myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

मानव के जीवन के विभिन्न कार्यों की तरह ही सेक्स भी जीवन की एक अहम क्रिया है। इस क्रिया को कुछ लोग गलत समझते हैं, तो कुछ इसको जीवन की एक सामान्य प्रक्रिया मानते हैं। जीवन के कई पड़ावों में सभी को कई कार्यों को पूरा करना होता है। इसी तरह सेक्स भी हमारे सामान्य शरीर की एक आवश्यकता होती है। आज सामाज व बाजार में सेक्स की अनुभूति को पूरा करने के लिए कई तरह के विकल्प मौजूद हैं। जिनमें से एक है सेक्स टॉय (सेक्स खिलौने)। महिलाओं और पुरुषों को यौन संतुष्टि प्रदान करने व सेक्स क्रिया के आनंद को बढ़ाने के लिए इस तरह के खिलौनों की मदद ली जा सकती  है। यह पुरुष व महिला के जननांगों की तरह होते हैं, जिनका प्रयोग वास्तविक सेक्स की तरह ही आनंद देता हैं।

(और पढ़ें - सेक्स के दौरान दर्द क्यों होता है)

यह कंपनशील व अकंपनशील दोनों ही तरह के होते हैं। इनको आप अकेले में या अपने साथी के साथ सेक्स करते समय इस्तेमाल कर सकते हैं। कुछ वर्षों पहले इस तरह के खिलौनों को इस्तेमाल करने वाले लोगों को सनकी या मानसिक विकार से ग्रस्त समझा जाता था। लेकिन समय के साथ-साथ लोगों के विचारों में भी बदलाव आया है। बेशक सेक्स टॉय (सेक्स खिलौनों) का बाजार हजारों करोड़ का हो, परंतु आज भी अपने देश में इसको खरीदने के लिए लोग संकोच करते हैं।

(और पढ़ें - सेक्स की जानकारी)

  1. सेक्स टॉय (सेक्स खिलौनों) के प्रकार - Types of Sex toys in Hindi
  2. सेक्स टॉय के फायदे - Benefits of sex toys in Hindi
  3. सेक्स टॉय के नुकसान और जोखिम - Are there losses or risks of using sex toys in Hindi
  4. सेक्स टॉय (सेक्स खिलौनों) पर भारत का कानून - Indian law on Sex Toys in Hindi
  5. सेक्स टॉय के डॉक्टर

इस तरह के खिलौनों के निर्माण का विचार बहुत समय पहले ही लोगों के दिमाग में आ गया था, लेकिन इसका विस्तृत निर्माण व प्रयोग 1970 के बाद किया गया। इस दौरान इसको बिजली की ऊर्जा से चलने वाले यंत्र के रूप में बनाया गया था। यह मशीनें बिजली से चलकर दिमाग को उत्तेजित करने के संकेत भेजती है। इस तरह से दिमाग जननांगों को उत्तेजित करने के प्रक्रिया शुरु कर देता है। सेक्स टॉय (सेक्स खिलौनों) के कई प्रकार होते हैं। जिनको महिला व पुरुष इस्तेमाल करते हैं, तो आइये जानते हैं इन खिलौनों के प्रकार के बारे में।

(और पढ़ें - सेक्स पावर कैसे बढ़ाएं और सेक्स करने के तरीके)

  1. महिलाओं के लिए सेक्स टॉय (सेक्स खिलौने) - Sex toys for Women in Hindi
  2. पुरुषों के लिए सेक्स टॉय - Sex toys for men in Hindi

