myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

कभी कभी ऐसी स्थिति होती है, जब हम कुछ छुट्टियों पर जा रहे होते हैं या किसी महत्वपूर्ण कार्यक्रम में भाग ले रहे होते हैं और अपने मासिक धर्म की तारीख के बारे में थोड़ा सा चिंतित हो जाते हैं। सबसे अच्छा तरीका है मासिक धर्म का जल्दी होना, ताकि आप सौ प्रतिशत तनावमुक्त रह सकें। ऐसे कई प्राकृतिक तरीके हैं जो समय से पहले मासिक धर्म लाने में सहायक हैं और एकदम सुरक्षित हैं।

(और पढ़ें - मासिक धर्म को रोकने के उपाय)

  1. मासिक धर्म जल्दी लाना कब हो सकता है जरूरी - Masik dharm jaldi lana kab ho sakta hai jaroori
  2. मासिक धर्म में देरी के कारण - Masik dharm me deri ke karan
  3. पीरियड्स जल्दी लाने की मेडिसिन - Periods jaldi aane ki medicine
  4. पीरियड्स जल्दी लाने के उपाय - Periods jaldi lane ke upay
  5. मासिक धर्म जल्दी लाने के उपाय, टेबलेट व देरी के कारण के डॉक्टर

पीरियड्यस जल्दी लाने के कई कारण हो सकते हैं। कई बार ऐसी परिस्थितियां आ जाती है जब महिलाओं को माहवारी जल्दी लाना जरूरी होता है। इसके अलावा देरी से माहवारी होने से भी कई तरह की समस्याएं होना शुरू हो जाती है। इस कारण से महावारी समय पर आना महिलाओं के लिए सही माना जाता है। किन परिस्थितियों में महिलाओं को जल्द पीरियड्स लाने की जरूरत होती है और महिलाओं को ऐसी आवश्यकता क्यों होती है इन कारणों के बारे में आगे बताया जा रहा है।

  1. किसी पार्टी या समारोह में जाना
    कई बार महिलाओं को किसी पार्टी या समारोह में जाना जरूरी होता है। इस दौरान पीरियड्स में होने वाली अन्य समस्याओं से बचने के लिए महिलाओं के पास इनको जल्द लाने का ही विकल्प बचाता है। ऐसा महिलाएं इसलिए भी सोचती हैं क्योंकि पीरियड्स के दौरान अधिकतर महिलाओं को बैचेनी व पेट में दर्द की समस्या हो जाती है। इन समस्याओं के कारण महिलाएं पार्टी व समरोह के खुशनुमा पलों में भरपूर आनंदित नहीं हो पाती हैं। इस परिस्थिति से बचने के लिए महिलाओं को अपने पीरियड्स जल्द लाने की जरूरत महसूस होती है। (और पढ़ें - मासिक धर्म में अधिक रक्त स्त्राव)
     
  2. अनियमित मासिक धर्म चक्र
    मासिक धर्म चक्र का अनियमित होना भी मासिक धर्म को जल्द लाने का बड़ा कारण माना जाता है। महिलाओं का मासिक धर्म चक्र नियमित होने पर पीरियड्स 20 से 32 दिनों के बीच में होते हैं। मासिक धर्म होने का यह चक्र जब अनियमित हो जाता है तो महिलाओं को कई तरह की परेशानियां होना शुरू हो जाती हैं। इन परेशानियों को ठीक करने की प्रक्रिया में महिलाओं को मासिक धर्म जल्द लाने की आवश्कता होती है। (और पढ़ें - मासिक धर्म से होने वाली समस्याएं)
     
  3. माहवारी के चक्र को प्रभावित करती है रजोनिवृत्ति
    रजोनिवृत्ति की स्थिति महिलाओं को अधिक उम्र में सताने लगती है। रजोनिवृत्ति की समस्या आपके पीरियड्स को प्रभावित करती है। इसके चलते आपके पीरियड्स अनियमित हो जाते हैं। इस समस्या में आप खुद कुछ नहीं कर पाती हैं। ऐसे में आपको किसी विशेषज्ञ से सलाह लेनी चाहिए। (और पढ़ें - रजोनिवृत्ति के लक्षण)
     
