myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

वैरिकोज वेन्स का मतलब ऐसी नसों से है जो असामान्य रूप से बढ़ने लगती हैं। यह नसें मुड़ी हुई, उभरी हुई व चौड़ी दिखती हैं और त्वचा के ऊपर से नीले रंग में दिखाई देती हैं। यह ज्यादातर पैरों या टांगों को प्रभावित करती हैं, क्योंकि सिर्फ पैरों या टांगों की नसों में रक्त प्रवाह बनाए रखने के लिए एक तरफा वाल्व होता है। यह वाल्व ऐसे टिश्यू या ऊतक हैं जो सिर्फ एक तरफ से ही खुलते हैं, इसीलिए इन्हें अंग्रेजी में 'वन वे वाल्व' कहते हैं।

टांगों की नसों में यह वाल्व सुनिश्चित करता है कि खून ऊपर की तरफ, हृदय की तरफ और गुरुत्वाकर्षण (ग्रेविटी) की विपरीत दिशा की ओर बहे। हालांकि, जब य​ह वाल्व अपने कार्य को सही से नहीं कर पाते हैं तो रक्त प्रवाह वापस नसों में बहने लगता है जिसके कारण नसों में दबाव बढ़ता है और इसमें चौड़ाई आने लगती है। लगातार इस दबाव के चलते वैरिकोज वेन्स की स्थिति विकसित हो जाती है और टांगों के कुछ हिस्सों में चकत्ते या धब्बे दिखाई दे सकते हैं।

टांगों में दो प्रकार का वीनस सिस्टम होता है, जिनमें से दोनों वैरिकोज का रूप ले सकते हैं :

सुपरफिशियल वेन्स : ये त्वचा के ठीक नीचे मौजूद होती हैं।

डीप वेन्स : ये नसें त्वचा में गहराई तक मौजूद होती हैं।

परंपरागत रूप से, वैरिकोज वेन्स का उपचार खुद की देखभाल करके किया जाता है, लेकिन प्रभावित नसों को हटाने के लिए कई मामलों में एब्लेशन थेरेपी की जाती है।

वैरिकोज नसों के हल्के से मध्यम मामलों के इलाज में होम्योपैथी उपचार सर्वोत्तम परिणाम देती है। ये दवाएं सूजन, दर्द और वैरिकोज को कम करने के लिए सौम्य और सुरक्षित तरीके से असरदार हैं। इसके अलावा यह वैरिकोज अल्सर के इलाज में मदद करती हैं।

वैरिकोज वेन्स के उपचार में इस्तेमाल होने वाली कुछ होम्योपैथिक दवाओं में एस्कुलस, अर्निका, आर्सेनिकम एल्बम, बेला इत्यादि शामिल हैं।

  1. वैरिकोज वेन्स के लिए होम्योपैथिक दवाएं - Varicose Veins ki homeopathic dawa aur upchar
  2. होम्योपैथी के अनुसार वैरिकोज वेन्स वाले रोगी के लिए आहार और जीवन शैली में बदलाव - Varicose Veins ke liye khanpan aur jeevan shaili me badlav
  3. वैरिकोज वेन्स के लिए होम्योपैथिक उपचार कितना प्रभावी है? - Varicose veins ki homeopathic medicine kitni effective hai
  4. वैरिकोज वेन्स के लिए होम्योपैथिक दवा के दुष्प्रभाव और जोखिम - Varicose veins ki homeopathic medicine ke nuksan
  5. वैरीकोज वेन्स के होम्योपैथिक उपचार से संबंधित टिप्स - Varicose veins ke homeopathic upchar se sambandhit tips

एस्कुलस हिप्पोकैस्टेनम
सामान्य नाम :
हॉर्स चेस्टनट
लक्षण : हार्स चेस्टनट के जरिए निम्नलिखित लक्षणों को ठीक किया जा सकता है :

भोजन के बाद, किसी भी तरह की गतिविधि करने से या लंबे समय तक खड़े रहने के दौरान, सुबह और दोपहर में यह लक्षण बदतर हो जाते हैं, जबकि ठंडी और खुली हवा में इनमें सुधार होता है।

अर्निका मोंटाना
सामान्य नाम :
लीपर्ड बेन
लक्षण : अर्निका मोंटाना चोट के लिए एक अच्छा उपाय है। इसका इस्तेमाल ब्लीडिंग डिसऑर्डर के इलाज के लिए किया जाता है। यह उपाय ऐसे वैरिकोज वेन्स के इलाज में मदद कर सकता है, जिसमें निम्नलिखित लक्षण दिखाई देते हैं :

