तेज चलना मध्यम तीव्रता वाली एरोबिक एक्सरसाइज है. इसे ब्रिस्क वॉक भी कहा जाता है. ब्रिस्क वॉक सबसे आसान और सबसे प्रभावी कार्डियो वर्कआउट में से एक है. इस तरह के व्यायाम की सबसे अच्छी बात यह है कि इसके लिए आपको किसी भी विशेष उपकरण या ट्रेनिंग की जरूरत नहीं पड़ती. सिर्फ एक जोड़ी बढ़िया क्वालिटी के जूते पहनकर आप ब्रिस्क वॉक कर सकते हैं और खुद को सेहतमंद रख सकते हैं.

आज इस लेख में जानेंगे कि ब्रिस्क वॉकिंग किसे कहते हैं, इसके क्या फायदे हैं और इसकी सही तकनीक क्या है -

(और पढ़ें - भोजन के बाद टहलने से दूर होंगी बीमारियां)

  1. ब्रिस्क वॉकिंग किसे कहते हैं?
  2. ब्रिस्क वॉकिंग के क्या फायदे हैं?
  3. ब्रिस्क वॉकिंग की सही तकनीक
  4. सारांश
तेज पैदल चलने के फायदे के डॉक्टर

ब्रिस्क वॉक यानी तेज पैदल चलना मध्यम तीव्रता वाली एरोबिक एक्सरसाइज है. मध्यम तीव्रता वाली एरोबिक गतिविधि को ऐसी किसी भी गतिविधि के रूप में परिभाषित किया गया है, जिससे व्यक्ति को पसीना आता है और उसकी हृदय गति इस हद तक बढ़ जाती है कि वह बात तो कर सकता है, लेकिन गा नहीं सकता.

तेज पैदल चलने के लिए, एक व्यक्ति को 4.5 मील प्रति घंटे की अधिकतम स्पीड से आगे बढ़ने की आवश्यकता होती है. एक व्यक्ति को हर दिन कम से कम 30 मिनट के लिए ब्रिस्क वॉक का लक्ष्य रखना चाहिए.

(और पढ़ें - वजन घटाने को इतना चलें पैदल)

ब्रिस्क वॉकिंग कई प्रकार के शारीरिक और मानसिक लाभ प्रदान करती है. यह वजन कम करने के साथ-साथ हृदय रोगों से दूर रखती है, रक्तचाप और ब्लड शुगर को कम करती है और जोड़ों के दर्द में भी लाभकारी है. आइए, विस्तार से जाने ब्रिस्क वॉकिंग के फायदों के बारे में -

वजन कम करने में मददगार

तेज पैदल चलने से आपको अधिक कैलोरी जलाने, मांसपेशियों को मजबूत बनाने में और अपने मूड को बेहतर बनाने में मदद मिल सकती है. 2017 की एक रिपोर्ट के अनुसार, दिन में 10 मिनट तेज चलना वजन कम करने में मदद कर सकता है. हालांकि, अकेले तेज चलने से वजन घटाने में मदद नहीं मिलेगी. यदि कोई व्यक्ति अपना वजन कम करना चाहता है, तो उसे अपने आहार और कैलोरी सेवन पर भी ध्यान देने की जरूरत है.

(और पढ़ें - प्रेगनेंसी में पैदल चलने के फायदे)

कार्डियोवैस्कुलर स्वास्थ्य में सुधार

कुछ अध्ययनों के अनुसार, सप्ताह में 5 दिन तेज पैदल चलने से हृदय रोग के जोखिम को कम करने में मदद मिल सकती है. नियमित कार्डियो व्यायाम आपके रक्त में एलडीएल (खराब) कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में भी मदद कर सकता है.

संतुलित रक्तचाप

शोध में पाया गया है कि नियमित कार्डियो व्यायाम करने से रक्तचाप को कम करने में मदद मिल सकती है. इसलिए, रक्तचाप को संतुलित बनाए रखने के लिए रोज तेज चलने का अभ्यास करना चाहिए.

(और पढ़ें - सुबह की सैर करने के फायदे)

संतुलित ब्लड शुगर

नियमित रूप से तेज चलना आपकी इंसुलिन संवेदनशीलता को बढ़ा सकता है. इससे आपकी मांसपेशियों की कोशिकाएं, आपके व्यायाम करने से पहले और बाद में ऊर्जा के लिए इंसुलिन को बेहतर ढंग से उपयोग कर पाती हैं.

मानसिक स्वास्थ्य में सुधार

शोध से यह भी पता चला है कि व्यायाम आत्म-सम्मान को बढ़ा सकता है, नींद में सुधार कर सकता है और मस्तिष्क को तेज करने में भी मदद कर सकता है. इस प्रकार भाग-दौड़ वाले जीवन में मानसिक रोग से ग्रस्त होने से बचा जा सकता है.