  4. प्रेग्नेंसी टालने के लिए जल्द पीरियड्स लाना
    अधिकतर महिलाओं के दिमाग में यह प्रश्न रहता है कि क्या जल्द पीरियड्स लाने से प्रेग्नेंसी को टाला जा सकता है? महिलाओं की शारीरिक की बनावट इस तरह से होती है कि वह बच्चे को जन्म देने में सक्षम होती हैं। लेकिन प्रेग्नेंसी के लिए तैयार न होने वाली महिलाओं के लिए यह स्थिति एक समस्या का कारण बन जाती है और यह उनके मानसिक और शारीरिक दोनों ही स्वास्थ्य पर वितरीत प्रभाव डालती है। इस कारण जो महिलाएं प्रेग्नेंट नहीं होना चाहती, वह माहवारी को जल्द लाने के प्रयास करने लगती हैं। (और पढ़ें - प्रेग्नेंसी रोकने के उपाय)
     
  5. स्तनपान कराना
    माहवारी को जल्द ना ला पाने की बाधाओं में स्तनपान को भी शामिल किया जाता है। दरअसल स्तनपान कराने वाली महिलाओं के मासिक धर्म कई बार रूक जाते हैं। ऐसा उनके शरीर में होने वाले हार्मोनल बदलाव के कारण होता है। स्तनपान कराने के दौरान कई महिलाएं चाहती हैं कि उनके पीरियड्स नियमित हो जाएं। (और पढ़ें - स्तनपान से जुड़ी समस्याएं और समाधान)

यदि आप प्रेग्नेंट नहीं हैं तो आपके मासिक धर्म में देरी होना कई तरह की समस्या की ओर संकेत करता है। इन समस्याओं के कारण न सिर्फ आपका मासिक धर्म निर्धारित समय अवधि से आगे बढ़ जाता है बल्कि कभी-कभार वह होता भी नहीं है। यह आपके शरीर में होने वाले हार्मोनल बदलाव और कई चिकित्सीय स्थितियों की ओर इशार करता है। सामान्यतः महिलाओं के जीवन में माहवारी के शुरू होने का चरण और रजोनिवृत्ति का समय, दो ऐसे पड़ाव माने जाते हैं जब उनके पीरियड्स अनियमित हो जाते हैं। इन दोनों ही स्थितियों में महिला के शरीर में कई तरह के बदलाव होना शुरू होते हैं, जिसके परिणामस्वरूप ऐसा होता है। जिन महिलाएं रजोनिवृत्ति नहीं होती, उनको 28 दिनों के अंतराल में पीरियड्स हो जाते हैं। जबकि सामान्यतः महिलाओं में 21 से 35 दिनों के बीच में पीरियड्स होते हैं। अगर आपको 21 से 35 दिनों के बीच में पीरियड्स नहीं होते हैं तो यह पीरियड्स में देरी समझी जाती है। माहवारी में देरी के कारणों को नीचे विस्तार से बताया जा रहा है।

(और पढ़ें - मासिक धर्म से जुड़े मिथक और तथ्य)

  1. पीरियड्स में देरी का कारण है तनाव - Periods me deri ka karan hai tanav
  2. वजन कम होना है माहवारी में देरी का कारण - Vajan kam hona hai mahawari me deri ka karan
  3. मोटापे से मासिक धर्म चक्र में होती है देरी - Motape se masik dharm chakr me hoti hai deri
  4. पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम (Polycystic ovary syndrome, PCOS) से महीने में देरी - Polycystic ovary syndrome se date me deri
  5. मासिक धर्म में देरी का कारण है जन्म नियंत्रण - Mc me deri ka karan hai janm niyantran
  6. पीरियड्स में देरी का कारण होते हैं दीर्घकालिक रोग - Periods me deri ka karan hote hain dirghkalik rog
  7. मासिक चक्र में देरी का कारण है थायराइड - Masik dharm me deri ka karan hai thyroid

पीरियड्स में देरी का कारण है तनाव - Periods me deri ka karan hai tanav

तनाव आपके हार्मोन्स पर प्रभाव डालता है। इतना ही नहीं इससे आपकी रोजाना दिनचर्या और पीरियड्स को संचालित करने वाली दिमागी प्रक्रिया पर भी विपरीत प्रभाव पड़ता है। इसके साथ ही तनाव आपको बीमार करने व वजन बढ़ने और कम होने का कारण बनता है। तनाव की वजह से शरीर पर होने वाले इन बदलावों से पीरियड्स अनियमित हो जाते हैं।

यदि आप पीरियड्स को नियमित लाना चाहती हैं तो आपको अपनी दिनचर्या में बदलाव करना होगा और तनाव दूर करने के अन्य तरीकों के बारे में जानना होगा। कई तरह की एक्सरसाइज भी आपको तनाव मुक्त रखने में आपकी मदद कर सकती हैं।

