myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत
संक्षेप में सुनें

एड़ी में दर्द क्या है?

एड़ी का दर्द पैर की एक बहुत ही आम समस्या है। पीड़ित को आमतौर पर एड़ी के नीचे (प्लान्टर फ़ेशियाइटिस- plantar fasciitis) या इसके पीछे (अचिल्लेस टेन्डिनाइटिस - Achilles tendinitis) दर्द होता है।

कई मामलों में एड़ी का दर्द काफी गंभीर और असहनीय हो सकता है, लेकिन यह आपके स्वास्थ्य के लिए कोई खतरा पैदा नहीं करता है। एड़ी का दर्द आमतौर पर हल्का होता है और अपने आप ठीक हो जाता है। हालांकि, कुछ मामलों में दर्द निरंतर और लम्बे समय तक बना रह सकता है।

मनुष्य के पैर में 26 हड्डियां होती हैं, जिनमें से एड़ी की हड्डी (calcaneus) सबसे बड़ी होती है। मानव की एड़ी की संरचना इस प्रकार की होती है कि वह आराम से शरीर के वजन को उठा सके। चलते या दौड़ते समय जब हमारी एड़ी जमीन से टकराती है, तो यह पैर पर पड़ने वाले दबाव को सोंख लेती है और हमें आगे की ओर बढ़ने में सक्षम बनाती है। विशेषज्ञों का कहना है कि शरीर के वजन से 1.25 गुना ज़्यादा चलने और 2.75 गुना ज्यादा दौड़ने के कारण पैरों पर अधिक दबाव पड़ सकता है। इसके चलते एड़ी कमजोर हो जाती है और इसमें दर्द होने लगता है।

अधिकांश मामलों में, एड़ी के दर्द के लिए यांत्रिक कारण ज़िम्मेदार होते हैं। गठिया, संक्रमण, एक स्वप्रतिरक्षित समस्या (autoimmune problem) आघात यानी तनाव से सम्बंधित एक समस्या, न्यूरोलॉजिकल (स्नायु संबंधी) समस्या या कुछ अन्य प्रणालीगत स्थिति (ऐसी स्थिति जो पूरे शरीर को प्रभावित करती है) के कारण भी यह दर्द हो सकता है।

  1. एड़ी में दर्द के लक्षण - Heel Pain Symptoms in Hindi
  2. एड़ी में दर्द के कारण - Heel Pain Causes in Hindi
  3. एड़ी में दर्द से बचाव के उपाय - Prevention of Heel Pain in Hindi
  4. एड़ी में दर्द का निदान - Diagnosis of Heel Pain in Hindi
  5. एड़ी में दर्द का उपचार - Heel Pain Treatment in Hindi
  6. एड़ी में दर्द की जटिलताएं - Heel Pain Complications in Hindi
  7. एड़ी में दर्द की आयुर्वेदिक दवा और इलाज
  8. एड़ी में दर्द के घरेलू उपाय
  9. एड़ी में दर्द की होम्योपैथिक दवा और इलाज
  10. एड़ी में दर्द की दवा - Medicines for Heel Pain in Hindi
  11. एड़ी में दर्द के डॉक्टर

एड़ी में दर्द के लक्षण - Heel Pain Symptoms in Hindi

एड़ी में दर्द के संकेत और लक्षण क्या हैं?

एड़ी का दर्द आमतौर पर धीरे-धीरे शुरू होता है, यह दर्द बिना किसी चोट के यूं ही अपने आप शुरू हो जाता है। यह दर्द आम तौर पर पतले तले वाले जूते (flat shoe) और चप्पल पहनने से शुरू होता है। ऐसे जूते पहनने से प्लान्टर फेशिया (plantar fascia: ऊतक की एक सपाट पट्टी जो एड़ी की हड्डी को पैर के अंगूठे से जोड़ती है) में अत्यधिक खिंचाव आ सकता है, जिसके कारण वह हिस्सा सूज जाता है।

ज्यादातर मामलों में, दर्द पैर के नीचे एड़ी के सामने की ओर होता है।

सुबह बिस्तर से उठने के बाद और दिन में काफी समय तक आराम करने के तुरंत बाद लक्षण गंभीर हो जाते हैं। थोड़ा सा चलने-फिरने के बाद लक्षणों में हल्का सुधार होता है। हालांकि, दिन खत्म होने तक ये लक्षण फिर से बदतर हो सकते हैं।

एड़ी में दर्द के लिए डॉक्टर को दिखाना कब ज़रूरी है?

