myUpchar प्लस+ के साथ पुरे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

आपके शरीर की एनर्जी या ऊर्जा कम होने के कई कारण हो सकते हैं। ऑफिस में घंटों काम या जिम में अधिक व्यायाम करने से आपको थकान महसूस होने लगती है। दरअसल एनर्जी कम होने से ही आप खुद को थका हुआ महसूस करते हैं।

(और पढ़ें - कमजोरी दूर करने के उपाय)

लेकिन विटामिन और अन्य सप्लीमेंट्स की मदद से आप आसानी से शरीर की ऊर्जा या एनर्जी को बढ़ा सकते हैं। बाजार में आपकी एनर्जी को बढ़ाने के लिए कई ड्रिंक्स भी मौजूद हैं। अनियमित जीवनशैली के कारण होने वाली थकावट को दूर करने और एनर्जी के स्तर को बढ़ाने के लिए आप कई सरल तरीकों और उपायों को आजमा सकते हैं।

(और पढ़ें - स्टेमिना बढ़ाने के उपाय)

आगे इस लेख में आपको एनर्जी बढ़ाने के आसान उपायों के बारे में ही बताया जा रहा है।

(और पढ़ें - ताकत बढ़ाने के घरेलू उपाय)

  1. एनर्जी (शरीर की ऊर्जा) बढ़ाने के उपाय - Energy badhane ke upay
  2. एनर्जी बढ़ाने के तरीके - Energy badhane ke tarike
  3. एनर्जी कैसे बढ़ाएं - Energy kaise badhaye in hindi

शरीर की ऊर्जा बढ़ाने का तरीका है पर्याप्त नींद लेना - Energy badhane ka tarika hai paryapt nind lena

काम के चलते अधिकतर लोग नींद कम लेते हैं। लोगों पर काम को पूरा करने का इतना दबाव होता है कि वह अपने काम को पूरा करने के लिए नींद लेने के आवश्यक घंटों में कमी कर देते हैं।

एक अनुमान के मुताबिक 20 से 30 प्रतिशत लोगों को नींद लेने का पर्याप्त समय नहीं मिल पाता है, जिसकी वजह से उनको सही तरह से नींद नहीं आ पाती है। 

(और पढ़ें - नींद न आने का इलाज)

नींद की कमी के कारण आप सुस्ती, चिड़चिड़ापन और थका हुआ महसूस करते हैं। यदि आप अक्सर ऐसा महसूस करते हैं, तो ऐसे में आपको पर्याप्त नींद लेने का प्रयास करना चाहिए।

साथ ही आपको इस बात को सुनिश्चित करना चाहिए कि रात में आप कम से कम करीब 7 घंटे जरूर सोएं। कुछ लोगों को इससे ज्यादा, तो कुछ को सोने की कम आवश्यकता हो सकती है।

अगर आप अपनी जरूरत के अनुसार नींद नहीं ले पा रहें हैं तो आप दिन थोड़े समय के लिए आराम करने की आदत जरूर डालें। इसके लिए आप किसी किताब को पढ़ें या रोजाना सोने के समय से आधा घंटे पहले बिस्तर पर चले जाएं। 

(और पढ़ें - नींद की कमी का उपचार कैसे करें)

रात को सोने से पहले मोबाइल फोन का इस्तेमाल न करें और टीवी आदि उपकरणों को अपने बिस्तर से दूर ही रखें। बिस्तर के पास टीवी या मोबाइल होने से आपको अच्छी नींद लेने में मुश्किल आ सकती है और ऐसे में आपको पूरा दिन सुस्ती महसूस होती है।

चिंता और तनाव में सोने से आपकी नींद रात में बार-बार खुल सकती है। इस तरह की समस्या में आप मेडिटेशन करें, इससे आपके दिमाग को शांति मिलेगी।

(और पढ़ें - गहरी नींद आने के घरेलू उपाय)

एनर्जी बढ़ाने का उपाय है तनाव से दूर रहना - Energy badhne ka upay hai tanav se dur rahna

व्यस्त दिनचर्या के कारण लोगों में तनाव और चिंता होना आम बात है। तनाव की स्थिति में आपकी एकाग्रता में कमी आ जाती है। आपके विचारों में तेजी से परिवर्तन होता है और कभी-कभी तो आप एक ही बात के बारे में बार-बार सोचने लगते हैं।

(और पढ़ें - तनाव दूर करने के घरेलू उपाय)

