myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

चिकनगुनिया एक वायरल संक्रमण है जो दुनिया के उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में सबसे अधिक होता है। यह संक्रमण एडीज मच्छर के काटने से फैलता है। इसके कारण जोड़ों में दर्द होता है, जो आमतौर पर लगभग 7 दिनों तक रहता है। चिकनगुनिया के कुछ अन्य लक्षणों में सिरदर्द, बुखारउल्टी, भूख न लगना, पीठ में दर्द, रोशनी के प्रति संवेदनशीलता और गले में खराश शामिल हैं, यह लक्षण सुबह के समय खराब हो जाते हैं। चिकनगुनिया के इलाज के लिए कोई विशेष दवा उपलब्ध नहीं है। हालांकि, आमतौर पर एंटी इंफ्लेटरी मेडिसिन (सूजन रोधी दवा) लेने और पर्याप्त मात्रा में आराम करने की सलाह दी जाती है।

चिकनगुनिया के होम्योपैथिक उपचार का उद्देश्य लक्षण का प्रबंधन करने के साथ-साथ रोगी के समग्र स्वास्थ्य में सुधार करना है। चिकनगुनिया के इलाज के लिए जिन उपचारों का उपयोग किया जाता है, उनमें रस टॉक्सोडेन्ड्रोन, यूपैटोरियम एरोमैटिकम, पाइरोजेनियम, नक्स वोमिका, बेलाडोना, आर्सेनिकम एल्बम और ब्रायोनिया अल्बा शामिल हैं।

होम्योपैथिक डॉक्टर रोगी में बीमारी की प्रवृत्ति, मानसिक, शारीरिक जांच और नैदानिक परीक्षण के बाद दवाई निर्धारित करते हैं। इसलिए, होम्योपैथिक उपचार एक जैसी बीमारी वाले व्यक्तियों में एक जैसा असर नहीं करती हैं। होम्योपैथी दवाएं 'लाइक क्योर लाइक' सिद्धांत पर आधारित हैं। इसका मतलब है कि किसी स्वस्थ व्यक्ति में लक्षण पैदा करने वाले पदार्थ का उपयोग करके समान लक्षणों वाले बीमार व्यक्ति के इलाज का प्रयास किया जा सकता है, बशर्ते इन दवाओं की खुराक उचित मात्रा में ली जाए।

  1. चिकनगुनिया के लिए होम्योपैथिक दवाएं - Chikungunya ki homeopathic medicine
  2. होम्योपैथी के अनुसार चिकनगुनिया के रोगी के लिए आहार और जीवन शैली में बदलाव - Chikungunya ke liye khan pan aur jeevan shaili me badlav
  3. चिकनगुनिया के लिए होम्योपैथिक दवाएं और उपचार कितने प्रभावी हैं - Chikungunya ki homeopathic medicine kitni effective hai
  4. चिकनगुनिया के लिए होम्योपैथिक दवा और उपचार के साइड इफेक्ट्स और जोखिम - Chikungunya ki homeopathic medicine ke nuksan
  5. चिकनगुनिया के होम्योपैथिक उपचार से संबंधित टिप्स - Chikungunya ki homeopathic treatment se jude tips

नक्स वोमिका
सामान्य नाम :
पॉइजन-नट
लक्षण : नक्स वोमिका उन लोगों के लिए सबसे उपयुक्त है जो सेंडेटरी लाइफ स्टाइल (ऐसी जीवनशैली जिसमें बहुत कम या कोई शारीरिक गतिविधि शामिल नहीं होती।) जीते हैं, लेकिन लंबे समय तक काम करने के कारण मानसिक तनाव से ग्रस्त रहते हैं। ये लोग स्वभाव से चिड़चिड़े हो जाते हैं। यह उपाय चिकनगुनिया के रोगियों में उल्टी के लक्षणों को कम करने में मदद करता है। इसके अलावा यह निम्नलिखित लक्षणों से भी छुटकारा दिलाता है :

  • बुखार जो ठंड लगने पर शुरू होता है
  • पीठ और हाथ पैर में दर्द
  • नाखूनों का रंग नीला होना
  • शरीर के एक तरफ पसीना
  • शरीर न ढकने पर ठंड लगना, लेकिन इस स्थिति में व्यक्ति खुद को कवर करना पसंद नहीं करता है
  • सुबह के समय में हाथ पैर में एनर्जी न महसूस होना
  • सिरदर्द, खासकर धूप के संपर्क में आने पर
  • शरीर में शुष्क गर्मी का अहसास
  • चलते समय घुटने के जोड़ों से आवाज आना
  • त्वचा पर धब्बे और लालिमा

यह लक्षण मसालेदार भोजन, ठंड और शुष्क मौसम में और सुबह के समय खाने के बाद बदतर हो जाते हैं। जबकि आराम करने, बरसात और उमस भरे मौसम में यह बेहतर होते हैं।

