myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

जीवन में स्वास्थ्य रहना आपके लिए सब कुछ है या यूं कहें कि आप स्वस्थ रहने के लिए क्या-क्या उपाय तक नहीं करते हैं। जिम में एक्सरसाइज करने से लेकर पार्क में जाकर दौड़ लगाना हो या फिर योग करना। इन सभी शारीरिक गतिविधियों से आप अपने आपको दुरुस्त रखना चाहते हैं। आपके शरीर में अलग-अलग मांसपेशियां विभिन्न कार्यों को पूरा करने में आपकी मदद करती हैं। इसमें आपके शरीर में कमर से निचला हिस्सा सबसे ज्यादा अहम है। यदि शरीर का यह हिस्सा कमजोर है तो आपका शरीर भी ताकत में कमजोर होगा। इस हिस्से में आपके पैर आते हैं, जिसकी मांसपेशियों की एक्सरसाइज आपके लिए बेहद जरूर हो जाती है। ऐसे में अगर लंज एक्सरसाइज का जिक्र न आए ऐसा हो ही नहीं सकता।

महिलाओं और पुरुषों के लिए लंज या लंजेस एक्सरसाइज के अलग-अलग फायदे हैं। दफ्तर में सीढ़ियां चढ़ना हो या फिर किसी वस्तु का भार उठाकर चलना हो, दोनों ही स्थितियों में यह एक्सरसाइज बेहद ही फायदेमंद है। आज हम आपको लंज एक्सरसाइज के कुछ ऐसे ही फायदों के बारे में बताने जा रहे हैं, जो बुढ़ापे तक आपको ताकतवर और सेहतमंद रहने में मदद करेंगे।

लंज से बढ़ती है मांसपेशियों की ताकत 

लंज एक्सरसाइज आपकी पिण्डलियों, हेमस्ट्रिंग और हिप्स की ताकत बढ़ाती है। इसके अलावा यह आपके पेट की अंदरूनी मांसपेशियों को भी टारगेट करती है, जिससे आपके कमर के हिस्से को स्थिर करने में मदद मिलती है। किसी भी एक्सरसाइज के जरिए आपकी ताकत बढ़ने से आपके पूरे स्वास्थ्य की ताकत भी बढ़ती है। इससे आपकी ध्यान केंद्रित करने की क्षमता भी मजबूत होती है। उदाहरण के लिए लंज एक्सरसाइज करने से आपकी ताकत तो बढ़ती ही है साथ यह आपकी सहनशीलता भी बढ़ाती है। 

(और पढ़ें - ताकत बढ़ाने के घरेलू उपाय)

शरीर में ज्यादा मांसपेशियों वाले समूह (पिण्डली, हेमस्ट्रिंग और हिप्स) की एक्सरसाइज करने से आपका मेटाबॉलिज्म भी बढ़ता है, जो आपको मोटापा कम करने में मदद करता है। लंज एक्सरसाइज को अलग-अलग तरीके से करने से मांसपेशियों के विभिन्न समूह की एक्सरसाइज होती है।

लंज एक्सरसाइज एक समय में एक पैर पर की जाती है। इससे आपके शरीर की बनावट, संतुलन और तालमेल भी अच्छा होता है। आपको कोर मजबूत होने का सबसे बड़ा फायदा यह होता है कि इससे कमर का दर्द ठीक होता है। इससे आपके शरीर की स्थिरता, एथलेटिक परफॉर्मेंस और ताकत बढ़ती है। लंज एक्सरसाइज आपकी रोजाना की दिनचर्या के कार्यों को करने में सरलता लाती है।

(और पढ़ें - कमर दर्द के लिए योगासन)

चलने के तरीके में होता है सुधार 

जैसाकि आपको ऊपर बताया गया है कि यह एक्सरसाइज एक बार में एक से ज्यादा मांसपेशियों के समूह को टारगेट करती है। इसलिए इसे कम्पाउंड एक्सरसाइज के नाम से जाना जाता है। लोग इसे फंक्शनल एक्सरसाइज के रूप में ज्यादा पसंद करते हैं। फंक्शनल एक्सरसाइज का मतलब उन मूवमेंट से होता है, जिन्हें आप रोजाना की दिनचर्या में करते हैं। उदाहरण के लिए सीढ़ियां चढ़ना (लंजिंग) या दरवाजा खींचकर खोलना (पुलिंग), आदि।

हालांकि, फंक्शनल एक्सरसाइज की असल परिभाषा पर अब भी बहस जारी है। वहीं, किसी भी एक्सरसाइज के लिए यह जरूरी होता है कि वह प्रॉकृतिक तरीके से आपकी परफॉर्मेंस और रोजाना के मूवमेंट को बेहतर बनाए। इसमें कोई दोहराय नहीं है कि लंज को फंक्शनल एक्सरसाइज की श्रेणी में रखा जाता है। यदि आप इस एक्सरसाइज को करते हैं, तो आप अपने चलने के तरीके को सुधार सकते हैं।