(और पढ़ें - तनाव दूर करने के घरेलू उपाय)

वजन कम होना है माहवारी में देरी का कारण - Vajan kam hona hai mahawari me deri ka karan

महिलाओं में खाने की आदत संबंधी विकार के कारण माहवारी में देरी की समस्या उत्पन्न हो जाती है। आपके शरीर के सामान्य वजन से दस किलो कम वजन होने की स्थिति में आपकी शारीरिक प्रक्रिया असंतुलित हो जाती है। जिसका असर आपकी माहवारी पर पड़ता है। साथ ही आपका वजन कम होने से आपकी ओवुलेशन प्रक्रिया भी रूक सकती है। इसके इलाज के लिए आपको अपनी लंबाई के अनुसार वजन को रखना जरूरी होता है, तभी आप अपनी माहवारी के चक्र को नियमित कर पाएंगी। कई महिलाएं एक्सरसाइज करती हैं। आवश्यकता से अधिक एक्सरसाइज करने से भी आपकी माहवारी अनियमित हो सकती है।

(और पढ़ें - पीरियड्स में क्या खाएं और क्या ना खाएं)

मोटापे से मासिक धर्म चक्र में होती है देरी - Motape se masik dharm chakr me hoti hai deri

जिस तरह से वजन कम होने से आपका मासिक धर्म चक्र में देरी होती है, ठीक वैसे ही मोटापे से भी आपके मासिक धर्म चक्र में देरी हो जाती है। मोटापा आपकी कई अन्य समस्याओं का मुख्य कारण होता है। डॉक्टर आपके मासिक धर्म में होने वाली देरी के कारणों की जांच करते हैं। यदि मोटापा आपके मासिक धर्म में देरी का कारण हैं, तो डॉक्टर आपको संतुलित डाइट प्लान व नियमित एक्सरसाइज करने की सलाह देते हैं।

(और पढ़ें - मोटापा दूर करने के घरेलू उपाय)

पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम (Polycystic ovary syndrome, PCOS) से महीने में देरी - Polycystic ovary syndrome se date me deri

पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम (Polycystic Ovary Syndrome, PCOS) महिलाओं के शरीर की वह स्थिति होती है, जिसमें उनके शरीर के अंदर एंड्रोजन हार्मोन (पुरूषों में बनने वाला हार्मोन) बनना शुरू हो जाता है। इस प्रकार के हार्मोनल असंतुलन से आपके गर्भाशय में अल्सर बनने लगता है। इससे आपके ओवुलेशन की प्रक्रिया असंतुलित होती है या यह प्रक्रिया बंद हो सकती है। इसमें आपके शरीर की इंसुलिन की मात्रा में भी असंतुलन आ जाता है, क्योंकि पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम का संबंध इंसुलिन की मात्रा को नियंत्रण करने से होता है। पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम के इलाज में इससे होने वाले लक्षणों को कम किए जाने पर ध्यान दिया जाता है। इसमें आपके डॉक्टर जन्म नियंत्रण व अन्य दवाओं को देकर आपकी मासिक धर्म को नियमति करते हैं।

(और पढ़ें - पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम के घरेलू उपाय

मासिक धर्म में देरी का कारण है जन्म नियंत्रण - Mc me deri ka karan hai janm niyantran

मासिक धर्म में देरी के लिए जन्म नियत्रंण के लिए ली जाने वाली दवाइयां भी जिम्मेदार होती हैं। इन दवाइयों में एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन हार्मोन्स होता है, जो महिलाओं के गर्भाशय में अंडे बनने की प्रक्रिया को नियमित करता है। इन दवाओं के सेवन को बंद करने के करीब छह माह बाद आपका मासिक धर्म नियमित हो पाता है। इंजेक्शन के रूप में गर्भनिरोधक लेने से भी आपके मासिक धर्म में देरी होती है या मासिक धर्म कुछ माह बाद होता है।

(और पढ़ें - गर्भनिरोधक गोलियों के फायदे और नुकसान)

पीरियड्स में देरी का कारण होते हैं दीर्घकालिक रोग - Periods me deri ka karan hote hain dirghkalik rog