महिलाओं के लिए सेक्स टॉय (सेक्स खिलौने) - Sex toys for Women in Hindi

  • बेन वा बॉल (Ben Wa ball) - यह धातु या रबड़ से बनी छोटी-छोटी बॉल होती हैं, जिनको योनि में प्रवेश किया जाता है। इसको कुछ समय तक योनि में रखने के बाद बाहर निकाला जाता है। कहा जाता है इससे महिला के ऑर्गेज्म के अनुभव को बढ़ाया जा सकता है। यह केवल दो बॉल होती है जो एक दूसरे से जुड़ी होती हैं। (और पढ़ें - योनि में जलन का इलाज)
  • कृत्रिम लिंग – यह एक अकंपनशील सेक्स टॉय है। जिसको योनि व गुदे (Anus;एनस) में प्रयोग किया जाता है। सामान्यतः यह सिलिकोन रबड़ से बनाया जाता है। इसके अलावा शरीर के लिए सुरक्षित पदार्थ जैसे टिटेनियम, स्टिल, अल्मुनियम व कांच से भी इसका निर्माण किया जाता है। इसको इस तरह से बनाया जाता है ताकि यह महिला के जी-स्पॉट को उत्तेजित कर सके। इसमें दो तरह के कृत्रिम लिंग को बनाया जाता है। जिसमें पहले वाले को थोड़ा लचीला बनाते है जो एनल और योनि में प्रवेश के लिए बनाया जाता है। जबकि दूसरे वाले में पहनने के लिए धागे लगाए जाते हैं, महिला किसी दूसरी महिला साथी के साथ इसका प्रयोग कर सकती है। (और पढ़ें - योनि में यीस्ट संक्रमण का इलाज)
  • इसके अलावा धोड़े की नाल की तरह ही एक सेक्स टॉय होता है। जो महिला की योनि व एनल (गुदा) में एक ही समय में इस्तेमाल किया जा सकता है। यह मुलायम प्लास्टिक से बना खिलौना होता है। (और पढ़ें - योनि में सूजन का इलाज)
  • एनल बीड (Anal beads)- यह सेक्स टॉय प्लास्टिक से बनाया जाता है।  इसमें थोड़ी-थोड़ी दूरी पर छोटी से बड़ी गेंद का आकार बनाया जाता है। इसको महिलाएं अपने योनि व गुदा दोनों में ही प्रवेश करवा सकती है। (और पढ़ें - योनि में खुजली के उपाय)
  • बट प्लग (Butt plug) – यह लिंग से छोटे आकार में बनाया गया खिलौना होता है। इसको एनल सेक्स के लिए बनाया जाता है। इसके पिछले सिरे को ऐसा बनाया जाता है ताकि वह एनल में पूरी तरह न जा सके। (और पढ़ें - योनि से बदबू आने के कारण)
  • कांच से बने सेक्स टॉय – यह सेक्स टॉय सख्त कांच से बने होते हैं। इसे सभी तरह के प्रयोग के बाद ही बनाया जाता है। इसमें मुख्यतः बोरोसिलिकेट गिलास का उपयोग किया जाता है। इसको दोबारा इस्तेमाल करने से यह आपको किसी भी तरह के संक्रमण से बचाता है। इसके साथ ही यह गिलास आसानी से साफ भी हो जाता है। इसके सेक्स टॉय कंपन और अकंपनशील भी होते हैं। इससे वाइब्रेटर व कृत्रिम लिंग आदि खिलौनों को तैयार किया जाता है।
    (और पढ़ें - सुरक्षित सेक्स के तरीके)
  • वाइब्रेटर्स (कंपन करने वाला सेक्स टॉय) – वाइब्रेट्रर्स आपको उत्तेजित करने का काम करते हैं। यह वाइब्रेट्रर्स कई आकार के होते हैं, जिनसे से कुछ को शरीर के अंदर तो कुछ को शरीर के बाहर इस्तेमाल किया जाता है। कुछ वाइब्रेट्रर्स अंगुली के आकार के बने होते हैं। इनको बुलेट वाइब्रेट्रर्स कहते हैं। वहीं कुछ कृत्रिम लिंग की तरह ही 5 से 7 इंच लंबे और 1 से 2 इंच मोटे बनाए जाते हैं, उनमें भी इस वाइब्रेट्रर को लगाते हैं। इसके अलावा भी जी-स्पॉट वाइब्रेट्रर्स महिलाओं के जी-स्पॉट को उत्तेजित करने के लिए बनाए जाते है। एक अन्य प्रकार के वाइब्रेटर को रेबिट यानी खरगोश के आकार बनाया जाता है। यह महिलाओं की योनि को बाहर से उत्तेजित करते हैं। (और पढ़ें - योनि को साफ और स्वस्थ कैसे रखें)
  • निप्पल के लिए टॉय – इस तरह के सेक्स खिलौनों को महिलाओं के स्तनों के निप्पलों पर लगाकर उनके अंदर उत्तेजना जागने का काम किया जाता है।

