विटामिन-बी12 शरीर के लिए सबसे जरूरी विटामिन में से एक है. यह शरीर में रेड ब्लड सेल्स को बनाने में मदद करता है. इसके साथ ही विटामिन-बी12 मस्तिष्क और तंत्रिकाओं के कार्यों में भी अहम भूमिका निभाता है. यह पानी में घुलनशील विटामिन होता है. इसका उत्पादन शरीर में नहीं होता है, बल्कि कुछ खाद्य पदार्थ और सप्लीमेंट्स शरीर में विटामिन-बी12 की पूर्ति करते हैं. वहीं, कई बार शरीर में विटामिन-बी12 की कमी होने लगती है. ऐसे में डॉक्टर विटामिन-बी12 का सप्लीमेंट लेने की सलाह दे सकते हैं. ऐसे में अक्सर लोगों के मन में सवाल रहता है कि विटामिन-बी12 को कितनी मात्रा में लेनी चाहिए? साथ ही क्या विटामिन-बी12 की अधिक मात्रा ले सकते हैं?

आज इस लेख में आप जानेंगे कि विटामिन-बी12 को अधिक मात्रा में लिया जा सकता है या नहीं -

(और पढ़ें - विटामिन-बी12 की कमी के लिए आयुर्वेदिक दवा)

  1. बी12 की अधिक मात्रा लेना फायदेमंद या हानिकारक है?
  2. विटामिन-बी12 की अधिक मात्रा लेने के नुकसान
  3. उम्र के अनुसार विटामिन-बी12 की डोज
  4. क्या प्रेगनेंसी में विटामिन बी-12 की लेना सुरक्षित है?
  5. सारांश
क्या विटामिन-बी12 की ओवरडोज ले सकते हैं? के डॉक्टर

विटामिन दाे प्रकार के होते हैं - पानी में घुलनशील और वसा में घुलनशील. विटामिन-बी12 पानी में घुलनशील विटामिन है. इसलिए, अगर इसे अधिक मात्रा में भी लिया जाता है, तो कोई नुकसान नहीं होता. शरीर अतिरिक्त विटामिन-बी12 को स्टोर नहीं करता है. अतिरिक्त विटामिन-बी12 को पेशाब के माध्यम से बाहर निकाल देता है.

इसके अलावा, शरीर विटामिन बी-12 को अच्छी तरह से अवशोषित भी नहीं करता है. शरीर 500 एमसीजी खुराक का सिर्फ 9.7 माइक्रोग्राम ही अवशोषित करता है. इसके बावजूद विटामिन-बी12 की अधिक खुराक लेने से बचना चाहिए. इसकी डोज डॉक्टर से पूछकर ही लेनी चाहिए.

(और पढ़ें - विटामिन बी12 टेस्ट)

myUpchar के डॉक्टरों ने अपने कई वर्षों की शोध के बाद आयुर्वेद की 100% असली और शुद्ध जड़ी-बूटियों का उपयोग करके myUpchar Ayurveda Urjas Capsule बनाया है। इस आयुर्वेदिक दवा को हमारे डॉक्टरों ने कई लाख लोगों को सेक्स समस्याओं के लिए सुझाया है, जिससे उनको अच्छे प्रभाव देखने को मिले हैं।
Long time capsule
₹719  ₹799  10% छूट
खरीदें

वैसे तो विटामिन-बी12 की अधिक मात्रा लेना नुकसानदायक नहीं होता है, क्योंकि शरीर इसे स्टोर नहीं करता है और अतिरिक्त मात्रा को पेशाब के जरिए बाहर निकाल देता है. फिर भी इसके कुछ सामान्य साइड इफेक्ट नजर सकते हैं -

  • कई अध्ययनों से पता चला है कि विटामिन-बी12 की अधिक डोज से मुंहासे और रोजेशिया के लक्षण नजर आ सकते हैं. ये त्वचा से संबंधित समस्याए हैं, जिनमें त्वचा पर लालिमा और मवाद से भरे दाने निकल सकते हैं.
  • शोधकर्ताओं का मानना है कि अगर लंबे समय तक अधिक मात्रा में विटामिन-बी12 लिया जाता है, तो डायबिटीज और किडनी की बीमारी वाले लोगों में इसका नकारात्मक स्वास्थ्य प्रभाव पड़ सकता है.
  • कुछ हेल्थ एक्सपर्ट्स का मानना है कि विटामिन-बी12 की अधिक डोज हार्ट अटैक और स्ट्रोक के जोखिम को बढ़ा सकती है, लेकिन इसके लिए अभी पर्याप्त शोध उपलब्ध नहीं है.

