एक्सवाईवाई सिंड्रोम - XYY Syndrome in Hindi

Dr. Nadheer K M (AIIMS)MBBS

November 02, 2020

March 28, 2022

एक्सवाईवाई सिंड्रोम
एक्सवाईवाई सिंड्रोम

ज्यादातर लोगों में प्रत्येक कोशिका में 46 गुणसूत्र (क्रोमोसोम) होते हैं। पुरुषों में, आमतौर पर एक X गुणसूत्र और एक Y गुणसूत्र (XY) होता है। XYY सिंड्रोम एक आनुवंशिक स्थिति है जो तब होती है जब किसी पुरुष के प्रत्येक कोशिका में Y गुणसूत्र की एक अतिरिक्त कॉपी होती है। कभी-कभी, यह बदलाव सभी कोशिकाओं में न होकर केवल कुछ में होता है। XYY सिंड्रोम वाले पुरुषों में वाई गुणसूत्र की अतिरिक्त कॉपी होने के कारण कुल गुणसूत्रों की संख्या 47 होती है।

इस स्थिति को कभी-कभी जैकब सिंड्रोम, XYY कार्योटाइप या YY सिंड्रोम भी कहा जाता है, जो कि 1,000 लड़कों में से किसी 1 को होता है।

XYY सिंड्रोम से ग्रस्त अधिकांश मामलों में कुछ लोगों में औसत से अधिक लंबाई और सीखने या बोलने में कठिनाई हो सकती है। हो सकता है कि उनमें महज मामूली शारीरिक अंतर​ दिखाई दे, जैसे मांसपेशियों की टोन कमजोर होना।

(और पढ़ें - मांसपेशियों की कमजोरी व उसका इलाज)

XYY सिंड्रोम के लक्षण क्या हैं? - XYY Syndrome Symptoms in Hindi

XYY सिंड्रोम के संकेत और लक्षण एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में उम्र के अनुसार भिन्न हो सकते हैं।

एक बच्चे में XYY सिंड्रोम के लक्षणों में शामिल हैं -

बड़े बच्चों में लक्षणों में शामिल है-

  • आटिज्म
  • फोकस करने में कठिनाई
  • डिलेड मोटर स्किल डेवलपमेंट जैसे लिखने में समस्या
  • बोलने में देरी और कठिनाई
  • भावनात्मक या व्यवहार संबंधी समस्याएं
  • हाथ कांपना
  • हाइपोटोनिया (मांसपेशियों की टोन कमजोर होना)
  • सीखने में कठिनाई
  • औसत से अधिक लंबाई

वयस्कों में लक्षणों में शामिल है-

  • पुरुषों में प्रजनन क्षमता की कमी XYY सिंड्रोम का एक संभावित लक्षण है।

XYY सिंड्रोम का कारण क्या है? - XYY Syndrome Causes in Hindi

XYY सिंड्रोम एक आनुवंशिक स्थिति है। ज्यादातर इसके मामले वंशानुगत नहीं मिले हैं। 

आमतौर पर लोगों में प्रत्येक कोशिका में 46 गुणसूत्र होते हैं,​ जिनमें से एक एक्स और एक वाई गुणसूत्र होता है। बता दें कि ये एक्स और वाई गुणसूत्र ही निर्धारित करता है कि बच्चे का लिंग क्या होगा। यही वजह है कि इन्हें सेक्स क्रोमोसोम कहा जाता है। महिला में दो एक्स क्रोमोसोम (46,XX) होते हैं जबकि पुरुष में आमतौर पर एक एक्स और एक वाई क्रोमोसोम (46,XY) होता है।

XYY सिंड्रोम तब होता है जब किसी पुरुष में मौजूद प्रत्येक कोशिकाओं में वाई क्रोमोसोम की अतिरिक्त कॉपी होती है। आमतौर पर जहां 46 गुणसूत्र होने चाहिए, XYY सिंड्रोम में कुल 47 गुणसूत्र होते हैं। वैसे इसका सटीक कारण अभी तक पता नहीं चल पाया है, लेकिन इस विषय पर शोध जारी है।

कुछ ऐसे भी मामले देखे गए हैं, जिनमें पुरुषों में प्रत्येक कोशिकाओं की जगह सिर्फ कुछ कोशिकाओं में वाई क्रोमोसोम की अतिरिक्त कॉपी पाई गई है। इस स्थिति को 46, XY/47,XYY मौजैकिज्म कहा जाता है।

XYY सिंड्रोम का निदान कैसे किया जाता है? - XYY Syndrome Diagnosis in Hindi

XYY सिंड्रोम में ऐसे भी मामले हो सकते हैं, जिनमें वयस्क होने तक स्थिति का पता नहीं चलता है। इसका निदान तब होता है जब शुक्राणु की कमी की वजह से प्रजनन क्षमता में कमी आ जाती है।

एक्सवाईवाई सिंड्रोम का निदान पूरी तरह से नैदानिक मूल्यांकन, रोगी की मेडिकल हिस्ट्री (चिकित्सक द्वारा पिछली बीमारियों व उनके इलाज से जुड़े प्रश्न पूछना) और विशेष परीक्षणों (जैसे क्रोमोसोमल विश्लेषण) के आधार पर किया जाता है।

(और पढ़ें - प्रजनन क्षमता बढ़ाने वाले आहार)

XYY सिंड्रोम का इलाज कैसे होता है? - XYY Syndrome Treatment in Hindi

XYY सिंड्रोम के लिए सटीक उपचार उपलब्ध नहीं है, लेकिन इसके लक्षणों और प्रभावों को कम किया जा सकता है, खासकर अगर इसका निदान जल्दी कर लिया जाए तो, इसके लक्षणों को तेजी से नियंत्रित करने में मदद मिल सकती है।

XYY सिंड्रोम के उपचार में शामिल हैं :

  • स्पीच थेरेपी : स्पीच थेरेपी के जरिये बोलने व संचार करने से संबंधित समस्याओं को सुधारा जाता है।
  • फिजिकल : फिजिकल थेरेपी में एक पेशेवर मरीज को व्यायाम कराते हैं ताकि प्रभावित मांसपेशियों की कार्य क्षमता में सुधार किया जा सके।
  • एजुकेशनल थेरेपी : XYY सिंड्रोम वाले कुछ लोगों को सीखने में दिक्कत आती है, ऐसे में एजुकेशनल थेरेपी बच्चे की मदद कर सकती है। यदि आपके बच्चे को भी यह सिंड्रोम है, तो उसके शिक्षकों और प्रिंसिपल से बात करके बच्चे की स्थिति के बारे में बताएं।


cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