myUpchar प्लस+ सदस्य बनें और करें पूरे परिवार के स्वास्थ्य खर्च पर भारी बचत,केवल Rs 99 में -

आपके मासिक धर्म का मतलब यह नहीं है कि आपको यौन संबंध छोड़ना होगा। इसके विपरीत, कुछ महिलाओं के लिए तो मासिक धर्म अवधि के दौरान यौन सम्बन्ध महीने के अन्य समय की तुलना में अधिक सुखद हो सकते है।

मासिक धर्म अवधि के दौरान लुब्रिकेशन की आवश्यकता कम हो जाती है और कुछ अध्ययनों से यह भी पता चला है कि सेक्स मासिक धर्म अवधि से संबंधित प्रभावों को कम कर सकता है, जैसे ऐंठन। 2013 में प्रकाशित एक अध्ययन ने निष्कर्ष निकाला कि यौन गतिविधि कुछ लोगों के माइग्रेन और क्लस्टर सिरदर्द दर्द को कम कर सकती है।

(और पढ़ें - सेक्स के बारे में जानकारी)

मासिक धर्म चक्र के दौरान एसटीआई (यौन संचारित संक्रमण) की रोकथाम और अच्छे गर्भनिरोधक का प्रयोग आपके यौन संबंधों को अधिक सुरक्षित और मज़ेदार बना सकता है। लेकिन सेक्स करने से पहले यह सुनिश्चित करें कि आप मासिक धर्म चक्र के दौरान एसटीआई, अन्य संक्रमण और गर्भावस्था के खतरे को समझते हैं।

(और पढ़ें - महिलाओं की यौन समस्याएं और पुत्र प्राप्ति के लिए क्या करें)

मासिक धर्म चक्र के दौरान सुरक्षित सेक्स करने के बारे में आपको निम्नलिखित बातें जानने की आवश्यकता है।

  1. माहवारी के दौरान सैक्स से संक्रमण का जोखिम - Infection Risk From Sex During Period in Hindi
  2. पीरियड्स में सेक्स से गर्भधारण का क्यों होता है कम खतरा - Less Risk of Pregnancy During Period in Hindi
  3. मासिक धर्म में सम्भोग में लुब्रिकेशन की क्यों होती है कम आवश्यकता - Less Need for Vaginal Lubrication during Period in Hindi
  4. मासिक धर्म में यौन सम्बन्ध बनाना है दर्द निवारक - Sex as a Pain Reliever during period in Hindi
  5. मासिक धर्म में सेक्स के दौरान होती है अधिक यौन उत्तेजना - Increased arousal during period in Hindi
  6. यौन रोग के डॉक्टर
  7. पीरियड्स सेक्स के साथ जुड़ी गलत धारणाएं और उनके निदान

आपके मासिक धर्म के दौरान सुरक्षित सेक्स करना बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि आपको एसटीआई जैसे - एचआईवी संक्रमण हो सकता हैं। वायरस मासिक धर्म के रक्त में मौजूद हो सकता है इसलिए डॉक्टर इस जोखिम को कम करने के लिए कंडोम का उपयोग करने के लिए जोर देते हैं। आप पुरुष कंडोम या महिला कंडोम, किसी का भी उपयोग कर सकते हैं।

आप इस समय सामान्य रूप से कुछ अन्य संक्रमणों के प्रति भी अधिक प्रवण हो सकते हैं। विशेषज्ञों के अनुसार आपकी योनि का पीएच स्तर महीने भर 3.8 से 4.5 रहता है। लेकिन माहवारी के दौरान, यह स्तर ब्लड के उच्च पीएच स्तर के कारण बढ़ जाता है ऐसे में यीस्ट अधिक तेजी से बढ़ने में सक्षम हो जाता है।

(और पढ़ें - सेक्स पावर कैसे बढ़ाएं और सेक्स करने के तरीके)

योनि के यीस्ट संक्रमण के लक्षण आपके मासिक धर्म की अवधि से पहले सप्ताह में होने की संभावना है और इस समय के दौरान संभोग करने से प्रभाव बढ़ सकते हैं। लेकिन मासिक धर्म के दौरान यौन सम्बन्ध से यीस्ट संक्रमण होने के अधिक जोखिम के स्पष्ट प्रमाण नहीं है।

विशेषज्ञों के अनुसार कुछ महिलाओं को संभोग के बाद मूत्र पथ के संक्रमण होने की संभावना अधिक हो सकती है। यह संभवतः संभोग के साथ आसानी से मूत्राशय की यात्रा करने में सक्षम बैक्टीरिया से संबंधित है, लेकिन यह मासिक धर्म चक्र के दौरान किसी भी समय हो सकता है।

(और पढ़ें - मासिक धर्म में दर्द)

