बादाम खाने के कई फायदे होते हैं लेकिन क्या आपको पता है कि बादाम का तेल भी हमें कई लाभ देता है। बादाम में 44% तेल मौजूद होता है जिसे कोल्ड प्रेस करके निकाला जाता है। इस तेल का आतंरिक और बाहरी दोनों तरह से उपयोग किया जाता है।

बादाम तेल में विटामिन ए, बी और ई मौजूद होता है। बादाम के तेल को दूध में डालकर पीने से दिमाग की कार्य क्षमता बढ़ जाती है। इससे शरीर में ताकत आती है। यह तेल आपकी सुंदरता को बढ़ाने में भी मदद करता है। इसके और भी कई लाभों के बारे में जानने के लिए पढ़े बादाम के तेल के फायदे।

  1. बादाम के तेल के फायदे हैं दिल के लिए - Almond Oil Benefits for Heart in Hindi
  2. बादाम तेल की मालिश है बालों के लिए उपयोगी - Badam ke Tel for Hair in Hindi
  3. बादाम के तेल का उपयोग करे फटे होठों को ठीक - Almond Oil for Lips Benefits in Hindi
  4. बादाम तेल के फायदे बढ़ाएँ आँखों की रौशनी - Almond Oil ke Fayde for Eyes in Hindi
  5. बादाम का तेल खूबसूरत त्वचा के लिए - Badam Oil for Skin in Hindi
  6. बादाम तेल बेनिफिट्स करें सूजन को कम - Almond Oil for Inflammation in Hindi
  7. बादाम तेल के फायदे हैं कब्ज में - Almond Oil Benefits for Constipation in Hindi
  8. बादाम के तेल के लाभ इर्रिटेबल बोवेल सिंड्रोम के लिए - Almond Oil for Irritable Bowel Syndrome in Hindi
  9. बादाम के तेल के गुण हैं सिरदर्द में उपयोगी - Benefits of Almond Oil for Headache in Hindi
  10. बादाम तेल के अन्य फायदे - Other benefits of Almond Oil in Hindi

 

कमजोर हृदय और बढ़े हुए कोलेस्ट्राल के लिए बादाम का तेल बहुत लाभकारी होता है। बादाम के तेल का सेवन कोलेस्ट्रॉल कम करता है जिससे दिल के दौरे या हार्ट स्ट्रोक का खतरा बहुत कम हो जाता है।

(और पढ़ें – बेसन खाने के फायदे दिल के लिए)

 

बालों से रूसी को दूर करने और बालों का झड़ना रोकने के लिए बादाम के तेल से मालिश करना बहुत ही अच्छा होता है। इसके अलावा बादाम का तेल दो मुँहे बालों की समस्या को भी दूर करने में सहायक है। बादाम के तेल से बाल काले , लंबे और चमकदार बनते हैं। बादाम का तेल एक कंडीशनर के रूवप में काम करता है। 

(और पढ़ें – बेसन के उपाय हैं लंबे और मजबूत बालों में लाभदायक)

 

फटे हुए होठों के लिए लिप बाम की जगह बादाम के तेल का उपयोग करना चाहिए। 1 चम्‍मच शहद में 5-6 बूंद बादाम तेल की अच्‍छी तरह से मिला लें और एक लीप बाम के रूप में प्रयोग करें। इस घरेलू उपाय से होंठो का फटना कम हो जाता है और होंठो में गुलाबी चमक आती है। इसके अलावा होठों का कालापन दूर करने के लिए भी आप इसका उपयोग कर सकते हैं।

(और पढ़ें – होठों का कालापन कैसे दूर करें)

 

आँखों की रोशनी बढ़ाने के लिए भी आप बादाम तेल का उपयोग कर सकते हैं। बादाम का तेल आँखों के नीचे के काले घेरो भी को कम करने में मदद करता है। बादाम का तेल आँखों से सम्बन्धित सभी बीमारियों में लाभकारी होता है। यदि आप देर रात तक या कंप्यूटर्स पर अधिक समय तक काम करते हैं तो आपको इस तेल का उपयोग जरूर करना चाहिए।

(और पढ़ें – आँखों के सूखेपन (ड्राई आईज) के घरेलू उपाय)

 

त्वचा को खूबसूरत बनाने के लिए बादाम का तेल बहुत अच्‍छा माना जाता है। बादाम के तेल के इस्तेमाल से आप त्‍वचा को मुलायम और कोमल बना सकते हैं। यह त्वचा के द्वारा आसानी से सोख लिए जाता है। बादाम का तेल मुहाँसो के दाग-धब्बो को दूर कर सकता है अगर यह नियमित रूप से उपयोग किया जाएँ। त्‍वचा की खुजली, सूजन और जलन को कम करने में भी यह मददगार है। इसे दैनिक रूप से चेहरे पर लगाने से झुर्रियां दूर हो जाती है।

