myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

कंपन (Tremor) एक प्रकार से हिलने की गति (थरथराना) होती है। कंपन को ज्यादातर हाथों और बाजूओं में महसूस किया जाता है। हाथ में कंपन अक्सर तब होती है, जब आपके हाथ आराम करने की स्थिति में होते हैं या जब हाथ को किसी एक ही स्थिति में अधिक समय तक रोककर रखा जाता है। हाथ कांपना काफी असुविधाजनक स्थिति होती है, जो रोजाना की गतिविधियां करने में कठिनाई पैदा कर सकती है। हाथ कांपने के कारणो में तंत्रिका विकार, ड्रग लेना, तनाव या अन्य कई कारण शामिल हो सकते हैं। हाथ के कंपन का इलाज काफी हद तक आपकी समस्या के मूलभूत कारणों पर निर्भर करता है। शारीरिक थेरेपी और हाथों के व्यायाम आदि आपके हाथों को स्थिर बनाने में मदद कर सकते हैं।

(और पढ़ें - तनाव के लिए योग)

  1. हाथ कांपने के लक्षण - Hand Tremors Symptoms in Hindi
  2. हाथ कांपने के कारण और जोखिम कारक - Hand Tremors Causes & Risk Factors in Hindi
  3. हाथ कांपने से बचाव के उपाय - Prevention of Hand Tremors in Hindi
  4. हाथ कांपने का परीक्षण - Diagnosis of Hand Tremors in Hindi
  5. हाथ कांपने का उपचार - Hand Tremors Treatment in Hindi
  6. हाथ कांपने में परहेज़ - What to avoid during Hand Tremors in Hindi?
  7. हाथ कांपने में क्या खाना चाहिए? - What to eat during Hand Tremors in Hindi?
  8. हाथ कांपना की दवा - Medicines for Hand Tremors in Hindi
  9. हाथ कांपना के डॉक्टर

हाथ कांपने के लक्षण - Hand Tremors Symptoms in Hindi

हाथ कांपनें के लक्षण व संकेत क्या हो सकते हैं?

हाथों में कंपन को किसी अंतर्निहित स्थिति का लक्षण माना जाता है। हाथ में कंपन से जुड़े लक्षण इस समस्या के कारण पर निर्भर करते हैं।

एसेंशियल कंपकपी से जुड़े कुछ प्राथमिक लक्षण निम्न हैं -

  • थोड़े से समय के लिए बेकाबू कंपन।
  • आवाज कांपना (थरथराना)।
  • सिर हिलना।
  • कंपकपी की वो स्थितियां जो भावनात्मक तनाव (Emotional stress) के दौरान और बद्तर हो जाती हैं।
  • कंपन जो किसी उद्देश्यपूर्ण गति के दौरान और बद्तर हो जाती है।
  • कंपकपी जो आराम करने से कम हो जाती है।
  • संतुलन की समस्या (दुर्लभ मामलों में)।
  • थकान, कैफीन लेना या तापमान बढ़ जाने से कंपन तेज हो सकता है।

(और पढ़ें - थकान कम करने के उपाय)

डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए?

अगर आपको हाथों में कंपन महसूस हो रहा है, तो डॉक्टर को दिखाएं, जिसमें निम्न स्थितियां शामिल हैं -

  • अगर यह समय के साथ-साथ बद्तर होती जा रही है।
  • आराम करने के दौरान बद्तर और कुछ काम करने के दौरान ठीक हो जाती है।
  • किसी अन्य सिंड्रोम के साथ होती है, जैसे सिरदर्द, कमजोरी, असामान्य रूप से जीभ हिलना, मांसपेशियों में खिंचाव, या अन्य गति जिनको आप नियंत्रित नहीं कर सकते। (और पढ़ें - सिर दर्द के लिए योग)
  • यदि आपकी रोजाना की गतिविधियों को प्रभावित कर रही हैं।

(और पढ़ें - कमजोरी दूर करने के उपाय)

डॉक्टर सबसे पहले यह सुनिश्चित करना चाहेंगे कि हाथों में कंपन कहीं किसी अन्य स्थिति के कारण तो नहीं है। 

हाथ कांपने के कारण और जोखिम कारक - Hand Tremors Causes & Risk Factors in Hindi

हाथ कांपनें के कारण व जोखिम कारक क्या हो सकते हैं?

