मस्कुलर डिस्ट्रॉफी - Muscular Dystrophy in Hindi

Dr. Ayush PandeyMBBS,PG Diploma

October 31, 2018

September 22, 2021

मस्कुलर डिस्ट्रॉफी
मस्कुलर डिस्ट्रॉफी

मांसपेशीय दुर्विकास (मस्कुलर डिस्ट्रॉफी) होना क्या है?

मांसपेशीय दुर्विकास या मस्कुलर डिस्ट्रॉफी मांसपेशियों की एक ऐसी बीमारी है, जिसके कारण समय के साथ व्यक्ति की मासपेशियां कमजोर व पतली होने लगती हैं। इस बीमारी में जीन में असामान्य बदलाव के कारण ऐसे प्रोटीन बनने कम हो जाते हैं जो मांसपेशियों के स्वास्थ्य के लिए आवश्यक होते हैं। इसके कारण व्यक्ति के लिए चलना धीरे-धीरे मुश्किल हो जाता है और कई मामलों में मस्कुलर डिस्ट्रॉफी से शरीर के अन्य अंगों में भी समस्याएं होने लगती हैं।

(और पढ़ें - मांसपेशियों की कमजोरी के कारण)

मांसपेशीय दुर्विकास (मस्कुलर डिस्ट्रॉफी) के लक्षण क्या हैं?

मस्कुलर डिस्ट्रॉफी के शुरूआती लक्षण होते हैं डगमगाकर चलना, बार-बार गिरना, मांसपेशियों में दर्द व अकड़न, विकास में देरी, दौड़ने या भागने में दिक्कत, बैठने या खड़े होने में दिक्कत और पंजों पर चलना। समय के साथ ये समस्या बढ़ती जाती है और इससे अन्य लक्षण भी होने लगते हैं, जैसे चल न पाना, गतिविधियां न कर पाना और सांस लेना बहुत मुश्किल होना आदि।

(और पढ़ें - सांस फूलने के उपाय)

मांसपेशीय दुर्विकास (मस्कुलर डिस्ट्रॉफी) क्यों होता है?

मांसपेशियों को खराब होने से रोकने के लिए कई जींस प्रोटीन बनाती हैं और मस्कुलर डिस्ट्रॉफी की समस्या तब होती है जब इनमें से किसी भी एक जींस में कुछ खराबी होती है। मस्कुलर डिस्ट्रॉफी की समस्या कई प्रकार की होती है, लेकिन हर प्रकार का कारण एक ही होता है - उससे संबंधित जींस में खराबी होना। हालांकि, कभी-कभी मां के शरीर में मौजूद अंडों या भ्रूण में अपने आप कोई खराबी आ जाती है और बच्चे को मांसपेशीय दुर्विकास हो जाता है। अभी तक इस बात का पता नहीं लग पाया है कि ये बदलाव या खराबी क्यों होती हैं, लेकिन इस विषय पर अध्ययन चल रहा है।

(और पढ़ें - मांसपेशियों में दर्द के घरेलू उपाय)

मांसपेशीय दुर्विकास (मस्कुलर डिस्ट्रॉफी) का इलाज कैसे होता है?

फिलहाल मस्कुलर डिस्ट्रॉफी का कोई इलाज उपलब्ध नहीं है, लेकिन इससे होने वाली समस्याओं और लक्षणों को कम करने के लिए कुछ उपाय किए जा सकते हैं। इसके लिए अलग-अलग प्रकार की थेरेपी लाभदायक हो सकती हैं, जैसे फिजिकल थेरेपी, ऑक्यूपेशनल थेरेपी, स्पीच थेरेपी आदि। मांपेशियों के स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए कम तीव्रता वाले कर्टिकॉस्टेरॉइड भी दिए जा सकते हैं। हड्डियों की समस्याओं के लिए कभी-कभी सर्जरी की जाती है ताकि व्यक्ति को रोजमर्रा के कार्य करने में समस्याएं न हों। मस्कुलर डिस्ट्रॉफी के कारण होने वाली दिल की समस्याओं के लिए रोगी को पेसमेकर की आवश्यकता हो सकती है।

(और पढ़ें - मांसपेशियों की कमजोरी दूर करने के उपाय)



संदर्भ

  1. National Health Service [Internet]. UK; Muscular dystrophy.
  2. MedlinePlus Medical Encyclopedia: US National Library of Medicine; Muscular Dystrophy.
  3. Center for Disease Control and Prevention [internet], Atlanta (GA): US Department of Health and Human Services; Muscular Dystrophy.
  4. National Institute of Neurological Disorders and Stroke [internet]. US Department of Health and Human Services; Muscular Dystrophy Information Page.
  5. Better health channel. Department of Health and Human Services [internet]. State government of Victoria; Muscular dystrophy.

मस्कुलर डिस्ट्रॉफी के डॉक्टर

Dr. Hemanth Kumar Dr. Hemanth Kumar न्यूरोलॉजी
3 वर्षों का अनुभव
Dr. Deepak Chandra Prakash Dr. Deepak Chandra Prakash न्यूरोलॉजी
10 वर्षों का अनुभव
Dr Madan Mohan Gupta Dr Madan Mohan Gupta न्यूरोलॉजी
7 वर्षों का अनुभव
Dr. Virender K Sheorain Dr. Virender K Sheorain न्यूरोलॉजी
19 वर्षों का अनुभव
डॉक्टर से सलाह लें

मस्कुलर डिस्ट्रॉफी की दवा - Medicines for Muscular Dystrophy in Hindi

मस्कुलर डिस्ट्रॉफी के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

मस्कुलर डिस्ट्रॉफी की ओटीसी दवा - OTC Medicines for Muscular Dystrophy in Hindi

मस्कुलर डिस्ट्रॉफी के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