लंबे अवधि तक होने वाले रोगों को दीर्घकालिक रोग कहा जाता है। जैसे – डायबिटीज और सीलिएक (Celiac/ आंत्र संबंधी विकार) रोग महिलाओं के पीरियड्स के चक्र को प्रभावित करते हैं। महिलाओं के शरीर में होने वाले हार्मोनल बदलाव के कारण शुगर का स्तर में बदलाव होने लगता है। डायबिटीज को नियंत्रण में करने वाली दवाइयों के कारण भी पीरियड्स अनियमित हो जाते हैं।

सीलिएक रोग के कारण महिलाओं के शरीर में सूजन होने लगती है और इससे आपके खाने से पौष्टिक तत्वों को निकालने वाली छोटी आंत्र (आंत) को नुकसान पहुंचता है। इसके चलते महिलाओं के पीरियड्स में देरी होती है।

(और पढ़ें - पीरियड रैशेज से छुटकारा पाने के उपाय)

मासिक चक्र में देरी का कारण है थायराइड - Masik dharm me deri ka karan hai thyroid

मासिक धर्म में देरी होने का थायराइड भी एक मुख्य कारण होता है। थायराइड आपके शरीर के हार्मोन और मेटाबॉलिज्म को नियमित करता है। जबकि थायराइड ग्रंथि के द्वार थायराइड का कम या ज्यादा स्त्रावित होने से महिलाओं का मासिक धर्म देर से होता है। थायराइड रोग का उपचार मुख्यतः दवाओं से किया जाता है। थायराइड के इलाज के बाद आपका मासिक धर्म दोबारा से नियमित हो जाता है। 

(और पढ़ें - थायराइड में क्या खाना चाहिए)

अक्सर महिलाएं पीरियड्स जल्दी लाने की मेडिसिन जानना चाहती हैं। लेकिन आपको बता दें मासिक धर्म जल्दी लाने की कोई दवा नहीं है। फिर भी इंटरनेट पर कई वेबसाइट हैं जो गलत मेडिसिन का नाम लिख देती हैं। उनकी तरफ से तो ये गैर-जिम्मेदाराना बात है ही, लेकिन ऐसे ही बिना डॉक्टर की सलाह से यह दवा लेने से आपको गंभीर साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं। 

नीचे हमने उस दवा के बारे में बताया है जो कुछ लोग और वेबसाइट पीरियड्स जल्दी लाने की मेडिसिन के रूप में सुझाते हैं, लेकिन ये बिलकुल गलत है।

  1. पीरियड्स जल्दी आने की टेबलेट का नाम - Periods lane ki tablet name
  2. माहवारी लाने की दवा के नुक्सान - Periods lane ki is dawai ke side effects

पीरियड्स जल्दी आने की टेबलेट का नाम - Periods lane ki tablet name

पीरियड्स जल्दी आने की उस टेबलेट का नाम है Primolut N जिसको लोग सुझाते हैं, लेकिन इस दवा का ये उपयोग बिलकुल भी नहीं है। वास्तव में Primolut N का उपयोग मासिक धर्म से जुड़ी कुछ समस्याओं का इलाज करने में किया जाता है, जैसे कि 

इसके अलावा Primolut N को एंडोमेट्रियोसिस के इलाज के लिए भी इस्तेमाल किया जाता है।

(और पढ़ें - Primolut N in Hindi)

वास्तव में Primolut N में "प्रोजेस्टोजेन" नामक दवा होती है जो महिला हॉर्मोन "प्रोजेस्टेरोन" की तरह काम करती है। इस लिए इस दवा के गलत इस्तेमाल से आपको साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं, जिनके बारे में नीचे बताया गया है।

माहवारी लाने की दवा के नुक्सान - Periods lane ki is dawai ke side effects

Primolut N के कई साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं अगर इसे डॉक्टर की देखरेख में न लिया जाए। 

इसके आम साइड इफेक्ट्स इस प्रकार हैं -

  • चेहरे के बाल ज्यादा बढ़ना 
  • स्तन बढ़ना
  • वजन घटना या बढ़ना
  • तबियत खराब होती महसूस होना 
  • कब्ज 
  • दस्त
  • मुँह सूखना
  • माइग्रेन होना 
  • अवसाद होना

इसके कुछ दुर्लभ और गंभीर साइड इफेक्ट्स इस प्रकार हैं -

  • दिखाई कम देना
  • सांस लेने में दिक्कत होना
  • खांसी में खून आना
  • छाती में तेज दर्द होना
  • सूजन 
  • त्वचा में खुजली और चकत्ते होना
  • निगलने में दिक्कत होना

