myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

गर्मियाँ शुरू हो चुकी हैं और इसी के साथ ड्राई स्किन, पिंपल्स और झुर्रियों जैसी त्वचा की समस्याएं भी उत्पन्न होने लगी हैं। तो यह सोचना ज़रूरी है कि कैसे इन गर्मियों में अपनी त्वचा की रक्षा की जाए। आयुर्वेद के पास आपकी इन समस्याओं का समाधान है। तो आइये जानते हैं कुछ ऐसे ही आयुर्वेदिक उपचारों के बारे में जो इन गर्मियों में त्वचा के रूखेपन, मुहांसों और झुर्रियों से आपकी त्वचा को बचाएँगे

  1. आयुर्वेदिक ड्राई स्किन केयर टिप्स फॉर समर - Ayurvedic Tips for Dry Skin in Summer in Hindi
  2. गर्मी के मौसम में पिंपल्स के लिए आयुर्वेदिक टिप्स - Ayurvedic Tips for Pimples in Summer Season in Hindi
  3. गर्मियों के लिए आयुर्वेदिक एंटी एजिंग टिप्स - Ayurveda Anti-Aging Skin Care in Summer in Hindi

आयुर्वेदिक विशेषज्ञों के मुताबिक, सामान्य त्वचा की समस्याएं जैसे रशेस, मुँहासे आमतौर पर तब होती हैं जब शरीर में बहुत ज्यादा गर्मी जमा हो जाती है। यह भी माना जाता है कि ड्राई स्किन का कारण ड्राई, कड़वा और मसालेदार भोजन और अनियमित भोजन की आदतें या शारीरिक और मानसिक तनाव होता है। इन उपचारों की मदद से आप ड्राई स्किन से मुकाबला कर सकते हैं -

  • अपने शरीर को मालिश वाले तेलों के साथ मालिश करें जो कि वात संतुलन वाले जड़ी-बूटियों के साथ जुड़ें हों।
  • तला हुआ / बासी भोजन न खाएं। इसके बजाय ताजा भोजन चुनें (विशेष रूप से वो खाद्य पदार्थ जो गर्म हो और जैतून के तेल या घी के साथ बनाये जाते हैं)।
  • विशेषज्ञों की सलाह है कि नमकीन और खट्टे खाद्य पदार्थों के साथ-साथ फलों, सब्जियां, अनाज, कार्बोहाइड्रेट और डेयरी उत्पादों का सेवन करें और प्रत्येक दिन सात से आठ गिलास पानी पियें।
  • इसके अलावा, आप अपनी त्वचा को साफ करने के लिए गर्म पानी के बजाय ठंडे पानी का उपयोग करने की कोशिश करें और साफ करने के बाद अपनी त्वचा को ड्राई करने के लिए एक नरम कपड़े का उपयोग करना सुनिश्चित करें। 

.(और पढ़ें - ड्राई स्किन से परेशान हैं तो इस्तेमाल करें ये बेहतरीन प्राकृतिक फेस वाश)

तनाव, चिंता, रसायन और प्रदूषण सभी प्रमुख कारण होते हैं जो आपके चेहरे या त्वचा पर मुँहासे, काले दाग धब्बों और रशेस का कारण बन सकते हैं। यदि आप इनमें से किसी भी त्वचा की स्थिति से पीड़ित हैं, तो कई जड़ी-बूटियाँ हैं जिन्हें आप किसी भी जलन का इलाज करने में मदद करने के लिए उपयोग कर सकते हैं।

  • त्रिफला आपके शरीर से अधिक गर्मी को खत्म करने में मदद करने के लिए जाना जाता है और यह आपकी त्वचा की प्राकृतिक उपचार प्रक्रिया को भी बढ़ावा देने में मदद कर सकता है।
  • नीम एक और जड़ी बूटी है जो आप सीधे अपनी त्वचा पर उपयोग कर सकते हैं। इसके एंटीबैक्टीरियल और एंटिफंगल गुणों के कारण रक्त में से किसी भी विषाक्त पदार्थ को हटाने में मदद मिल सकती है।
  • नीम के तेल का इस्तेमाल आप अपनी त्वचा पर कर सकते है अगर आपकी स्किन ऑयली या सूजन से परेशान है।
  • आयुर्वेदिक विशेषज्ञों का यह भी सुझाव है कि आप अपने आहार में हल्दी को शामिल करने की कोशिश करें। यह आपके शरीर में किसी भी विषाक्त पदार्थ को निकालने में मदद करने के लिए जानी जाती है।

 (और पढ़ें - सौंदर्य विशेषज्ञ शहनाज हुसैन दे रही हैं कुछ सुझाव, अगर आप भी हैं ऑयली स्किन से परेशान)

  • आयुर्वेदिक विशेषज्ञों का कहना है कि कई तरह के कारक होते हैं जो आपकी त्वचा की उम्र को बढ़ाने में योगदान देते हैं जैसे तनाव, अनियमित नींद और खाने की आदतों और चिंता।
  • यह भी माना जाता है कि कृत्रिम स्वाद (artificial flavors), रसायन, संरक्षक (preservatives) और रंग युक्त भोजन भी त्वचा की उम्र को बढ़ा सकते हैं।
  • यदि आप अपने चेहरे पर झुर्रियों की संख्या को कम करने में मदद के लिए आयुर्वेद के उपचार लेने की सोच रहे हैं तो सोने से पहले बादाम के तेल या नारियल के तेल के साथ अपने चेहरे की मालिश करने की कोशिश करें या खीरे को फेस पैक में डालें और अपने चेहरे पर लगाएं। 
  • विशेषज्ञों ने यह भी सलाह दी है कि आप अपनी त्वचा पर एलोवेरा का उपयोग करें और इसके साथ साथ आप दिन में कम से कम एक बार घी के साथ अपने चेहरे की मालिश करें।

(और पढ़ें - आयुर्वेद की मदद से एंटी एजिंग के लक्षणों को कम करके रहें हमेशा युवा)

और पढ़ें ...