिए इसे पूरे दिन में तीन बारे ज़रूर इस्तेमाल करें। (और पढ़ें - सौंफ के फायदे और नुकसान)

असाफेटिडा जिसे हिंग के रूप में भी जाना जाता है। इसमें एंटीस्पास्मोडिक और एंटिफलाटुलेंट के गुण पाए जाते हैं जिसके सेवन से पेट में दर्द, गैस या अपच का इलाज करने में सहायता मिलती है। (और पढ़ें - पेट फूलने की समस्या से अगर छुटकारा चाहते हैं तो जरूर करें ये उपाय)

हींग का इस्तेमाल कैसे करें –

  1. एक ग्लास गुनगुने पानी में हींग की एक चुटकी डालें और अच्छी तरह से इस मिश्रण को मिला लें। इस मिश्रण का इस्तेमाल पूरे दिन में दो या तीन बार ज़रूर करें। आप इसमें सेंधा नमक भी डालकर पी सकते हैं। यह उपाए आपके पेट दर्द और गैस के लिए बहुत फायदेमंद है।
  2. इसके अलावा एक कप गर्म पानी में एक चम्मच हींग डालें। अब उस पानी में एक कपडे को भिगोएं और अपने पेट पर इस भीगे हुए कपडे को 10 से 15 मिनट के लिए लगाकर रखें। यह आपके पेट के दर्द को कम करेगा और हर प्रकार की समस्या से राहत देगा। इस प्रक्रिया को पूरे दिन में ज़्यादा से ज़्यादा करने की कोशिश करें। (और पढ़ें - हींग के फायदे और नुकसान)

कैमोमाइल पेट के दर्द को शांत करता है और पाचन तंत्र में मांसपेशियों को आराम देता है। अगर आपके पेट में दर्द अपच के कारण होता है तो कैमोमाइल आपके लिए बहुत उपयोगी है। इसके अलावा इसमें सूजनरोधी और एंटीऑक्सिडेंट के गुण पाए जाते हैं। (और पढ़ें - ये 5 स्नैक्स करें पेट फूलने की समस्या का तुरंत समाधान)

कैमोमाइल का इस्तेमाल कैसे करें –

  1. सूखे कैमोमाइल का एक चम्मच एक कप में मिलाएं।
  2. अब इस बर्तन को उबलते समय ढक दें।
  3. 15 मिनट के लिए के लिए इस मिश्रण को उबलते रहने दें।
  4. 15 मिनट के बाद मिश्रण को छान लें और फिर इसमें नींबू का जूस और शहद अपने स्वाद अनुसार मिला लें।
  5. इस मिश्रण को आराम से आनंद लेकर पियें।
  6. पूरे दिन में मिश्रण को दो या तीन बार ज़रूर पियें। (और पढ़ें - कैमोमाइल चाय के फायदे और नुकसान)

बेकिंग सोडा शरीर में PH संतुलन को बनाये रखता है और संक्रमण से लड़ने में मदद करता है। इस प्रकार आपके पेट में दर्द और गैस से राहत मिलती है। नींबू विटामिन सी का एक अच्छा स्रोत है जिसमे एंटीऑक्सीडेंट के गुण पाए जाते हैं जो शरीर से मुक्त कणों को दूर करते हैं।

(और पढ़ें - बेकिंग सोडा के फायदे और नुकसान)

बेकिंग सोडा और नींबू का इस्तेमाल कैसे करें –

  1. गर्म पानी में एक चम्मच बेकिंग सोडा, एक चम्मच नींबू का जूस और एक या आधा चम्मच नमक को अच्छी तरह से मिला लें। अब इस मिश्रण को पी जाएँ।
  2. इस मिश्रण का पूरे दिन में दो या तीन बार ज़रूर इस्तेमाल करें। (और पढ़ें - नींबू के फायदे और नुकसान)

नोट - यदि आपको उच्च रक्तचाप है या आप कम सोडियम आहार पर रहते हैं तो इस उपाय का उपयोग न करें। 