तो ये दवा ऐसे ही न लें, और याद रखें कि पीरियड्स जल्दी लाने की मेडिसिन कोई है ही नहीं। 

अगर आप पीरियड्स जादि लाना ही चाहती हैं तो कुछ प्राकृतिक उपाय इस्तेमाल करके देख सकती हैं। इनसे आपको हानि नहीं होगी और आपके पीरियड्स जल्दी भी आ सकते हैं। ऐसे ही कुछ घरेलू उपाय नीचे बताये गए हैं।

  1. डेट जल्दी लाने का तरीका है पपीता - Date jaldi lane ka tarika hai papita
  2. मासिक धर्म जल्दी लाने की दवा है अदरक की चाय - Masik dharm lane ki dawa hai adrak ki chai
  3. महीना जल्दी लाने का उपाय है संभोग - Masik dharm jaldi aane ka nuskha hai sambhog
  4. पीरियड टाइम जल्दी लेन का उपाय है गर्म पानी पैक - Periods lane ka gharelu nuskhe hai garam pani pack
  5. पीरियड जल्दी लाने का तरीका है विटामिन सी लेना - Period jaldi lane ka tarika hai vitamin C lena
  6. मासिक धर्म जल्दी लेन का तरीका है तनाव से दूर रहना - Period aane ke gharelu nuskhe hai tanav se door rehna
  7. मासिक धर्म जल्दी लाने का उपाय है यह मसाले - Masik dharm jaldi lane ka upay hai yah masale
  8. माहवारी लाने की दवा है नारियल पानी - MC jaldi aane ka tarika hai nariyal pani
  9. मासिक धर्म चक्र को जल्द लाने का उपाय है सहजन - Period jaldi lane ki medicine hai sahjan
  10. पीरियड्स जल्दी लाने के लिए करें दालचीनी का उपयोग - Date jaldi aane ki medicine hai dalchini ka upyog

डेट जल्दी लाने का तरीका है पपीता - Date jaldi lane ka tarika hai papita

पपीता कैरोटीन में समृद्ध है। यह एस्ट्रोजन हार्मोन को प्रोत्साहित कर सकता है जो कि महिलाओं में मासिक धर्म चक्र को नियंत्रित करता है। मासिक धर्म को नियमित करने के लिए पपीते का इस्तेमाल किया जाता है। यह घरेलू उपाय के रूप में वर्षों से प्रयोग में लाया जा रहा है। यह आपके शरीर की गर्मी को नियंत्रण में रखता है। इससे एस्ट्रोजन हार्मोन उत्तेजित होते हैं और इस कारण आपके मासिक धर्म नियमित हो पाता है। पपीते के अलावा आप अपने आहार में अनानास, कद्दू, अंडे, गाजर, पालक आदि जैसे अन्य कैरोटीन युक्त भोजन भी शामिल कर सकते हैं। 

(और पढ़ें – पपीते के बीज के फायदे)

मासिक धर्म जल्दी लाने की दवा है अदरक की चाय - Masik dharm lane ki dawa hai adrak ki chai

इस उपाय में आपके लिए एक दिन में 2 कप अदरक की चाय पर्याप्त है। इसको बनाने के लिए आप दो से तीन चम्मच कद्दूकस किया हुआ अदरक ले लें। इसके बाद दो कप पानी में अदरक को डालकर गैस पर करीब दस मिनट तक पकने के लिए छोड़ दें। इसके बाद गैस बंद कर इसको छान लें और थोड़ा-थोड़ा पीएं। यदि इसका स्वाद अच्छा न लगे तो आप इसमें शहद, नींबू या तुलसी की पत्तियां को भी मिला सकती है।

(और पढ़ें – अदरक की चाय के फायदे)

महीना जल्दी लाने का उपाय है संभोग - Masik dharm jaldi aane ka nuskha hai sambhog

सेक्स के दौरान आपके शरीर के द्वारा सेक्स हार्मोन रिलीज (स्रावित) होते हैं जो मासिक धर्म पहले लाने में सहायक होते हैं। इसके अलावा सेक्स आपको तनाव मुक्त करने का भी बेहतरीन उपाय माना जाता है।  सेक्स करने से रोग प्रतिरोधक क्षमता में भी बढ़ोतरी होती है। शरीर को हर्मोन नियंत्रित होने से अन्य कई तरह की परेशानिया अपने आप ठीक हो जाती है। इसलिए मासिक धर्म को नियमित करने के उपायों में इसको भी शामिल किया जाता है। 

