भारत दुनिया का दूसरा सबसे ज्यादा आबादी वाला देश है, जहां एक बड़ी संख्या में लोग गरीबी रेखा के नीचे रहते हैं। भारत में रहने वाला यह वर्ग रोजाना की गई मजदूरी से ही अपना गुजारा करता है और ऐसे में यदि दुर्भाग्यपूर्ण घटना हो जाए तो इन इनका जीवन पूरी तरह से असहाय स्थिति में आ जाता है। भारत सरकार लगातार ऐसी स्थिति में रहने वाले लोगों की मदद करने के लिए विशेष स्कीम जारी करती आई है। इन्हीं स्कीमों में से एक आम आदमी बीमा योजना भी है, जिसके बारे में आज हम बात करने वाले हैं।

आम आदमी बीमा योजना को विशेष रूप से उन लोगों के लिए तैयार किया गया है, जो गरीबी रेखा के नीचे रहते हैं और परिवार के अकेले कमाने वाले हैं। ऐसे में यदि बीमित व्यक्ति को किसी दुर्घटना के कारण विकलांगता या फिर उसकी मृत्यु हो जाती है, तो आम आदमी बीमा योजना के तहत सरकार उसके परिवार को कवरेज के रूप में एक विशेष राशि प्रदान करती है। मृत्यु या विकलांगता की प्रकृति के अनुसार अलग-अलग राशि कवरेज के रूप में प्रदान की जाती है, जिसके बारे में नीचे लेख में बताया गया है। साथ ही इस लेख में आप जानेंगे कि आप बीएसबीवाई क्या है, इसके लाभ इसमें क्या कवर किया जाता है और क्या नहीं आदि।

(और पढ़ें - हेल्थ इन्शुरन्स में क्या-क्या कवर होता है)

  1. एएबीवाई क्या है
  2. आम आदमी बीमा योजना में क्या कवर किया जाता है
  3. आम आदमी बीमा योजना में क्या कवर नहीं होता है
  4. आम आदमी बीमा योजना के क्या लाभ हैं
  5. आम आदमी बीमा योजना में कितना प्रीमियम देना पड़ता है
  6. आम आदमी बीमा योजना की पात्रता के क्या मापदंड हैं
  7. आम आदमी बीमा योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज कौन से हैं

आम आदमी बीमा योजना एक सामाजिक सुरक्षा योजना है, जिसका लक्ष्य विशेष रूप से गरीब जनता को कवरेज प्रदान करना है। इस योजना को अक्तूबर 2007 को जारी किया गया था, जिसमें मुख्य रूप से उन लोगों को कवर किया जाता है जो पेरोल पर नहीं हैं। उदाहरण के तौर पर मछुआरे, ऑटो चालक, मोची, आदि इस योजना के अंतर्गत कवर किए जाते हैं। कम आय के कारण इन वर्गों के लोग विकलांगता और मृत्यु जैसी आकस्मिक स्थितियों के लिए पैसे नहीं बचा पाते हैं। आम आदमी बीमा योजना उन्हें ऐसी गंभीर स्थितियों में वित्तीय मदद प्रदान करती है, ताकि उन्हें अपने जीवन का गुजारा करने में मदद मिले।

(और पढ़ें - व्यक्तिगत स्वास्थ्य बीमा क्या है)

एएबीवाई में उन सभी लोगों को विकलांगता या मृत्यु जैसी दुर्भाग्यपूर्ण स्थितियों में कवरेज मिलती है, जो इस योजना के पात्र हैं। इस इन्शुरन्स प्लान की कवरेज में निम्न शामिल हैं -

  • विकलांगता -
    यदि किसी दुर्घटना के कारण लाभार्थी को आंशिक या पूर्ण विकलांगता हो जाती है, तो इसमें सरकारी चिकित्सक द्वारा एक विशेष मेडिकल सर्टिफिकेट बनाया जाता है। इस मेडिकल सर्टिफिकेट में यह बताया जाता है कि विकलांगता कैसे हुई है और इस सर्टिफिकेट की आवश्यकता क्लेम करते समय पड़ती है। आंशिक विकलांगता होने पर 37 हजार पांच सौ रुपये और पूर्ण विकलांगता होने पर 75 हजार रुपये की कवरेज दी जाती है।
     
  • दुर्घटना के कारण मृत्यु -
    ऐसी स्थिति में भी लाभार्थी व्यक्ति का मेडिकल सर्टिफिकेट बनाया जाता है। इस सर्टिफिकेट में भी मृत्यु के कारण व अन्य जानकारी दी जाती हैं, जिसकी क्लेम करते समय आवश्यकता पड़ती है। दुर्घटना के कारण मृत्यु होने पर 75 हजार रुपये कवरेज के रूप में दिए जाते हैं।
     
  • प्राकृतिक कारणो से मृत्यु -
    इसके लिए बनाए गए मेडिकल सर्टिफिकेट में बताया जाता है कि लाभार्थी की मृत्यु प्राकृति कारणों से हुई है और क्लेम करते समय इस सर्टिफिकेट की आवश्यकता पड़ती है। प्राकृतिक कारणों से मृत्यु होने पर 30 हजार रुपये तक की कवरेज दी जाती है।