हाथों में कंपन आमतौर पर मस्तिष्क के उन क्षेत्रों से जुड़ी समस्याओं की वजह से होती है, जो गतिचाल (Movement) को नियंत्रित करते हैं। पार्किंसंस रोग से ग्रस्त कई लोगों में हाथ हिलने की समस्या आ जाती है, लेकिन हाथ हिलने का मुख्य कारण एसेंशियल कंपकपी (Essential tremor) ही होती है।

(और पढ़ें - मस्तिष्क संक्रमण का इलाज)

एसेंशियल कंपन सबसे आम प्रकार की कंपकपी की समस्या होती है। इसमें आमतौर पर हाथ कम हिलता है, मगर तीव्रता से हिलता है। यह अक्सर तब होता है, जब आप कुछ करने की कोशिश कर रहे होते हैं, जैसे किसी वस्तु तक पहुंचना या कुछ लिखना। कांपने की समस्या परिवार में अन्य लोगों को भी हो सकती है। एसेंशियल कंपकपी वयस्कों को प्रभावित करने वाला सबसे सामान्य न्यूरोलॉजिकल विकार होता है, हालांकि अभी इसे अच्छी तरह से समझा नहीं गया है। सेरिबेलम (मस्तिष्क का एक हिस्सा) के सामान्य कार्यों में किसी प्रकार की गड़बड़ी इसका संभावित कारण हो सकती है।

(और पढ़ें - कमजोर याददाश्त के लिए योग)

अन्य कारण व जोखिम कारक निम्न हो सकते हैं: 

(और पढ़ें - डायबिटीज के लिए योगासन)

हाथ कांपने से बचाव के उपाय - Prevention of Hand Tremors in Hindi

हाथों की कंपन की रोकथाम कैसे की जा सकती है?

कंपकपी की समस्या जो मूल में आनुवंशिक है, उसकी रोकथाम नहीं की जा सकती। कुछ अन्य स्टेप जिनका इस्तेमाल आप इस समस्या को नियंत्रण में रखने के लिए कर सकते हैं, जैसे -

  • तनाव और चिंता के कारण कांपने की स्थिति और बद्तर हो जाती है और आराम करने से इनमें सुधार किया जा सकता है। हालांकि, आप अपने जीवन से सभी प्रकार के तनाव दूर नहीं कर सकते हैं। लेकिन, कुछ तकनीकों का इस्तेमाल करके तनावपूर्ण परिस्थितियों को बदला जा सकता है। इन तकनीकों में मालिश करवना व ध्यान (Meditation) लगना आदि शामिल है। नियमित रूप से योग करके मानसिक तनाव को कम किया जा सकता है। (और पढ़ें - तनाव दूर करने के उपाय)
  • कैफीन से बचें, क्योंकि यह एड्रेलाइन (Adrenaline) हार्मोन का निर्माण करता है। यह हार्मोन कंपकपी की स्थिति को बद्तर बना सकता है।
  • शराब के सेवन से बचें – यह तंत्रिका तंत्र पर स्पष्ट रूप से प्रभाव डालता है, जो एसेंशियल कंपकपी को बढ़ाता है। (और पढ़ें - शराब के नुकसान)
  • अगर आप किसी ऐसी जगह पर काम करते हैं, जहां पर आप कुछ हानिकारक पदार्थों के संपर्क में आ सकते हैं। ऐसे में खुद को उनके संपर्क में आने से बचाने के लिए उचित सावधानियां बरतें।
  • अगर किसी दवा के कारण कंपकपी की स्थिति पैदा होती है, तो उन दवाओं को बंद करने या किसी अन्य दवा के साथ बदलने के लिए अपने डॉक्टर से बात करें। बिना डॉक्टर से पूछे खुद ही दवाओं को बदलने या बंद करने की कोशिश ना करें।
  • फिट रहें और स्वस्थ वजन बनाएं रखें।

(और पढ़ें - वजन संतुलित रखने के उपाय)

हाथ कांपने का परीक्षण - Diagnosis of Hand Tremors in Hindi

हाथों में कंपन का परीक्षण/ निदान कैसे किया जाता है?