(और पढ़ें - सुरक्षित सेक्स के तरीके और sex kaise kare)

पीरियड टाइम जल्दी लेन का उपाय है गर्म पानी पैक - Periods lane ka gharelu nuskhe hai garam pani pack

क्या आप जानते हैं कि गर्म पानी पैक भी जल्दी मासिक धर्म लाने में मदद कर सकते हैं? आप सबको बस दैनिक रूप से 10-15 मिनट के लिए अपने पेट के निचले हिस्से पर एक गर्म पानी पैक रखना है जब तक आपको मासिक धर्म शुरू ना हो जाए।

इसके अन्य उपाय में आप अरंडी के तेल (castor oil) का भी इस्तेमाल कर सकती हैं। इस उपाय में आपको एक कपड़े को अरंडी के तेल में हल्का सा निचोड़ना होगा। इसके बाद इस कपड़े को अपने पेट के निचले हिस्से पर रखते हुए इसके ऊपर से गर्म पीनी के पैक को रखना होगा। इसे दस से पंद्रहा मिनट तक पेट की सिकाई करें। दिन में दो से तीन बार इसी तरह से पेट की सिकाई करें। ऐसा करने से भी आपको आराम मिलता है और पीरियड्स जल्दी होते हैं।

(और पढ़ें - मासिक धर्म में दर्द)

पीरियड जल्दी लाने का तरीका है विटामिन सी लेना - Period jaldi lane ka tarika hai vitamin C lena

अधिक फल खाएं जो कि विटामिन सी से भरपूर हों। इन फलों के सेवन से शरीर में एस्ट्रोजन हार्मोन का स्तर ठीक होता है। विटामिन सी से गर्भाशय के अंदर की परत मजबूत बनती है और पीरियड्स होने में मुश्किल नहीं होती है। विटामिन सी को लेने के लिए महिलाएं फलों के जूस का भी सेवन कर सकती हैं। इसके अलावा टमाटर, ब्रोकली और पालक खाने से भी पीरियड्स जल्द आने में मदद मिलती है।

(और पढ़ें – विटामिन सी के स्रोत)

मासिक धर्म जल्दी लेन का तरीका है तनाव से दूर रहना - Period aane ke gharelu nuskhe hai tanav se door rehna

तनाव के दौरान आपको कई तरह के रोग उत्पन्न होना शुरू हो जाते हैं। इतना ही नहीं तनाव में रहने के कारण आपके मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य पर भी प्रभाव पड़ता है। तनाव होने से हार्मोन का स्तर असंतुलित होता है। जिसका सीधा असर आपके मासिक धर्म पर पड़ता है। यदि आप मासिक धर्म को जल्दी लाना चाहते हैं तो आपको तनाव को दूर करना होगा। इसके लिए आप डॉक्टर से परामर्श ले सकती हैं या योग से भी अपने तनाव को कम कर सकती हैं। तनाव के कम होने करने से आपका मासिक धर्म सही समय पर या जल्द आना शुरू हो जाएगा।

(और पढ़ें – तनाव से राहत के लिए योग)

मासिक धर्म जल्दी लाने का उपाय है यह मसाले - Masik dharm jaldi lane ka upay hai yah masale

  • मेथी के बीज - पानी में बीज को उबालें, उन्हें छानें और पानी पीते रहें।
  • सौंफ के बीज - रात में एक गिलास पानी में दो छोटी चम्मच सौंफ के बीज को मिला लें, छानें और सुबह इसे पिएं।
  • धनिया के बीज - 1 छोटी चम्मच धनिया बीज को दो कप पानी में उबालें जब तक की यह पानी एक कप ना हो जाए। बीज को छानें और कुछ दिनों के लिए एक दिन में तीन बार इसे पिएं।
  • तिल के बीज -दिन में 1 चम्मच तिल के बीज को 2 बार गर्म पानी के साथ लें।

(और पढ़ें - अनियमित मासिक धर्म के कारण और उपाय)

माहवारी लाने की दवा है नारियल पानी - MC jaldi aane ka tarika hai nariyal pani

नारियल पानी में कई ऐसे प्राकृतिक गुण मौजूद होते हैं जो आपके गर्भाशय को सही करते हैं। माहवारी को जल्द लाने के लिए आप इसका इस्तेमाल कर सकती हैं। आपको  खाली पेट नारियल पानी का सेवन होगा और इसके बाद भी आप करीब चार से पांच घंटों तक कुछ न खाएं। इस बीच आप पानी पी सकती हैं। इस दौरान आपको करीब 300 से 400 मिली लीटर ताजा नारियल पानी को धीरे-धीरे पीना चाहिए। बेहतर परिणाम पाने के लिए आप शाम को भी नारियल पानी पी सकती हैं।