(और पढ़ें - राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन क्या है)

इस बीमा योजना के माध्यम से सरकार उन लोगों को वित्तीय रूप से सहायता प्रदान करती है, जो दुर्घटनाग्रस्त विकलांगता या मृत्यु जैसी स्थितियों के कारण जरूरतमंद हो गए हैं। हालांकि, कुछ स्थितिया हैं जिन्हें आम आदमी बीमा योजना के तहत कवरेज नहीं मिलती है। एएबीवाई की एक्सक्लूजन लिस्ट कुछ इस प्रकार है -

  • अस्पताल में भर्ती (हॉस्पिटलाइजेशन) होने पर खर्च
  • मानसिक विकारों के कारण मृत्यु या विकलांगता
  • खुदकुशी करना
  • देश में युद्ध जैसी स्थितियों के कारण मृत्यु या विकलांगता होना
  • खतरनाक व साहसिक खेलों में भाग लेना
  • अवैध गतिविधियां को हिस्सा बनना
  • नशीले पदार्थों का सेवन करने से मृत्यु या अपंगता होना

(और पढ़ें - नशे से छुटकारा पाने के घरेलू उपाय)

जैसा कि हमने आपको ऊपर बताया है आम आदमी बीमा योजना अलग-अलग स्थितियों में हुई अपंगता या मृत्यु के अनुसार एक निश्चित राशि कवरेज के रूप में देता है। इसके अलावा एक फ्री एड ऑन के रूप में एएबीवाई के लाभार्थियों के बच्चों को छात्रवृत्ति दी जाती है। छात्रवृत्ति के रूप में 9वीं से 12वीं कक्षा में पढ़ने वाले बच्चों को 100 रुपये प्रतिमाह दिया जाता है और एक परिवार के अधिकतम दो बच्चों को ही छात्रवृति दी जा सकती है। हालांकि, यह छात्रवृत्ति अर्धवार्षिक तौर पर (1 जुलाई और 1 जनवरी को) देय होती है।

सभी लाभार्थियों की जानकारियों को डिजिटल तरीके से ऑनलाइन दर्ज किया जाता है, ताकि नामांकित सदस्यों को प्रभावी तरीके से अच्छी गुणवत्ता वाली सेवाएं मिल सकें। साथ ही इसमें बेस्ड मॉनिटरिंग सिस्टम की मदद से सारी प्रक्रियाओं पर निगरानी रखी जाती है, ताकि जरूरतमंदों को जल्द से जल्द लाभ मिल सके।

(और पढ़ें - बीमा प्लस के लाभ)

एएबीवाई एक ग्रुप इन्शुरन्स है और इसमें भरा जाने वाला प्रीमियम आमतौर पर प्रति सदस्य 320 रुपये है। इस प्रीमियम का आधा हिस्सा सरकार द्वारा भरा जाता है और बाकी का हिस्से को लाभार्थी अपनी जेब से भुगतान करता है। 2008-09 और 2009-10 सालों में अधिक संख्या में विपरीत क्लेम रेशो दर्ज की गई, कारण भारतीय जीवन बीमा निगम ने 1 अप्रैल 2010 से आम आदमी बीमा योजना के प्रीमियम को 200 रुपये से बढ़ाकर 320 रुपये कर दिया था।

(और पढ़ें - ग्रुप हेल्थ इन्शुरन्स क्या है)

एएबीवाई सरकार द्वारा प्रायोजित एक विशेष बीमा योजना है, जिसका लाभार्थी होने के लिए आपकी उम्र 18 से 59 साल होनी जरूरी है। इसके अलावा निम्न स्थितियों से जुड़े लोग आम आदमी बीमा योजना के पात्र हैं -

  • गरीबी रेखा से नीचे आने वाले लोग
  • भूमिहीन व्यक्ति 

आम आदमी बीमा योजना का लाभ सिर्फ वह व्यक्ति ही उठा सकता है, जो उपरोक्त स्थितियों से संबंधित होने के साथ परिवार का अकेला कमाने वाला व्यक्ति हो।

(और पढ़ें - क्या बच्चों के लिए हेल्थ इन्शुरन्स लिया जा सकता है)

यदि आप आम आदमी बीमा योजना का लाभार्थी होने के सभी मापदंडों को पूरा करते हैं, तो आपको इस योजना का नामांकरण करने के लिए निम्न दस्तावेजों की आवश्यकता पड़ती है -

  • वोटर कार्ड
  • राशन कार्ड
  • आधार कार्ड
  • स्कूल या बर्थ सर्टिफिकेट (एड ऑन सर्टिफिकेट के लिए)
  • भारत सरकार या किसी भी अन्य प्रतिष्ठित नियोक्ता कंपनी द्वारा जारी किया गया पहचान पत्र

(और पढ़ें - हेल्थ इन्शुरन्स में क्लेम राशि मिलने में देरी के मुख्य कारण)

और पढ़ें ...
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