विटामिन बी12 की कमी क्या है? 

विटामिन बी12 एक अनिवार्य विटामिन है जिसे शरीर खुद नहीं बना सकता। विटामिन बी12 को कोबालामिन (cobalamin) के नाम से भी जाना जाता है। हमारा शरीर नियमित रूप से विटामिन बी12 प्राप्त करने के लिए आहार पर निर्भर है। विटामिन बी12 लीवर में जमा रहता है ताकि यदि कभी इसकी थोड़ी-बहुत कमी हो तो इसकी पूर्ति हो सके। जब विटामिन बी12 की मात्रा बेहद कम हो जाती है तभी ज्यादा गंभीर लक्षण उभरने शुरू होते हैं और ऐसा होने में संभव है बरसों लग जाएँ।

(और पढ़ें - विटामिन बी के प्रकार)

विटामिन बी12 आपके शरीर के लिए कई तरह के काम करता है। यह आपका डीएनए और लाल रक्त कोशिकाएं बनाने में मदद करता है।

उम्र बढ़ने के साथ इस विटामिन को अवशोषित करना कठिन हो जाता है। ऐसा तब भी हो सकता है यदि आपने वज़न घटाने के लिए ऑपरेशन कराया हो या फिर कोई ऐसा ऑपरेशन हुआ हो जिसमें पेट का कोई हिस्सा निकाला गया हो या आप बहुत शराब पीते हों या फिर आपने लम्बे समय तक एंटासिड (एसिडिटी की दवा) ली हो।

विटामिन बी12 का पर्याप्त मात्रा में न होना विटामिन बी12 की कमी (विटामिन बी12 डेफिशियेंसी एनीमिया) कहलाता है। ऐसी स्थिति में शरीर सामान्य से बड़े आकर की लाल रक्त कोशिकाएँ बनाता है, जो आपना काम ठीक से नहीं कर पाती हैं।

(और पढ़ें - एनीमिया से बचने के उपाय)

खून की जांच और माइक्रोस्कोप से रक्त कोशिकाओं की जांच से हीमोग्लोबिन के स्तर, लाल रक्त कोशिकाओं और खून में विटामिन बी12 के स्तर का आकलन होता है। विटामिन बी12 की कमी का इलाज इस पर निर्भर करता है कि डॉक्टर इसकी वजह क्या पाते हैं। ज्यादातर लोगों के लिए पर्याप्त मात्रा में विटामिन बी12 प्राप्त करने के लिए संतुलित भोजन काफी होता है। विटामिन बी12 पूरक टेबलेट भी लेने की सलाह दी जा सकती है।

(और पढ़ें - हीमोग्लोबिन क्या होता है)

  1. विटामिन बी की 12 खुराक - Vitamin B12 Requirement per day in Hindi
  2. विटामिन बी 12 की कमी के लक्षण - Vitamin B12 Deficiency Symptoms in Hindi
  3. विटामिन बी 12 की कमी के कारण और जोखिम - Vitamin B12 Deficiency Causes & Risks in Hindi
  4. विटामिन बी 12 की कमी से बचाव - Prevention of Vitamin B12 Deficiency in Hindi
  5. विटामिन बी 12 की कमी का निदान - Diagnosis of Vitamin B12 Deficiency in Hindi
  6. विटामिन बी 12 की कमी का उपचार - Vitamin B12 Deficiency Treatment in Hindi
  7. विटामिन बी 12 की कमी से होने वाले रोग - Disease caused by Vitamin B12 Deficiency in Hindi
  8. विटामिन बी 12 की कमी की दवा - Medicines for Vitamin B12 Deficiency in Hindi
  9. विटामिन बी 12 की कमी के डॉक्टर

विटामिन बी12 रोजाना कितनी मात्रा में लेना चाहिए?

