पैनिक अटैक और विकार - Panic Attack and Disorder in Hindi

Dr. Ayush PandeyMBBS

July 11, 2017

April 02, 2021

पैनिक अटैक और विकार
पैनिक अटैक और विकार

पैनिक अटैक और विकार क्या है ?

पैनिक अटैक एक अचानक डर लगने की भावना होती है जो गंभीर शारीरिक प्रतिक्रियाओं को उत्तेजित करती है जबकि आपके आसपास कोई वास्तविक खतरा या स्पष्ट कारण नहीं होता है। पैनिक अटैक बहुत डराने वाले हो सकते हैं। जब पैनिक अटैक होते हैं, तो आप यह सोच सकते हैं कि आप नियंत्रण खो रहे हैं, आपको दिल का दौरा पड़ रहा है या आप मरने वाले हैं।

पैनिक अटैक कहीं भी और किसी भी वक्त हो सकता है। आप भयभीत और घबराया हुआ महसूस कर सकते हैं, हालांकि आप किसी भी खतरे में नहीं होते हैं।

बहुत से लोगों को उनके जीवनकाल में सिर्फ एक या दो बार पैनिक अटैक होते हैं और तनावपूर्ण स्थिति समाप्त होने पर समस्या दूर हो जाती है। लेकिन अगर आपको बार बार पैनिक अटैक हो रहे हैं और आप ज़्यादातर समय भयभीत रहते हैं, तो आपको पैनिक विकार नामक एक स्थिति हो सकती है।

यद्यपि पैनिक अटैक जानलेवा नहीं होते हैं, लेकिन वे आपको भयभीत कर सकते हैं और आपके जीवन की गुणवत्ता को प्रभावित कर सकते हैं। इसका उपचार बहुत प्रभावी हो सकता है।

पैनिक अटैक और विकार के प्रकार - Types of Panic Attack and Disorder in Hindi

पैनिक अटैक के कितने प्रकार होते हैं ?

पैनिक अटैक के निम्नलिखित तीन प्रकार होते हैं -

अप्रत्याशित पैनिक अटैक (Unexpected panic attack) - अप्रत्याशित पैनिक अटैक ऐसे पैनिक अटैक होते हैं जो बिना किसी चेतावनी या संकेत के होते हैं। यह पैनिक अटैक किसी परिस्थिति से सम्बंधित नहीं होते हैं।

स्थितिगत पैनिक अटैक (Situational panic attack) - स्थितिगत पैनिक अटैक ऐसे पैनिक अटैक होते हैं जो किसी स्थिति या किसी वजह से होते हैं। जैसे - सार्वजनिक रूप से बोलने या बोलने के विचार से पैनिक अटैक होना। 

स्थितिगत संवेदनशील पैनिक अटैक (Situationally Predisposed Panic Attack) - स्थितिगत संवेदनशील पैनिक अटैक ऐसे पैनिक अटैक होते हैं जो किसी परिस्थिति से सम्बंधित होते हैं, लेकिन ऐसा ज़रूरी नहीं होता कि उस स्थिति के तुरंत बाद आपको पैनिक अटैक हो। इस तरह के पैनिक अटैक किसी स्थिति के संपर्क में आने के आधे घंटे बाद तक शुरू हो सकते हैं।

पैनिक अटैक और विकार के लक्षण - Panic Attack and Disorder Symptoms in Hindi

पैनिक अटैक और विकार के लक्षण क्या हैं ?

पैनिक अटैक आमतौर पर किसी चेतावनी के बिना ही अचानक शुरू होते हैं। इसके बाद आप थकान महसूस कर सकते हैं। पैनिक अटैक के निम्नलिखित लक्षण हो सकते हैं -

  1. आने वाली प्रलय या खतरे की भावना।
  2. नियंत्रण खोने का मृत्यु का डर।
  3. हृदय गति का तेज़ होना।
  4. पसीना आना।
  5. कांपना।
  6. सांस फूलना
  7. ठंड लगना।
  8. हॉट फ्लैशेस (Hot Flashes - चेहरे, गर्दन, कान और धड़ में गर्माहट महसूस होना)।
  9. मतली (जी मिचलाना)।
  10. पेट में ऐंठन।
  11. छाती में दर्द
  12. सिर दर्द
  13. चक्कर आना
  14. बेहोशी
  15. गले में खिंचाव होना।
  16. निगलने में परेशानी।

