myUpchar प्लस+ के साथ पुरे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

चिकन दुनिया में सबसे सामान्य प्रकार की पोल्ट्री है। हजारों सालों से इसे पाला और खाया जाता है। माना गया है कि मुर्गियों को सबसे पहले भारत में इन्हें लड़ने के लिए पाला गया था, फिर बाद में इनको मांस खाने के लिए पाला जाने लगा था। बाद में मुर्गी को एशिया, अफ्रीका और यूरोप के दूसरे हिस्सों में पाला जाने लगा और अंततः यह अमेरिका में भी पाले जानी लगी थी। 

(और पढ़ें - मछली खाने के लाभ और नुकसान)

19वीं सदी तक मुर्गियों को मांस और उनके अंडे के लिए घरों में पाला जाता था। 19वीं और 20वीं शताब्दी के बाद आबादी बढ़ने के कारण इनकी मांग बढ़ने से इन्हें अधिक मात्रा में चिकन फार्मिंग के लिए पाला जाने लगा। 

(और पढ़ें - मीट खाने के फायदे और नुकसान)

इसकी माँगा बढ़ने के कारण उत्पादन में वृद्धि करना पर रहा था। इसलिए बड़े पैमाने पर चिकन की खेती के लिए कई नस्लों को जन्म देना पड़ा जिनमें अमेरिकी, भूमध्यसागरीय, अंग्रेजी, एशियाटिक, प्लायमाउथ रॉक, वायंडोटे, रोड आइलैंड रेड, न्यू हैम्पशायर, ब्लैक कोचीन, रेड मलय गेम फ़ॉल और लेघर्न आदि शामिल हैं। इतनी नस्ल होने के बावजूद चिकन स्वस्थ और उच्च पोषण मूल्य के होते हैं

यूएसडीए ( USDA) के अनुसार 100 ग्राम चिकन में 65 ग्राम नमी, 215 कैलरी, 18 ग्राम प्रोटीन, 15 ग्राम वसा 4 ग्राम संतृप्त वसा, 75 मिलीग्राम कोलेस्ट्रॉल, 11 मिलीग्राम कैल्शियम, 0.9 मिलीग्राम आयरन, 20 मिलीग्राम मैग्नीशियम, 147 मिलीग्राम फास्फोरस, 189 मिलीग्राम पोटेशियम, 70 मिलीग्राम सोडियम और 1.3 मिलीग्राम जस्ता के साथ-साथ विटामिन सी, थायामिन, राइबोफ्लेविन, नियासिन, विटामिन बी-6, फोलेट, विटामिन बी-12, विटामिन ए, विटामिन ई, विटामिन डी और विटामिन k पाया जाता है।

तो चलिए चिकन के स्वास्थ्य लाभों के बारे में जानते हैं -

  1. चिकन के फायदे - Chicken ke fayde in hindi
  2. चिकन के नुकसान - Chicken ke nuksan in hindi

चिकन में प्रोटीन की मात्रा - Chicken good source of protein in hindi

चिकन सामान्यतः लोगों के भोजन में पाए जाने वाले उच्चतम प्रोटीन सप्लायर्स में से एक है। 100 ग्राम चिकन में 18 ग्राम प्रोटीन पाया जाता है। हमारे आहार में प्रोटीन महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह अमीनो एसिड से बना होता है जो प्रोटीन बनाता है और हमारी मांसपेशियों के निर्माण में मदद करता है। सामान्य लोगों के लिए प्रतिदिन उनके 1 किलो वजन के लिए 1 ग्राम प्रोटीन की आवश्यकता होती है। मान लें अगर किसी का वजन 40 किलो है तो उन्हें प्रतिदिन 40 ग्राम प्रोटीन लेने की हिदायत दी जाती है। वहीँ एथलीटेस के लिए उनके 1 किलो वजन के लिए 1.2 ग्राम से 1.8 ग्राम प्रोटीन की सिफारिश की गई है जो की सामान्य लोगों के प्रोटीन की आवशकता का दोगुना होता है।

(और पढ़ें – प्रोटीन युक्त भारतीय आहार)

चिकन के लाभ विटामिन्स और मिनरल्स के लिए - Vitamins and minerals in chicken in hindi

चिकन न केवल प्रोटीन बहुत अच्छा स्रोत है बल्कि यह विटामिन और खनिजों का भी बहुत अच्छा स्रोत माना जाता है। हमारे शरीर की कई गतिविधियों के लिए विटामिन और खनिज बहुत आवश्यक होते हैं। उदाहरण के लिए विटामिन बी मोतियाबिंद और त्वचा विकारों को रोकने, प्रतिरक्षा बढ़ाने, कमजोरी को नष्ट करने, पाचन को नियंत्रित करने, तंत्रिका तंत्र में सुधार करने के साथ-साथ माइग्रेन, हृदय विकार, उच्च कोलेस्ट्रॉल और मधुमेह को रोकने में उपयोगी है।

विटामिन डी कैल्शियम अवशोषण और हड्डी को मजबूत बनाने में मदद करता है। विटामिन ए आँखों की दृष्टि बनाए रखने में मदद करता है और आयरन लाल रक्त कोशिका के निर्माण में मांसपेशी की गतिविधि बनाए रखने में और एनीमिया को नष्ट करने में मदद करता है। पोटेशियम और सोडियम इलेक्ट्रोलाइट हैं, फास्फोरस कमजोरी, हड्डी स्वास्थ्य, मस्तिष्क समारोह, दंत चिकित्सा, और चयापचय संबंधी समस्या में मदद करता हैं।

