myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

दांतो से जुड़ा दर्द बेहद कष्टदायक होता है। दाँतों का दर्द आसपास के जबड़ों में भी पहुंचकर बहुत गंभीर हो जाता है। दांतों के दर्द के मुख्य कारण जैसे दांतों में कीड़े (कैविटी), संक्रमण, टूटा हुआ दांत, दांत का निकलना, मसूड़े से जुडी बीमारी या कोई जबड़े का विकार आदि शामिल हैं। दांतों में दर्द तब होता है जब दाँत के बीच का क्षेत्र जिसे पल्प (pulp) कहा जाता है वो सूजने लगता है। पल्प में कई तंत्रिका अंत होते हैं जो अत्यधिक संवेदनशील होते हैं। अगर आपको दांत में दर्द है तो जल्द से जल्द इसे अपने डेंटिस्ट को दिखाने की कोशिश करें।

लेकिन आज हम आपको कुछ घरेलू उपायों के बारे में भी बताएंगे जिनके इस्तेमाल से आपको डेंटिस्ट के पास जाने की ज़रूरत नहीं पड़ेगी।

  1. दांत दर्द का घरेलू उपाय है नमक का पानी - Dant dard ka gharelu upay hai salt water in Hindi
  2. दांत के दर्द से छुटकारा पाएं बर्फ से - Dant dard se chutkara paye Ice se in Hindi
  3. दांत के दर्द से बचने का उपाय है मिर्च और नमक - Dant dard se bachne ka upay hai pepper in Hindi
  4. दांत के दर्द को दूर करने का उपाय है लहसुन - Dant dard ko dur karne ke upay hai garlic in Hindi
  5. दांत दर्द से तुरंत राहत दिलाता है लौंग - Dant dard se turant rahat dilata hai clove in Hindi
  6. दांत के दर्द का घरेलू उपाय है प्याज - Dant ke dard ka gharelu upay hai onion in Hindi
  7. टीथ पैन के घरेलू नुस्खे करे हींग से - Teeth pain ka gharelu upay hai hing in Hindi
  8. दांत दर्द को ठीक करे अमरुद के पत्तों से - Dant dard ko thik kare guava leaves se in Hindi
  9. दांत दर्द को रोकने का उपाय है वनीला - Dant dard rokne ka upay vanilla in Hindi
  10. दांत दर्द कम करने का उपाय है गेहूं के ज्वार - Dant dard kam karne ka upay wheatgrass in Hindi

गर्म पानी में नमक डालकर इस्तेमाल करने से आपको दांत के दर्द का इलाज करने में मदद मिलेगी।

नमक के पानी का कैसे करें इस्तेमाल –

  1. गरम पानी में आधा चम्मच नमक डालें और इसे कुल्ला करने के लिए इस्तेमाल करें।
  2. इसके इस्तेमाल से आपको सूजन और बैक्टीरिया से छुटकारा मिलेगा। 

(और पढ़ें - जानिए पायरिया, कैविटी, मसूड़ों और अन्य दाँतों की समस्याओं का इलाज)

बर्फ दांतों की तंत्रिका को सुन्न करने में मदद करता है जिससे दर्द और सूजन से छुटकारा मिलता है।

बर्फ का कैसे करें इस्तेमाल –

  1. एक बर्फ के क्यूब को छोटे से कपडे में डाल लें। अब जहां आपके दर्द है उस तरफ के गाल पर बर्फ को कुछ मिनट तक लगाकर रखें। अगर आपके दांतों की नसे खुली हुई हैं या सवेदनशील हैं तो बर्फ के इस्तेमाल से आपका दर्द और भी बढ़ सकता है तो इसे ज़्यादा समय के लिए लगाकर न रखें।
  2. इसके अलावा एक्युप्रेशर तकनीक से भी आपके दांतों का दर्द कम हो सकता है।
  3. कुछ मिनट के लिए अपनी तर्जनी ऊँगली और अंगूठे के बीच बर्फ को रगड़ें।

 