  • पैरों में दर्द और पीड़ा
  • लेटने के दौरान गद्दा सख्त महसूस होना, भले वह मुलायम हो
  • टांगों का रंग काला और नीला होना
  • गठिया जो निचले पैरों में शुरू होती है और ऊपर की ओर बढ़ता है

यह सभी लक्षण नम और ठंडे वातावरण में, प्रभावित हिस्से को छूने पर और शराब का सेवन करने पर खराब हो जाते हैं। रोगी को अपने सिर को नीचा करके लेटने पर बेहतर महसूस होता है।

आर्सेनिकम एल्बम
सामान्य नाम :
आर्सेनियस एसिड, आर्सेनिक ट्राइऑक्साइड
लक्षण : यह तेज जलन, बेचैनी और जबरदस्त थकावट से जुड़े वैरिकोज वेन्स के लक्षणों के लिए एक अच्छा उपाय है। इस उपाय से जिन अन्य लक्षणों का भी इलाज किया जा सकता है वे निम्न हैं :

आधी रात के बाद, बरसात के मौसम में और ठंडे भोजन या ठंडे पेय पदार्थों का सेवन करने से यह लक्षण बिगड़ जाते हैं, जबकि गर्म वातावरण में और गर्म खानपान के बाद लक्षणों में सुधार देखा जा सकता है।

बेलाडोना
सामान्य नाम :
डेडली नाइटशेड
लक्षण : बेलाडोना वैरिकोज की उस स्थिति के लिए उपयोगी है, जिसमें अत्यधिक लालिमा, गर्मी और बहुत तेज सिरदर्द होता है। यह निम्नलिखित लक्षणों का इलाज करने में भी मदद करता है :

  • त्वचा पर लाल लकीरों के साथ जोड़ों में सूजन
  • लंगड़ाने के साथ पैरों में मरोड़
  • पैरों में चुभन वाला दर्द

यह लक्षण दोपहर, थोड़ी सी हलचल के बाद, प्रभावित हिस्से को छूने और प्रभावित हिस्से के बल लेटने के बाद खराब हो जाते हैं, जबकि सेमी इरेक्ट यानी अर्ध-स्तंभन स्थिति में बैठने पर यह बेहतर हो जाते हैं।

कैल्केरिया कार्बोनिका
सामान्य नाम :
कार्बोनेट ऑफ लाइम
लक्षण : कैलकेरिया कार्बोनिका वैरिकोज वेन्स के इलाज के लिए सबसे उपयुक्त उपचारों में से एक है। यह निम्नलिखित लक्षणों को प्रबंधित करने में भी सहायक है :

  • टांगों के जोड़ों में सूजन
  • घुटनों में ठंड महसूस होना व पिंडली में दर्द और ऐंठन
  • पैरों में कमजोरी
  • रात में पैरों में ठंडक और नमी का अहसास होना, मानो कुछ गीला कपड़ा पहना हो
  • पैरों से पसीना आना जो बदबूदार हो सकता है
  • मांसपेशियों में दर्द

यह लक्षण सीढ़ियों पर चढ़ने, नम मौसम में और खड़े होने पर बिगड़ जाते हैं, जबकि यह सभी शिकायतें दर्द वाले हिस्से के बल लेटने और शुष्क मौसम में रहने से बेहतर हो जाती हैं।

कार्बो वेजीटेबिलिस
सामान्य नाम :
वेजीटेबल चारकोल
लक्षण : यह उपाय खून बहने की प्रवृत्ति का इलाज करने के लिए उपयोगी है। इसके अलावा वैरिकोज वेन्स के कुछ निम्नलिखित लक्षणों में भी फायदेमंद है :

  • लकवा जैसा अहसास होना
  • पैरों में सुन्नता और पसीना
  • पिंडली में दर्द
  • त्वचा का रंग नीला-काला होना और नसों में सूजन आना
  • तलवों में ऐंठन और पैर की उंगलियों में सूजन
  • अचानक पीठ में ठंड लगना
  • अत्यधिक खुजली व त्वचा की नमी
  • अल्सर जो अक्सर ठीक नहीं होते हैं

यह लक्षण नम मौसम में, शाम को रात में और खुली हवा में खराब हो जाते हैं जबकि ठंड के मौसम में इनमें सुधार होता है।

कॉस्टिकम
सामान्य नाम :
हैनिमैन टिंचर एक्रिस साइन कैली
लक्षण : यह होम्योपैथिक दवा निम्नलिखित लक्षणों के प्रबंधन में उपयोगी है :

  • जलन के साथ जोड़ों में तेज दर्द
  • शरीर के एक हिस्से में लकवा व अंगों में सुन्नता
  • जांघों के बीच की त्वचा में दर्द
  • टेंडन में संकुचन