जब आप पीरियड्स के दौरान यौन संबंध बनाते हैं, तो गर्भवती होने की संभावना बहुत कम होती है, क्योंकि आमतौर पर मासिक धर्म के दौरान आप अण्डोत्सर्ग से कई दिन दूर हो जाते हैं। लेकिन इसके अपवाद भी हैं। यदि आपका मासिक धर्म चक्र (21 से 24 दिन) कम है और आप अपनी माहवारी के अंत में यौन संबंध बनाते हैं, तो शुक्राणु आपकी योनि में पांच दिन तक व्यवहार्य बने रह सकते हैं, इसलिए गर्भावस्था संभव है। लेकिन अगर आप एक बच्चे की उम्मीद कर रहे हैं तो गर्भवती होने का प्रयास करने के लिए यह उपयुक्त समय नहीं है।

(और पढ़ें - मासिक धर्म में गर्भधारण)

यदि आप मासिक धर्म के दौरान संभोग करते हैं, तो योनि में पर्याप्त गीलापन होने के कारण आपको किसी लुब्रिकेंट्स अर्थात योनि में गीलापन बढ़ाने के उपाय की आवश्यकता नहीं होती हैं।। यदि आपको लुब्रीकेंट की आवश्यकता लगती है, तो पानी आधारित लुब्रिकेंट्स बाजार में उपलब्ध हैं जो सेक्स करने और कंडोम दोनों के लिए सुरक्षित हैं।

(और पढ़ें - कंडोम का उपयोग कैसे करें)

सिलिकॉन और हाइब्रिड लुब्रिकेंट्स, जो पानी आधारित और सिलिकॉन आधारित हैं, वे भी सेक्स करने और कंडोम दोनों के लिए सुरक्षित हैं। तेल आधारित लुब्रिकेंट्स, विशेष रूप से खनिज तेल आधारित लुब्रिकेंट्स का उपयोग करने से आपका कंडोम फट सकता है और लेटेक्स कंडोम के साथ तेल आधारित लुब्रिकेंट्स उपयोग करने से मना किया जाता है।

(और पढ़ें - हली बार सेक्स और सेक्स पोजीशन)

यदि आप ऐंठन, उदासी की भावना या मासिक धर्म अवधि के दौरान अवसाद का अनुभव करती हैं, इस समय सेक्स करना फायदेमंद हो सकता है। विशेषज्ञों का कहना है कि चूंकि ओर्गास्म्स एंडोर्फिन, ऑक्सीटोसिन और डोपामाइन जैसे अच्छा महसूस करवाने वाले हार्मोन को स्त्रावित करता हैं - आप सैद्धांतिक रूप से कह सकते हैं कि वे मासिक धर्म के कुछ प्रभावों को भी कम कर देंगे। इसलिए कोशिश करने में कोई नुकसान नहीं है।

(और पढ़ें - मासिक धर्म के समय पेट दर्द)

आपके हार्मोन के स्तरों में होने वाले बदलावों के कारण महीने के इस समय के दौरान आप अधिक यौन उत्तेजित और संवेदनशील महसूस कर सकते हैं। विशेषज्ञ कहते है कि कई महिलाएं पेल्विक क्षेत्र में रक्त-संकुचन की बढ़ती भावना का अनुभव करती हैं, जो आपके सेक्स ड्राइव या इच्छा को भी बढ़ा सकती हैं। लेकिन कुछ महिलाओं को, यह अतिरिक्त संवेदनशीलता इस समय के दौरान सेक्स करने में असुविधाजनक बना सकती हैं। महत्वपूर्ण यह सुनिश्चित करना है कि आप और आपके साथी दोनों इस स्थिति के साथ सहज हैं।

(और पढ़ें - मासिक धर्म जल्दी लाने के उपाय)

Dr. Abdul Haseeb Sheikh

Dr. Abdul Haseeb Sheikh

सेक्सोलोजी
8 वर्षों का अनुभव

Dr. Srikanth Varma

Dr. Srikanth Varma

सेक्सोलोजी
8 वर्षों का अनुभव

Dr. Pranay Gandhi

Dr. Pranay Gandhi

सेक्सोलोजी
10 वर्षों का अनुभव

Dr. Tarun

Dr. Tarun

सेक्सोलोजी
8 वर्षों का अनुभव

मासिक धर्म के दौरान सेक्स से जुड़े सवाल और जवाब

सवाल लगभग 1 साल पहले

मुझे काफी समय से गैस्ट्राइटिस की प्रॉब्लम है। मुझे पेट में दर्द और सूजन रहती है, मैं इससे कैसे छुटकारा पा सकता हूं? इसके लिए मुझे कोई उपाय बताएं?

ravi udawat MBBS, सामान्य चिकित्सा

गैस्ट्राइटिस की प्रॉब्लम से छुटकारा पाने के लिए आप आलू का इस्तेमाल कर सकते हैं। आलू का रस क्षारीय लवण का अच्छा स्रोत है जो पेट में मौजूद अत्यधिक एसिड पर असर करता है। इसी के साथ यह पेट की सूजन को भी कम करता है। इसके लिए आप 2 से 3 कच्चे आलू लें और इन्हें छीलकर कद्दूकस कर लें। अब इसे निचोड़कर जूस निकाल लें और थोड़ा पानी गर्म करके इसमें मिला दें। खाना खाने से आधे घंटे पहले इसका आधा गिलास पिएं, आप रोजाना इसके 2 गिलास पी सकते हैं, इससे आपको आराम मिलेगा। 