पैनिक अटैक की सबसे बुरी बात है कि आप इसी बात से भयभीत रहते हैं कि आपको फिर से पैनिक अटैक होगा। आपको पैनिक अटैक से इतना डर लगता है कि आप उन स्थितियों से बचते हैं जिससे आपको पैनिक अटैक हो सकते हैं। आप अपने घर से बाहर जाने में असमर्थ महसूस कर सकते हैं क्योंकि आपको कोई जगह सुरक्षित नहीं लगती।

पैनिक अटैक और विकार के कारण और जोखिम कारक - Panic Attack and Disorder Causes and Risk Factors in Hindi

पैनिक अटैक और विकार के क्या कारण होते हैं ?

अभी तक यह ज्ञात नहीं हो पाया है कि पैनिक अटैक के क्या कारण होते हैं, लेकिन निम्नलिखित कारक इसकी वजह हो सकते हैं -

  1. अनुवांशिकता।
  2. अधिक तनाव।
  3. नकारात्मक भावनाओं के प्रति अधिक संवेदनशील स्वभाव।
  4. मस्तिष्क के कार्य के हिस्सों में कुछ बदलाव।

पैनिक अटैक अचानक और बिना किसी चेतावनी के शुरू हो सकता है, लेकिन समय के साथ, वे आमतौर पर कुछ स्थितियों से होते हैं।

पैनिक अटैक और विकार के जोखिम कारक क्या हैं ?

पैनिक अटैक के लक्षण अक्सर किशोरावस्था या शुरुआती वयस्कता में शुरू होते हैं और पुरुषों की तुलना में महिलाओं को अधिक प्रभावित करते हैं।

निम्नलिखित कारक पैनिक अटैक के विकास के जोखिम को बढ़ा सकते हैं -

  1. पैनिक अटैक का एक पारिवारिक इतिहास।
  2. अत्यधिक तनाव, जैसे किसी प्रिय व्यक्ति की मृत्यु या गंभीर बीमारी।
  3. एक दर्दनाक घटना, जैसे कि यौन उत्पीड़न या गंभीर दुर्घटना।
  4. जीवन में प्रमुख बदलाव, जैसे कि तलाक या बच्चा होना।
  5. धूम्रपान या अत्यधिक कैफीन का सेवन।
  6. बचपन में शारीरिक या यौन शोषण का इतिहास।

पैनिक अटैक और विकार से बचाव - Prevention of Panic Attack and Disorder in Hindi

पैनिक अटैक और विकार का बचाव कैसे होता है ?

पैनिक अटैक से बचने का कोई निश्चित तरीका नहीं है। हालांकि, निम्नलिखित तरीके इसके जोखिम को कम कर सकते हैं -

  1. पैनिक अटैक के लिए जितनी जल्दी हो सके इलाज लें ताकि यह और ज़्यादा बढ़े नहीं।
  2. पैनिक अटैक को और ज़्यादा बढ़ने से रोकने के लिए उपचार न छोड़ें।
  3. चिंता से बचने के लिए नियमित शारीरिक गतिविधियां करें।

पैनिक अटैक और विकार का परीक्षण - Diagnosis of Panic Attack and Disorder in Hindi

पैनिक अटैक और विकार का निदान कैसे होता है ?

यदि आप पैनिक अटैक के लक्षण अनुभव करते हैं, तो आपको आपातकालीन चिकित्सा लेनी चाहिए। पहली बार पैनिक अटैक का अनुभव करने पर लोगों को ऐसा लगता है कि उन्हें दिल का दौरा पड़ रहा है।

आपातकालीन विभाग में, चिकित्सक आपके कई परीक्षण करेंगे यह देखने के लिए कि कहीं आपके लक्षण दिल के दौरे के कारण तो नहीं हैं। वे ऐसे अन्य लक्षणों को देखने के लिए रक्त परीक्षण या इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम (ईसीजी) कर सकते हैं  जिससे ह्रदय की गतिविधियों का पता चल सके। अगर आपको कोई आपातकालीन चिकित्सा की आवश्यकता नहीं है, तो आपको आपके प्राथमिक देखभाल चिकित्सक के पास भेजा जाएगा।

आपके प्राथमिक देखभाल चिकित्सक आपका एक मानसिक स्वास्थ्य परीक्षण कर सकते हैं और आपसे आपके लक्षणों के बारे में पूछ सकते हैं।

पैनिक अटैक और विकार का इलाज - Panic Attack and Disorder Treatment in Hindi

पैनिक अटैक और विकार का उपचार कैसे होता है ?