ऐसे में आपके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य पर भी गहरा असर पड़ता है। तनाव महसूस करना और थकान के बीच संबंध होता है। कई मामलों देखा गया है कि आप अपनी जिंदगी से तनाव के सभी कारणों को पूरी तरह से दूर नहीं कर पाते हैं। हालांकि, दिनचर्या से जुड़े तनाव के कुछ कारणों को कम करके आप अपनी एनर्जी के स्तर में बढ़ोतरी कर सकते हैं। 

(और पढ़ें - चिंता को दूर करने के लिए योगासन)

थोड़े समय के लिए आराम करने, किताबों को पढ़ने और टलने या सैर पर जाने से आप अपनी ऊर्जा या एनर्जी के स्तर में आसानी से बढ़ा सकते हैं। योग और ध्यान क्रिया भी तनाव को तेजी से कम करने का बेहतर माध्यम होता है। 

गंभीर रूप से तनाव व चिंता महसूस करने पर आप मानसिक और चिकित्सीय इलाज कराएं।

(और पढ़ें - तनाव दूर करने के लिए योग)

एनर्जी बढ़ाने के टिप्स में शामिल है एक्सरसाइज करना - Energy badhane ke tips me shamil hai exercise karna

नियमित एक्सरसाइज करने से आप गंभीर बीमारियों जैसे हृदय रोग, डायबिटीज और मोटापे से सुरक्षित रहते हैं।

(और पढ़ें - डायबिटीज कम करने के घरेलू उपाय)

इतना ही नहीं सुस्त दिनचर्या से भी आपकी ऊर्जा का स्तर बढ़ता है। यह आपको थोड़ा अजीब लग सकता है, लेकिन जब आप थकान महसूस करते हैं, तो उस समय शरीर को हिलाना-ढुलाना या खड़े होना भी आपको महत्वपूर्ण काम लगता है। 

(और पढ़ें - थकान दूर करने के लिए क्या खाएं)

इसके फायदों को लेने के लिए आपको घंटों जिम में वर्कआउट करने की भी जरूर नहीं होती है।

एक अध्ययन में पाया गया कि सुस्त दिनचर्या वाले लोग रोजाना नियमित रूप से साईकिल चलाने से अपनी थकान को करीब 65 प्रतिशत की कम सकते हैं। एक अन्य अध्ययन में सुझाव दिया गया कि किसी चीज को खाने के बजाय 10 मिनट की सैर करने या टहने से आपकी एनर्जी का स्तर तेज से बढ़ता है।

आपको अपने ऑफिस में लंज के दौरान भी थोड़ा अवश्य घूमना चाहिए।  

(और पढ़ें - सुबह की सैर करने के फायदे)

एनर्जी बढ़ाने के लिए धूम्रपान न करें - Energy badhane ke liye smoking na kare

धूम्रपान आपकी सेहत को सीधे तौर पर नुकसान पहुंचाता है। सिगरेट के धुएं से आपको कई तरह के रोग जैसे हृदय रोग, फेफड़ों का कैंसरस्ट्रोक होने की संभावनाएं काफी हद तक बढ़ जाती हैं।

(और पढ़ें - फेफड़ों को स्वस्थ रखने के लिए खाएं ये आहार)

सिगरेट में मौजूद विषाक्त पदार्थ और टार आपके फेफड़ो की कार्यक्षमता को कम कर देते हैं। कुछ समय के बाद यह आपके शरीर में अन्य हिस्सों में पहुंचने वाली ऑक्सीजन को भी कम कर देते हैं, जिससे आपको थकान महसूस होने लगती है।

अगर आप धूम्रपान करते हैं तो इस बुरी आदत को छोड़कर आप आसानी से अपनी एनर्जी को बढ़ा सकते हैं।

सिगरेट को छोड़ने के लिए आप निकोटिन च्युइंगम या ई-सिगरेट की मदद ले सकते हैं। जब आप सिगरेट छोड़ने का फैसला करें, तब अपने डॉक्टर से मिलकर, उनसे इस बारे में सही सलाह अवश्य लें।

(और पढ़ें - सिगरेट छोड़ने के घरेलू उपाय)

एनर्जी बढ़ाने के लिए शराब ना पीएं - Energy badhane ke liye sharab na piye

शराब पीने से भी आप खुद को थका हुआ महसूस करते हैं। शराब कभी-कभी सीडेटिव्स (sedatives: शरीर को शांत करने वाली) की तरह कार्य करती है, जिससे आपको नींद आने लगती है। इसी वजह से कई लोगों का मानना है कि शराब उनको जल्द और बेहतर नींद प्रदान कर सकती है। हालांकि, नियमित रूप से शराब पीने से आपकी नींद में खलल पड़ता है। पर्याप्त नींद न लेने से आप सामान्य की तुलना में अधिक थकान महसूस करते हैं।