परीक्षण के दौरान डॉक्टर शारीरिक जांच करते हैं, जिसमें मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र (Neurologic) परीक्षण शामिल होता है। हाथों में कंपन के कारण का पता लगाने के लिए डॉक्टर आपसे कुछ सवाल भी पूछ सकते हैं, जैसे -

  • क्या आपको कोई अन्य लक्षण महसूस हो रहा है?
  • क्या आप किसी प्रकार की कोई दवा ले रहे हैं?
  • आपके और आपके परिवार के स्वास्थ्य से जुड़ी पिछली जानकारी।

हाथों की हल्की कंपन किसी अन्य स्थिति के कारण नहीं होती और आमतौर पर ना ही इसको किसी विशेष प्रकार के उपचार की जरूरत पड़ती है। डॉक्टर कुछ दिन आप पर नजर रख सकते हैं, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि कहीं यह स्थिति बद्तर तो नहीं हो रही। यदि डॉक्टरों को लगता है कि कंपन पार्किन्सन रोग या मल्टीपल स्केलेरोसिस जैसी स्थिति के लक्षण के रूप में विकसित हुई है, तो ऐसे में डॉक्टर आपको अन्य टेस्टों के लिए विशेषज्ञों के पास रेफर कर सकते हैं।

(और पढ़ें - लैब टेस्ट कैसे होता है)

एसेंशियल कंपकपी का पता लगाने के लिए कोई मेडिकल टेस्ट नहीं हैं। इसका परीक्षण करने के लिए अन्य स्थितियों की जांच की जाती है, जो ये लक्षण पैदा कर सकती हैं। ऐसा करने के लिए आपके डॉक्टर निम्न परीक्षणों को करवाने का सुझाव दे सकते हैं -

न्यूरोलॉजिकल परीक्षण (Neurological examination) –  

इस परीक्षण में डॉक्टर आपके तंत्रिका तंत्र के कार्यों का सर्वेक्षण करतें हैं, इसमें निम्न जांच शामिल होती है:

  • टेंडन रिफ्लेक्स (Tendon reflexes)
  • मांसपेशियों की ताकत व टोन (और पढ़ें - मांसपेशियों की क्षति रोकने के उपाय)
  • कुछ प्रकार की उत्तेजनाओं को महसूस करने की योग्यता
  • मुद्रा और समन्वय (Posture and coordination)
  • चाल (Gait)

इसके साथ ही साथ निम्न टेस्टों को करवाने का निर्देश भी दिया जा सकता है:

(और पढ़ें - यूरिन इन्फेक्शन क्यों होता है)

प्रदर्शन जांच (Performance tests)

कंपन का खुद मूल्यांकन करने के लिए डॉक्टर आपको निम्न करने के लिए कह सकते हैं:

  • बाजूओं को फैलाना और उसी मुद्रा में रखना
  • लिखना
  • कोई गोल चित्र बनना

अगर आपके डॉक्टर अभी भी सुनिश्चित नहीं कर पाए हैं कि आपको एसेंशियल कंपकपी की समस्या है या पार्किंसंस रोग है। तो ऐसे में डॉक्टर डोपामाइन ट्रांसपोर्टर स्कैन (Transporter scan) करवाने का निर्देश दे सकते हैं। यह स्कैन इन दोनों प्रकार की कंपन की स्थितियों के बीच अंतर बता सकता है।

(और पढ़ें - कलाई के दर्द का इलाज)

हाथ कांपने का उपचार - Hand Tremors Treatment in Hindi

हाथों में कंपन का इलाज कैसे किया जाता है?

हाथों में कंपन की समस्या वाले हर व्यक्ति को इलाज करवाने की आवश्यकता नहीं होती। यदि डॉक्टर को लगता है कि आपको उपचार की जरूरत है, तो उपचार पहले दवाओं से शुरू किया जाता है।

आमतौर पर डॉक्टर द्वारा लिखी जाने वाली दवाएं -

हाथों में कंपन या एसेंशियल कंपकपी के लिए सबसे अधिक निर्धारित की जाने वाली दवाएं हैं:

  • प्रोप्रानोलोल (Propranolol)
  • प्रिमीडोन (Primidone)
  • लोंग एक्टिंग प्रोप्रैनोलोल (Long-acting propranolol)

प्रोप्रैनोलोल एक बीटा ब्लॉकर (Beta-blocker) होती है, जिसको अतालता (Arrhythmia) उच्च रक्तचाप (Hypertension) का इलाज करने के लिए डिजाइन किया गया है। जबकि, प्रीमीडोन मिर्गी व दौरे आदि रोकने की दवा होती है।

