myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

सिवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम क्या है?

सिवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम को अति तीव्र श्वसन परिलक्षण या एसएआरएस भी कहा जाता है। यह एक खतरनाक बीमारी है, जो वर्ष 2003 में दुनिया भर में तेजी से फैली थी। यह एक वायरल संक्रमण है जिसमें फ्लू जैसे लक्षण देखने को मिलते हैं। यह बीमारी सबसे पहले 2003 में सामने आई थी, उस समय करीब 26 देशों में 8,000 से भी ज्यादा लोग इस बीमारी की चपेट में आए थे और यह बीमारी करीब 800 लोगों की मौत का कारण बनी थी।

सिवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम के लक्षण

सिवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम के लक्षण फ्लू की तरह ही दिखते हैं जैसे कि:

सिवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम से ग्रस्त लगभग 5 में से 1 व्यक्ति को दस्त की शिकायत हो सकती है लेकिन इसके लक्षण बहुत तेजी से भयंकर रूप लेते हैं। सिवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम होने के 2 से 7 दिनों के अंदर सूखी खांसी भी हो सकती है। इस खांसी के कारण शरीर को पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन नहीं मिल पाती है और 10 में से 1 व्यक्ति को सांस लेने के लिए मशीन की मदद लेनी पड़ती है। सिवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम अन्य स्वास्थ्य समस्याओं का भी कारण बन सकता है, जिसमें निमोनिया, हार्ट फेल और लिवर खराब होना शामिल है। जिन लोगों की उम्र 60 से अधिक है और उनमें डायबिटीज या लिवर में सूजन (हेपेटाइटिस) जैसी बीमारियां हैं, उनमें ये समस्या होने की अधिक संभावना रहती है।

सिवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम के कारण

सिवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम एक ऐसे वायरस के कारण होता है जो शरीर की कोशिकाओं को प्रभावित करता है और इन कोशिकाओं का इस्तेमाल कर अपने आप ही पूरे शरीर में फैल जाता है। सिवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम वायरस का संबंध कोरोनावायरस से है, जो सर्दी जुकाम का भी कारण है। 
अक्सर सिवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम से ग्रस्त व्यक्ति के खांसने या छींकने से अन्य लोगों में भी ये बीमारी फैल सकती है। दो से तीन फीट की दूरी पर भी इस वायरस से युक्त तरल की छींटों से अन्य व्यक्ति संक्रमित हो सकता है। अगर कोई व्यक्ति सिवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम से ग्रस्त मरीज के छींकने या खांसने से निकले कीटाणुओं को छू लेता है और फिर उसी हाथ को नाक, आंखों या मुंह पर लगाता है तो इससे वो भी सिवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम बीमारी से संक्रमित हो सकता है। 

सिवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम का निदान

यदि तेज बुखार, सीने में दर्द, या सांस लेने में दिक्कत जैसी समस्या हो रही है, तो तुरंत डॉक्टर के पास जाकर चेकअप करवाएं। खासकर जब आप विदेश यात्रा से वापस आएं हों, तो इस तरह के लक्षण दिखने पर इलाज में बिलकुल भी देरी न करें।

सिवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम का इलाज 

इस बीमारी का इलाज इसके लक्षणों की गंभीरता पर निर्भर करता है। यदि लक्षण ज्यादा गंभीर नहीं हैं, तो आपको घर पर ही रह कर रिकवर करने की सलाह दी जा सकती है, लेकिन अगर लक्षण ज्यादा गंभीर रूप ले लेते हैं तो आपको फ्लूइड्स या ऑक्सीजन के लिए अस्पताल जाना पड़ सकता है। सिवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम पैदा करने वाले वायरस इतने घातक होते हैं कि इन पर कोई दवा असर नहीं करती है, लेकिन रिकवरी के दौरान अन्य संक्रमणों से बचने के लिए एंटीबायोटिक दवाएं ली जा सकती हैं।

सिवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम से बचाव

  • कुछ भी खाने से पहले या कहीं बाहर से आने के बाद हाथों को साबुन से अच्छी तरह से धोएं
  • गंदे हाथों से आंख, नाक या मुंह को न छुएं
  • रसोई आदि की स्लैब को साफ रखें
  • यदि आप सिवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम से ग्रस्त किसी व्यक्ति से मिलने जा रहे हैं, तो अपनी नाक और मुंह को कवर करने के लिए सर्जिकल मास्क पहनें
  1. सिवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम के डॉक्टर
Dr. Sandeep Mittal

Dr. Sandeep Mittal

श्वास रोग विज्ञान

Dr. Subhajit Mondal

Dr. Subhajit Mondal

श्वास रोग विज्ञान

Dr Arjun Negi

Dr Arjun Negi

श्वास रोग विज्ञान

क्या आप या आपके परिवार में किसी को यह बीमारी है? सर्वेक्षण करें और दूसरों की सहायता करें

और पढ़ें ...