विटामिन के अनेकों स्वास्थ्य लाभ हैं। विटामिन में हृदय रोगों, उच्च कोलेस्ट्रॉल के स्तर, नेत्र विकार और त्वचा विकार सहित विभिन्न रोगों को रोकने और उनका इलाज करने की क्षमता होती है। अधिकांश विटामिन हमारे शरीर के कई तंत्रों को कार्य करने में मदद करते हैं जो किसी अन्य पोषक तत्व के सेवन से नहीं होता। तो चलिए आज हम आपको विटामिन्स के स्वास्थ्य लाभ के बारे में बताते हैं।

  1. विटामिन ए या रेटिनॉल :
     
    विटामिन ए या रेटिनॉल आंखों के रोग, मुँहासे, त्वचा रोग और संक्रमणों के इलाज में उपयोगी है। साथ ही घावों के उपचार की प्रक्रिया को भी तेज करता है। आंखों का धब्‍बेदार विकार (macular degeneration) और मोतियाबिंद को रोकने के लिए भी यह बहुत लाभदायक है। यह केरोटेनोइड (carotenoid) के रूप में बालों के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में भी मदद करता है।
     
  2. विटामिन बी 1 या थाइमिन :
     विटामिन बी कॉम्प्लेक्स समहू में विटामिन बी 1, विटामिन बी 2, विटामिन बी 3, विटामिन बी 5, विटामिन बी 6, विटामिन बी 7, विटामिन बी 9, विटामिन बी 12 आते हैं। विटामिन बी 1 या थाइमिन मेटाबोलिज्म, रक्त परिसंचरण और मस्तिष्क के विकास करने के साथ-साथ बेरीबेरी, हृदय रोग और अपच जैसी समस्या को होने से रोकता है। विटामिन बी 1 के साथ विटामिन बी 2 और विटामिन बी 3 उन बुजुर्ग मरीजों के लिए आवश्यक हैं जिन्हें अतिरिक्त पोषण की आवश्यकता होती है या जो डिमेंशिया या अल्जाइमर रोग से ग्रसित होते हैं।
    (और पढ़ें - बदहजमी के घरेलू उपाय)
     
  3. विटामिन बी 2 या राइबोफ्लेविन :
    विटामिन बी 2 या राइबोफ्लेविन मोतियाबिंद, त्वचा विकार और एनीमिया के इलाज में मदद करता है साथ ही शरीर के मेटाबोलिक गतिविधि, इम्युनिटी और तंत्रिका तंत्र में सुधार भी करता है।
    (और पढ़ें - एनीमिया के लक्षण)
     
  4. विटामिन बी 3 या नियासिन :
    विटामिन बी 3 या नियासिन कमजोरी, अपच, त्वचा विकार, सिरदर्द, हृदय रोग, उच्च रक्तचाप, उच्च रक्त कोलेस्ट्रॉल, मधुमेह और दस्त को कम करने में मदद करता हैं।
     
  5. विटामिन बी 5 या पैंटोथीनिक एसिड :
    विटामिन बी 5 या पैंटोथीनिक एसिड तनाव, गठिया, विभिन्न प्रकार के संक्रमण, त्वचा रोग, बालों का सफ़ेद होना और उच्च कोलेस्ट्रॉल को दूर करने में मदद करता है।
     
  6. विटामिन बी 6 या पाइरोडौक्ज़ामिन :
     विटामिन बी 6 या पाइरोडौक्ज़ामिन मधुमेह, बवासीर, अकड़न, मासिक धर्म से अत्यधिक खून बहना, तनावअनिद्रा, सुबह की थकान और यात्रा की थकान के उपचार में मदद करता है। यह शरीर में होमोसिस्टीन (homocysteine) के स्तर को भी कम करने में मदद करता है।
    (और पढ़ें - अनिद्रा के आयुर्वेदिक उपचार)
     
  7. विटामिन बी 7 या बायोटिन :
     
    विटामिन बी 7 या बायोटिन त्वचा के लिए बहुत लाभदायक है। यह मेटाबोलिज्म को बढ़ाने के साथ-साथ बालों के विकास और देखभाल में मदद करता है।
     