पुरुषों और महिलाओं को विटामिन बी12 की अलग-अलग मात्रा की आवश्यकता होती है। इसके अलावा आपकी उम्र और स्वास्थ्य के अनुसार भी इसकी जरूरत अलग हो सकती है। 

इस टेबल में इन स्थितियों के अनुसार विटामिन बी 12 की सही दैनिक खुराक बताई गई है:

उम्र पुरुष महिला गर्भावस्था स्तनपान
0 से 6 महीने 0.4 एमसीजी 0.4 एमसीजी    
7 से 12 महीने 0.5 एमसीजी 0.5 एमसीजी    
1 से 3 साल 0.9 एमसीजी 0.9 एमसीजी    
4 से 8 साल 1.2 एमसीजी 1.2 एमसीजी    
9 से 13 साल 1.8 एमसीजी 1.8 एमसीजी    
14 या उससे ऊपर के साल 2.4 एमसीजी 2.4 एमसीजी 2.6 एमसीजी 2.8 एमसीजी

विटामिन बी12 की से जुड़े कुछ विशेष लक्षण:

विटामिन बी12 की कमी से एनीमिया हो सकता है, जिसके लक्षण हैं: 

(और पढ़ें - बच्चों में भूख न लगने के कारण)

डॉक्टर को कब दिखाएँ?

यदि आप विटामिन बी12 की कमी से हुए एनीमिया के लक्षण महसूस कर रहे हैं तो अपने डॉक्टर से मिलें। इसका पता आपके लक्षणों और खून की जाँच की रिपोर्ट के आधार पर लगाया जा सकता है।

विटामिन बी12 की कमी का जल्द से जल्द निदान और इलाज महत्वपूर्ण है। हालांकि बहुत से लक्षण इलाज से ठीक हो जाते हैं, लेकिन इलाज न हो तो इससे पैदा परेशानी लाइलाज हो सकती है। इलाज में जितनी देरी हो, स्थाई नुकसान की आशंका उतनी अधिक हो सकती है।

विटामिन बी12 की कमी क्यों होती है?

1. आहार में विटामिन बी12 का कम होना

विटामिन बी12 की कमी की आम वजह है आहार में विटामिन बी12 का कम होना। विटामिन बी12 ऐसा पोषक तत्व है जो सिर्फ मांस, मछली, अंडे और दूध तथा दुग्ध-उत्पादों जैसे पशुओं से मिलने वाले आहार में उपलब्ध होता है।

यदि आप निरा शाकाहारी हैं (अर्थात, आप मीट, दूध, पनीर और अंडे समेत पशुओं से मिलने वाले किसी भी प्रकार के आहार का सेवन नहीं करते हैं) तो आपको विटामिन बी12 की कमी हो सकती है। 

2. कम अवशोषण

विटामिन बी12 का अवशोषण छोटी आंत के जरिये होता है लेकिन इससे पहले का काम पेट (अमाशय) करता है। इसलिए कुछ स्थितियां जो पेट या छोटी आंत को प्रभावित करती हैं, वे विटामिन बी12 के ठीक तरीके से अवशोषण में बाधा डाल सकती हैं।

ज्यादा शराब पीने से पेट की अंदरूनी परतें प्रभावित हो जाती हैं, जिससे बी12 का अवशोषण बाधित होता है और इसकी कमी हो जाती है।

क्रोन रोग (Crohn's) और सीलिएक रोग (Celiac) जैसे आंत के रोग, छोटी आंत में विटामिन बी12 का उचित अवशोषण बाधित कर सकते हैं जिससे आहार में पर्याप्त विटामिन बी12 मौजूद होने के बावजूद इसकी कमी हो सकती है।

कुछ दवाएं विटामिन बी12 का अवशोषण बाधित कर सकती हैं। आम तौर पर ली जाने वाली दवाएं जिनके कारण विटामिन बी12 का स्तर कम हो सकता है, वे हैं:

विटामिन बी 12 की कमी होने की आशंका किन वजहों से बढ़ सकती है?