बढ़ाती है लचीलापन 

लंज एक्सरसाज करने से आपके शरीर में लचीलापन बढ़ता है। यह विशेषकर हिप फ्लेक्सर्स को और ज्यादा लचीला बनाती है, जिसका इस्तेमाल झुकने और हिप्स से टांगो को मोड़ने में होता है। जब आप लंज एक्सरसाइज करते हैं तब आप आमतौर पर अपने हिप फ्लेक्सर्स को स्ट्रेच करते हैं। इससे आपको सीधा होने और कमर में दर्द और चोट आने का खतरा कम होता है।

(और पढ़ें - बॉडी बनाने के लिए टिप्स)

यदि आप अपने हिप फ्लेक्सर्स की एक्सरसाइज नहीं करते हैं तो अक्सर वह सख्त हो जाते हैं, जिससे आपको कमर का दर्द होता है। यहां तक की यदि आप लंजेस का पूरा मूवमेंट नहीं करते हैं तो भी इस तरीके का बड़ा फायदा होता है। उदाहरण के लिए यदि आप अपना पिछला घुटना जमीन पर रखते हैं और हल्का सा हिप्स को आगे की तरफ बढ़ाते हैं तब भी आपके हिप्स पर अच्छी स्ट्रेचिंग होती है। इसका फायदा आपको लंबी दौड़ प्रतियोगिता में होता है।

रीढ़ को तनाव से मिलता है आराम 

जब आप स्कॉट्स करते हैं तो आपकी रीढ़ इसका दबाव झेलती है। वहीं, लंज एक्सरसाइज इसके एकदम विपरीत है। डंबल से लंज एक्सरसाइज करने से आपकी कमर पर कम दबाव पड़ता है। हालांकि, स्कॉट्स करते वक्त रीढ़ पर दबाव पड़ना कोई बुरी बात नहीं है लेकिन किसी एक्सरसाइज के जरिए इस पर दबाव कम करके उसे थोड़ा आराम देना बेहतर है।

अगर आप लंबे समय से एक्सरसाइज कर रहे हैं तो लंज एक्सरसाइज करने से आपकी रीढ़ को थोड़ा आराम जरूर मिलेगा। चूंकि एक सामान्य व्यक्ति के मुकाबले यदि आप अनुभवी वेटलिफ्टर हैं तो आप शारीरिक रूप से अपनी रीढ़ पर दबाव डाल सकते हैं।

लंज एक्सरसाइज बुढ़ापे में देती है फायदा 

मनुष्य की उम्र जैसे-जैसे बढ़ती है वैसे-वैसे उसके शरीर का संतुलन कम होने लगता है। अक्सर आपने बूढ़े लोगों को अचानक गिरते या चलते वक्त संतुलन न बनाने की समस्या से जूझते हुए देखा होगा। हम आपको पहले ही बता चुके हैं कि लंजेस आपके शरीर का संतुलन बनाने में मददगार होती है। यह सिर्फ आपकी जवानी तक ही सीमित नहीं रहता बल्कि इसका फायदा आपको बुढ़ापे तक होता है। नियमित रूप से इस एक्सरसाइज को करने वाले लोगों की वृद्धा अवस्था में उनके शरीर का संतुलन अच्छा रहता है। सीढ़ियां चड़ते वक्त या सामान उठाते वक्त उनके गिरने की संभावना बहुत ही कम रहती है।

कहीं भी और कभी भी करने में आसान 

लंज एक्सरसाइज का सबसे बड़ा फायदा यह है कि आप इसे कहीं भी और कभी भी कर सकते हैं। वहीं, दूसरी एक्सरसाइज को करने के लिए आपको निश्चित स्थान पर जाना पड़ेगा, जैसे कार्डियो एक्सरसाइज को करने के लिए आपको घर को छोड़कर लंबी दौड़ पर निकलना पड़ेगा। इसके अलावा जिम में एक्सरसाइज करना कई मामलों में आपके लिए महंगा साबित होता है, जिसमें आपको एक्सरसाइज करने के लिए वहां मौजूद लोगों के साथ जद्दोजहद करनी पड़ती है।

(और पढ़ें - लंबाई बढ़ाने के उपाय

इस मामले में लंज एक्सरसाइज बेहतर है, जिसे आप सुबह घर पर या दोपहर में पार्क में जाकर कर सकते हैं। यदि आपकी दिनचर्या काफी व्यस्त है तो आप इसे लंच ब्रेक के दौरान ऑफिस में भी कर सकते हैं। यह एक बहुमुखी एक्सरसाइज है, जो आपके लिए बेहद ही फायदेमंद है। इसे करने के लिए आपको किसी जिम मशीन की जरूरत नहीं है। इसके लिए आपको कोई कीमत चुकाने की भी जरूरत नहीं है। अनेकों फायदे वाली इस एक्सरसाइज को आपको जरूर करना चाहिए।

और पढ़ें ...