मानसिक रोग क्या है ?

मानसिक रोग, कई मानसिक स्वास्थ्य स्थितियों को संदर्भित करता है - ऐसे विकार जो आपकी मनोदशा, सोच और व्यवहार को प्रभावित करते हैं। मानसिक रोग के उदाहरण हैं - डिप्रेशन (अवसाद), चिंता, स्किज़ोफ़्रेनिया और खाने के विकार।

कई लोगों को समय-समय पर मानसिक स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं होती हैं लेकिन यह मानसिक बीमारी बन जाती हैं जब इसके लक्षण अक्सर तनाव पैदा करते हैं और कार्य करने की आपकी क्षमता को प्रभावित करते हैं।

एक मानसिक बीमारी आपको बहुत दुखी कर सकती है और अपने दैनिक जीवन में समस्याएं पैदा कर सकती है, जैसे कि स्कूल या काम या रिश्तों में समस्याएं। ज्यादातर मामलों में, लक्षण दवाओं और टॉक थेरेपी (मनोचिकित्सा) के संयोजन के साथ प्रबंधित किये जा सकते हैं।

  1. मानसिक रोग के प्रकार - Types of Mental Illness in Hindi
  2. मानसिक रोग के लक्षण - Mental Illness Symptoms in Hindi
  3. मानसिक रोग के कारण - Mental Illness Causes in Hindi
  4. मानसिक रोग से बचाव - Prevention of Mental Illness in Hindi
  5. मानसिक रोग का निदान - Diagnosis of Mental Illness in Hindi
  6. मानसिक रोग का उपचार - Mental Illness Treatment in Hindi
  7. मानसिक रोग की जटिलताएं - Mental Illness Complications in Hindi

मानसिक रोग के प्रकार - Types of Mental Illness in Hindi

मानसिक रोग के प्रकार - Types of Mental Illness in Hindi

मानसिक रोग के कितने प्रकार होते हैं ?

मानसिक रोग कई प्रकार के होते हैं। इसके कुछ प्रकार निम्नलिखित हैं -

मानसिक रोग के लक्षण - Mental Illness Symptoms in Hindi

मानसिक रोग के लक्षण - Mental Illness Symptoms in Hindi

मानसिक रोग के लक्षण क्या होते हैं ?

मानसिक रोग के लक्षण, उसके प्रकार, परिस्थितियों और अन्य कारकों के आधार पर भिन्न हो सकते हैं। मानसिक बीमारी के लक्षण भावनाओं, विचारों और व्यवहार को प्रभावित कर सकते हैं। इसके निम्नलिखित लक्षण होते हैं -

  • उदास महसूस करना।
  • व्याकुल होना या ध्यान केंद्रित करने की क्षमता में कमी।
  • अत्यधिक भय या चिंताएं या अपराध की भावनाएं महसूस करना।
  • मनोदशा में अत्यधिक परिवर्तन।
  • दोस्तों और अन्य गतिविधियों से अलग होना।
  • थकान, कम ऊर्जा या सोने में समस्याएं।
  • वास्तविकता से अलग हटना (भ्रम), पागलपन या मतिभ्रम।
  • दैनिक समस्याओं या तनाव से निपटने में असमर्थता।
  • समस्याओं व लोगों और लोगों के बारे में समझने में समस्या।
  • शराब या नशीली दवाओं का सेवन।
  • खाने की आदतों में बड़े बदलाव।
  • कामेच्छा सम्बन्धी बदलाव।
  • अत्यधिक क्रोध या हिंसक व्यवहार। (और पढ़ें - गुस्सा कम करने के उपाय)
  • आत्मघाती सोच।

कभी-कभी मानसिक स्वास्थ्य विकार के लक्षण जिस्मानी समस्याओं जैसे पेट दर्द, पीठ दर्द, सिरदर्द या अन्य अस्पष्टीकृत दर्द के रूप में दिखाई देते हैं।

(और पढ़ें - तनाव कम करने के तरीके)

मानसिक रोग के कारण - Mental Illness Causes in Hindi

मानसिक रोग के कारण - Mental Illness Causes in Hindi

मानसिक रोग क्यों होते हैं ?