निम्न स्थितियों में विटामिन बी12 की कमी की संभावना बढ़ जाती है:

  • बुजुर्गों में विटामिन बी12 की कमी आम है
  • एट्रोफिक गेस्ट्राइटिस (Atrophic Gastritis) जिसमें पेट की अंदरूनी परतें पतली पड़ जाती हैं
  • पेट का अल्सर (और पढ़ें - पेट के अल्सर के उपाय)
  • पेट या छोटी आंत के किसी हिस्से को हटाने के लिए ऑपरेशन
  • परनीशियस एनीमिया (Pernicious Anaemia) से शरीर में विटामिन बी12 का अवशोषण कठिन हो जाता है
  •  ग्रेव्स रोग (Grave's disease) जैसी प्रतिरक्षा प्रणाली सम्बन्धी बीमारी (और पढ़ें - इम्यून सिस्टम मजबूत करने के उपाय)
  • बदहजमी की दवाएं

(और पढ़ें - अपच दूर करने के घरेलू उपाय)

विटामिन बी12 की कमी होने से कैसे बचें?

निरे शाकाहारी (जो अंडा तक नहीं खाते) अतिरिक्त विटामिन बी12 युक्त अनाज़ (Fortified Breakfast Cereal) और पूरक आहार का सेवन  कर बी12 की कमी दूर कर सकते हैं।

आम तौर पर लोग दुग्ध उत्पाद, मांस-मछली युक्त संतुलित आहार के ज़रिये बी12 के सभी अवयव प्राप्त कर कर सकते हैं। यह पौधों से प्राप्त भोजन में नहीं पाया जाता है।

विटामिन बी12 के कुछ अच्छे भोज्य स्रोत:

सोया से बना दूध (सोया मिल्क) और अतिरिक्त  विटामिन-खनिज युक्त अनाज (Breakfast Cereals) विटामिन बी12 से भरपूर होते हैं।

इलाज की जरूरत पड़े इससे पहले संतुलित आहार के जरिये आवश्यक मात्रा में पोषक तत्व प्राप्त करना हमेशा बेहतर होता है। स्वास्थ्यवर्धक आहार का सेवन कर बी12 की कमी से होने वाली परेशानियों से आसानी से बचा जा सकता है।

 (और पढ़ें - सोया के फायदे)

विटामिन बी 12 की कमी की जांच कैसे होती है ?

आपके डॉक्टर पहले शारीरिक परीक्षण, मसलन तेज नब्ज और त्वचा की रंगत आदि की जांच करेंगे ताकि विटामिन बी12 की कमी के संकेत देखे जा सकें।

  • खून की जांच की जा सकती है ताकि लाल रक्त कोशिकाओं की संख्या और उनके आकार का पता लगाया जा सके। बी12 की कमी वाले लोगों में लाल रक्त कोशिकाएँ अपेक्षाकृत बड़ी होती हैं जो सामान्य से बड़ी दिखती हैं। (और पढ़ें - विटामिन डी टेस्ट)
  • खून में विटामिन बी12 की कमी के कारण का पता लगाने के लिए अन्य जांच की जरूरत होती है। (और पढ़ें - विटामिन बी12 टेस्ट)
  • निदान की पुष्टि के लिए कभी-कभार अस्थि-मज्जा (बोन मैरो) की बायोप्सी (जांच के लिए नमूना लेना) की जा सकती है। इसका उपयोग एनीमिया और रक्त कोशिकाओं में असामान्यता की अन्य वजहों को दरकिनार करने के लिए किया जाता है।  (और पढ़ें - बिलीरुबिन टेस्ट)

विटामिन बी 12 का उपचार क्या है?