जब दांत बहुत ज़्यादा संवेदनशील हो जाते है तो काली मिर्च और नमक का मिश्रण दांतो की कई समस्याओं से निजात दिलाने में मदद करते हैं। इन दोनों में ही एंटीबायोटिक और सूजनरोधी गुण पाए जाते हैं। 

मिर्च और नमक का कैसे करें इस्तेमाल –

  1. पेस्ट बनाने के लिए पानी की कुछ बूंदों के साथ समान मात्रा में काली मिर्च और नमक मिलाएं।
  2. अब इस पेस्ट को अपने दांत के प्रभावित क्षेत्रों पर लगाएं और कुछ मिनट के लिए ऐसे ही लगा हुआ छोड़ दें।
  3. इस पेस्ट का प्रयोग तब तक करें जब तक दांतो की समस्या कम नहीं हो जाती। 

(और पढ़ें - काली मिर्च के फायदे और नुकसान)

लहसुन का प्रयोग दांतों के दर्द के लिए बेहद लाभदायक है। लहसुन में एंटीबायोटिक और अन्य औषधीय गुण होते हैं जो दर्द कम करने में बहुत प्रभावी माने जाते हैं।

लहसुन का कैसे करें इस्तेमाल –

  1. लहसुन की फांकों (या लहसुन का पाउडर) को सबसे पहले क्रश कर लें और उसे कुछ नमक और काली मिर्च के साथ मिक्स कर लें।
  2. अब इस मिश्रण को सीधा प्रभावित क्षेत्रों पर लगाएं।
  3. इसके इस्तेमाल से आपके दांतों का दर्द कम होगा।
  4. आप लहसुन की एक या दो फांकों को भी चबा सकते हैं। कुछ दिनों के लिए इस प्राकृतिक घरेलू उपाय को दोहराएं। 

(और पढ़ें - लहसुन के फायदे और नुकसान)

लौंग में सूजनरोधी, जीवाणुरोधी, एंटीऑक्सीडेंट और संवेदनाहारी गुण पाए जाते हैं जो दांत के दर्द और संक्रमण से लड़ने में मदद करते हैं।

लौंग का कैसे करें इस्तेमाल –

  1. दो लौंग को सबसे पहले मिक्सर में पीस लें।
  2. अब उसमे थोड़ा जैतून का तेल या कोई भी वनस्पति का तेल मिलाकर अपने प्रभावित क्षेत्रों पर उस मिश्रण को लगाएं।
  3. इसके अलावा लौंग के तेल में रूई को डालें और दांतों की दर्द वाली जगह पर रूई को लगाएं।
  4. इसके साथ ही आप जैतून के तेल को एक गिलास पानी में डालकर भी कुल्ला कर सकते हैं। 

(और पढ़ें - लौंग के फायदे और नुकसान)

प्याज में एंटीसेप्टिक और एंटीबायोटिक के गुण मौजूद होते हैं जो दांत दर्द को नियंत्रित करने में मदद करते हैं। यह संक्रमण को भी मारकर दर्द से राहत प्रदान करता है।

प्याज का कैसे करें इस्तेमाल –

  1. दांत का दर्द जब भी शुरू हो तभी एक कच्चा प्याज अपने मुँह में रख लें।
  2. इससे आपको दर्द से राहत मिलेगी।
  3. अगर आप प्याज को नहीं चबा सकते तो कच्चे प्याज को सीधा दर्द वाली जगह पर रख सकते हैं। 

(और पढ़ें - प्याज के फायदे और नुकसान)

हींग के इस्तेमाल से आपको दांत के दर्द और मसूड़ों में से खून निकलने की समस्या से निजात मिलेगा।

हींग का कैसे करें इस्तेमाल –

  1. एक चुटकी या फिर एक या आधा चम्मच हींग के पाउडर को दो चम्मच नींबू के जूस में मिलाएं और फिर इस मिश्रण को हल्का गर्म कर लें।
  2. अब इस मिश्रण को रूई से प्रभावित क्षेत्रों पर लगाएं।
  3. यह आपको दर्द से तुरंत राहत देने में मदद करेगा।
  4. इसके अलावा आप मक्खन में हींग पाउडर की एक चुटकी डालें और इस मिश्रण को अपने प्रभावित क्षेत्रों पर लगाएं। 