मानसिक रोगों के, सामान्य रूप से, विभिन्न आनुवांशिक और पर्यावरणीय कारकों के कारण होने का अनुमान लगाया जाता है। यह कारक निम्नलिखित हैं -

  • अनुवांशिकता
    मानसिक रोग उन लोगों में अधिक आम है जिनके रिश्तेदारों को भी मानसिक बीमारी होती है। कुछ अनुवांशिक कारक आपके मानसिक रोग के विकास के जोखिम को बढ़ा सकते हैं और आपकी जिंदगी की स्थिति इसे प्रारंभ कर सकती है।
     
  • जन्म से पहले कुछ पर्यावरण कारकों का संपर्क
    गर्भ में पर्यावरणीय तनाव, उत्तेजनात्मक स्थितियां, विषाक्त पदार्थ, शराब या ड्रग्स के संपर्क में आने से कभी-कभी मानसिक रोग हो सकते हैं।
     
  • मस्तिष्क का कार्य
    न्यूरोट्रांसमीटर स्वाभाविक रूप से मस्तिष्क के रसायनों को आपके मस्तिष्क और शरीर के अन्य हिस्सों में ले जाते हैं। जब इन रसायनों से जुड़े तंत्रिका तंत्र ठीक से काम नहीं करते, तो तंत्रिका रिसेप्टर्स और तंत्रिका तंत्र में परिवर्तन आते हैं जिससे डिप्रेशन (अवसाद) होता है।

मानसिक रोग होने के जोखिम कारक क्या हैं ?

कुछ कारक मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं के विकास के आपके जोखिम को बढ़ा सकते हैं, जिनमें निम्नलिखित करक शामिल हैं -

माता-पिता या भाई-बहन या किसी अन्य खून के रिश्ते वाले व्यक्ति को मानसिक रोग होना।
किसी तनावपूर्ण जीवन स्थिति, जैसे वित्तीय समस्याएं, किसी की मृत्यु या तलाक का अनुभव करना।

  1. कोई पुरानी चिकित्सा समस्या जैसे कि शुगर की बीमारी (डायबिटीज)।
  2. गंभीर चोट (दर्दनाक मस्तिष्क की चोट) के परिणामस्वरूप मस्तिष्क की क्षति।
  3. दर्दनाक अनुभव, जैसे युद्ध या हमला।
  4. शराब या ड्रग्स का प्रयोग।
  5. बचपन में दुर्व्यवहार अनुभव करना।
  6. केवल कुछ ही दोस्त या स्वस्थ रिश्ते होना।
  7. कोई पहले की मानसिक बीमारी।

मानसिक रोग बहुत आम हैं। 5 वयस्कों में से 1 व्यक्ति को कभी न कभी कोई मानसिक बीमारी होती है। मानसिक रोग किसी भी उम्र में शुरू हो सकता है लेकिन अधिकांश यह जीवन के शुरू के वर्षों में शुरू हो जाते हैं।

मानसिक रोग के प्रभाव अस्थायी या स्थायी हो सकते हैं। आपको एक समय में एक से अधिक मानसिक रोग भी हो सकते हैं। उदाहरण के लिए, आपको डिप्रेशन (अवसाद) और लत्त सम्बन्धी विकार एक ही समय पर हो सकते हैं।

(और पढ़ें - अवसाद दूर करने के उपाय)

मानसिक रोग से बचाव - Prevention of Mental Illness in Hindi

मानसिक रोग से बचाव - Prevention of Mental Illness in Hindi

मानसिक रोग का बचाव कैसे होता है ?

मानसिक बीमारी को रोकने का कोई निश्चित तरीका नहीं है। हालांकि, यदि आपको मानसिक बीमारी है, तो तनाव को नियंत्रित करना और आत्मसम्मान को बढ़ाना मदद कर सकते हैं। इसके लिए निम्नलिखित बातों का ध्यान रखें -

  1. चेतावनी के संकेतों पर ध्यान दें - अपने चिकित्सक से इस बारे में बात करें कि कोनसी स्थितियां आपके लक्षणों को शुरू कर सकती हैं। एक योजना बनाएं ताकि आपको यह पता चल सके कि लक्षणों को अनुभव करने पर आपको क्या करना है। अगर आपको कोई बदलाव महसूस होते हैं तो अपने चिकित्सक से संपर्क करें। चेतावनी के संकेत देखने के लिए परिवार के सदस्यों या दोस्तों को भी सूचित करें।
     