पायरोजिनियम
सामान्य नाम :
आर्टिफिशियल सेप्सिन
लक्षण : होम्योपैथी में पायरोजन को एक गुणकारी एंटीसेप्टिक दवा के रूप में जाना जाता है। यह तेज बुखार के प्रबंधन में मदद करता है, जो चिकनगुनिया के सबसे आम लक्षणों में से एक है। यह उपाय निम्नलिखित लक्षणों के प्रबंधन में भी लाभदायक है :

  • बेचैनी
  • ठंड लगने के साथ बुखार आना, विशेष रूप से पीठ में
  • सभी हड्डियों सहित हाथ पैर में दर्द
  • संक्रमण से होने वाला बुखार
  • उल्टी
  • सुबह के समय अत्यधिक कमजोरी महसूस होना
  • अत्यधिक पसीने के साथ बुखार
  • हाथ पैर में दर्द, जो हिलने-डुलने पर बेहतर हो जाता है
  • सूखी और सूजन वाली त्वचा

यह सभी लक्षण आगे गतिविधि करने पर बेहतर हो जाते हैं।

बेलाडोना
सामान्य नाम :
डेडली नाइटशेड
लक्षण : बेलाडोना बच्चों में अच्छा असर करता है। यह चिकनगुनिया के रोगियों में उल्टी और तेज बुखार को कम करता है, इसके अलावा निम्नलिखित लक्षणों को कम करने में भी मदद करता है :

  • प्यास न लगना व साथ में बुखार आना, ठंडे पैर और केवल सिर में पसीना आना
  • जोड़ों में सूजन
  • हाथों और पैरों में चुभन वाला दर्द
  • सिरदर्द, जो तेज रोशनी के संपर्क में आने व दोपहर में बदतर हो जाता है
  • पीली और लाल त्वचा
  • चलने में लड़खड़ाना
  • अनैच्छिक रूप से लड़खड़ाना या सही से न चल पाना
  • उंघाई के साथ नींद आना

लेटने, तेज आवाज और दोपहर में लक्षण बदतर हो जाते हैं, जबकि सेमी इरेक्ट पोजिशन (लेटने व बैठने के बीच वाली स्थिति) में रहने से रोगी बेहतर महसूस करता है।

रस टॉक्सोडेन्ड्रोन
सामान्य नाम :
पॉइजन-आइवी
लक्षण : यह उपाय उन लोगों में अच्छा काम करता है, जो हिलने या किसी तरह की गतिविधि करने के बाद बेहतर महसूस करते हैं। यह चिकनगुनिया के रोगियों में जोड़ों के दर्द और त्वचा के चकत्ते जैसी समस्या को कम करने में मदद करता है। इसके अलावा निम्नलिखित लक्षणों के प्रबंधन में भी सहायक है :

  • बुखार, कंपकंपी और बेचैनी
  • बाहों और पैरों में अकड़न
  • स्नायुबंधन और टेंडन में दर्द
  • जोड़ों में सूजन
  • अत्यधिक थकान के बाद हाथ पैर सुन्न हो जाना
  • रुक-रुककर ठंड लगने और सूखी खांसी के साथ बुखार
  • घुटने के जोड़ में टेंडरनेस
  • उंगलियों और कोहनी से हाथ के बीच वाले हिस्से में कमजोरी
  • पैरों में सिहरन वाली झुनझुनी और उंगलियों पर कुछ रेंगने जैसा अहसास होना
  • ताजी व ठंडी हवा के संपर्क में आने पर शरीर में दर्द होना

बारिश के मौसम में, रात को सोते समय, आराम करते समय और दायीं तरफ या पीठ के बल लेटने से लक्षण और खराब हो जाते हैं। जबकि यह सभी शिकायतें गर्म मौसम में, शुष्क मौसम में और चलने पर बेहतर हो जाते हैं।

आर्सेनिकम एल्बम
सामान्य नाम :
आर्सेनिक एसिड
लक्षण : आर्सेनिकम एल्बम ऐसे बेचैन और चिड़चिड़े व्यक्तियों के लिए सबसे उपयुक्त है जो लगातार चिंतित या डरे हुए रहते हैं। यह भूख में सुधार और बुखार के कारण बेचैनी को कम करके चिकनगुनिया के इलाज में मदद करता है। यह उपाय निम्नलिखित लक्षणों के प्रबंधन में भी प्रभावी है :

  • तेज बुखार
  • हाथ या पैरों में बेचैनी और मरोड़
  • पसीना व सर्दी लगना
  • उल्टी
  • पैरों में सूजन
  • बेहोशी
  • पिंडली में भारीपन और कमजोरी