 (और पढ़ें - फोरप्ले क्या है)

पुरुषों के लिए सेक्स टॉय - Sex toys for men in Hindi

पुरुषों के लिए सेक्स टॉय में सबसे ज्यादा महिलाओं की कृत्रिम योनि के आकार के खिलौनें प्रचलित है। इसको पॉकेट पुसीस (Pocket pussies) या पुरुषों का हस्तमैथुन करने वाला भी कहा जाता है। इसे मुलायम पदार्थों से बनाया जाता है, ताकि यह पुरुषों को योनि की तरह ही एहसास कराए। पुरुषों के हस्तमैथुन के लिए तैयार खिलौनों को कई आकार में बनाया जाता है। इनको बनाते समय इस बात का भी ध्यान रखा जाता है कि यह आसानी से साफ हो सकें -

  • बॉल लॉक (Ball lock) अंडकोष के लिए तैयार किया गया सेक्स टॉय होता है। इसको अंडकोष में अंगूठी की तरह पहना जाता है। (और पढ़ें - पेनिस में सूजन का इलाज)
  • लिंग की कठोरता को बनाएं रखने के लिए एक विशेष अंगूठी (Cock rings) के आकार का सेक्स टॉय बनाया गया है। इसको लिंग के निचले हिस्से पर पहना जाता है। यह कुछ-कुछ बॉल लॉक की तरह ही होता है। यह धातु, रबड़ या प्लास्टिक से बनाया जाता है। इसको पुरुष स्खलन को रोकने के लिए भी प्रयोग में लाया जाता है। इससे रक्त का प्रवाह लिंग में रोका जाता है, जिससे शीघ्रपतन व कई अन्य तरह की समस्याओं के लिए भी पहना जाता है। इसमें बुलेट वाइब्रेट्रर लगाया जाता है, जो अंडकोष व योनि में कंपन पैदा कर सेक्स को और भी आनंदपूर्ण बना देता है। (और पढ़ें - शीघ्रपतन रोकने के घरेलू उपाय
  • पाईप के आकार का सेक्स टॉय-  इसको डॉकिंग स्लिव (Docking sleeve) भी कहते हैं। यह एक पाईप के टुकड़े की तरह होता है। जिसके दोनों छोर खुले होते हैं। इसमें दो पुरुष एक साथ मैथुन कर सकते हैं। (और पढ़ें - गुप्त रोगों का सफल इलाज)
  • फिफि (Fifi)- यह एक बॉक्स की तरह होता है, जिसमें तौलिया या कपड़ा लगा होता है। इसको भी पुरुष सेक्स टॉय की तरह ही इस्तेमाल करते हैं। यह योनि की आकृति का होता है। (और पढ़ें - मर्दाना कमजोरी का इलाज)
  • प्रोस्टेट मसाजर (Prostate massager) – यह भी एक तरह का सेक्स टॉय ही होता है। इसको पुरुषों में होने वाली प्रोस्टेट समस्या में इस्तेमाल किया जाता है। इससे प्रोस्टेट ग्रंथि पर प्रभाव डाला जाता है। (और पढ़ें - प्रोस्टेट कैंसर सर्जरी)

(और पढ़ें - शुक्राणु की कमी के लक्षण)

