myUpchar Call

सेक्स के दौरान पूरे शरीर में होने वाली शारीरिक संतुष्टि और उत्तेजना की भावना को ऑर्गेज्म यानी चरम सुख कहा जाता है. जिस तरह पुरुषों को ऑर्गेज्म यानी चरम सुख की प्राप्ति होती है, ठीक उसी तरह महिलाओं को भी चरम सुख की अनुभूति होती है, जिसे फीमेल ऑर्गेज्म कहा जाता है. स्पॉन्टेनियस भी एक विशेष प्रकार का ऑर्गेज्म होता है, जो महिलाएं सेक्सुअल एक्टिविटी के दौरान महसूस करती है.

स्पॉन्टेनियस ऑर्गेज्म सेक्शुअल सेंसरी स्टिम्युलेशन की वजह से होता है. यह आमतौर पर थोड़े समय के लिए होता है, जिससे शरीर के अलग-अलग हिस्से प्रभावित होते हैं. यही कारण है कि यौन गतिविधियों के दौरान स्पॉन्टेनियस ऑर्गेज्म कई बार महसूस हो सकता है. स्पॉन्टेनियस ऑर्गेज्म होने के पीछे की वजह आज तक सही ढंग से पता नहीं चल सकी है. हालांकि, विशेषज्ञों द्वारा बताया जाता है कि इसके होने के कई अंडरलाइन ट्रिगर फैक्टर्स होते हैं.

इस लेख में स्पॉन्टेनियस ऑर्गेज्म के कारण, उपाय, उपचार के बारे में जानेंगे -

महिला पार्टनर को बेहतर ऑर्गेज्म फील कराने के लिए पुरुष इस्तेमाल करें बेस्ट डिले स्प्रे फॉर मेन.

  1. स्पॉन्टेनियस ऑर्गेज्म के कारण
  2. स्पॉन्टेनियस ऑर्गेज्म रोकने के उपाय
  3. स्पॉन्टेनियस ऑर्गेज्म के उपचार
  4. सारांश
स्पॉन्टेनियस ऑर्गेज्म के कारण व उपचार के डॉक्टर

स्पॉन्टेनियस ऑर्गेज्म के प्रमुख कारण अभी तक स्पष्ट रूप से पता नहीं लग पाए हैं. हालांकि, कुछ अंडरलाइन ट्रिगर फैक्टर्स हैं, जिनके कारण शरीर की प्रतिक्रिया तंत्र सक्रिय हो जाती है. स्पॉन्टेनियस ऑर्गेज्म के कारणों के बारे में नीचे विस्तार से बताया गया है -

परसिस्टेंट जेनिटल अराउजल डिसऑर्डर

परसिस्टेंट जेनिटल अराउजल डिसऑर्डर ऐसी विशेष स्थिति है, जो सेक्सुअल फीलिंग या सेक्स से जुड़ी नहीं होती है. इसका अहसास तब होता है, जब आप सेक्स के बारे में नहीं सोच रहे होते या आपकी सेक्स करने की इच्छा नहीं होती है. इस वजह से आपको दिक्कत हो सकती है. परसिस्टेंट जेनिटल अराउजल डिसऑर्डर से निम्न प्रकार के दुष्प्रभाव हो सकते हैं, जैसे -

  • जेनिटल एरिया में रक्त प्रवाह का बढ़ना
  • गुप्तांग के आसपास के हिस्सों में कसाव और दबाव
  • अचानक इरेक्शन हो जाना

परसिस्टेंट जेनिटल अराउजल डिसऑर्डर से कुछ समय के लिए राहत मिल सकती है, लेकिन स्पॉन्टेनियस ऑर्गेज्म की वजह से इसकी समस्या बढ़ सकती है. इसका कारण अभी तक स्पष्ट नहीं है. हालांकि, बताया जाता है कि यह समस्या नस को ट्रिगर करती है, जो जेनिटल एरिया में झनझनाहट को बढ़ाती है.

(और पढ़ें - जी स्पॉट को कैसे उत्तेजित करें)

Women Health Supplements
₹719  ₹799  10% छूट
खरीदें

अनकॉन्शियस ऑर्गेज्म

कई मामलों में लोगों को स्पॉन्टेनियस ऑर्गेज्म नींद के दौरान महसूस हो सकता है, जिसे अनकॉन्शियस ऑर्गेज्म या वेट ड्रीम्स के नाम से भी जाना जाता है, लेकिन कई बार अनकॉन्शियस ऑर्गेज्म में वीर्यस्खलन नहीं होता है. अनकॉन्शियस ऑर्गेज्म के दौरान जेनिटल एरिया में अचानक ब्लड फ्लो बढ़ जाता है, जो बिना ऑर्गेज्म वजायनल एक्टिवेशन के हो सकता है.

पुरुषों से जुड़ी समस्या शीघ्रपतन का इलाज विस्तार से समझने के लिए कृपया यहां दिए लिंक पर क्लिक करें.

कॉन्शियस ऑर्गेज्म

कॉन्शियस ऑर्गेज्म भी स्पॉन्टेनियस ऑर्गेज्म का एक प्रकार है, जो परसिस्टेंट जेनिटल अराउजल डिसऑर्डर की तरह ही अचानक से हो सकता है. अब तक इस स्थिति की वजह साफ नहीं है, लेकिन इस पर रिसर्च जारी है. हालांकि, कुछ कारणों से शरीर में कॉन्शियस ऑर्गेज्म हो सकता है, जो इस प्रकार हैं :-

  • कुछ प्रकार की दवाइयों का सेवन
  • हैवी एक्सरसाइज के कारण
  • प्रसव के कारण

महिलाओं की शारीरिक समस्याओं का बेहतरीन आयुर्वेदिक इलाज है अशोकारिष्ठ और कुमार्यासव, जिसे आप बस एक क्लिक में अभी खरीद सकते हैं.