(और पढ़ें - नारियल तेल के फायदे और नुकसान

मासिक धर्म चक्र को जल्द लाने का उपाय है सहजन - Period jaldi lane ki medicine hai sahjan

सहजन से आपका मासिक धर्म चक्र को जल्द किया जा सकता है। सहजन के पेड़ की पत्तियां और फूलों में प्रचुर मात्रा में विटामिन सी, विटामिन ए और ऑयरन पाया जाता है। यह सभी विटामिन प्रेग्नेंसी को टालने के लिए भी काम आते हैं। इसके सेवन के लिए आपको एक कप सहजन की पत्तियां लेनी होगी। इसके बाद आप इनका जूस निकाल लें और सुबह उठने के बाद इस जूस का सेवन करें। इसके अलावा आप सहजन को हल्दी और नमक के साथ पानी में उबाल कर खाली पेट इस पानी का सेवन कर सकती हैं। इससे आपके पीरियड्स जल्द होते हैं। लेकिन आपका ब्लड प्रेशर कम हो तो इस उपाय को न करें।

(और पढें - अनियमित मासिक धर्म के कारण और उपचार)

पीरियड्स जल्दी लाने के लिए करें दालचीनी का उपयोग - Date jaldi aane ki medicine hai dalchini ka upyog

दालचीनी शरीर की गर्मी को बढ़ाती है। इसमें मौजूद तत्व इंसुलिन के स्तर को नियमित करते हैं। इसके सेवन के लिए आपको आधा चम्मच दालचीनी का पाउडर को गर्म दूध में मिलाकर पी सकती हैं, जब तक आपको सही परिणाम न मिलें तब तक इसका नियमित सेवन करती रहें। इसके अलावा आप खाने और चाय में दालचीनी के पाउडर को डालकर ग्रहण कर सकती हैं।

(और पढ़ें - दालचीनी दूध के फायदे)


मासिक धर्म जल्दी लाने में बड़े काम के हैं ये उपाय सम्बंधित चित्र

Dr. Sushila Kataria

Dr. Sushila Kataria

सामान्य चिकित्सा

Dr. Sanjay Mittal

Dr. Sanjay Mittal

सामान्य चिकित्सा

Dr. Prabhat Kumar Jha

Dr. Prabhat Kumar Jha

सामान्य चिकित्सा

मासिक धर्म जल्दी लाने के उपाय, टेबलेट व देरी के कारण से जुड़े सवाल और जवाब

सवाल लगभग 2 महीना पहले

मैंने पीरियड्स लाने के लिए 'Aminor 5mg' टेबलेट 5 दिन के लिए ली थी,लेकिन पीरियड्स नहीं आए। मुझे बताएं कि मैं क्या करूं?

Dr. Manju Shekhawat MBBS, सामान्य चिकित्सा

अगर आपने Aminor 5mg टेबलेट की गोली दिन में एक बार ली है, तो आपको उससे पीरियड्स नहीं आएंगें। यह गोली एक दिन में 3 बार 5 दिन तक लेनी होती है।

सवाल लगभग 1 महीना पहले

मुझे पीसीओडी की प्रॉब्लम है जिसके लिए मैंने अपना टेस्ट करवाया था, रिपोर्ट नॉर्मल आई थी। पहली बार बिना दवाई के पीरियड्स होने वाले थे लेकिन अभी तक नहीं हुए। मुझे क्या करना चाहिए?

Dr. Haleema Yezdani MBBS, सामान्य चिकित्सा

पीसीओडी की समस्या हार्मोनल असंतुलन की वजह से होती है जिसके इलाज का कोर्स  9 से 12 महीने तक चलता है। इस कोर्स में डॉक्टर आपको हार्मोनल दवाईयां देते हैं। पीसीओडी की समस्या के लिए आप दवाईयां ले रही हैं तो इसका असर तब ही होगा जब आप दवाई लेने के साथ-साथ रोजाना एक्सरसाइज भी करेंगीं और डाइट को थोड़ा कंट्रोल रखेंगीं ताकि वजन अधिक न बढे। इसके लिए आपको अपनी जीवनशैली में कुछ बदलाव करने की जरूरत है। पीसीओडी का कोर्स पूरा होने के बाद भी आपको डाइट कंट्रोल और एक्सरसाइज करते रहना चाहिए। लापरवाही करने से पीसीओडी की समस्या फिर से हो सकती है।

सवाल 29 दिन पहले

मेरी पीरियड्स महीने की 4 तारीख को आते हैं लेकिन मुझे पीरियड्स अभी तक नहीं आए हैं। क्या मैं Premoult टैबलट ले सकती हूं?