(और पढ़ें - शराब की लत का उपचार)

एल्कोहल मूत्रवर्धक की तरह भी कार्य करती है। अगर आप रात को सोने से पहले शराब पीते हैं तो इससे आपको पूरी रात बार बार पेशाब जाना पड़ सकता हैं और इसकी वजह से आपकी नींद खराब हो सकती है।

हालांकि, जब बात आपकी सेहत की आती है तो आपको कम से कम शराब पीने की ही सलाह दी जाती है।

(और पढ़ें - शराब की लत छुड़ाने के घरेलू उपाय)

एनर्जी बढ़ाने का उपाय है पौष्टिक आहार खाना - Energy badhane ka upay hai poshtik aahar khana

अगर आप हमेशा ही थकान, सुस्त और कम एनर्जी महसूस करते हैं तो आपको अपने खाने की आदतों पर ध्यान देना चाहिए। खाने की सही आदतों से आपको कई तरह के रोग होने की संभावनाएं कम हो जाती है। साथ ही आपके एनर्जी के स्तर पर भी प्रभाव पड़ता है।

पौष्टिक आहार से आपके शरीर को पोषक तत्व प्राप्त होते हैं, जिससे आपका शरीर सही तरह से कार्य कर पाता है। अगर आप हाई शुगर और फैट वाले प्रोसेस्ड खाद्य पादर्थों को लेते हैं तो इसका सीधा असर आपकी एनर्जी के स्तर और सेहत पर पड़ता है।

(और पढ़ें - एक महीने में फिट होने का आसान तरीका)

साथ ही अनियमित खान-पान व लंबे समय तक भूखे रहने की आदत से आपके शरीर में पोषक तत्वों की कमी हो सकती है, जिसकी वजह से भी आप थकान महसूस कर सकते हैं।

एक अध्ययन में नाश्ते न करने और खान-पान की अनियमित आदतों वाले कुछ छात्रों को लिया गया। खान-पान की खराब आदतों के कारण इन छात्रों में थकान होने की संभावनाएं काफी बढ़ गई।

(और पढ़ें - संतुलित आहार क्या है)

रोजाना की शारीरिक आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए पर्याप्त मात्रा में आहार लेना भी बेहद जरूरी होता है।

डाइट के कारण आपके शरीर में कैलोरी व अन्य आवश्यक पोषक तत्वों जैसे आयरन आदि की कमी हो सकती है, जिससे आपके एनर्जी के स्तर पर बुरा प्रभाव पड़ता है।

(और पढ़ें - प्रोटीन युक्त भारतीय आहार)

एनर्जी बढ़ाने के लिए शुगर ना लें - Energy badhane ke liye sugar na le

जब आप थके हुए होते हैं तब आपको मीठा खाने का मन करता है। हालांकि, चीनी आपकी एनर्जी को थोड़े समय के लिए बढ़ा सकती हैं, लेकिन इसका असर जल्द ही खत्म भी हो जाता है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि हाई शुगर वाले आहार से खून में शुगर का स्तर तेजी से बढ़ जाता है। खून में शुगर के बड़े स्तर को दोबारा सामान्य लाने के लिए शरीर में अधिक मात्रा में इंसुलिन जारी होने लगती है।

(और पढ़ें - इसुलिन टेस्ट क्या है)

ऐसा माना जाता है कि शुगर के स्तर में उतार-चढ़ाव होने के कारण ही ऊर्जा के निम्न स्तर में बदलाव होने लगता है।

अधिक मात्रा में शुगर खाने से आपको मोटापा, डायबिटीज और हृदय रोग होने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं, इसलिए अपने आहार में कम से कम शुगर को शामिल करें। शुगर की अधिक मात्रा न सिर्फ आपके एनर्जी लेवल पर बुरा प्रभाव डालती है, बल्कि यह आपकी सेहत के लिए भी खतरनाकर होती है।

(और पढ़ें - मोटापा कम करने के लिए योगासन)

आप अपने आहार में साबुत अनाज और फाइबर युक्त खाद्य पदार्थों को शामिल कर, उसकी गुणवत्ता में बढ़ोतरी कर सकते हैं।

(और पढ़ें - फाइबर युक्त आहार क्या है)

और पढ़ें ...