करौंदा को हिंदी में करौंदा कहा जाता है। करौंदा का वैज्ञानिक नाम करिसा केरंडेस (Carissa carandas) होता है। करौंदा को सबसे पहले उत्तर अमेरिका में उगाया गया था। करौंदा की झाड़ियां 2 मीटर (7 फीट) लंबी और 5 से 20 सेंटीमीटर (2 से 8 इंच) की ऊँचाई तक की होती है। करौंदा का फल आकर में बहुत छोटा होता है जो देखने में गहरे गुलाबी रंग का होता है और खाने में थोडा मीठा लगता है।

  1. करौंदा के फायदे - Karonda ke Fayde in Hindi
  2. करौंदा के नुकसान - Karonda ke Nuksan in Hindi
करौंदा के फायदे और नुकसान के डॉक्टर

करौंदा को अक्सर करौंदा सॉस, करौंदा ड्रिंक्स और ड्राई क्रेनबेरी आदि के रूप में उपयोग किया जाता है। जब स्वस्थ खाद्य पदार्थों की बात आती है तो उच्च पोषक तत्वों और एंटीऑक्सीडेंट सामग्री से भरपूर करौंदा का नाम सबसे ऊपर आता है और इन्हें अक्सर "सुपर फ़ूड" के रूप में जाना जाता है। करौंदा के सेवन से मूत्र पथ के संक्रमण का खतरा, कुछ प्रकार के कैंसर की रोकथाम, बेहतर प्रतिरक्षा प्रणाली, रक्तचाप में कमी आदि समस्याओं को दूर किया जा सकता है।

करौंदा के फायदे यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन के लिए - Karonda for Urinary Tract Infections in Hindi

करौंदा मूत्र मार्ग संक्रमण को रोकने के लिए बहुत ही अच्छा होता है। करौंदा में मौजूद प्रोएथोकेनिडिन (पीएसी) का उच्च स्तर मूत्र मार्ग की दीवारों में बैक्टीरिया को कम करने में मदद करता है। फरवरी 2016 में ऑब्सट्रेट्रिक्स और गायनोकॉलॉजी के अमेरिकन जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन में बताया गया है कि करौंदा कैप्सूल मूत्र पथ के संक्रमण को कम करने में मदद करता है। (और पढ़ें - यूरिन इन्फेक्शन की दवा)

करौंदा के लाभ रखें हृदय को स्वस्थ - Karonda Benefits for Heart in Hindi

ब्रिटिश जर्नल ऑफ न्यूट्रिशन में प्रकाशित एक अध्ययन के मुताबिक, दिन में एक गिलास करौंदा के रस का पीने से एचडीएल कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ता है (एचडीएल को "अच्छा" कोलेस्ट्रॉल भी कहा जाता है)। (और पढ़ें - कोलेस्ट्रॉल का स्तर)

करौंदा में मौजूद पोलीफेनॉल्स भी प्लेटलेट बिल्ड-अप को रोकने और रक्तचाप को कम करने में मदद करते हैं जिससे हृदय रोग के खतरे को कम कर सकते हैं। (और पढ़ें - हृदय को स्वस्थ रखने के लिए खाएं ये आहार)

कैंसर का इलाज करें करौंदा से - Karonda Good for Cancer in Hindi

रिसर्च के अनुसार करौंदा ट्यूमर के बढ़ने को धीमा करने में फायदेमंद होते हैं और प्रोस्टेट कैंसर, लिवर कैंसर, स्तन कैंसर, ओवेरियन कैंसर (अंडाशय कैंसर) और कोलन कैंसर के खिलाफ सकारात्मक प्रभाव दिखाए हैं। (और पढ़ें - ब्रेस्ट कैंसर के कारण, उपचार और उपाय)