यह लक्षण आधी रात को, ठंड और बरसात के मौसम में और ठंडे भोजन या पेय पदार्थ का सेवन करने के बाद बढ़ जाते हैं। जब रोगी अपने सिर को ऊंचे स्थान पर रखता है या गर्म पेय लेता है, तो लक्षणों में सुधार होता है।

ब्रायोनिया अल्बा
सामान्य नाम :
वाइल्ड हॉप्स
लक्षण : यह उपाय उन लोगों के लिए सबसे उपयुक्त है जो स्वस्थ हैं, चिड़चिड़े हैं और सांवले रंग के हैं। यह शारीरिक कमजोरी और मांसपेशियों में दर्द की स्थिति को ठीक करता है। ब्रायोनिया अल्बा चिकनगुनिया सहित निम्नलिखित लक्षणों के प्रबंधन में मदद करता है :

  • ठंड लगना व बुखार आना
  • अधिक पसीना आने के साथ बुखार
  • घुटनों में दर्द और जकड़न
  • पैरों के जोड़ों में सूजन, गर्मी और लालिमा
  • उठते समय बेहोशी और मतली
  • तेज सिरदर्द
  • सिरदर्द, जो आंखों की पुतलियों को हिलाने के बाद और बिगड़ जाता है

गर्म मौसम और सुबह में लक्षण बदतर हो जाते हैं, जबकि दर्द वाले हिस्से के बल लेटने, आराम करने और ठंडी चीज पर लेटने से बेहतर हो जाते हैं।

एसैफोएटिडा
सामान्य नाम :
गम ऑफ दि स्टिंकसेंड
लक्षण : एसैफोएटिडा चिकनगुनिया के रोगियों में जोड़ों के दर्द को कम करने में मदद करता है। इसके अलावा यह निम्नलिखित लक्षणों का भी इलाज करता है :

  • त्वचा की खुजली
  • हड्डियों में दर्द
  • रात में शरीर में तेज दर्द होना
  • पेरीओस्टेम (हड्डियों पर एक घनी ऊतक की परत) में दर्द और सूजन
  • बदबूदार पानी निकलना

यह लक्षण आराम करने, गर्म सिकाई करने, बाएं तरफ लेटने और रात के समय में लक्षण बिगड़ जाते हैं, जबकि प्रभावित हिस्से पर दबाव डालने और खुली हवा में समय बिताने पर यह बेहतर हो जाते हैं।

यूपैटोरियम एरोमैटिकम
सामान्य नाम :
पूल-रूट
लक्षण : यह उपाय बुखार को कम करने में मदद करता है। यह बेचैनी और कोरिया (नसों से संबंधित विकार, जिसमें असामान्य गतिविधियां होती हैं) को भी कम करता है।

डॉ हैनिमैन (होम्योपैथिक दवा के संस्थापक) के अनुसार, होम्योपैथिक दवाइयों को अत्यंत घुलनशील रूप में तैयार किया जाता है, ऐसे में बाहरी कारकों, कुछ जीवनशैली और आहार की वजह से चिकनगुनिया के लक्षण आसानी से खराब हो सकते हैं, इसके अलावा यह होम्योपैथिक दवाओं के असर को भी प्रभावित करते हैं। इसलिए, होम्योपैथिक उपचार से अधिकतम लाभ प्राप्त करने और समग्र स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए होम्योपैथिक डॉक्टर की सलाह लें।

क्या करना चाहिए

  • व्यक्ति को उसकी इच्छा के अनुसार खानपान कराएं, इससे उन्हें संतुष्टि मिलती है और वो अच्छा महसूस करते हैं।
  • कमरे के तापमान को अपने आराम के अनुसार रखें।

क्या नहीं करना चाहिए

  • मानसिक तनाव न लें
  • बहुत उत्साहित न हों

होम्योपैथिक उपचार प्राकृतिक पदार्थों से बनाए जाते हैं और खास बात यह है कि रोगी में बीमारी की प्रवृत्ति और लक्षणों के आधार इन दवाइयों को निर्धारित किया जाता है। वैज्ञानिक अध्ययन बताते हैं कि चिकनगुनिया के रोगियों के लिए होम्योपैथिक उपचार प्रभावी हैं।

पोस्ट चिकनगुनिया क्रोनिक आर्थराइटिस (पीसीसीए) और चिकनगुनिया बुखार के प्रबंधन हेतु होम्योपैथिक उपचार के प्रभाव का अध्ययन करने के लिए, आईएसएम एंड होम्योपैथी, भारत के निदेशालय में एक अध्ययन किया गया था। इस अध्ययन में 126 रोगियों को उनकी स्थिति के अनुसार होम्योपैथिक दवा दी गई। लक्षणों को मापने के लिए एक 'विजुअल एनालॉग स्केल' का उपयोग किया गया था। अध्ययन के परिणामों के अनुसार, पीसीसीए के 90 प्रतिशत मामले लगभग 32.5 दिनों में और 84.5 प्रतिशत रोगी पूरी तरह से लगभग 6.8 दिनों में ठीक हुए।