अगर आप निम्न लक्षण अनुभव कर रहे हैं, तो जितना जल्दी हो सके अपने डॉक्टर को दिखाएं –

  • एड़ी में दर्द के साथ-साथ बुखार 
  • सामान्य रूप से चलने में असमर्थ होना 
  • एड़ी के दर्द का एक सप्ताह के बाद भी लगातार जारी रहना  
  • पैर को पर्याप्त आराम देने के बाद भी एड़ी में दर्द होना 
  • अपने पैर नीचे की ओर न मोड़ पाना 
  • अपनी एड़ी को उठाकर खड़ा नहीं हो पाना (आप अपने पंजों पर खड़े नहीं हो सकते हैं)
  • आपकी एड़ी के पास सूजन और गंभीर दर्द
  • एड़ी में सुन्नता और झनझनाहट के साथ दर्द और बुखार

एड़ी में दर्द के कारण - Heel Pain Causes in Hindi

एड़ी में दर्द का क्या कारण है? 

एड़ी में दर्द के कई सामान्य कारण हैं –

  • मोच और मांस फटना – मोच और खिंचाव आमतौर पर शारीरिक गतिविधियों के कारण लगने वाली चोटें होती हैं। पीड़ित के साथ पेश आए हादसे के आधार पर ये चोटें मामूली या गंभीर भी हो सकती हैं।
  • फ्रैक्चर – फ्रैक्चर में हड्डी टूट जाती है और आपातकालीन चिकित्सा की आवश्यकता होती है। आवश्यक देखभाल की ज़रूरत हो सकती है।
  • बर्साइटिस – बर्सा (Bursae) द्रव से भरे हुए थैले होते हैं, जो आपके जोड़ों में पाए जाते हैं। ये उन क्षेत्रों को घेरे रहते हैं, जहां पेशियां, त्वचा और मांसपेशियों के ऊतक हड्डियों से जुड़ते हैं।
  • स्पांडिलाइटिस (spondylitis) – स्पाँडिलाइटिस गठिया का एक रूप है, जो मुख्य रूप से आपकी रीढ़ को प्रभावित करता है। यह बर्टिब्रे (कशेरुकाओं) में गंभीर सूजन का कारण बन सकता है, जिसके परिणामस्वरूप लंबे समय तक चलने वाला दर्द शुरू हो सकता है और अक्षमता हो सकती है।
  • रिएक्टिव गठिया – यह गठिया का एक प्रकार है और शरीर में होने वाले संक्रमण से उत्पन्न होता है।
  • प्लान्टर फ़ेशियाइटिस (Plantar fasciitis) – प्लान्टर फेशियाइटिस तब होता है, जब आपके पैरों पर बहुत अधिक दबाव पड़ने से प्लान्टर फेशिया लिगमेंट ( plantar fascia ligament: ऐसे टिश्यू जो आपकी एड़ी की हड्डी को पंजो से जोड़ते हैं) को नुकसान पहुंचता है। इसके कारण एड़ी सख्त हो जाती है और उसमें दर्द होता है।
  • अचिल्लेस टेन्डिनाइटिस (Achilles tendinitis) – अचिल्लेस टेन्डिनाइटिस  में पिंडली की मांसपेशियों को एड़ी से जोड़ने वाली शिरा के क्षतिग्रस्त होने के कारण उसमें दर्द या सूजन हो जाती है।
  • ऑस्टेओकोंड्रोसेस (Osteochondroses) – ऑस्टेओकोंड्रोसेस प्रत्यक्ष रूप से बच्चों और किशोरों की हड्डियों के विकास को प्रभावित करता है।

एड़ी में दर्द से बचाव के उपाय - Prevention of Heel Pain in Hindi

एड़ी के दर्द की रोकथाम कैसे की जा सकती है?