स्पॉन्टेनियस ऑर्गेज्म को रोकने के लिए इसके अप्रयत्क्ष कारणों को जानना जरूरी है. आपको इसके ट्रिगर फैक्टर्स को पहचानना होगा, जिसे काबू करने से आप स्पॉन्टेनियस ऑर्गेज्म को रोक सकते हैं. साइकिलिंग और वेट लिफ्टिंग जैसी गतिविधियों से परहेज करना आपके लिए आवश्यक हैं, जिनसे स्पॉन्टेनियस ऑर्गेज्म ट्रिगर हो सकता है.

परसिस्टेंट जेनिटल अराउजल डिसऑर्डर की समस्या में आपको वेजाइनल एरिया में वाइब्रेशन और दबाव पैदा करने वाली गतिविधियों को नहीं करना चाहिए. ऐसा न करने की स्थिति में आपके शरीर में बार-बार स्पॉन्टेनियस ऑर्गेज्म की समस्या हो सकती है.

कुछ मामलों में स्ट्रेस के कारण भी स्पॉन्टेनियस ऑर्गेज्म होते देखा गया है, इसलिए योग और ध्यान के माध्यम से आप अपने स्ट्रेस लेवल को काबू में कर सकते हैं, जिससे स्पॉन्टेनियस ऑर्गेज्म की समस्या को भी दूर किया जा सकता है.

रोजाना वाकिंग, ब्रीथिंग एक्सरसाइज, म्यूजिक सुनने और योग करने से भी स्पॉन्टेनियस ऑर्गेज्म की समस्या को दूर करने में मदद मिल सकती है.

आप यहां दिए लिंक पर क्लिक करे जान सकते हैं कि स्तंभन दोष का इलाज कैसे किया जा सकता है.

स्पॉन्टेनियस ऑर्गेज्म के गंभीर मामलों में उपायों को अपनाने के अलावा आपको चिकित्सीय उपचार की आवश्यकता भी पड़ सकती है. इसके लिए आपको सेक्स विशेषज्ञ डॉक्टर यानी सेक्सोलॉजिस्ट से तुरंत मिलना चाहिए.

स्पॉन्टेनियस ऑर्गेज्म के उपचार में सबसे पहले सिम्प्टम मैनेजमेंट पर ध्यान दिया जाता है. इसके तहत आपको कुछ दवाइयों और थेरेपीज का उपयोग करना पड़ता है. सिम्प्टम मैनेजमेंट इस बात पर निर्भर करेगा कि जांच रिपोर्ट आपकी समस्या को किस प्रकार बताती है. स्पॉन्टेनियस ऑर्गेज्म के उपचार के तहत निम्न गतिविधियां डॉक्टर द्वारा बताई जा सकती हैं, जैसे -

  • व्यवहारिक या सेक्स थेरेपी
  • दवाओं के उपयोग को बंद करना
  • जेनिटल एरिया में डिसेंसिटाइजिंग एजेंट या टॉपिकल नंबिंग क्रीम लगाना
  • पुडेंडल नर्व ब्लॉक इंजेक्शन
  • नर्व रिपेयर सर्जरी

डॉक्टर आपके शरीर में स्पॉन्टेनियस ऑर्गेज्म की समस्या को देखते हुए कोई भी उपचार अपना सकते हैं.

(और पढ़ें - महिला कितनी उम्र तक सेक्स कर सकती है)

Chandraprabha Vati
₹310  ₹400  22% छूट
खरीदें

महिलाओं में स्पॉन्टेनियस ऑर्गेज्म की समस्या होना आम बात है और इसे लेकर शर्मिंदा होने के बजाय इस पर ध्यान देने की आवश्यकता हैं. स्पॉन्टेनियस ऑर्गेज्म का कारण मानसिक और शारीरिक समस्याएं हो सकती हैं. ऐसे में अपनी सेक्स लाइफ को बेहतर करने के लिए वॉकिंग, योग, म्यूजिक सुनना जैसी एक्टिविटी करें, ताकि इस समस्या पर काबू पाया जा सके. यदि स्पॉन्टेनियस ऑर्गेज्म की समस्या गंभीर है या लंबे समय से आपको इसकी शिकायत है, तो तुरंत डॉक्टर से जांच करवाएं. अपनी समस्या को डॉक्टर से बताने में हिचकिचाएं नहीं. समय पर अपना इलाज कराएं. ताकि आपका उचित इलाज हो सके.

महिला बांझपन का इलाज जानने के लिए कृपया यहां दिए लिंक पर क्लिक करें.

Dr. Hemant Sharma

Dr. Hemant Sharma

सेक्सोलोजी
11 वर्षों का अनुभव

Dr. Zeeshan Khan

Dr. Zeeshan Khan

सेक्सोलोजी
9 वर्षों का अनुभव

Dr. Nizamuddin

Dr. Nizamuddin

सेक्सोलोजी
5 वर्षों का अनुभव

Dr. Tahir

Dr. Tahir

सेक्सोलोजी
20 वर्षों का अनुभव

ऐप पर पढ़ें