यह लक्षण साफ मौसम, शुष्क और ठंडी हवाओं के संपर्क में आने पर खराब हो जाते हैं, जबकि नम मौसम और गर्मी में इनमें सुधार होता है।

क्रोटलस होरिडस
सामान्य नाम :
रैटलस्नेक
लक्षण : ब्लीडिंग डिसऑर्डर के प्रबंधन में क्रोटलस हॉरिडस एक प्रभावी उपाय है। इसका उपयोग निम्नलिखित लक्षणों के उपचार के लिए भी किया जा सकता है :

  • पैरों की गतिविधियों में दिक्कत
  • त्वचा में सूजन और रंगहीन होने के साथ संवेदनशीलता
  • दाहिने पैर में लकवा
  • पैर ठंडे पड़ना
  • त्वचा में दर्द होना, लेकिन दबाने से स्थिति में सुधार आ जाना

दाईं ओर लेटने, सुबह और शाम के समय, गर्म और बसंत के मौसम में और खुली हवा के संपर्क में आने से लक्षण खराब होते हैं।

फ्लोरिकम एसिडम
सामान्य नाम :
हाइड्रोफ्लोरिक एसिड
लक्षण : वैरिकोज वेन्स के उपचार में यह उपाय काफी प्रभावी है। यह निम्नलिखित लक्षणों का इलाज करने में मदद कर सकता है :

  • उंगलियों के जोड़ों में सूजन
  • वैरिकोज वेन्स के साथ ​लालिमा
  • हड्डियों का खराब होना
  • ब्लीडिंग के साथ बदबू आना

हैमामेलिस वर्जिनियाना
सामान्य नाम :
विच हेजेल
लक्षण : विच हेजेल एक शानदार उपाय है जो वीनस सिस्टम पर प्रभाव डालता है और इसका उपयोग ब्लींडिंग, वैरिकोज वेन्स और बवासीर जैसी स्थितियों के इलाज के लिए किया जाता है। इस उपाय द्वारा निम्नलिखित स्थितियों का भी उपचार किया जा सकता है :

  • नसों द्वारा रक्त प्रवाह का प्रबंधन न कर पाना, जिसके चलते हल्की ब्लीडिंग होने लगती हैं
  • पैरों में थकान महसूस होना
  • प्रभावित हिस्सों में दर्द
  • मांसपेशियों में दर्द
  • त्वचा के नीचे छोटे खून के धब्बे
  • वैरिकोज अल्सर

यह लक्षण गर्म और नम मौसम में बिगड़ जाते हैं।

लैसेसिस म्यूटस
सामान्य नाम :
बुशमास्टर या सुरुकुकु स्नेक
लक्षण : लैसेसिस म्यूटस उन रोगियों के लिए एक प्रभावी उपाय है, जिन्हें सेप्सिस नामक जानलेवा संक्रमण है। इसके अलावा यह निम्नलिखित लक्षणों को भी ठीक कर सकता है :

  • दाहिने तरफ साइटिका की समस्या
  • गर्म त्वचा व साथ में त्वचा का रंग नीला होना
  • वैरिकोज अल्सर जिनके किनारे का रंग काला हो जाता है
  • नसों में सूजन
  • त्वचा की गहरी परतों में संक्रमण
  • प्रभावित हिस्से को छूने पर दर्द होना

यह लक्षण बाईं ओर होने पर बदतर हो जाते हैं। इसके अलावा यह लक्षण सोने के बाद, गर्म पानी से नहाने के बाद और प्रभावित हिस्से पर दबाव पड़ने से खराब हो जाते है, लेकिन गर्म सिकाई से इनमें फायदा होता है।

होम्योपैथिक दवाइयों को अत्यंत घुलनशील रूप में तैयार किया जाता है, ऐसे में कुछ बाहरी कारकों की वजह से इन दवाइयों का असर आसानी से प्रभावित हो सकता है। उदाहरण के तौर पर सेंट और परफ्यूम।

होम्योपैथी उपचार से अधिकतम लाभ प्राप्त करने के लिए होम्योपैथिक चिकित्सक अपने रोगियों को दवा के साथ-साथ जीवनशैली और आहार में कुछ जरूरी बदलाव करने की सलाह देते हैं जैसे

क्या करना चाहिए

  • पौष्टिक और स्वस्थ भोजन लें।
  • खुद की साफ सफाई बनाए रखें और स्वच्छ वातावरण में रहें।
  • अपनी दिनचर्या में शारीरिक व्यायाम को शामिल करें।