अन्य बीटा ब्लॉकर दवाएं

सोटैलोल (Sotalol) और एटेनोलॉल (Atenolol) भी बीटा-ब्लॉकर्स दवाएं हैं, जिनका इस्तेमाल एसेंशियल कंपकंपी के इलाज में किया जा सकता है। अगर अन्य कोई दवा कंपकपी की समस्या में मदद ना कर पाएं, तो डॉक्टर इन दवाओं को लिखते हैं।

अन्य दौरे-विरोधी (Antiseizure) दवाएं

गैबेपेंटीन (Gabapentin) और टोपिरामेट (Topiramate) भी ऐसी दवाएं हैं, जिनका इस्तेमाल मुख्य रूप से दौरे का इलाज करने के लिए किया जाता है। ये दवाएं एसेंशियल कंपकपी से ग्रस्त लोगों के लिए काफी मददगार हो सकती हैं।

चिंता का उपचार करने वाली दवाएं (Anxiety medication)

एल्प्राजोलम (Alprazolam) दवाओं का प्रयोग चिंता और पैनिक विकार (Panic disorders) आदि का उपचार करने के लिए किया जाता है। यह एसेंशियल कंपकपी का उपचार करने में भी काफी प्रभावी होती हैं। इस दवा को बहुत ही सावधानी से लेना चाहिए, क्योंकि इसको उन दवाओं के रूप में भी जाना जाता है, जिनकी आदत पड़ जाती है।

बोटोक्स

बोटोक्स या बोटुलिनम टोक्सिन टाइप A  (Botulinum toxin type A) दवाएं हाथों में एसेशिंयल कंपकपी के उपचार करने के लिए एक भरोसेमंद दवा है। जहां पर इस दवाई का इन्जेक्शन लगाया जाता है, वहां की मांसपेशियों को यह दवा स्थायी रूप से कमजोर बना देती है। इसलिए इसके संभावित खतरों और फायदों के बारे में पूरी तरह सुनिश्चित करने के लिए डॉक्टर से बात कर लें। इसका एक इन्जेक्शन 3 महीनें तक लाभ प्रदान करता है, बाद में और इन्जेक्शन की आवश्यकता पड़ सकती है।

सर्जरी

पहले उपचार के विकल्प के रूप में डॉक्टरों द्वारा सर्जरी की सलाह देने की संभावना नहीं होती। सर्जिकल प्रक्रियाओं को सिर्फ उन लोगों के लिए रखा जाता है, जिनको कंपकपी की ऐसी समस्या है जो उनको गंभीर रूप से अक्षम बना देती है। आपकी उम्र के अनुसार या अगर कंपन की समस्या अधिक बद्तर हो गई है, तो सर्जरी भी एक विकल्प बन सकता है।

  • डीप ब्रेन स्टिमुलेशन (DBS) - यह एक सर्जिकल प्रक्रिया होती है, जिसका इस्तेमाल कंपन का इलाज करने के लिए किया जाता है। डीप ब्रेन स्टीमुलेशन प्रक्रिया के दौरान सर्जन एक इलेक्ट्रोड्स नाम के विद्युत उपकरण को मस्तिष्क में डालते हैं। जब यह उपकरण मस्तिष्क में पहुंच जाता है, तो यह एक इलेक्ट्रोनिक सिग्नल छोड़ता है। ये सिग्नल मस्तिष्क की उन गतिविधियों में हस्तक्षेप करते हैं, जो कंपकपी विकसित करने के लिए जिम्मेवार होती हैं। फिलहाल यह प्रक्रिया सिर्फ उन लोगों के लिए की जाती है, जिनके हाथों में कंपन की समस्या गंभीर हो चुकी है।
  • थैलामोटोमी (Thalamotomy) – थैलामोटोमी भी एक अन्य सर्जिकल विकल्प है। इस प्रक्रिया के दौरान सर्जन आपके मस्तिष्क के थैलामुस (Thalamus) हिस्से में एक छोटा चीरा लगाते हैं। इससे मस्तिष्क की सामान्य विद्युत गतिविधि भंग हो जाती है, जिससे कंपन रुक या कम हो जाती है।