विटामिन बी12 की कमी का इलाज इस पर निर्भर करता है कि ऐसा किस वजह से हुआ है। आम तौर पर इलाज उस विटामिन का इंजेक्शन या टेबलेट देकर किया जा सकता है जिसकी शरीर में कमी है।

विटामिन बी12 की कमी से होने वाले एनीमिया का इलाज –

विटामिन बी12 की कमी से होने वाले एनीमिया का इलाज आमतौर पर विटामिन बी12 के इन्जेक्शन के जरिये किया जाता है जिसे हाइड्रोक्सोकोबालामिन (Hydroxocobalamin) कहते हैं।

सबसे पहले ये इंजेक्शन दो सप्ताह तक हर दूसरे दिन या आपके लक्षण में सुधार शुरू होने तक लगाये जाते हैं।

इस शुरूआती अवधि के बाद आपका इलाज इस पर निर्भर करेगा कि कहीं आपके शरीर में विटामिन बी12 की कमी आपके भोजन से तो जुड़ी नहीं है। विटामिन बी12 की कमी की सबसे आम वजह है परनीशियस एनीमिया जो आहार से जुड़ा नहीं होता।

(और पढ़ें - एनीमिया क्या है)

आहार सम्बन्धी एनीमिया

यदि आपके शरीर में विटामिन बी12 की कमी असंतुलित आहार होने के कारण हुई है तो भोजन के बीच विटामिन बी12 के टेबलेट लेने की सलाह दी जा सकती है या फिर आपको साल में दो बार हाइड्रोक्सोकोबालामिन (hydroxocobalamin) का इंजेक्शन भी दिया जा सकता है।

(और पढ़ें - संतुलित आहार का महत्व)

जिनके लिए अपने आहार से पर्याप्त मात्रा में विटामिन बी12 प्राप्त करना मुश्किल होता है, मसलन निरे शाकाहारी, उन्हें आजीवन विटामिन बी12 टेबलेट लेने की ज़रुरत पड़ सकती है।

यदि किसी के शरीर में लम्बे समय तक असंतुलित भोजन करने के कारण विटामिन बी12 की कमी पैदा हुई हो, जो कि आम तौर पर नहीं होता, तो उन्हें विटामिन बी12 का स्तर सामान्य होने और आहार में सुधार के बाद टेबलेट बंद करने की सलाह दी जाती है।

यदि आप शाकाहारी हैं या विकल्प के तौर पर आपको  मांस व दुग्ध उत्पादों की जगह कुछ अन्य भोज्य पदार्थों की तलाश है, तो ऐसे कुछ अन्य खाद्य पदार्थ उपलब्ध हैं जिनमें विटामिन बी12 होता है जैसे, अतिरिक्त विटामिन और खनिज युक्त अनाज (fortified breakfast cereal)।

आहारेतर एनीमिया

यदि आपके शरीर में विटामिन बी12 की कमी आहार में इसके अभाव के कारण नहीं हुई है तो आपको आम तौर पर आजीवन हर तीन महीने पर हाइड्रोक्सोकोबालामिन का इन्जेक्शन लगवाना पड़ सकता है।

विटामिन बी 12 में कमी के कारण यदि आपको तंत्रिका तंत्र सम्बन्धी लक्षण जैसे, हाथ-पैर सुन्न होना या झुनझनी आदि, महसूस हो रहे हैं तो हर दूसरे महीने हाइड्रोक्सोकोबालामिन का इंजेक्शन लगवाने की जरूरत पड़ सकती है।

ज्यादातर लोग इलाज से ठीक हो जाते हैं, लेकिन यदि विटामिन बी12 की कमी के कारण किसी नस को नुकसान हो गया हो तो यह असर स्थाई हो सकता है।

(और पढ़ें - न्यूरोपैथी के लक्षण)

विटामिन बी12 की कमी से कौन से रोग हो सकते हैं?