कई बार दंपत्ति एक ही तरह की सेक्स प्रक्रिया को बार-बार अपनाकर बोर हो जाते हैं। ऐसे में वह सेक्स से दूरी बनाने लगते हैं। लेकिन आपको बता दें कि सेक्स करते समय आप कुछ हट कर या हर बार कुछ अलग करेंगे तो आपकी सेक्सुअल जिदंगी में नई ऊर्जा आ जाएगी। इससे आप दोनों के रिश्ते में भी मधुरता आ जाएगी और सेक्स टॉय (सेक्स खिलौने) के इस्तेमाल से आप अपनी सेक्सुअल जिंदगी को मनोरंजक बना सकते हैं। सेक्स टॉय का इस्तेमाल करना आप और आपके साथी दोनों को ही आनंदित कर देगा।

(और पढ़ें - सेक्स के दौरान दर्द होने का कारण)

तो आइये जानते हैं सेक्स टॉय से होने वाले फायदों के बारे में -

  1. आत्मविश्वास में बढ़ोतरी-
    सेक्स टॉय को इस्तेमाल करते समय आपको नयापन का एहसास होता है। इससे आपको दोबारा से सेक्स में आनंद आने लगेगा। वहीं साथी के साथ सेक्स करते समय आप पहले के मुकाबले और अधिक आत्मविश्वास महसूस करेंगे।
    (और पढ़ें - शादी से पहले सेक्स)
  2. सेक्स भावनाओं का विस्तार-
    विभिन्न तरह के सेक्स टॉय का इस्तेमाल कर आप साथी और खुद की सेक्स भावनाओं को बढ़ा सकते हैं। इससे आपकी सेक्स को लेकर होने वाली चिंता शांत हो जाएगी और आप आराम महसूस करेंगे। इस तरह आप अपनी व्यस्त दिनचर्या में भी सप्ताह में कम से कम एक बार सेक्स को अवश्य करें। (और पढ़ें - सुरक्षित सेक्स के उपाय)
  3. आसानी से ऑर्गेज्म पर पहुंचना-
    सेक्स टॉय (सेक्स खिलौनों) की मदद से महिलाएं खुद ही सेक्स के दौरान मिलने वाले चरम आनंद (ऑर्गेज्म) को पा सकती हैं। इससे महिलाओं को संतुष्टि मिलती है। (और पढ़ें - पहली बार सेक्स कैसे करें)
  4. महिलाओं में आत्मविश्वास का बढ़ना-
    अध्ययनों से इस बात का पता चला है कि जो महिलाएं नियमित रूप से हस्तमैथुन करती हैं। वह अन्य महिलाओं की तुलना में अधिक आत्मविश्वासी होती हैं और सेक्स टॉय उनको हस्तमैथुन करने में भी सहायक होते हैं। (और पढ़ें - पुरुषों से क्या चाहती हैं महिलाएं)
  5. सिरदर्द और बदन दर्द को करे दूर-
    सेक्स टॉय के इस्तेमाल से जब आप सेक्स की चरम अवस्था यानि की ऑर्गेज्म मे पहुंचते हैं तो आपके शरीर से इंड्रोफिन नामक तत्व निकलता है। यह आपके सिरदर्द और बदन दर्द को दूर करने का काम करता है। (और पढ़ें - सिरदर्द का उपाय)
  6. सेक्स की तुलना में सेक्स टॉय अधिक सुरक्षित-
    सामान्य सेक्स की तुलना में सेक्स का एहसास कराने वाले सेक्स टॉय अधिक सुरक्षित होते हैं। इनके प्रयोग से महिलाओं को गर्भवती होने का खतरा नहीं होता है। इसके अलावा एसटीडी (यौन संचारित रोग) होने की संभावनाएं भी बेहद कम होती है। बस आपको सेक्स टॉय को अच्छी तरह से साफ करके ही प्रयोग में लाना चाहिए। (और पढ़ें - गर्भ निरोधक टेबलेट)
  7. आपको तनाव मुक्त करते हैं सेक्स टॉय-
    सेक्स करते समय कई महिलाओं व पुरुषों को साथी को पूरी तरह से आनंदित करने के विषय पर तनाव बना रहता है। लेकिन जब आप सेक्स टॉय का इस्तेमाल करते हैं तो आपको साथी की संतुष्टि का तनाव नहीं रहता और आप सेक्स का भरपूर आनंद ले पाते हैं।