एड़ी के दर्द की रोकथाम के लिए उन पर पड़ने वाले दबाव को कम करना आवश्यक है। आप निम्न सुझावों का पालन कर सकते हैं –

  • खेल खेलते समय सुरक्षा - 
    एड़ी पर अत्यधिक दबाव ड़ालने वाली कोई भी गतिविधी करने से पहले अच्छी तरह से वार्मअप कर लें। खेल के दौरान अच्छी किस्म के जूते पहनें।
     
  • ठीक फुटवियर पहनें -
    एड़ी के दर्द से बचने के लिए चलने के दौरान एड़ी पर पर पड़ने वाले दबाव को कम करने वाले जूतें काफी मददगार साबित होते हैं, जैसे – एड़ी के नीचे लगाने वाले पैड। सुनिश्चित करें कि जूते आपके पैरों के अनुकूल हों और उनका तल (sole) आरामदायक हो। अगर किसी विशेष जूते से आपकी एड़ी में दर्द होता है, तो उसे न पहनें।
     
  • नंगे पांव न रहें -
    कठोर जमीन (धरातल) पर चलते समय जूते अवश्य पहनें।
     
  • अधिक वजन कम करें - 
    अधिक वजन वाले व्यक्ति द्वारा चलते या भागते समय उनकी एड़ी पर अधिक दबाव पड़ता है। ऐसे में वजन घटाने की कोशिश करें। (और पढ़ें - वजन कम करने के तरीके)
     
  • आराम करें -
    यदि आप एड़ी के दर्द के प्रति अति संवेदनशील हैं, तो पैरों को उचित आराम दें। आपके डॉक्टर से इस बारे में बात करना बेहतर है।

(और पढ़ें - पैर में फ्रैक्चर का इलाज)

एड़ी में दर्द का निदान - Diagnosis of Heel Pain in Hindi

एड़ी के दर्द का निदान कैसे किया जा सकता है? 

डॉक्टर शारीरिक परीक्षण करते हैं और रोगी से  दर्द के बारे में प्रश्न पूछते हैं। डॉक्टर यह भी पूछते हैं कि मरीज कितनी देर चलते और खड़े रहते हैं व किस प्रकार के जूते पहनते हैं। इसके अलावा, डॉक्टर रोगी की पूरी मेडिकल हिस्ट्री भी चेक करते हैं। आम तौर पर इन सभी उपायों से निदान के लिए निष्कर्ष निकाल लिए जाते हैं।

कुछ मामलों में अन्य परीक्षणों की भी आवश्यकता होती है, जैसे रक्त परीक्षण और इमेजिंग स्कैन।

(और पढ़ें - एमआरआई का खर्च)

एड़ी में दर्द का उपचार - Heel Pain Treatment in Hindi

एड़ी में दर्द का इलाज कैसे किया जाता है?

एड़ी में दर्द के लिए सामान्य रूप से किये जाने वाले उपचार निम्न हैं –

1. एड़ी बर्साइटिस का उपचार

बर्साइटिस को उत्पन्न करने वाली गतिविधियों को सीमित करने के लिए रोगी गद्देदार सोल या एड़ी कप का इस्तेमाल कर सकते हैं। इस उपचार के साथ-साथ एड़ी को पर्याप्त आराम देना प्रभावी होता है। गंभीर मामलों में, मरीज को एक स्टेरॉयड इंजेक्शन की आवश्यकता हो सकती है।

2. एड़ी की गांठों के लिए उपचार

एड़ी के पीछे होने वाली सूजन में बर्फ और फुटवियर बदलने से राहत मिल सकती है। अचिल्लेस पैड और एड़ी ग्रिप पैड भी अस्थायी रूप से आराम दे सकते हैं। कभी-कभी डॉक्टर दर्द के लिए कॉर्टिसोन इंजेक्शन लगा सकते हैं। गंभीर मामलों में गाठों को सर्जरी के द्वारा निकाला जा सकता है।