पुदीना पेट के दर्द को कम करता है। पुदीना में एंटीस्पास्मोडिक का प्रभाव आपके पेट में होने वाले गैस के दर्द को कम करने में फायदेमंद साबित होता है। इसके साथ ही पुदीना पाचन क्रिया को भी बेहतर बनाता है।

पुदीना का इस्तेमाल कैसे करें –

  1. दो से तीन कप पुदीने की चाय लेने से आपके पेट का दर्द कम करने में मदद मिलेगी। पुदीने की चाय बनाने के लिए एक कप गरम पानी में सूखे पुदीने को डालें और 10 मिनट के लिए उबलने को रख दें। अब इस मिश्रण को छान लें और उसमे कुछ मात्रा में शहद को मिलाएं। अब इस मिश्रण को आराम से पियें।
  2. इसके अलावा एक अच्छा परिणाम पाने के लिए आप रोज़ पुदीने के पत्तों को भी चबा सकते हैं। (और पढ़ें - पुदीने के फायदे और नुकसान)

सेब का सिरका आपके पेट में बनने वाली गैस को रोकता है साथ ही दर्द को भी कम करता है। सेब के सिरके में मौजूद एंटीबायोटिक गुण आपके पेट को हल्का रखते है और पाचन में भी सुधार करते हैं।

सेब का सिरका का इस्तेमाल कैसे करें –

  1. एक कप गर्म पानी में सेब का सिरका डालें।
  2. अब उसमे शहद को भी मिक्स करें।
  3. अब इस मिश्रण को हर एक या आधे घंटे बाद तब तक पिए जब तक पेट का दर्द चला न जाएँ। (और पढ़ें - सेब के सिरके के फायदे और नुकसान)

नोट: यदि आपके पास सेब साइडर सिरका नहीं है, तो आप रोज़ाना इस्तेमाल में आने वाले सिरके का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

दही आपके पेट के समग्र स्वास्थ्य के लिए अच्छा है। दही के अच्छे बैक्टीरिया आपके पाचन में सुधार करते हैं साथ ही अपच के कारण होने वाले दर्द को भी कम करते हैं।

दही का इस्तेमाल कैसे करें –

  1. एक कप पानी में दही के दो बड़े चम्मच और चुटकीभर नमक को डालें।
  2. अब इसी मिश्रण में तीन चम्मच धनिया के पत्तों का जूस मिलाएं।
  3. अंत में, इलायची पाउडर का आधा चम्मच भी इस मिश्रण में अच्छी तरह से मिलाकर पी लें।
  4. खाना खाने के एक घंटे बाद इस मिश्रण को ज़रूर पियें।
  5. आप इसके अलावा पेट के दर्द को कम करने के लिए खाली दही भी खा सकते हैं। (और पढ़ें - स्वास्थ्य के लिए दही के फायदे)

अगर आपके पेट में जब भी दर्द हो हमेशा नरम भोजन खाने का प्रयास करें। चावल का पानी एक नरम भोजन है जो आपके पेट के दर्द को शांत करता है। यह पेट की सूजन और गैस को भी दूर करता है।

चावलों का पानी का इस्तेमाल कैसे करें -

  1. आधा कप चावलों को अच्छी तरह से धो लें।
  2. एक बर्तन में छह कप पानी को उबालें। फिर उसमे चावलों को आधा कप चावलों को डाल दें। बिना ढके चावलों को उबालें।
  3. जब चावल नरम हो जाये तो चावलों को पानी समेत छान लें और इसे ठंडा होने के लिए रख दें।
  4. अब इस पानी में शहद को मिलाएं।
  5. फिर गुनगुने चावल के पानी को आराम आराम से पियें।
  6. पूरे दिन में इस मिश्रण को दो बार ज़रूर पियें।

आप चावलों को दही के साथ भी एक नरम भोजन की तरह खा सकते हैं। (और पढ़ें - कांजी पानी यानि चावल के पानी के फायदे)