पैनिक अटैक के उपचार का लक्ष्य होता है आपके लक्षणों को कम करना या ख़त्म करना। यह थेरेपी और कुछ मामलों में दवाओं के माध्यम से किया जाता है।

थेरेपी
थेरेपी में, आपको अपने विचारों और कार्यों को बदलना सिखाया जाता है ताकि आप अपने पैनिक अटैक को समझ सकें और अपने भय को प्रबंधित कर सकें।

दवाएं
पैनिक अटैक के इलाज के लिए इस्तेमाल होने वाली दवाओं में एंटीडिप्रेसन्ट दवाओं के एक वर्ग का इस्तेमाल किया जाता है। इस वर्ग की दवाएं हैं -

  1. फ्ल्युकसेटाइन (Fluoxetine)
  2. पैरोक्सेटाइन (Paroxetine)
  3. सेरट्रलाइन (Sertraline)

इन उपचारों के अतिरिक्त, अपने लक्षणों को कम करने के लिए आप घर में कुछ उपाय भी कर सकते हैं। जैसे -

  1. नियमित शेड्यूल बनाए रखना।
  2. नियमित आधार पर व्यायाम करना।
  3. पर्याप्त नींद लेना।
  4. कैफीन जैसे उत्तेजकों का उपयोग न करना।

पैनिक अटैक और विकार के जोखिम और जटिलताएं - Panic Attack and Disorder Risks & Complications in Hindi

पैनिक अटैक और विकार की जटिलताएं क्या होती हैं ?

अगर पैनिक अटैक को अनुपचारित छोड़ दिया जाए, तो परिणामस्वरूप इसकी गंभीर जटिलताएं हो सकती हैं जो आपके जीवन के लगभग हर क्षेत्र को प्रभावित करती हैं। आप फिर से पैनिक अटैक होने के डर से इतने प्रभावित हो सकते हैं कि आपके जीवन की गुणवत्ता खराब हो सकती है।

पैनिक अटैक की निम्नलिखित जटिलताएं हो सकती हैं -

  1. विशिष्ट डर (फोबिया) का विकास, जैसे ड्राइविंग या अपने घर छोड़ने का डर।
  2. सामाजिक स्थितियों से बचाव।
  3. काम या स्कूल में समस्याएं।
  4. डिप्रेशन
  5. आत्महत्या या आत्मघाती विचारों का अधिक जोखिम।
  6. शराब की लत या ड्रग्स लेना।
  7. आर्थिक समस्याएँ।


संदर्भ

  1. Healthdirect Australia. Panic disorder. Australian government: Department of Health
  2. MentalHealth.gov [Internet]: U.S. Department of Health & Human Services; Panic Disorder.
  3. Anxiety and Depression Asscociation of America. Panic Disorder. Silver Spring, Maryland; [Internet].
  4. Am Fam Physician. [Internet] American Academy of Family Physicians; Panic Disorder.
  5. MedlinePlus Medical Encyclopedia: US National Library of Medicine; Panic disorder.

पैनिक अटैक और विकार के डॉक्टर

Dr. Ankit Gupta Dr. Ankit Gupta मनोचिकित्सा
10 वर्षों का अनुभव
Dr. Anil Kumar Kumawat Dr. Anil Kumar Kumawat मनोचिकित्सा
5 वर्षों का अनुभव
Dr. Dharamdeep Singh Dr. Dharamdeep Singh मनोचिकित्सा
6 वर्षों का अनुभव
Dr. Samir Parikh Dr. Samir Parikh मनोचिकित्सा
24 वर्षों का अनुभव
डॉक्टर से सलाह लें

पैनिक अटैक और विकार की दवा - Medicines for Panic Attack and Disorder in Hindi

पैनिक अटैक और विकार के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