 (और पढ़ें – महिला स्वास्थ्य के लिए अत्यंत ज़रूरी है ये 10 विटामिन)

चिकन खाने के फायदे वजन कम करने में - Chicken helps in weight loss in hindi

उच्च प्रोटीन युक्त आहार वजन घटाने में प्रभावी होते हैं। चिकन वजन घटाने में मदद करता है क्योंकि इससे हमारे शरीर को उच्च मात्रा में प्रोटीन प्रदान होता है। अध्ययन और परीक्षणों से पता चला है कि जो लोग नियमित रूप से चिकन खाते हैं उनका वजन नियंत्रण में रहता है।

(और पढ़ें - वजन घटाने के घरेलू उपचार)

चिकन खाने के लाभ करे रक्त चाप कम - Chicken reduces blood pressure in hindi

रक्तचाप को नियंत्रित करने के लिए भी चिकन का सेवन अच्छा होता हैं यह कई अफ्रीकी, अमेरिकी हाई ब्लड प्रेशर वाले लोगों में देखा गया था कि चिकन के सेवन के बाद उनका रक्तचाप सामान्य हो गया था। हालांकि आहार में उन्होंने चिकन के साथ कम वसायुक्त आहार, सब्जियों, फल और नट्स का सेवन भी किया था।

(और पढ़ें – उच्च रक्तचाप के लिए फायदेमंद है यह खास ड्रिंक)
 

चिकन खाने से लाभ है कैंसर में - Chicken good for cancer in hindi

अध्ययनों से पता चला है कि जब मांसाहारी लोगों ने लाल मांस का सेवन अधिक किया तो उनमें कोलोरेक्टल कैंसर का खतरा बढ़ गया था। जब वे चिकन और मछली खाने लगे तो उनमें कोलोरेक्टल कैंसर के विकास का खतरा कम हो गया। अध्ययनों से निष्कर्ष निकला कि चिकन खाने से लाल मांस खाने की तुलना में कोलोरेक्टल कैंसर का खतरा कम होता है।

(और पढ़ें – कैंसर से लड़ने वाले दस बेहतरीन आहार)
 

चिकन खाने से कम होता है कोलेस्ट्रॉल - Chicken for high cholesterol in hindi

लाल मांस में संतृप्त वसा और कोलेस्ट्रोल की मात्रा चिकन, मछली और सब्जियों की तुलना में बहुत अधिक होती है। अमेरिकी हार्ट एसोसिएशन ने कोलेस्ट्रॉल और हृदय रोग के खतरे को कम करने के लिए लाल मांस की बजाय चिकन या मछली के सेवन की सलाह दी है। अमेरिकी हार्ट एसोसिएशन ने यह भी कहा है कि चिकन या मछली का सेवन सामान्य मात्रा में करना चाहिए क्योंकि इसकी अत्यधिक खपत से भी कोलेस्ट्रॉल और हृदय रोग बढ़ सकता है।

(और पढ़ें – कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए क्या खाएं)

चिकन सूप के फायदे सर्दी खासी में - Chicken soup best for cold in hindi

गर्म गर्म चिकन सूप का सेवन आम सर्दी से राहत पाने में मदद करता है। जैसे नाक में कफ के जमने और गले के घाव आदि में भी राहत प्रदान करता है।

(और पढ़ें – सर्दी जुकाम के घरेलू उपाय)
 

  1. फ्राइड चिकन की तुलना में लोग ग्रिल्ड चिकन अधिक पसंद करते हैं पर ग्रिल्ड चिकन में एमिनो मिथाइल फेनिलिमिडाज़ो और पैराइडिन (2-Amino-1-methyl-6-phenylimidazo[4,5-b]pyridine) पाया जाता है जो स्तन और प्रोस्टेट सहित कुछ प्रकार के कैंसर के विकास का कारण हो सकते हैं।
  2. चिकन उद्योग में मुर्गियों के तेजी से बढ़ने के लिए उन्हें आर्सेनिक खिलाया जाता है जो मनुष्य के लिए अत्यधिक जहरीला होता है और कैंसर, मनोभ्रंश, तंत्रिका संबंधी समस्याओं और अन्य बीमारियों का कारण बन सकता है।
  3. चिकन सहित अन्य प्रकार के मांस को उच्च तापमान पर पकाने से उसमें एचसीए यानि हेटरोसायक्लिक एमाइंस (HCAs - heterocyclic amines) पाए जाते हैं जो कैंसर के खतरे को बढ़ाते हैं।
  4. यह देखा गया है की कई बार ताजा खरीदी गई ब्रॉयलर मुर्गियों में से कैंपाइलोबैक्टर (Campylobacter) या साल्मोनेला (salmonella) अधिक मात्रा में थे। कैम्पबेलोबैक्टर अमेरिका में फ़ूड पोइज़निंग का मुख्य कारण है।
  5. एवियन फ्लू एक गंभीर बीमारी है जो पोल्ट्री के माध्यम से फैलती है। इस बीमारी में निमोनिया के लक्षण के साथ-साथ अंग काम करना बंद कर देते हैं और लोग बीमार रहने लगते हैं। यहां तक की मौत भी हो सकती है।

 (और पढ़ें – निमोनिया का घरेलू उपचार)


चिकन खाना है, सेहत के लिए लाभदायक सम्बंधित चित्र

और पढ़ें ...