करौंदा का उपयोग रखें दांतों को स्वस्थ - Karonda for Dental Health in Hindi

करौंदा में प्रोएंथोसायनिडिन पाया जाता है जो कि यूटीआई (मूत्र मार्ग संक्रमण) को रोकने में मदद करता है। रोचेस्टर मेडिकल सेंटर विश्वविद्यालय में ओरल बायोलॉजी और ईस्टमैन डिपार्टमेंट ऑफ दंत चिकित्सा संस्थान के शोधकर्ताओं के अनुसार, प्रोएंथोसायनिडिन जीवाणुओं को दांतों से दूर करने में मदद करता है जिससे दांतों या मौखिक स्वास्थ्य से जुड़ी समस्याएं कम हो जाती है। इसलिए करौंदा भी मसूड़ों के रोगों को रोकने में फायदेमंद हो सकता है। (और पढ़ें - दांतों में कैविटी से बचने के उपाय)

करौंदा फल है मस्तिष्क के लिए अच्छा - Karonda Good for Brain in Hindi

टफट्स यूनिवर्सिटी के अनुसार करौंदा में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट और सूजन को कम करने वाले यौगिक स्मृति और समन्वय (coordination) में सुधार हो सकता है। इसलिए अगर आप अपनी मेमोरी को तेज करना चाहते हैं तो आज से ही करौंदा का सेवन शुरू कर दीजिये। (और पढ़ें - दिमाग तेज करने के घरेलू उपाय और क्या खाये)

करौंदा फॉर वेट लॉस - Karonda for Weight Loss in Hindi

करौंदा रस का शरीर में जमा फैट पर बहुत ही अच्छा प्रभाव पड़ता है जो वजन घटाने में लाभकारी होता है। चूंकि यह फाइबर के साथ भरा हुआ है, इसलिए इसके सेवन से आपको लंबे समय तक भूख नहीं लगती है जिसका मतलब है कि आपका पेट लंबे समय तक भरा हुआ रहता है। (और पढ़ें - मोटापा कम करने के लिए घरेलू उपाय)

करौंदा के गुण त्वचा को बेहतर रखने के लिए - Karonda for Skin in Hindi

करौंदा त्वचा को पोषण देने में मदद करती है और त्वचा को अधिक कोमल बनाती है। आप एक चौथाई कप शहद में दो चम्मच ड्राई करौंदा और एक चौथाई चम्मच करौंदा तेल को मिक्स करें। और बेहतर परिणाम के लिए 10 मिनट के लिए इस मिश्रण को अपनी त्वचा पर लगाए और उसके बाद अच्छे से धो लें। (और पढ़ें - चमकदार त्वचा के लिए 10 सरल टिप्स)

करौंदे के रस का सेवन रखें प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत - Karonda for Immune System in Hindi

चूंकि करौंदा एंटीऑक्सिडेंट्स और फाइटोकेमिकल्स में परिपूर्ण होते हैं, इसलिए करौंदा एक स्वस्थ प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देते हैं और बीमार होने की बाधाओं को कम करते हैं। (और पढ़ें - रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थ और घरेलू उपाय)

  1. चिकित्सीय कारणों के लिए करौंदा लेने की सुरक्षा के बारे में पर्याप्त विश्वसनीय जानकारी नहीं है। इसलिए यदि आप गर्भवती हैं या स्तनपान करा रही हैं तो बेहतर होगा कि आप इसके उपयोग से बचें।
  2. करौंदा में सॅलिसीलिक एसिड की बहुत अधिक मात्रा होती है। सॅलिसीलिक एसिड एस्पिरिन के समान होता है। यदि आपको एस्पिरिन से एलर्जी है तो करौंदा रस के सेवन से बचें।
Dt. Akanksha Mishra

Dt. Akanksha Mishra

पोषणविद्‍
8 वर्षों का अनुभव

Surbhi Singh

Surbhi Singh

पोषणविद्‍
22 वर्षों का अनुभव

Dr. Avtar Singh Kochar

Dr. Avtar Singh Kochar

पोषणविद्‍
20 वर्षों का अनुभव

Dr. priyamwada

Dr. priyamwada

पोषणविद्‍
7 वर्षों का अनुभव


उत्पाद या दवाइयाँ जिनमें करौंदा है

और पढ़ें ...
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