क्या नहीं करना चाहिए

  • उन खाद्य पदार्थों और पेय पदार्थों का सेवन न करें, जिनमें औषधीय गुण होते हैं।
  • कैफीन युक्त पेय या ऐसे पेय न पिएं जिनमें तेज गंध होती है।
  • इत्र का उपयोग न करें क्योंकि इसमें भी तेज गंध होती है।
  • क्रोध और शोक जैसी अत्यधिक भावनाओं से बचें, क्योंकि यह दिमाग को प्रभावित कर सकती है।
  • नम वातावरण में रहने से बचें।
  • नमक, चीनी और मसालों की अधिकता वाले खाद्य पदार्थों से बचें।

होम्योपैथिक उपचार प्राकृतिक सोर्स से बनाए जाते हैं और यह काफी घुलनशील होते हैं। इनका कोई साइड इफेक्ट नहीं होता है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि एक जैसे लक्षणों से ग्रस्त व्यक्तियों को एक ही दवा दे दी जाए। ध्यान रहे, होम्योपैथी दवाइयां मरीज की शारीरिक, मानसिक और बीमारी के लक्षणों के अनुसार दी जाती हैं।

होम्योपैथी में कई ऐसे उपाय हैं, जिनके उपयोग से वैरिकोज वेन्स के प्रबंधन में मदद मिल सकती है। ये दवाएं विशेष रूप से पैरों में रक्त प्रवाह और मांसपेशियों की टोन को बढ़ाने में मदद करती हैं। रक्त के प्रवाह में सुधार के साथ, यह दवाइयां नसों में वाल्व को भी मजबूत करती हैं, ताकि रक्त पैरों में स्थिर न हो। विशेषज्ञों का कहना है कि निरंतर होम्योपैथिक उपचार के साथ नसों में नीलापन और सूजन भी गायब हो जाती है।

जर्मनी में किए गए एक पायलट स्टडी (छोटे पैमाने पर किया गया एक शुरुआती अध्ययन,जिसमे मुख्य अध्ययन के महत्वपूर्ण घटकों की जांच की जाती है) से पता चला है कि वैरिकोज वेन्स के लक्षणों को कम करने में अर्निका मददगार साबित हुई है।

हालांकि, वैरिकेाज वेन्स के उपचार में होम्योपैथिक दवाओं के लाभों की पुष्टि करने के लिए अभी और अधिक अध्ययन की आवश्यकता है।

होम्योपैथिक उपचार प्राकृतिक उत्पादों से बनाए जाते हैं। यही कारण है कि इनका कोई दुष्प्रभाव नहीं है। लेकिन जो लोग इन दवाइयों का सेवन कर रहे हैं, उन्हें ऐसे पदार्थ लेने से बचना चाहिए, जिनमें औषधीय गुण होते हैं।

बहुत से लोग इन उपायों को सुरक्षित और प्रभावी मानते हैं। हालांकि, किसी भी दवा को अपने आप लेने से पहले अपने डॉक्टर से पूछना हमेशा सबसे अच्छा होता है। एक अनुभवी होम्योपैथिक चिकित्सक को इन उपायों की संरचना के बारे में सबसे अच्छा ज्ञान होता है और यह आपके व्यक्तिगत लक्षणों के आधार पर सबसे उपयुक्त दवा का निर्धारण कर सकते हैं।

वैरीकोज वेन्स एक आम मेडिकल स्थिति है जो ज्यादातर मामलों में पैरों को प्रभावित करती है। अक्सर वैरीकोज वेन्स से प्रभावित व्यक्तियों में कोई लक्षण नहीं दिखते हैं। हालांकि, कुछ लोगों को टखनों में सूजन के साथ पैरों में दर्द और असुविधा का अनुभव होता है। वैरिकोज वेन्स के लिए जो प्रमाणित तरीके हैं वे नसों पर से दबाव को कम करते हैं, जबकि वैरिकोज वेन्स के लिए मौजूद होम्योपैथिक उपचार में बीमारी के लक्षणों को ठीक करने के अलावा समग्र स्वास्थ्य में सुधार किया जाता है। दवाओं के साथ, होम्योपैथिक डॉक्टर वैरिकोज वेन्स के उपचार के लिए जीवनशैली प्रबंधन, आहार और व्यायाम का सुझाव भी देते हैं।

और पढ़ें ...

संदर्भ

  1. The European Comittee for Homeopathy. Benefits of Homeopathy. Belgium; [Internet]
  2. Rakesh Hooda, Mohit Tripathi. Role of homeopathy medical system in remedy of varicose vein ulcer. ISSN: 2616-4493
  3. William Boericke. Homoeopathic Materia Medica. Kessinger Publishing: Médi-T 1999, Volume 1
  4. Circulation Foundation. Veins. Lichfield, England; [Internet]
  5. National Heart, Lung, and Blood Institute [Internet]: U.S. Department of Health and Human Services; Varicose Veins
ऐप पर पढ़ें
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