  8. विटामिन बी 9 या फोलिक एसिड :
     विटामिन बी 9 या फोलिक एसिड एनीमिया, अपच, गले के दर्द का रोग (sprue), त्वचा रोग, असामान्य मस्तिष्क और गठिया (gout) के उपचार में शक्तिशाली होता है। इसका सेवन लाल रक्त कोशिका के निर्माण में मदद करता है। यह न्यूरल ट्यूब डिफेक्ट (neural tube defects) और होमोसिस्टीन (homocysteine) के स्तर को कम करने में मदद करता है। यह हृदयवाहिका रोग (coronary heart disease) से हमारी रक्षा करता है।
     
  9. विटामिन बी 12 या साइनोकोबालमिन :
     विटामिन बी 12 या साइनोकोबालमिन एनीमिया, धूम्रपान, गर्भावस्था, लिवर की समस्या, गुर्दे संबंधी रोग और मुंह के अल्सर के लक्षणों और दुष्प्रभाव को कम करने में मदद करता है। जब विटामिन बी 6 और फोलिक एसिड का पर्याप्त मात्रा में सेवन किया जाता है तो स्ट्रोक सहित विभिन्न हृदय रोग के विरुद्ध बचाव करने के लिए विटामिन बी 12 भी आवश्यक है।
    (और पढ़ें - स्ट्रोक का इलाज और गर्भावस्था में पेट दर्द)
     
  10. विटामिन सी या एस्कोर्बिक एसिड :
     विटामिन सी या एस्कोर्बिक एसिड विभिन्न प्रकार के आँखों के रोग, स्कर्वी, आम सर्दी, संक्रमण, मधुमेह, तनाव, उच्च रक्त कोलेस्ट्रॉल, हृदय रोग, कैंसर, उच्च रक्तचाप, गुर्दे संबंधी विकार, आंतरिक रक्तस्राव, बवासीर, कॉर्नियल अल्सर, सूजन, और नेतृत्व विषाक्तता (lead poisoning) में मदद करता है। यह हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली को भी बढ़ाता है। यह संज्ञानात्मक गिरावट (cognitive decline) और मस्तिष्‍क की रक्‍तवाहिनियों संबंधी रोग (cerebrovascular disease) के इलाज में भी मदद करता है। यह हमारे शरीर के लिए सबसे शक्तिशाली और आवश्यक एंटीऑक्सीडेंट में से एक है।
     
  11. विटामिन डी :
    विटामिन डी सूखा रोग यानि रिकेट्स, दांतों की सड़न और मधुमेह के इलाज के लिए बहुत जरूरी विटामिन है। यह हड्डी को ठीक करने, इम्युनिटी और रक्तचाप के लिए बहुत फायदेमंद है। यह कमजोर हड्डियों (ऑस्टियोपोरोसिस) को रोकने के लिए जरूरी विटामिन है और पहले से ही पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस से पीड़ित मरीजों में विभिन्न प्रकार के कैंसर और मल्टीपल स्केलेरोसिस (multiple sclerosis) को रोकने में सकारात्मक तौर पर जुड़ा हुआ है।
     
  12. विटामिन ई या टोकोफेरोल :
    विटामिन ई या टोकोफेरोल उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को धीमा करने और त्वचा की देखभाल करने के साथ-साथ हृदय रोगों, बाँझपन, मस्तिष्क की खराबी, रजोनिवृत्ति, दर्दनाक मासिक धर्म और नेत्र विकारों में उपयोगी है। साथ ही रक्त परिसंचरण में सुधार के लिए भी बहुत जरूरी विटामिन है।
     
  13. विटामिन k :
    विटामिन k रक्त को जमने से रोकने के लिए और आंतरिक रक्तस्राव, बिलियरी अब्स्ट्रक्शन (biliary obstruction), ऑस्टियोपोरोसिस, अत्यधिक मासिक धर्म प्रवाह और मासिक धर्म में दर्द को रोकने के लिए एक महत्वपूर्ण विटामिन है। यह हड्डियों के चयापचय, एथेरोस्क्लेरोसिस को रोकने, नर्वस सिगनलिंग में सुधार करने और गुर्दे की पथरी के लिए भी बहुत जरूरी विटामिन है।

 


उत्पाद या दवाइयाँ जिनमें विटामिन है

और पढ़ें ...

सम्बंधित लेख

वैज्ञानिकों का दावा, विटामिन...

संपादकीय विभाग

शेयर करें
cross
डॉक्टर से अपना सवाल पूछें और 10 मिनट में जवाब पाएँ