(और पढ़ें - हींग के फायदे और नुकसान)

ताज़ा अमरुद के पत्ते दांतों के दर्द को कम करते हैं। इसमें सूजनरोधी और एंटीबायोटिक के गुण पाए जाते हैं।

अमरुद का कैसे करें इस्तेमाल –

  1. अमरुद के एक या दो पत्तों को चबाएं और इसे तब तक चबाएं जब तक उसका जूस आपके प्रभावित क्षेत्रों तक न पहुंच जाये।
  2. आप इसके अलावा साग के पत्तों को भी इसी तरह कच्चा खा सकते हैं।
  3. इसके अलावा आप चार से पांच अमरुद की पत्तियों को पानी में डालें और उबलने के लिए रख दें।
  4. उबलने के बाद पानी को ठंडा होने के लिए रख दें और फिर उसमे नमक मिलाएं।
  5. अब इस मिश्रण को कुल्ला करने के लिए इस्तेमाल करें। 

(और पढ़ें - अमरूद के पत्तों के फायदे)

दांत दर्द के इलाज के लिए वनीला का जूस एक और लोक्रप्रिय घरेलू उपाय है। इसके इस्तेमाल से आपको दांत के दर्द को सुन्न करने में मदद मिलती है।

वनीला का कैसे करें इस्तेमाल –

  1. रूई को सबसे पहले वनीला के जूस में डालें और फिर उसे प्रभावित क्षेत्रों पर लगाएं।
  2. जब तक आपको राहत नहीं मिल जाती तब तक रोज़ इस मिश्रण का प्रयोग करते रहें। 

गेहूं के ज्वार में प्राकृतिक जीवाणुरोधी गुण मौजूद होते हैं जो दांत की सड़न से लड़ने में मदद करते हैं और दर्द से भी राहत दिलाते हैं। गेहूं के ज्वार का सबसे पहले जूस निकालें और फिर उसे कुल्ला करने के लिए इस्तेमाल करें। यह मसूड़ों से विषाक्त पदार्थों को अवशोषित करने में मदद करेगा साथ ही बैक्टीरिया और संक्रमण को नियंत्रण में रखेगा। आप गेहूं के ज्वार को चबा भी सकते हैं। 

(और पढ़ें - गेहूं के जवारे के फायदे और नुकसान)

इन घरेलू उपायों के अलावा कोशिश करें कि आप अपने दांतों के डॉक्टर को ज़रूर दिखाएँ।


दांत दर्द के घरेलू उपाय सम्बंधित चित्र

और पढ़ें ...

References

  1. Healthdirect Australia. Toothache and swelling. Australian government: Department of Health
  2. National Health Service [Internet]. UK; Toothache.
  3. Diego Francisco Cortés-Rojas,Claudia Regina Fernandes de Souza,Wanderley Pereira Oliveira. Clove (Syzygium aromaticum): a precious spice. Asian Pac J Trop Biomed. 2014 Feb; 4(2): 90–96. PMID: 25182278
  4. National Institutes of Health; [Internet]. U.S. National Library of Medicine. EUGENOL TOOTHACHE MEDICATION- eugenol liquid .
  5. Poonam G. Daswani,Manasi S. Gholkar,Tannaz J. Birdi. Psidium guajava: A Single Plant for Multiple Health Problems of Rural Indian Population. Pharmacogn Rev. 2017 Jul-Dec; 11(22): 167–174. PMID: 28989253
  6. Leyla Bayan,Peir Hossain Koulivand,Ali Gorji. Garlic: a review of potential therapeutic effects. Avicenna J Phytomed. 2014 Jan-Feb; 4(1): 1–14. PMID: 25050296
  7. Vargo RJ et al. Garlic burn of the oral mucosa: A case report and review of self-treatment chemical burns.. J Am Dent Assoc. 2017 Oct;148(10):767-771. PMID: 28390650
  8. Michael Ashu Agbor,Sudeshni Naidoo. Ethnomedicinal Plants Used by Traditional Healers to Treat Oral Health Problems in Cameroon. Evid Based Complement Alternat Med. 2015; 2015: 649832. PMID: 26495020