थेरेपी – 

एसेंशियल कंपकपी के लक्षणों को कम करने में मदद करने के लिए डॉक्टर आपको आपकी जीवनशैली बदलने का सुझाव दे सकते हैं। सुझावों में निम्न शामिल हो सकते हैं -

  • भारी वस्तुओं का उपयोग करें – आपके डॉक्टर हल्की और नाजुक वस्तुओं की जगह आपको भारी वस्तुओं का इस्तेमाल करने के लिए कह सकते हैं।
  • कंपकपी की समस्या को बढ़ाने वाले पदार्थों को कम या बंद करना – जैसे कैफीन या अन्य प्रकार की दवाएं (Stimulants) आदि को कम करने से कंपकपी की समस्या को सुधारा जा सकता है। हालांकि, अल्कोहल (शराब) की छोटी मात्रा कुछ लोगों में कंपकपी की समस्या में सुधार ला देती है। जैसे-जैसे अल्कोहल का प्रभाव कम होता है, कंपन की समस्या वापस अपनी स्थिति में आने लगती है।

हाथ कांपने में परहेज़ - What to avoid during Hand Tremors in Hindi?

हाथों में कंपकपी की समस्या में क्या परहेज करने चाहिए?

इसके लक्षणों को नियंत्रण में रखने के लिए निम्न खाद्य पदार्थों का सेवन करने से बचें -

(और पढ़ें - चीनी खाने के फायदे)

हाथ कांपने में क्या खाना चाहिए? - What to eat during Hand Tremors in Hindi?

हाथों में कंपकपी की समस्या में क्या खाना चाहिए?

जिन लोगों को कंपन की समस्या होती है, वे पाते हैं कि उनका वजन कम हो रहा है। वे वजन को बनाए रखने के लिए कैलोरी की उच्च मात्रा का सेवन करते हैं, ताकि वजन घटने की समस्या से बचा जा सके। वजन घटने का कारण भूख कम लगना या खाने या निगलने में कठिनाई महसूस होना भी हो सकता है। यह भी हो सकता है कि आपका शरीर पोषक तत्वों को कुशलतापूर्वक अवशोषित नहीं कर पा रहा हो या फिर कंपन के लक्षणों का मुकाबला करने के लिए आप अतिरिक्त उर्जा का उपयोग कर रहे हों।

(और पढ़ें - वजन बढ़ाने के तरीके)

इसलिए जिन लोगों को हाथों में कंपकपी की समस्या है, उनके लिए एक अच्छा संतुलित आहार आवश्यक है। जिनमें निम्न शामिल हैं - 

(और पढ़ें - मछली तेल के फायदे)

Dr. Swati Narang

Dr. Swati Narang

न्यूरोलॉजी

Dr. Megha Tandon

Dr. Megha Tandon

न्यूरोलॉजी

Dr. Shakti Mishra

Dr. Shakti Mishra

न्यूरोलॉजी

हाथ कांपना की जांच का लैब टेस्ट करवाएं

Thyroid Function Test ( T3 - T4 - TSH )

25% छूट + 5% कैशबैक

Vitamin B12 (Cyanocobalamin)