(और पढ़ें - घास पर नंगे पैर चलने के फायदे)

जोड़ों के दर्द में कमी

यह जोड़ों को सहारा देने वाली मांसपेशियों को मजबूत बनाने में सहायता करता है. चलने से गठिया से पीड़ित लोगों को भी लाभ मिल सकता है. सप्ताह में 5 से 6 मील पैदल चलने से गठिया को रोकने में मदद मिल सकती है. साथ ही जोड़ों के दर्द को भी कम किया जा सकता है.

प्रतिरक्षा प्रणाली बढ़ाए

रोज तेज चलने से सर्दी या फ्लू होने का खतरा कम हो सकता है. एक शोध के मुताबिक, जो लोग एक दिन में 30 से 45 मिनट के लिए मध्यम गति से चलते थे, उनकी प्रतिरक्षा प्रणाली बेहतर होती है. इस कारण से वो कम बीमार पड़ते हैं और बीमार होने पर उनके लक्षण भी कम होते हैं.

(और पढ़ें - घर में फुल बॉडी वर्कआउट करने का तरीका)

ब्रिस्क वॉकिंग के लिए सही गियर और सही तकनीक की जानकारी होना जरूरी है. इसके लिए सही जूते और मौसम के अनुकूल कपड़ों के अलावा सही पॉश्चर और उद्देश्यपूर्ण गतिविधि की आवश्यकता होती है. आइए, विस्तार से जाने ब्रिस्क वॉकिंग की सही तकनीक के बारे में -

सही जूतों का उपयोग करें- अपने पैरों को कुशन करने और झटके को अवशोषित करने के लिए एक मजबूत एड़ी और मोटे व लचीले तलवों वाले जूते चुनें.

मौसम के अनुसार कपड़े- सभी प्रकार के मौसम के लिए उपयुक्त, आरामदायक, ढीले-ढाले कपड़े पहनें. जैसे कि ठंडे मौसम में 2-3 लेयर्स में कपड़े पहनें और नमी सोखने वाले कपड़े पहनने का लक्ष्य रखें, जो आपको अधिक आरामदायक बनाए रखेंगे. यदि आप दिन में बाहर जा रहे हैं, तो सनस्क्रीन, टोपी और धूप का चश्मा पहनें.

वार्मअप से शुरुआत- मांसपेशियों को गर्म करने और अपने शरीर को चलने के लिए तैयार करने के लिए 5 से 10 मिनट तक धीरे-धीरे टहलें.

वॉक के अंत में आराम- वॉक के अंत में अपनी मांसपेशियों को ठंडा करने के लिए धीरे-धीरे 5 से 10 मिनट तक चलें.

ब्रिस्क वॉकिंग करते समय इन बातों का भी रखें ध्यान -

  • सिर सीधा और ऊपर होना चाहिए, नजर जमीन पर नहीं, सामने की ओर होनी चाहिए. 
  • गर्दन, कंधे और पीठ शिथिल होने चाहिए, सख्त या टाइट नहीं.
  • बाहें स्वतंत्र रूप से घूमनी चाहिएं और कोहनी हल्की मुड़ी होनी चाहिए.
  • पेट की मांसपेशियां कसी हुई और पीठ सीधी होनी चाहिए, आगे या पीछे झुकी हुई नहीं.
  • चलते वक्त पांव एड़ी से पैर तक आसानी से घूमने चाहिए.

(और पढ़ें - व्यायाम करने का सही समय)

ब्रिस्क वॉकिंग आपके स्वास्थ्य को कई तरह से लाभ पहुंचा सकता है. यह आपके हृदय और फेफड़ों के स्वास्थ्य में सुधार कर सकता है और आपके वजन को प्रबंधित करने में आपकी मदद कर सकता है. इसके अतिरिक्त, तेज चलना आपके मस्तिष्क के कार्य में सुधार कर सकता है, आपकी ऊर्जा को बढ़ा सकता है, तनाव को कम कर सकता है और आपकी नींद में सुधार कर सकता है. ब्रिस्क वॉकिंग शुरू करने से पहले सही जूतों और कपड़ों का चयन करना न भूलें. यदि आपको कोई स्वास्थ्य संबंधी शिकायत है, तो एक इसे शुरू करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें.

(और पढ़ें - लंबे अंतराल के बाद व्यायाम के टिप्स)

Dr Gaurav Kashyap

Dr Gaurav Kashyap

सामान्य चिकित्सा

Dr. S V Prashanthi Raju

Dr. S V Prashanthi Raju

सामान्य चिकित्सा
20 वर्षों का अनुभव

Dr. Kannaiyan R

Dr. Kannaiyan R

सामान्य चिकित्सा
21 वर्षों का अनुभव

Dr. Kiran Dhake

Dr. Kiran Dhake

सामान्य चिकित्सा
15 वर्षों का अनुभव

ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