3. प्लान्टर फेशियाइटिस के लिए उपचार

अधिकांश मरीज़ दवाओं के द्वारा कुछ ही महीनों में बेहतर हो जाते हैं।

  • भौतिक चिकित्सा (फिजियोथेरेपी) - 
    फिजियोथेरेपिस्ट मरीज को ऐसे व्यायाम सिखा सकते हैं, जिससे प्लान्टर फेशिया और अचिल्लेस पेशी का लचीलापन बढ़ता है। इससे पैर के निचले हिस्से की मांसपेशियां मजबूत होती हैं, जिसके कारण टखने और एड़ी का संतुलन बेहतर होता है। मरीज को एथलेटिक टैपिंग (एथलेटिक गतिविधि के दौरान हड्डियों को स्थिर रखने के लिए त्वचा पर टेप लगाने की प्रक्रिया) करना भी सिखाया जा सकता है, जिससे पैर के निचले हिस्से को अच्छा आधार मिलता है।
     
  • दर्द कम करने वाली दवाएं - 
    दर्द कम करने के लिए एनाल्जेसिक (analgesic) दवा का उपयोग किया जा सकता है। इस दवा की अधिक खुराक सूजन को भी कम कर सकती है। एनएसएआईडी गैर-मादक पदार्थ हैं (ये बेहोशी उत्पन्न नहीं करते हैं)। ये प्लान्टर फ़ेशियाइटिस से ग्रसित रोगियों को  दर्द और सूजन में राहत दिला सकते हैं।
     
  • कॉर्टिकोस्टेरॉइड दवा 
    कॉर्टिकोस्टेरॉइड का सुझाव आमतौर पर तब दिया जाता है, जब एनएसएआईडी का कोई प्रभाव नहीं हो रहा हो। कॉर्टिकोस्टेरॉइड का घोल त्वचा के दर्द वाले हिस्से पर लगाया जाता है, और विद्युतीय प्रवाह द्वारा इस दवाई को भीतर उतारा जाता है। इसके अलावा इस दवा को इंजेक्शन के रूप में भी दिया जा सकता हैं। यहां ध्यान देने वाली बात यह है कि कई इंजेक्शन लगाने के चलते प्लान्टर फ़ेशिया कमजोर हो सकता है। इससे एड़ी की हड्डी के चारों तरफ स्थित वसा की मोटी परत  के टूटने और संकुचित होने का जोखिम बढ़ सकता है। कुछ डॉक्टर अल्ट्रासाउंड का उपयोग करके सुनिश्चित कर सकते हैं कि मरीज़ को सही जगह पर इंजेक्शन दिया गया है या नहीं।
     
  • रात को पट्टी (स्प्लिन्ट) लगाकर सोना - 
    स्प्लिन्ट को पिंडली और पैर के लिए उचित माना जाता है। रोगी इसे सोते वक्त लगाता है। स्प्लिन्ट के कारण प्लान्टर फेशिया और अचिल्लेस पेशी रात भर अपनी जगह पर स्थिर रहते हैं। 
     
  • ऑर्थोटिक्स - 
    पैर की समस्याओं को ठीक करने के लिए इन्सोल्स और ऑर्थोटिक्स (सहायक उपकरण) उपयोगी हो सकते हैं। साथ ही, चिकित्सा के दौरान एड़ी के लिए आरामदायक और सुरक्षित होते हैं। 
     
  • एक्स्ट्रा कॉरपोरल शॉक वेव थेरेपी - 
    उपचार को प्रभावशाली बनाने के लिए प्रभावित हिस्सों में ध्वनि तरंगे छोड़ी जाती है।इस प्रकार की चिकित्सा का परामर्श केवल उन पुराने (दीर्घकालिक) मामलों के लिए दिया जाता है, जो दवाओं से ठीक नहीं होते हैं।
     
  • सर्जरी - 
    इसमें प्लान्टर फेशिया को एड़ी की हड्डी से अलग कर दिया जाता है। इस प्रक्रिया का सुझाव केवल तब दिया जाता है, जब कोई और इलाज काम नहीं करता। इस सर्जरी के बाद एड़ी के आर्च (एड़ी और पंजे के बीच का निचला भाग) के कमजोर होने का जोखिम रहता है।