25% छूट + 5% कैशबैक

हाथ कांपना की दवा - Medicines for Hand Tremors in Hindi

हाथ कांपना के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

Medicine NamePack SizePrice (Rs.)
AkutimAkutim 0.5% Eye Drops45.0
AppatimAppatim Eye Drop36.0
Glauc AidGlauc Aid Eye Drops45.0
Gluc Aid Eye DropsGluc Aid Eye Drops47.0
GluchekGluchek Eye Drops50.0
GlucomolGlucomol 0.5% W/V Eye Drop58.0
GlucotimGlucotim 0.25% Eye Drop10.0
Glucotim LaGlucotim La 0.50%W/V Eye Drop52.0
GlunilGlunil Eye Drops50.0
NyololNyolol 0.5% Eye Drop43.0
OcupressOcupress 0.5% Eye Drops30.0
TimanolTimanol 0.25% Eye Drop39.0
Timlol PfTimlol Pf Drop90.0
Timo 5Timo 5 Eye Drop59.0
TimogoldTimogold Eye Drop50.0
Timol (Jawa)Timol 0.5% Eye Drops50.0
TimolTimol 0.5% Eye Drops60.0
TimolenTimolen 0.25% Eye Drop51.0
TimoloTimolo 0.5% Eye Drops48.0
Timolol Maeleate 0.5% Eye DropTimolol Maeleate 0.5% Eye Drop14.0
TimolongTimolong 0.5% Eye Drop76.0
TimonaTimona 0.25% Eye Drops46.0
TimopressTimopress 0.5% Eye Drops32.0
TimoriteTimorite 0.5% Eye Drops54.0
TimostarTimostar 0.5% Eye Drops57.0
TimowaTimowa 0.5% Eye Drops28.0
TimozenTimozen 0.5%W/V Ear Drops50.0
GlucamolGlucamol Eye Drops44.0
LowtimolLowtimol 0.5% Eye Drops40.0
MopMop Eye Drops70.0
SiotimSiotim Eye Drop50.0
TeemolTeemol 0.5% Drops90.0
TimcolTimcol Eye Drops29.0
TimonixTimonix Eye Drop52.0
AbpressAbpress Eye Drop186.0
Akudin TAkudin T 0.15%/0.5% Eye Drops199.0
Albrim LstAlbrim Lst 5 Mg/2 Mg Eye Drop239.0
Alfaprest TAlfaprest T Eye Drops165.0
BetabrimBetabrim 0.5% W/V/0.2% W/V Eye Drop260.0
Bidin TBidin T 0.5% W/V/0.2% W/V Eye Drop113.0
Brimochek TBrimochek T 0.5%/0.15% Eye Drops258.0
BrimocomBrimocom 0.5% W/V/0.2% W/V Eye Drop219.0
BrimofinetBrimofinet 5 Mg/1.5 Mg Eye Drop150.0
BrimololBrimolol 5 Mg/1.5 Mg Eye Drop295.0
BrimotimBrimotim 0.5%/0.2% Eye Drop176.0
BrioptBriopt 0.5%/0.2% Eye Drop259.0
BritibluBritiblu 0.5% W/V/0.2% W/V Eye Drop119.0
CombiganCombigan 0.5%/0.2% Eye Drop351.0
GlubrimGlubrim Eye Drops146.0
Iotim BIotim B 0.5% W/V/0.2% W/V Eye Drop290.0
Apbidin TmApbidin Tm Eye Drops155.0
BrimotusBrimotus Eye Drops161.0
Cibrim TCibrim T Eye Drop95.0
GlutimGlutim 0.5% Eye Drop52.0
IotimIotim 0.5% W/V Eye Drop51.45
TimobluTimoblu 0.5% Eye Drop45.5
TimolastTimolast 0.5% Eye Drop67.3
LopresLopres Eye Drop66.2
TimoletTimolet 0.25% Eye Drop67.25
Timolet PTimolet P Eye Drop122.0
Bidin Ls TmBidin Ls Tm 0.1% W/V/0.5% W/V Eye Drop156.5
Bimat Ls TmBimat Ls Tm 0.01% W/V/0.5% W/V Eye Drop156.5
Bimat TBimat T 0.03% W/V/0.5% W/V Eye Drop244.0
Careprost PlusCareprost Plus Eye Drop423.0
GanfortGanfort Eye Drop700.26
Intaprost TIntaprost T 0.03%/0.5% Eye Drops350.0
Xyprost TmXyprost Tm 0.5%/0.03% Eye Drops314.28
Dorsenz TDorsenz T Eye Drop228.57
DortimDortim 0.5%/2% Eye Drops312.65
Dorzox TDorzox T Eye Drop365.5
GludrozGludroz Eye Drops250.0
MisoptMisopt 0.5%/2% Eye Drop299.7
ZolotimZolotim 0.5%/2% Eye Drops225.0
Ocudor TOcudor T Eye Drop250.0
TravacomTravacom Eye Drop755.0
LanaxLanax Eye Drop300.0
Tovaxo TTovaxo T Eye Drop242.5
TralvostTralvost Injection475.0
Travotim EyeTravotim Eye Eye Drops350.0
Xovatra TXovatra T 5 Mg/40 Mg Eye Drop500.0
Latochek TLatochek T 0.005%/0.5% Eye Drop247.95
LatocomLatocom Eye Drop449.0
XalacomXalacom 0.5%/0.005% Eye Drop620.0
LatimLatim Eye Drop369.15

क्या आप या आपके परिवार में किसी को यह बीमारी है? सर्वेक्षण करें और दूसरों की सहायता करें

और पढ़ें ...