केरेल में आयोजित एक डबल-ब्लाइंड स्टडी से पता चला कि चिकनगुनिया को रोकने के लिए होम्योपैथिक दवाओं को रोगनिरोधी दवाओं के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। डबल-ब्लाइंड स्टडी में न तो प्रतिभागियों और न ही प्रयोगकर्ताओं को पता होता है कि मरीज कौन सा उपचार प्राप्त कर रहा है।

फिलहाल, अध्ययन के लिए 19,750 लोगों को ब्रायोनिया अल्बा और 18,479 लोगों प्लेसेबो दिया गया था। यह अध्ययन 35 दिनों के लिए किया गया था। निष्कर्षों से पता चला कि दोनों समूहों के संक्रमण दर में एक महत्वपूर्ण अंतर था, ब्रायोनिया अल्बा प्राप्त करने वालों में लोगों में से 19.76 फीसद में जोखिम कम हुआ।

होम्योपैथिक उपचार किसी योग्य होम्योपैथिक चिकित्सक के निर्देश के अनुसार लेने पर कोई दुष्प्रभाव नहीं होता है। इन दवाओं को खनिज और जड़ी-बूटियों जैसे प्राकृतिक पदार्थों से बनाया जाता है, जिनका इस्तेमाल करने से पहले इन्हें काफी हद तक पतला या घुलनशील रूप दिया जाता है। इसके अलावा, यह दवाइयां अत्यधिक नियंत्रित तरीके से व कम मात्रा में दी जाती हैं।

चिकनगुनिया एक वायरल संक्रमण है, जो जोड़ों को प्रमुख रूप से प्रभावित करता है। इस बीमारी में जोड़ों के दर्द के साथ बुखार, भूख न लगना, सिरदर्द और उल्टी जैसे लक्षण दिखाई देते हैं। होम्योपैथिक उपचार चिकनगुनिया के लक्षणों को कम करता है और तुरंत फायदा पहुंचाता है। पायरोजन, यूपैटोरियम और नक्स वोमिका कुछ बेहतरीन होम्योपैथिक उपचार हैं, जो चिकनगुनिया के रोगियों में बुखार को कम करने में मदद करते हैं।

प्राकृतिक पदार्थों से बने होने के कारण, होम्योपैथिक उपचार के कई दुष्प्रभाव नहीं होते हैं। किसी योग्य चिकित्सक की सलाह के बाद होम्योपैथिक दवाएं लेना सबसे अच्छा है, बशर्ते इन दवाओं की खुराक उचित मात्रा में ली जाए।

और पढ़ें ...

References

  1. National Organization for Rare Disorders. Chikungunya. Danbury, CT; [Internet]
  2. Oscar E. Boericke. Repertory. Médi-T; [lnternet]
  3. Wadhwani GG. Homeopathic drug therapy. Homeopathy in Chikungunya Fever and Post-Chikungunya Chronic Arthritis: an observational study. Homeopathy. 2013 Jul;102(3):193-8. PMID: 23870379
  4. Hari Singh, Vijay Pratap Singh1, Chaturbhuja Nayak et al. Homoeopathic Genus Epidemicus 'Bryonia alba' as a prophylactic during an outbreak of Chikungunya in India: A cluster -randomised, double -blind, placebo- controlled trial. Year : 2014 Volume : 8 Issue : 3 Page : 160-165
  5. The European Comittee for Homeopathy. Benefits of Homeopathy. Belgium; [Internet]
ऐप पर पढ़ें
कोरोना मामले - भारतx

कोरोना मामले - भारत

CoronaVirus
604643 भारत
2दमन दीव
100अंडमान निकोबार
15252आंध्र प्रदेश
195अरुणाचल प्रदेश
8582असम
10249बिहार
446चंडीगढ़
2940छत्तीसगढ़
215दादरा नगर हवेली
89802दिल्ली
1387गोवा
33232गुजरात
14941हरियाणा
979हिमाचल प्रदेश
7695जम्मू-कश्मीर
2521झारखंड
16514कर्नाटक
4593केरल
990लद्दाख
13861मध्य प्रदेश
180298महाराष्ट्र
1260मणिपुर
52मेघालय
160मिजोरम
459नगालैंड
7316ओडिशा
714पुडुचेरी
5668पंजाब
18312राजस्थान
101सिक्किम
94049तमिलनाडु
17357तेलंगाना
1396त्रिपुरा
2947उत्तराखंड
24056उत्तर प्रदेश
19170पश्चिम बंगाल
6832अवर्गीकृत मामले

मैप देखें