4. घर पर की जाने वाली देखभाल 

अगर स्थिति गंभीर नहीं है, तो एड़ी के दर्द से छुटकारा पाने के लिए घर पर की जाने वाली देखभाल पर्याप्त है।

  • बर्फ - लगभग 15 मिनट तक दर्द से प्रभावित हिस्से पर आइस पैक रखें। बर्फ को त्वचा के साथ सीधे संपर्क में न लाएं।
  • आराम - ज़्यादा देर तक भागने या खड़े रहने या कठोर सतह पर चलने से बचें। एड़ियों पर दबाव डालने वाली गतिविधियां न करें।
  • पांव को सहारा देने वाली वस्तुएं - आरामदायक चप्पलें और एड़ी के नीचे लगाए जाने वाले पैड दर्द के लक्षणों से राहत दिला सकते हैं।
  • जूते - आरामदायक जूते पहनना बहुत महत्वपूर्ण है। एथलीटों को अभ्यास या प्रतिस्पर्धा के दौरान पहने जाने वाले जूतों का चुनाव सावधानी से करना चाहिए। खेल के दौरान पहने जाने वाले जूतों को निश्चित समय के बाद बदल देना चाहिए। (इस बारें में अपने ट्रेनर से परामर्श लें)

अगर घर पर की जाने वाली देखभाल से आपका दर्द कम नहीं होता है, तो आप अपने डॉक्टर से  संपर्क करें। वह आपकी शारीरिक जांच करेंगे और लक्षणों के बारे में पूछेंगे कि ये कब शुरू हुए। आपकी एड़ी के दर्द का कारण निर्धारित करने के लिए डॉक्टर एक्स-रे भी कर सकते हैं। एक बार दर्द का कारण जान लेने के बाद डॉक्टर आपका उचित उपचार कर पाएंगे।

एड़ी में दर्द की जटिलताएं - Heel Pain Complications in Hindi

एड़ी में दर्द के कारण क्या जटिलताएं हो सकती हैं?

एड़ी का दर्द आपको असक्षम बना सकता है और आपकी दैनिक गतिविधियों को प्रभावित कर सकता है। इससे आपकी चाल में बदलाव आ सकता है। ऐसे में आपके गिरने की संभावना बढ़ सकती है और इसके चलते अन्य चोटें लगने का खतरा भी बढ़ जाता है।

Dr. Vivek Dahiya

Dr. Vivek Dahiya

ओर्थोपेडिक्स

Dr. Vipin Chand Tyagi

Dr. Vipin Chand Tyagi

ओर्थोपेडिक्स

Dr. Vineesh Mathur

Dr. Vineesh Mathur

ओर्थोपेडिक्स

एड़ी में दर्द की दवा - Medicines for Heel Pain in Hindi

एड़ी में दर्द के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

Medicine NamePack SizePrice (Rs.)
Oxalgin DpOxalgin Dp 50 Mg/325 Mg Tablet27
Diclogesic RrDiclogesic Rr 75 Mg Injection25
DivonDIVON GEL 10GM0
VoveranVOVERAN 1% EMULGEL 30GM105
EnzoflamEnzoflam 50 Mg/325 Mg/15 Mg Tablet91
DolserDolser 400 Mg/50 Mg Tablet Mr0
Renac SpRenac Sp Tablet51
Dicser PlusDicser Plus 50 Mg/10 Mg/500 Mg Tablet46
D P ZoxD P Zox 50 Mg/325 Mg/250 Mg Tablet20
Unofen KUnofen K 50 Mg Tablet0
ExflamExflam 1.16%W/W Gel48
Rid SRid S 50 Mg/10 Mg Capsule32
Diclonova PDiclonova P 25 Mg/500 Mg Tablet13
Dil Se PlusDil Se Plus 50 Mg/10 Mg/325 Mg Tablet44
Dynaford MrDynaford Mr 50 Mg/325 Mg/250 Mg Tablet29
ValfenValfen 100 Mg Injection10
FeganFegan Eye Drop16
RolosolRolosol 50 Mg/10 Mg Tablet67
DiclopalDiclopal 50 Mg/500 Mg Tablet16
DipseeDipsee Gel57
FlexicamFlexicam 50 Mg/325 Mg/250 Mg Tablet25
VivianVivian 1.16% Gel0
I GesicI Gesic 0.1% Eye Drop26
Rolosol ERolosol E 50 Mg/10 Mg Capsule51
DicloparaDiclopara 50 Mg/500 Mg Tablet0