  2. नियमित चिकित्सा प्राप्त करें - स्वास्थ्य चिकित्सक के पास जाना न छोड़ें, खासकर यदि आप ठीक महसूस नहीं कर रहे हैं। आपको एक नई स्वास्थ्य समस्या हो सकती है जिसे इलाज की आवश्यकता है या आप दवा के दुष्प्रभावों का अनुभव कर सकते हैं।
     
  3. सहायता प्राप्त करें - मानसिक स्वास्थ्य की स्थिति का इलाज करना कठिन हो सकता है यदि आप लक्षणों के खराब होने तक प्रतीक्षा करते हैं। दीर्घकालिक उपचार से लक्षणों को रोकने में मदद मिल सकती है।
     
  4. अपना ध्यान रखें - पर्याप्त नींद, पौष्टिक आहार और नियमित व्यायाम महत्वपूर्ण हैं। एक नियम बनाए रखने की कोशिश करें। अपने चिकित्सक से बात करें अगर आपको परेशानी हो रही है या यदि आपको आहार और व्यायाम सम्बन्धी कोई प्रश्न हैं।

मानसिक रोग का निदान - Diagnosis of Mental Illness in Hindi

मानसिक रोग का निदान - Diagnosis of Mental Illness in Hindi

मानसिक रोग का निदान कैसे होता है ?

मानसिक रोग के निदान और संबंधित जटिलताओं की जांच करने के लिए, निम्नलिखित जाँच की जा सकती हैं -

  • शारीरिक परीक्षण
    शारीरिक परीक्षण में आपके डॉक्टर उन शारीरिक समस्याओं को दूर करने की कोशिश करेंगे जो आपके लक्षणों का कारण बन सकते हैं।
     
  • लैब टेस्ट
    लैब परीक्षण में आपके थायराइड की जांच या शराब और ड्रग्स की जांच की जा सकती है।
     
  • मनोवैज्ञानिक मूल्यांकन
    मनोवैज्ञानिक मूल्यांकन में आपके डॉक्टर आपके लक्षणों, विचारों, भावनाओं और व्यवहार के बारे में आपसे पूछते हैं। आपको एक प्रश्नावली भरने के लिए भी कहा जा सकता है।

मानसिक रोग का उपचार - Mental Illness Treatment in Hindi

मानसिक रोग का उपचार - Mental Illness Treatment in Hindi

मानसिक रोग का इलाज क्या है?

मानसिक रोग के उपचार निम्नलिखत हैं -

1. अस्पतालमें भर्ती होने की ज़रुरत 
अस्पताल में भर्ती होने पर मानसिक रोग के उपचार में आमतौर पर स्थिरीकरण, निगरानी, दवा, तरल पदार्थ और पोषण की देखभाल और अन्य जरूरी आपातकालीन देखभाल होती हैं।

एक व्यक्ति को अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता होती है जब -

  • उन्हें गंभीर मानसिक स्वास्थ्य के लक्षण हों।
  • मतिभ्रम या भ्रम हों।
  • आत्मघाती विचारधारा हो।
  • बहुत दिन के लिए सोए नहीं या खाना नहीं खाया।
  • मानसिक स्वास्थ्य के लक्षणों के कारण स्वयं की देखभाल करने की क्षमता नहीं रही।

2. मनोचिकित्सा
मानसिक रोग के लिए कई विभिन्न प्रकार की मनोचिकित्सा उपलब्ध हैं, जैसे -

