शुगर के रोगियों की संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। वहीं, इस बीमारी को लेकर आम लोगों में कुछ गलत धारणाएं भी बन गई हैं। कुछ लोगों का मानना है कि डायबिटीज होने पर केला नहीं खाना चाहिए, वहीं कुछ लोग कहते हैं कि घी खाने से ब्लड शुगर बढ़ जाता है। अब ये बातें कितनी सही हैं और कितनी गलत, उसे जानने के लिए वैज्ञानिक प्रमाण की जरूरत होती है।

आप डायबिटीज का आयुर्वेदिक इलाज जानने के लिए यहां दिए लिंक पर क्लिक करें।

आज इस लेख में आप डायबिटीज से जुड़े विभिन्न मिथ और उनके पीछे की सच्चाई के बारे में जानेंगे -

  1. डायबिटीज से जुड़े मिथ
  2. सारांश

यहां हम डायबिटीज से जुड़े कुछ ऐसे मिथकों के बारे में बता रहे हैं, जिन्हें लेकर अक्सर लोगों के बीच शंका रहती है -

मधुमेह में बचें केले के सेवन से - Avoid Banana in Diabetes in Hindi

मधुमेह से पीड़ित रोगी को अक्सर केला खाने के लिए मना किया जाता है। सभी फलों में प्राकृतिक शर्करा होता है, जिनमें अधिकतर ग्लाइसेमिक इंडेक्स में कम होते हैं। केले को अमेरिकी डायबेटिक एसोसिएशन द्वारा भी मंजूरी दे दी गई है लेकिन इसके मूल देश में डॉक्टरों और आहार विशेषज्ञों द्वारा इसे त्याग दिया गया है। केले सिर्फ सुरक्षित ही नहीं है बल्कि मधुमेह वाले लोगों को भी खाने की सलाह दी जाती है क्योंकि यह खनिज समृद्ध होते हैं और उच्च रक्तचाप को भी रोकने में मदद करते हैं।

myUpchar के डॉक्टरों ने अपने कई वर्षों की शोध के बाद आयुर्वेद की 100% असली और शुद्ध जड़ी-बूटियों का उपयोग करके myUpchar Ayurveda Madhurodh Capsule बनाया है। इस आयुर्वेदिक दवा को हमारे डॉक्टरों ने कई लाख लोगों को डायबिटीज के लिए सुझाया है, जिससे उनको अच्छे प्रभाव देखने को मिले हैं।
Sugar Tablet
₹699  ₹999  30% छूट
खरीदें

डायबिटीज में चाय के लिए चीनी का उपयोग ना करना - Avoiding Sugar in Tea in Diabetes in Hindi

आपकी चाय में एक या दो चम्मच चीनी डालना निम्न श्रेणी की चीनी और ट्रांसफैट बिस्किट / क्रैकर की तुलना में काफी बेहतर है। बात यह है कि यदि आप चीनी को समस्या के रूप में देखते हैं, तो आप चीनी के बिना चाय / कॉफी / कोला जारी रख सकते हैं। यदि आपको मधुमेह को हराना हैं तो आपको मधुमेह के वास्तविक जोखिम को देखना चाहिए कि यह खाद्य के अनियमित सेवन और गलत धारणा से तो नहीं है। तो चीनी के साथ चाय का मज़ा लें लेकिन प्रतिदिन 2-3 कप तक सीमित करें और बिस्कुट को छूने और पसंद न करें।

घी बढ़ाता है रक्त शर्करा का स्तर - Ghee Increases Blood Sugar in Hindi

घी और नारियल दोनों में आवश्यक फैटी एसिड होते हैं जो इंसुलिन का और अधिक समर्थन करते हैं, हृदय की रक्षा करते हैं और आंतों के श्लेष्म को बनाए रखने में मदद करते हैं। इसलिए यदि आपको मधुमेह हैं, तो आप आराम से घी का सेवन कर सकते हैं। 

(और पढ़ें - घी या मक्खन – किसे खाना है आपकी हेल्थ के लिए ज्यादा फायदेमंद?)

शुगर पेशेंट के लिए अच्छा नहीं है जिम - Gym is Not Good for Diabetics in Hindi

कुछ लोगों को लगता है की मधुमेह से पीड़ित व्यक्ति को जिम जाकर वर्क आउट नहीं करना चाहिए बल्कि वॉकिंग या कोई भी कार्डियो एक्सरसाइज करनी चाहिए। लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं बल्कि डायबिटिक पेशेंट भी जिम ज्वाइन करके वेट ट्रेनिंग कर सकते हैं। अपनी बड़ी मांसपेशियों को प्रशिक्षित करें और उनमें शक्ति विकसित करें। शरीर में शक्ति की कमी सीधे इंसुलिन प्रतिरोध और मधुमेह की घटनाओं से जुड़ी हुई है। यदि आपको मधुमेह हैं, तो जिमिंग आपके लिए सबसे अच्छा व्यायाम है।

(और पढ़ें - क्यों है वेट लिफ्टिंग आपके स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद)

रक्त शर्करा को नहीं किया जा सकता है नियमित - Once You are Diabetic You Can't Regulate Blood Sugar in Hindi

अक्सर कहा जाता है कि एक बार जब आपको मधुमेह हो जाता हैं, तो आप हमेशा डायबिटिक रहते हैं। लेकिन यह सच नहीं है। आहार, व्यायाम और जीवन शैली के सही दृष्टिकोण के माध्यम से रक्त शर्करा को नियमित और इंसुलिन का समर्थन कर सकते हैं। आजकल हम हमारी खाने की स्वस्थ आदतों से दूर होते जा रहे हैं और नई जीवनशैली से जीवन जीने के लिए शुरुआत कर रहे हैं। लेकिन इस नई जीवनशैली से हम मोटापे, उच्च रक्तचाप और मधुमेह आदि का शिकार हो चुके हैं। हालांकि इसे बदलने के लिए अभी भी देर नहीं हुई है। अपनी दादी द्वारा बताए गये खाने के तरीक़ो और अपने सोने के समय को नियमित करें। साथ ही नियमित रूप से व्यायाम करने की कोशिश करें। इससे आपका तनाव और शुगर लेवल दोनों नीचे हो जाएँगे और आपका आत्मविश्वास बढ़ जाएगा। 

(और पढ़ें - योग कर सकता है मधुमेह को नियंत्रित, जानिए कैसे)

डायबिटीज से जुड़ी ऐसी कई गलत धारणाएं हैं, जिन्हें लोग सच मान बैठते हैं। इस लेख के जरिए हमने वैज्ञानिक आधार पर समझाने का प्रयास किया है कि ये धारणाएं कितनी गलत हैं। साथ ही हम यह भी स्पष्ट कर दें कि डायबिटीज को जड़ से खत्म करना संभव नहीं है। इसे अच्छी डाइट और नियमित वर्कआउट, योग व मेडिटेशन के जरिए संतुलित रखा जा सकता है।

ऐप पर पढ़ें