Dr. Anjum Mujawar MBBS, मधुमेह चिकित्सक

आप विवाहित हैं तो अपना प्रेग्नेंसी टेस्ट करवा लें, अगर नहीं हैं तो एक हफ्ता इंतजार करें। अगर फिर भी आपके पीरियड्स नहीं आते हैं तो डॉक्टर से सलाह लेकर आप इस टैबलेट को ले सकती हैं।

सवाल 22 दिन पहले

मैंने अपना बीटा एचसीजी टेस्ट कवाया था जिसकी रिपोर्ट में एचसीजी 0.1 miu/ml आया है। मुझे क्या करना चाहिए?

Dr. Ayush Pandey MBBS, सामान्य चिकित्सा

आप दिन में 3 बार 7 दिन तक टैबलेट Primolut N की 1 गोली लें। दवा बंद करने के 3 से 5 दिन बाद पीरियड्स आ जाएंगें।

और पढ़ें ...

References

  1. Yamamoto K, Okazaki A, Sakamoto Y, Funatsu M. The relationship between premenstrual symptoms, menstrual pain, irregular menstrual cycles, and psychosocial stress among Japanese college students. J Physiol Anthropol. 2009;28(3):129-36. PMID: 19483374
  2. Office on Women's Health [Internet] U.S. Department of Health and Human Services; Period problems.
  3. American College of Obstetricians and Gynecologists [Internet] Washington, DC; Combined Hormonal Birth Control: Pill, Patch, and Ring
  4. Better health channel. Department of Health and Human Services [internet]. State government of Victoria; Contraception – the combined pill
  5. Jinju Bae, Susan Park, Jin-Won Kwon. Factors associated with menstrual cycle irregularity and menopause . BMC Womens Health. 2018; 18: 36. PMID: 29409520
  6. MedlinePlus Medical Encyclopedia: US National Library of Medicine; Mifepristone (Mifeprex)
  7. Xiao B, von Hertzen H, Zhao H, Piaggio G. Menstrual induction with mifepristone and misoprostol. Contraception. 2003 Dec;68(6):489-94. PMID: 14698080
  8. Steven M. Platek, Todd K. Shackelford. Female Infidelity and Paternal Uncertainty: Evolutionary Perspectives on Male Anti-Cuckoldry Tactics. Cambridge University Press
  9. Wei WL et al. Angelica sinensis in China-A review of botanical profile, ethnopharmacology, phytochemistry and chemical analysis. J Ethnopharmacol. 2016 Aug 22;190:116-41. PMID: 27211015
  10. MedlinePlus Medical Encyclopedia: US National Library of Medicine; Dong Quai
  11. Bostanci et al. The Effects of Ascorbic Acid on the Estrogen/Progesteron Levels in the Isolated Rabbit Uterine Muscle. J Clin Gynecol Obstet • 2012;1(4-5):63-66
  12. Kashefi F et al. Effect of ginger (Zingiber officinale) on heavy menstrual bleeding: a placebo-controlled, randomized clinical trial. Phytother Res. 2015 Jan;29(1):114-9. PMID: 25298352
  13. Parvin Rahnama. Effect of Zingiber officinale R. rhizomes (ginger) on pain relief in primary dysmenorrhea: a placebo randomized trial . BMC Complement Altern Med. 2012; 12: 92. PMID: 22781186
  14. Leyla Bayan, Peir Hossain Koulivand, Ali Gorji. Garlic: a review of potential therapeutic effects. Avicenna J Phytomed. 2014 Jan-Feb; 4(1): 1–14. PMID: 25050296
  15. Eunice Kennedy Shriver National Institute of Child Health and Human; National Health Service [Internet]. UK; What are the common treatments for menstrual irregularities?
  16. South Dakota Department of Health. INDUCED ABORTION METHODS & RISKS. [Internet]
  17. Office on Women's Health [Internet] U.S. Department of Health and Human Services; Problem periods.