  • व्यक्तिगत चिकित्सा - व्यक्तिगत चिकित्सा एक ऐसी मनोचिकित्सा है जहां एक व्यक्ति अपने चिकित्सक के साथ कई तरह की विभिन्न रणनीतियों और तरीकों का इस्तेमाल करते हुए भावनाओं, दुखों और अन्य मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं का पता लगाते हैं।
  • ग्रुप थेरेपी - ग्रुप थेरेपी में आमतौर पर एक चिकित्सक नेतृत्व करते हैं और इसमें कई लोग शामिल होते हैं।
  • पारिवारिक चिकित्सा - पारिवारिक मनोचिकित्सा में परिवार के सदस्य मुद्दों को हल करने के लिए एक चिकित्सक से मिलते हैं।
  • संज्ञानात्मक व्यवहार थेरेपी (Cognitive Behavioral Therapy) - संज्ञानात्मक व्यवहार थेरेपी सबसे आम मनोचिकित्सा है। इसका इस्तेमाल व्यक्तिगत, ग्रुप या परिवार के स्तर पर किया जा सकता है। इस चिकित्सा में, चिकित्सक मरीज़ के असामान्य विचारों और व्यवहारों को सकारात्मक विचारों से बदलने की कोशिश करते हैं।
  • डायलेक्टिकल वर्चुअल थेरेपी (Dialectical behavior therapy) - इस मनोचिकित्सा में अस्वास्थ्यकर विचारों, भावनाओं और व्यवहारों को स्वीकार और मान्य करने पर जोर दिया जाता है और स्वीकार्यता व परिवर्तन के बीच संतुलन बनाने की कोशिश की जाती है।
  • पारस्परिक उपचार - पारस्परिक उपचार में लोगों के संबंधों में समस्याओं का समाधान होता है और संबंधों की गुणवत्ता में सुधार के लिए नए पारस्परिक और संचार कौशल सिखाता जाता है।

3. दवाएं
मानसिक रोग के लक्षणों के इलाज के लिए दवाओं का उपयोग किया जा सकता है। दवाओं का प्रयोग अक्सर मनोचिकित्सा के साथ संयोजन में किया जाता है।

मानसिक रोग के लिए इस्तेमाल होने वाली दवाएं निम्नलिखित हैं -

  1. एंटीडिप्रेसन्ट दवाएं।
  2. चिंता विरोधी दवाएं।
  3. मूड स्टेबलाइजर्स।
  4. मनोविकार नाशक दवाएं।

4. वैकल्पिक उपचार
मानसिक रोग के लिए कुछ वैकल्पिक उपचार निम्नलिखित हैं -

  1. योग
  2. ध्यान
  3. पौष्टिक आहार
  4. व्यायाम

मानसिक रोग की जटिलताएं - Mental Illness Complications in Hindi

मानसिक रोग की जटिलताएं - Mental Illness Complications in Hindi

मानसिक रोग से क्या जटिलताएं पैदा हो सकती हैं?

मानसिक रोग विकलांगता का एक प्रमुख कारण है। अनुपचारित मानसिक बीमारी से गंभीर भावनात्मक, व्यवहारिक और शारीरिक स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। मानसिक रोग से कानूनी और वित्तीय समस्याएं भी हो सकती हैं। इसकी निम्नलिखित जटिलताएं होती हैं -

  • दुख और जीवन के आनंद में कमी।
  • कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली, जिससे आपके शरीर को संक्रमण से लड़ने में समय लगता है।
  • पारिवारिक समस्याएं।
  • रिश्तों में समस्याएं।
  • सामाजिक अलगाव।
  • तंबाकू, शराब और अन्य नशीले पदार्थ से जुडी समस्याएं।
  • गरीबी और बेघरपन।
  • आत्महत्या या दूसरों को नुक्सान पहुंचाना।
  • दुर्घटनाओं का बढ़ता जोखिम।
  • हृदय रोग और अन्य चिकित्सा समस्याएं।

अगर आप या आपके परिवार का कोई सदस्य इस समस्या से पीड़ित है, तो इन आसान से सवालों का जवाब देकर आप अन्य सदस्यों की मदद कर सकते हैं|

लिंग
आदमी 23 औरत 5
क्या आपने अपनी समस्या के इलाज के लिए डॉक्टर को दिखाया है?
  • डॉक्टर से पूछ कर 15
  • डॉक्टर से बिना पूछे 11
आप इसका इलाज करने के लिए क्या तरीका अपना रहे हैं?

अलोपैथी

आयुर्वेद

होमोपैथिक

घरेलू नुस्खे

???????

और पढ़ें ...