विटामिन बी12 की कमी से होने वाली ज़्यादातर परेशानियों का आसानी और प्रभावी तरीके से इलाज किया जा सकता है इसलिए बीमारी विरले ही पैदा होती है। 

एनीमिया से जुड़े रोग

वजह जो भी हो, हर तरह के एनीमिया के कारण ह्रदय और फेफड़ों से जुड़ी दिक्कत हो सकती है क्योंकि इन्हें शरीर के महत्वपूर्ण अंगों तक ऑक्सीजन पहुँचाने के लिए मेहनत करनी पड़ती है। 

  • गंभीर एनीमिया से पीड़ित वयस्कों को निम्न परेशानियाँ हो सकती हैं:
  • स्नायविक परिवर्तन –
    विटामिन बी12 की कमी से तंत्रिका तंत्र को प्रभावित करने वाली दिक्कतें पैदा हो जाती हैं, जैसे;
    • नजर कमजोर होना या इससे जुड़ी परेशानी
    • याददाश्त में कमी (और पढ़ें - याददाश्त बढ़ाने के उपाय)
    • हाथों और पैरों में सुई चुभन का अनुभव
    • शारीरिक समन्वय में कमी, जिसका प्रभाव आपके पूरे शरीर पर पड़ता है और बोलने या चलने में मुश्किल होती है
    • तंत्रिका तंत्र के कुछ हिस्से का क्षतिग्रस्त होना, खासकर पैर के हिस्से का प्रभावित होना।
      यदि तंत्रिका तंत्र संबंधी कोई परेशानी पैदा हो जाती है तो यह लाइलाज हो सकती है।
       
  • बांझपन
    विटामिन बी12 की कमी से कई बार अस्थायी रूप से गर्भ धारण करने में असमर्थता हो सकती है। यह समस्या आमतौर पर विटामिन बी12 की कमी के उचित उपचार से ठीक हो जाती है। (और पढ़ें - प्रेग्नेंट होने का तरीका)
     
  • पेट का कैंसर
    यदि परनीशियस एनीमिया के कारण आपके शरीर में विटामिन बी12 की कमी हुई है (जिसमें आपका प्रतिरक्षा तंत्र अमाशय-पेट की स्वस्थ कोशिकाओं को प्रभावित करता है) तो पेट का कैंसर होने का जोखिम बढ़ जाता है। (और पढ़ें - कैंसर से मुकाबला करने वाले आहार)
     
  • पैदायशी रोग –
    यदि आप गर्भवती हैं और आपके शरीर में विटामिन बी12 की मात्रा पर्याप्त नहीं है तो यह आपके बच्चे में मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी से जुड़ा कोई गंभीर रोग जन्म से हो सकता है।

(और पढ़ें - गर्भावस्था में क्या खाएं)

Dr. Vineet Saboo

Dr. Vineet Saboo

एंडोक्राइन ग्रंथियों और होर्मोनेस सम्बन्धी विज्ञान

Dr. JITENDRA GUPTA

Dr. JITENDRA GUPTA

एंडोक्राइन ग्रंथियों और होर्मोनेस सम्बन्धी विज्ञान

Dr. Sunny Singh

Dr. Sunny Singh

एंडोक्राइन ग्रंथियों और होर्मोनेस सम्बन्धी विज्ञान

विटामिन बी 12 की कमी के लिए बहुत दवाइयां उपलब्ध हैं। नीचे यह सारी दवाइयां दी गयी हैं। लेकिन ध्यान रहे कि डॉक्टर से सलाह किये बिना आप कृपया कोई भी दवाई न लें। बिना डॉक्टर की सलाह से दवाई लेने से आपकी सेहत को गंभीर नुक्सान हो सकता है।

Medicine NamePack SizePrice (Rs.)
Macrabin 1000 Mcg InjectionMacrabin 1000 Mcg Injection181.37
Vib 12Vib 12 1000 Mcg Injection10.0
Meaxon Gold InjectionMeaxon Gold Injection97.0
VitcofolVitcofol Capsule71.4
UnifolUnifol 15 Mcg/500 Mcg Injection45.0
Beplex PlusBeplex Forte Plus Elixir50.53
PolybionPolybion Capsule17.0

क्या आप या आपके परिवार में किसी को यह बीमारी है? सर्वेक्षण करें और दूसरों की सहायता करें

सम्बंधित लेख

और पढ़ें ...