क्या आप या आपके परिवार में किसी को यह बीमारी है? सर्वेक्षण करें और दूसरों की सहायता करें

References

  1. Neufeld SK, Cerrato R. Plantar fasciitis: evaluation and treatment. J Am Acad Orthop Surg. 2008 Jun. 16(6):338-46. [Medline]. PMID: 18524985
  2. Alshami AM, Souvlis T, Coppieters MW. A review of plantar heel pain of neural origin: differential diagnosis and management. Man Ther. 2008 May. 13(2):103-11. [Medline]. PMID: 17400020
  3. Aldridge T. Diagnosing heel pain in adults. Am Fam Physician. 2004 Jul 15. 70(2):332-8. [Medline]. PMID: 15291091
  4. Ogden JA, Alvarez RG, Levitt RL, Johnson JE, Marlow ME. Electrohydraulic high-energy shock-wave treatment for chronic plantar fasciitis. . J Bone Joint Surg Am. 2004 Oct. 86-A(10):2216-28. [Medline]. PMID: 15466731
  5. Riddle DL, Pulisic M, Sparrow K. Impact of demographic and impairment-related variables on disability associated with plantar fasciitis. Foot Ankle Int. 2004 May. 25(5):311-7. [Medline]. PMID: 15134611
  6. Crawford F, Thomson C. Interventions for treating plantar heel pain. Cochrane Database Syst Rev. 2003. CD000416. [Medline]. PMID: 12917892
  7. Tisdel CL, Donley BG, Sferra JJ. Diagnosing and treating plantar fasciitis: a conservative approach to plantar heel pain. Cleve Clin J Med. 1999 Apr. 66(4):231-5. [Medline]. PMID: 10199059
  8. Gudeman SD, Eisele SA, Heidt RS Jr, Colosimo AJ, Stroupe AL. Treatment of plantar fasciitis by iontophoresis of 0.4% dexamethasone. A randomized, double-blind, placebo-controlled study. Am J Sports Med. 1997 May-Jun. 25(3):312-6. [Medline]. PMID: 9167809
  9. Singh D, Angel J, Bentley G, Trevino SG. Fortnightly review. Plantar fasciitis. . BMJ. 1997 Jul 19. 315(7101):172-5. [Medline]. [Full Text]. PMID: 9251550
  10. [Guideline] Martin RL, Davenport TE, Reischl SF, McPoil TG, Matheson JW, Wukich DK, et al. Heel pain-plantar fasciitis: revision 2014.. J Orthop Sports Phys Ther. 2014 Nov. 44 (11):A1-33. [Medline]. [Full Text]. PMID: 25361863
  11. Landorf KB. Plantar heel pain and plantar fasciitis. . BMJ clinical evidence. 2015;2015.
  12. Foot Health Facts: American College of Foot and Ankle Surgeon [Internet]. Chicago; Heel Pain .
  13. College of Podiatry, Mill Street, London [Internet]; Heel Pain
  14. American Academy of Orthopaedic Surgeons [Internet] Rosemont, Illinois, United States; Achilles Tendon Rupture (Tear).
  15. Maughan KL, Boggess BR. Achilles tendinopathy and tendon rupture. UpToDate, Fields, K (Ed), UpToDate. 2017.
  16. American Academy of Orthopaedic Surgeons [Internet] Rosemont, Illinois, United States; Heel Pain.
  17. American Academy of Orthopaedic Surgeons [Internet] Rosemont, Illinois, United States; Stress Fractures.
  18. Better health channel. Department of Health and Human Services [internet]. State government of Victoria; Foot problems - heel pain
और पढ़ें ...