पेट के दर्द को शांत करने के लिए गर्म सिकाई सबसे अच्छा तरीका है। इससे आपका परिसंचरण बढ़ता है और पाचन प्रक्रिया भी सुधरती है।

गर्म बोतल का इस्तेमाल कैसे करें -

  1. गर्म बोतल या हीटिंग पैड को पांच से दस मिनट के लिए अपने पेट पर रखें। पेट के दर्द को कम करने के लिए इस प्रक्रिया का इस्तेमाल पूरे दिन में कई बार करने की कोशिश करें।
  2. इसके अलावा 15 से 20 मिनट के लिए गर्म पानी से भी नहाने की कोशिश करें। इससे पेट के दर्द से आपको राहत मिलेगी।

अगर आपके पेट के दर्द की परेशानी तीन दिन में खत्म नहीं हो रही है साथ ही साथ बुखार या सिर दर्द के भी लक्षण दिख रहे हैं तो जल्द से जल्द अपने डॉक्टर को दिखाने की कोशिश करें। (और पढ़ें – बुखार के घरेलू उपचार)

और पढ़ें ...

References

  1. MedlinePlus Medical Encyclopedia: US National Library of Medicine; Gas
  2. MedlinePlus Medical Encyclopedia: US National Library of Medicine; Abdominal pain
  3. Better health channel. Department of Health and Human Services [internet]. State government of Victoria; Water – a vital nutrient
  4. Better health channel. Department of Health and Human Services [internet]. State government of Victoria; Abdominal pain in adults
  5. Better health channel. Department of Health and Human Services [internet]. State government of Victoria; Abdominal pain in adults
  6. A Mooventhan, L Nivethitha. Scientific Evidence-Based Effects of Hydrotherapy on Various Systems of the Body . N Am J Med Sci. 2014 May; 6(5): 199–209. PMID: 24926444
  7. Attilio Giacosa et al. The Effect of Ginger (Zingiber officinalis) and Artichoke (Cynara cardunculus) Extract Supplementation on Functional Dyspepsia: A Randomised, Double-Blind, and Placebo-Controlled Clinical Trial . Evid Based Complement Alternat Med. 2015; 2015: 915087. PMID: 25954317
  8. National Center for Complementary and Integrative Health [Internet] Bethesda, Maryland; Peppermint Oil
  9. Ranjan Bairwa, R. S. Sodha, B. S. Rajawat. Trachyspermum ammi . Pharmacogn Rev. 2012 Jan-Jun; 6(11): 56–60. PMID: 22654405
  10. Mohammad Hossein Boskabady, Saeed Alitaneh, Azam Alavinezhad. Carum copticum L.: A Herbal Medicine with Various Pharmacological Effects . Biomed Res Int. 2014; 2014: 569087. PMID: 25089273
  11. Arshad H. Rahmani et al. Aloe vera: Potential candidate in health management via modulation of biological activities . Pharmacogn Rev. 2015 Jul-Dec; 9(18): 120–126. PMID: 26392709
  12. Sara A. Quandt et al. Home Remedy Use Among African American and White Older Adults . J Natl Med Assoc. 2015 Jun; 107(2): 121–129. PMID: 26543255
  13. National Center for Complementary and Integrative Health [Internet] Bethesda, Maryland; Probiotics
  14. Maria Kechagia et al. Health Benefits of Probiotics: A Review. ISRN Nutr. 2013; 2013: 481651. PMID: 24959545
  15. Elizabeth C. Verna, Susan Lucak. Use of probiotics in gastrointestinal disorders: what to recommend? Therap Adv Gastroenterol. 2010 Sep; 3(5): 307–319. PMID: 21180611
  16. Diego Francisco Cortés-Rojas, Claudia Regina Fernandes de Souza, Wanderley Pereira Oliveira. Clove (Syzygium aromaticum): a precious spice. Asian Pac J Trop Biomed. 2014 Feb; 4(2): 90–96. PMID: 25182278