(और पढ़ें - तनाव से बचने के उपाय)

आज कई लोगों के मन में यह सवाल होता है कि क्या इन सेक्स टॉय को इस्तेमाल करने से कोई नुकसान होता है। इस बात पर विशेषज्ञों का कहना है कि अगर आप इनको साफ और सही तरीकों से प्रयोग करेंगे, तो आपको इनसे किसी भी प्रकार का जोखिम नहीं होता है। लेकिन इनको इस्तेमाल करने की सही प्रक्रिया आपको पहले से ही जान लेनी होगी, इनका गलत तरह से इस्तेमाल करना आपके लिए कई तरह की समस्याओं का कारण बन सकता है।

(और पढ़ें - सेक्स के दौरान की जाने वाली गलतियां)

तो आइये जानते हैं सेक्स टॉय के जोखिम और इससे बचने के उपाय -

  • अगर आप सेक्स टॉय को बिना साफ किए हुए इस्तेमाल करते हैं तो आपको यौन संचारित संक्रमण होने का खतरा रहता है। इस तरह के संक्रमण से बचने के लिए आपको अपने सेक्स टॉय को साफ सुथरा रखना होगा। इसको जहां पर भी रखें किसी चीज से कवर करके ही रखें। हर बार इस्तेमाल के बाद इसे जरूर धोएं। अपने सेक्स टॉय को किसी अन्य के साथ शेयर न करें। (और पढ़ें - योनि से रक्तस्राव के कारण)
  • गंदे सेक्स टॉय से आपको हर्पीस (Herpes), क्लैमाइडिया (Chlamydia), उपदंश (Syphilis/ सिफलिस) और योनि में बैक्टीरियल संक्रमण (bacterial vaginosis/ बैक्टीरियल वेजिनोसिस) हो सकता है। (और पढ़ें - महिलाओं की यौन समस्याएं)
  • सेक्स टॉय पर यदि किसी अन्य व्यक्ति का खून लगा हो तो उसको बिल्कुल भी इस्तेमाल न करें। एनल या योनि के अंदर जानें वाले सेक्स टॉय से कई गंभीर बीमारियां फैल सकती है। दूसरों के साथ शेयर किये जाने वाले सेक्स टॉय के इस्तेमाल से एचआईवी (HIV), हेपेटाइटिस बीहेपेटाइटिस सी हो सकता है। 

(और पढ़ें - एचआईवी की जांच कैसे करें)

अगर आप संक्रमित सेक्स टॉय को इस्तेमाल करने से संक्रमण का शिकार हो गए हैं, तो तुरंत डॉक्टरी सलाह लें, क्योंकि इससे होने वाली कई गंभीर बीमारियों से आपकी जान को भी खतरा हो सकता है।

(और पढ़ें - यूरिन इन्फेक्शन ड्यूरिंग प्रेगनेंसी और टेस्ट ट्यूब बेबी का खर्च)

भारतीय कानून के अनुसार, देश में सेक्स टॉय को गैरकानूनी माना गया है। किसी भी तरह के सेक्स टॉय को बेचना भारतीय दंड संहिता की धारा 292 के तरत अपराध की श्रेणी में रखी गई है। किसी भी तरह के सेक्स टॉय (सेक्स खिलौनों) को अश्लील उत्पाद माना जाता है। धारा 292 के तहत सेक्स खिलौनों के अलावा इस तरह की कोई भी किताब, पुस्तिका, पेपर, लेखन, पेंटिंग या अन्य वस्तु को गैर कानूनी बताया गया है। अगर कोई इसके खिलाफ अपील करता है तो दोषी को दो साल तक की सजा हो सकती है।

(और पढ़ें - पहली बार सेक्स और सेक्स पोजीशन)

Dr. Abdul Haseeb Sheikh

Dr. Abdul Haseeb Sheikh

सेक्सोलोजी

Dr. Ghanshyam Digrawal

Dr. Ghanshyam Digrawal

सेक्सोलोजी

Dr. Srikanth Varma

Dr. Srikanth Varma

सेक्सोलोजी

और पढ़ें ...