myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

प्राणायाम के कई प्रकार हैं, उनमें सबसे अधिक जाना जाता है अनुलोम-विलोम प्राणायाम। अनुलोम विलोम प्राणायाम एक कठिन अभ्यास है -- ख़ास तौर से जब श्वास रोकने के स्टेप के साथ किया जाए। दिल की बीमारियों या रक्तचाप की समस्याओं (उच्च या कम) से पीड़ित लोग साँस बिल्कुल ना रोकें। वे सांस थामे बिना अनुलोम विलोम प्राणायाम कर सकते हैं। इसलिए इसे एक अच्छे योग गुरु के निरीशाण में शुरू करना चाहिए। अगर आपकी कोई मेडिकल स्तिथि हो तो डॉक्टर से ज़रूर परामर्श करें।

आगे इस लेख में जानिए कि अनुलोम-विलोम प्राणायाम कैसे करें, लाभ और इस आसन को करते समय क्या सावधानियां बरतनी चाहिए। 

(और पढ़ें - ध्यान लगाने की विधि)

  1. अनुलोम-विलोम प्राणायाम के फायदे - Anulom-vilom pranayam ke fayde
  2. अनुलोम-विलोम प्राणायाम करने से पहले यह आसन करें - Anulom-vilom pranayam karne se pehle yeh aasan kare
  3. अनुलोम-विलोम प्राणायाम करने का तरीका - Anulom-vilom pranayam karne ka tarika
  4. अनुलोम-विलोम प्राणायाम करने का आसान तरीका - Anulom-vilom pranayam karne ka aasan tarika
  5. अनुलोम-विलोम प्राणायाम करने में क्या सावधानी बरती जाए - Anulom-vilom pranayam karne me kya savdhani barti jaye

अनुलोम विलोम प्राणायाम के लाभ इस प्रकार हैं -

  1. अनुलोम विलोम प्राणायाम नाड़ियाँ या प्राणिक चैनलों को साफ कर देता है और प्राण का पूरे शरीर में प्रवाह बना देता है।
  2. इतना ही नहीं, नाड़ियाँ शुद्ध कर देता है। अत: इस प्राणायाम को नाड़ी शोधन प्राणायाम भी कहा जाता है।
  3. यह शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालता है।
  4. यह तनाव, अवसाद और दिल से संबंधित समस्याओं के लिए चिकित्सकीय है।
  5. यह आपकी एकाग्रता में सुधार लाता है।
  6. त्वचा में दमक को बढ़ाता है।
  7. यह रक्त परिसंचरण में सुधार लाता है और साथ ही साथ मन को शांत करता है।

अनुलोम-विलोम प्राणायाम को अपने आसन अभ्यास को समाप्त करने के बाद ही करें।

अनुलोम-विलोम प्राणायाम करने का तरीका हम यहाँ विस्तार से दे रहे हैं, इसे ध्यानपूर्वक पढ़ें।

  1. किसी भी आरामदायक आसन में बैठ जायें। पद्मासन सबसे उत्तम है, परंतु सिद्धासन या वज्रासन भी ठीक है अगर आप पद्मासन नहीं कर सकते। अगर नीचे बैठना मुमकिन ना हो तो कुर्सी पर भी बैठ सकते हैं।
  2. अपने दाहिने हाथ के अंगूठे के साथ दाहिने नथुने को बंद करें। बाएँ नथुने से श्वास लें। श्वास धीरे-धीरे लें - मन में पाँच तक की गिनती करें। बायाँ हाथ बायें घुटने पर टिका होना चाहिए, इस हाथ से चिन मुद्रा बना कर रखें।
  3. अब दाहिने नथुने को छोड़ दें, हाथ की रिंग फिंगर से बायें नथुने को बंद कर लें। पाँच की गिनती करते हुए बायें नथुने से श्वास छोड़ें।
  4. यह पूरा हुआ एक तरफ का क्रम।
  5. अब बायें नथुने से पाँच तक की गिनती करते हुए श्वास लें। फिर इस नातुने को छोड़ दें और दाहिने नथुने को बंद करें और उस से श्वास छोड़ें।
  6. यह पूरा हुआ एक क्रम अनुलोम-विलोम प्राणायाम का।
  7. इसे 1 मिनिट हो सके तो 1 मिनिट के लिए करें। ज़्यादा हो सके तो ज़्यादा देर करें। शुरुआत में 2 मिनिट से ज़्यादा ना करें। समय के साथ साथ अवधि और गिनती बढ़ायें।
  8. ध्यान रहे की साँस बिल्कुल नहीं रोकनी है। साँस रोकना एक ज़्यादा मुश्किल रूप है प्राणायाम का जो आप शुरुआत में बिल्कुल ना करें।

अगर 5 की गिनती ज़्यादा लगे तो उसे अपनी मुताबिक कम कर लें।

  1. अनुलोम-विलोम प्राणायाम खाली पेट करें।
  2. हो सके तो सुबह करें, नहीं तो शाम को सूर्यास्त के समय करें। दोपहर के भोजन से कम से कम 3 घंटे के बाद ही करें।
  3. इसे एक अच्छे योग गुरु के निरीशाण में शुरू करना चाहिए।
और पढ़ें ...