(और पढ़ें - खुजली दूर करने के घरेलू उपाय)

बादाम तेल हर प्रकार त्‍वचा की त्वचा के लिए अच्छा होता है जैसे रूखी त्वचा, तैलीय त्वचा और नार्मल त्वचा। इस तेल से चेहरे पर मसाज करने से चेहरे पर चमक आती है। यदि बेसन में बादाम के तेल को मिलाकर पुरे शरीर की मालिश की जाएँ तो यह त्‍वचा को बूढा होने से रोकता है। यह त्‍वचा के रंग को साफ करने में भी मदद करता है।

(और पढ़ें – सामान्य, सूखी, तैलीय त्वचा के लिए सबसे अच्छे प्राकृतिक टोनर)

 

बादाम तेल में सूजन को कम करने वाले गुण हैं। यह त्वचा की सूजन को शांत और कम कर सकता है। इसके अलावा बादाम तेल खुजली और लालिमा को दूर कर सकता है जो चर्मरोग और एक्जिमा जैसे त्वचा रोगों की वजह से होती है। 10 मिलीलीटर बादाम तेल में एक मिलीलीटर नीम तेल को मिलाकर एक्जिमा और अन्य त्वचा रोगों के उपचार में उपयोग कर सकते हैं। बादाम के तेल को आंतरिक रूप से लेना सूजन को कम करने के लिए भी प्रभावी है

 

बादाम तेल में हल्के रेचक प्रभाव होते हैं। यह मल त्याग और आँतो के कार्यों पर काम कर सकता है। इसे प्राकृतिक रेचक लाभों का श्रेय दिया जाता है और यह अरंडी के तेल की तुलना में हल्का होता है। बादाम के तेल का उपयोग सूखे मल, शौच करते समय मुश्किल, आँतो के कार्यों के दौरान दर्द में किया जाता है। यदि इन लक्षणों में से कोई भी मौजूद है, तो शुरू में एक सप्ताह के लिए 5 मिलीलीटर बादाम रोगन को 200 मिलीलीटर दूध में प्रतिदिन तीन बार लिया जाना चाहिए। कब्ज की गंभीरता के अनुसार इसकी खुराक भी बढ़ायी जा सकती है। एक सप्ताह के बाद, इसे 10 मिलीलीटर की मात्रा में रात में एक बार लेना चाहिए। 

(और पढ़ें - कब्ज के कारण)

 

बादाम का तेल आंत्र संक्रमण और आंतों के कार्यों को बेहतर बनाता है। यह प्राकृतिक पेस्टलेटिक कार्यों में मदद करता है और यह मल त्याग में सहायक होता है। इसके सूजन को कम करने वाले प्रभाव आंतों की सूजन और कोलन की जलन को कम कर देते हैं। यह कब्ज को भी कम कर देता है। लेकिन बादाम के तेल का प्रयोग कम खुराक में किया जाना चाहिए। इरिटेबल बोवेल सिंड्रोम के लिए प्रति दिन 5 मिलीलीटर उपयोग करें। यह दस्त के दौरान प्रभावी नहीं है।

(और पढ़ें – पुदीने के फायदे करें इर्रिटेबल बोवेल सिंड्रोम का उपचार)

 

वैसे बादाम का तेल सिरदर्द और माइग्रेन के सभी कारणों में प्रभावी नहीं है। बादाम के तेल के परिणाम हर व्यक्ति में अलग हो सकते हैं। क्लिनिकल अनुभव के अनुसार, बादाम तेल का उपयोग गंभीर सिरदर्द, तनाव, कब्ज और गर्दन की कठोरता जैसे प्रमुख लक्षणों में किया जाता है। बादाम रोगन सिरदर्द और माइग्रेन में दर्द को कम करने में मदद कर सकता है। 

(और पढ़ें – सिर दर्द का देसी इलाज​)

बादाम तेल का इस्तेमाल बॉडी रैश को ठीक करने के लिए किया जाता है।

एक चम्मच बादाम तेल को गर्म दूध में डालकर पीने से शारीरिक कमजोरी दूर हो जाती है।

बादाम तेल में विटामिन डी भरपूर मात्रा में पाया जाता है। बादाम का तेल हड्डियों को मजबूत बनाता है।

बादाम के तेल को आप स्‍क्रब के रूप में भी उपयोग कर सकते हैं। इसके लिए आपको केवल 1 चम्मच चीनी में बादाम तेल मिलाना होगा।

यदि आपकी मांसपेशियों में दर्द रहता है तो एक गिलास गर्म दूध में एक चम्मच बादाम का तेल और 2 चम्मच शहद को मिलाएँ और पी लें। इससे दर्द में शीघ्र आराम मिलता है।

और पढ़ें – बादाम खाने का सही तरीका क्या है – बादाम को भिगोकर खाना या सादा बादाम खाना

और पढ़ें ...