(और पढ़ें - आंखों के लिए विटामिन-बी12 के फायदे)

विटामिन-बी12 को सप्लीमेंट के रूप में लेने के लिए आप Sprowt Vitamin-B12 का इस्तेमाल कर सकते हैं -

विटामिन-बी12 की खुराक को उम्र के अनुसार ही लेनी चाहिए. इसे न ही कम और न ही अधिक मात्रा में लेना चाहिए. भले ही विटामिन-बी12 की अधिक मात्रा गंभीर नुकसान नहीं पहुंचाती है, लेकिन इसका शरीर को फायदा भी कुछ नहीं मिलता है. इसलिए, सीमित मात्रा में ही विटामिन-बी12 की डोज लेनी चाहिए. उम्र के हिसाब से विटामिन बी-12 की डोज इस प्रकार है -

  • 0-6 महीने: 0.4 mcg
  • 7-12 महीने: 0.5 mcg
  • 1-3 साल: 0.9 mcg
  • 4-8 साल: 1.2 mcg
  • 9-13 वर्ष: 1.8 mcg
  • 14 साल और उससे अधिक उम्र: 2.4 mcg
  • गर्भावस्था के दौरान: 2.6 mcg
  • स्तनपान के दौरान: 2.8 mcg

(और पढ़ें - विटामिन-बी12 की कमी से डिप्रेशन)

जो महिलाएं नॉनवेज नहीं खाती हैं, उनमें विटामिन-बी12 की कमी पाई जा सकती है. वहीं, प्रेगनेंसी के दौरान शरीर में विटामिन-बी12 की पर्याप्त मात्रा का होना जरूरी होता है. इसलिए, अगर कोई महिला प्रेगनेंट है, तो डॉक्टर की सलाह पर विटामिन-बी12 की डोज ली जा सकती है. 

विटामिन-बी12 की कमी भ्रूण को गंभीर रूप से प्रभावित कर सकती है. इसके अलावा, गर्भवती महिलाओं में कम विटामिन-बी12 का स्तर न्यूरल ट्यूब दोषसमय से पहले जन्म और प्रीक्लेम्पसिया के जोखिम को बढ़ा सकता है.

शोध में पाया गया है कि विटामिन-बी12 की कमी वाली महिलाओं (जो स्तनपान कराती हैं) के बच्चों में विकास देरी से हो सकता है. इसके अलावा, इन बच्चों को एनीमिया और कमजोरी का भी अनुभव हो सकता है. इसलिए अगर प्रेगनेंसी में विटामिन-बी12 की कमी है, तो आप डॉक्टर की सलाह पर इसे ले सकते हैं.

(और पढ़ें - पुरुषों के लिए विटामिन-बी12 के फायदे)

myUpchar के डॉक्टरों ने अपने कई वर्षों की शोध के बाद आयुर्वेद की 100% असली और शुद्ध जड़ी-बूटियों का उपयोग करके myUpchar Ayurveda Kesh Art Hair Oil बनाया है। इस आयुर्वेदिक दवा को हमारे डॉक्टरों ने 1 लाख से अधिक लोगों को बालों से जुड़ी कई समस्याओं (बालों का झड़ना, सफेद बाल और डैंड्रफ) के लिए सुझाया है, जिससे उनको अच्छे प्रभाव देखने को मिले हैं।
Bhringraj hair oil
₹425  ₹850  50% छूट
खरीदें

विटामिन-बी12 हमारे शरीर में कई महत्वपूर्ण कार्यों के लिए जिम्मेदार होता है. इसलिए, जब शरीर में विटामिन-बी12 का स्तर कम होता है, तो संपूर्ण स्वास्थ्य प्रभावित होने लगता है. ऐसे में विटामिन-बी12 को पूरा करने के लिए इसे सप्लीमेंट के रूप में लिया जा सकता है. हालांकि, इसकी अधिक मात्रा लेने का शरीर पर कोई नकारात्मक प्रभाव नहीं पड़ता है, फिर भी इसकी पर्याप्त डोज ही लेनी चाहिए.

(और पढ़ें - त्वचा के लिए विटामिन-बी12 के फायदे)

Dt. Priti Kumari

Dt. Priti Kumari

आहार विशेषज्ञ
2 वर्षों का अनुभव

Dt. Sonal jain

Dt. Sonal jain

आहार विशेषज्ञ
5 वर्षों का अनुभव

Dt. Rajni Sharma

Dt. Rajni Sharma

आहार विशेषज्ञ
7 वर्षों का अनुभव

Dt. Neha Suryawanshi

Dt. Neha Suryawanshi

आहार विशेषज्ञ
10 वर्षों का अनुभव

ऐप पर पढ़ें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