 

सवाल लगभग 1 साल पहले

मुझे गैस्ट्राइटिस की प्रॉब्लम है और मेरे पेट में जलन भी होती है। मुझे हमेशा अपना पेट भरा हुआ और फूला हुआ सा महसूस होता है। मुझे इसके लिए कोई तरीका बताएं जिससे मैं जल्दी ठीक हो सकूं?

ram saini MD, MBBS, सामान्य चिकित्सा

अनानास में ब्रोमेलैन जैसे पाचक एंजाइम होते हैं जो पेट में जलन पैदा किए बिना प्रोटीन को पचाने में मदद करते हैं। अगर आपको गैस्ट्राइटिस की समस्या है, तो इस फल का सेवन करें। यह पेट में बढ़े हुए एसिड के स्तर को रोक सकता है। पाचन प्रक्रिया को ठीक रखने के लिए रोजाना एक कप अनानास खाएं। आप इसे सुबह के नाश्ते और स्नैक में भी ले सकते हैं। पका अनानास ही खाएं, कच्चा अनानास खाने से गैस्ट्राइटिस बढ़ सकती है।

सवाल 12 महीना पहले

मुझे पेट में जलन और दर्द रहता है। क्या मुझे गैस्ट्राइटिस की प्रॉब्लम है? अगर हां, तो इसे ठीक करने के लिए मुझे क्या करना चाहिए? मुझे कुछ ऐसा बताएं जिसे खाने से मैं स्वास्थ भी रहूं और मुझे गैस्ट्राइटिस प्रॉब्लम से छुटकारा भी मिल जाए?

Dr. Rajeev Kumar Ranjan MBBS, श्वास रोग विज्ञान

जी हां, ये लक्षण गैस्ट्राइटिस के ही हैं। गैस्ट्राइटिस में आप ओटमील (जौ का आटा) खा सकते हैं। यह सेहत के लिए भी अच्छा होता है और गैस्ट्राइटिस को भी कम करने में मदद कर सकता है। इसे आप दलिये के रूप में भी खा सकते हैं। दलिये में फाइबर और मिनरल्स भरपूर मात्रा में होते हैं जो पाचन प्रक्रिया को ठीक कर सकते हैं और पेट दर्द को भी कम करते हैं। आप रोजाना लगभग एक कप दलिया अपनी डाइट में लिया करें। इसके लिए आप अपनी पसंद के मुताबिक दलिया को पानी या दूध में पकाकर खा सकते हैं। इसके साथ आप कुछ ताजे नॉन-एसिडिक फल जैसे केला, सेब और नाशपाती भी खा सकते हैं।

सवाल 12 महीना पहले

मेरे पेट में सूजन, जलन और तेज दर्द रहता है। गैस्ट्राइटिस से छुटकारा पाने के लिए मुझे कोई घरेलू उपाय बताएं?

Dr. Kumawat Vijay Kumar MBBS, सामान्य चिकित्सा

जीरे में एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं जो गैस्ट्राइटिस के लक्षणों को कम करने में मदद करते हैं और तेजी से स्वस्थ बनाते हैं। इसके लिए आप जीरे को भून लें और फिर इसे पीसकर पाउडर तैयार कर लें। अब इसे एक गिलास पानी में मिलाकर पिएं। खाना खाते समय दिन में 2 से 3 बार इसे पीएं।

और पढ़ें ...

References

  1. Elias E. Mazokopakis et al. Is Vaginal Sexual Intercourse Permitted during Menstruation? A Biblical (Christian) and Medical Approach . Maedica (Buchar). 2018 Sep; 13(3): 183–188. PMID: 30568737
  2. National Health Service [Internet]. UK; Can you have sex during a period?.
  3. Hambach A et al. The impact of sexual activity on idiopathic headaches: an observational study. Cephalalgia. 2013 Apr;33(6):384-9. PMID: 23430983
  4. Michelle Procto, Cynthia Farquhar. Diagnosis and management of dysmenorrhoea . BMJ. 2006 May 13; 332(7550): 1134–1138. PMID: 16690671
  5. Hatcher RA. Counseling couples about coitus during menstrual flow. Contracept Technol Update. 1981 Dec;2(12):167. PMID: 12338424
  6. University of Michigan, Michigan, United States [Internet] Improving Sexual Health: Vaginal Lubricants, Moisturizers, Dilators & Counseling
  7. American College of Obstetricians and Gynecologists [Internet] Washington, DC; https://www.acog.org/Patients/FAQs/Fertility-Awareness-Based-Methods-of-Family-Planning#standard
  8. Tanfer K, Aral SO. Sexual intercourse during menstruation and self-reported sexually transmitted disease history among women. Sex Transm Dis. 1996 Sep-Oct;23(5):395-401. PMID: 8885071
ऐप पर पढ़ें