myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

आज की महिलाएं स्वास्थ्य को लेकर जागरूक हैं और स्वस्थ आहार खाना पसंद करती हैं। एक स्वस्थ आहार में विटामिन्स का सही संयोजन होता है। इष्टतम स्वास्थ्य और विभिन्न प्रकार की स्वास्थ्य समस्याओं को रोकने के लिए हर उम्र और वजन की महिलाओं को विभिन्न प्रकार के विटामिन्स का उपभोग करने की आवश्यकता है।

विटामिन्स कार्बनिक यौगिक (organic compounds) हैं जो शरीर के विभिन्न हिस्सों को ठीक से कार्य करने में मदद करते हैं। प्रत्येक विटामिन एक विशिष्ट कार्य करता है। आवश्यक विटामिन की कमी कुछ गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकती है। यही कारण है कि खाने वाले खाद्य पदार्थों से इन विटामिन्स को प्राप्त करना आवश्यक है।

  1. विटामिन ए के फायदे बढ़ाएँ महिलाओं की प्रतिरक्षा प्रणाली - Vitamin A Rich Foods for Women in Hindi
  2. विटामिन बी 2 के लाभ महिलाओं में दूर करें तनाव और थकान - Vitamin B2 Benefits for Ladies in Hindi
  3. विटामिन बी 6 बचाएँ महिलाओं को एनीमिया से - Vitamin B6 Needed for Women's Health in Hindi
  4. विटामिन बी7 है कोशिकाओं के विकास में सहायक - Vitamin B7 Food Supplement for Women in Hindi
  5. विटामिन बी 9 है ज़रूरी गर्भवती महिलाओं के लिए - Vitamin B9 for Women in Hindi
  6. विटामिन बी 12 खाद्य पदार्थ दूर करे अवसाद - Vitamin B12 Important for Women in Hindi
  7. विटामिन सी के लाभ महिलाओं के लिए - Vitamin C for Ladies in Hindi
  8. विटामिन डी फूड्स रखे हड्डियों को मजबूत - Vitamin D for Women's Health in Hindi
  9. विटामिन ई के फायदे करें उम्र को धीमा - Vitamin E Important for Ladies in Hindi
  10. विटामिन के रिच फूड्स महिलाओं के लिए - Vitamin K Supplement for Women in Hindi

विटामिन ए में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं। सभी उम्र की महिलाओं को हड्डियों, दांत, कोमल ऊतक (Soft Tissue), त्वचा और श्लेष्मा झिल्ली (Mucous Membranes) को मजबूत बनाने में विटामिन ए महत्वपूर्ण होता है। विटामिन ए पुरानी बीमारी के खतरे को कम करता है, दृष्टि में सुधार, उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को धीमा करता है और प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देता है।

विटामिन ए में समृद्ध खाद्य पदार्थों में शामिल हैं गाजर, कद्दू, खुबानी, टमाटर, तरबूज, अमरूद, ब्रोकोली, काली, पपीता, आड़ू, लाल मिर्च, पालक, अंडे, दूध आदि।

(और पढ़ें – विटामिन ए के स्रोत)

विटामिन बी2 को राइबोफ्लेविन के रूप में भी जाना जाता है। विटामिन बी2 अच्छे स्वास्थ्य, सामान्य वृद्धि और चयापचय के लिए आवश्यक है। यह झुनझुनाहट, अकड़न, चिंतातनाव और थकान को कम करता है और ऊर्जा को बढ़ावा देने और प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाने में मदद करता है।

विटामिन बी2 की कमी प्रतिरक्षा प्रणाली, चयापचय और तंत्रिका कार्यों को प्रभावित कर सकती है। जिसके कारण पीली आंखेँ और जीभ, गले में खराश, मुँह के छाले, होठों का फटना, सूखे बाल, झुर्रियों और खुजली वाली त्वचा जैसी कई समस्याए उत्पन्न हो सकती है। 

(और पढ़ें - खुजली दूर करने के घरेलू उपाय)

विटामिन बी2 में समृद्ध पदार्थों में से कुछ है मांस, पनीर, दूध, दही, पत्तेदार सब्जियां, खमीर, अंडे, साबुत अनाज, सोयाबीन, बादाम, नट और मशरूम आदि।

(और पढ़ें – विटामिन बी के स्रोत)

विटामिन बी6 को पिरइडॉक्सिन के रूप में भी जाना जाता है जो एक स्वस्थ प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए एक आवश्यक विटामिन है। यह विशेष रूप से हार्मोन और मस्तिष्क के रसायनों के उत्पादन में मदद करता है, जिससे बदले में अवसाद, हृदय रोग और स्मृति हानि (Memory loss) को कम करने में मदद करता है।

यह आपके रक्त शर्करा के स्तर को विनियमित करने में भी मदद कर सकता है। मॉर्निंग सिकनेस से छुटकारा पाने के लिए गर्भवती महिलाओं को विटामिन बी 6 से युक्त भोजन खा सकती हैं। शरीर में विटामिन बी6 की कमी से एनीमिया हो सकता है। 

(और पढ़ें - खून की कमी का कारण)

विटामिन बी 6 में समृद्ध खाद्य पदार्थों में शामिल हैं अनाज, ऐवोकैडो, केले, मांस, सेम, मछली, दलिया, नट, बीज और सूखे फल आदि। 

(और पढ़ें – आंवला का मुरब्बा है एनीमिया के लिए उपयोगी)

विटामिन बी7 को बायोटिन के रूप में जाना जाता है। विटामिन बी7 फैटी एसिड की कोशिकाओं के विकास और संश्लेषण के लिए आवश्यक है। यह विटामिन पसीने की ग्रंथियों, बाल और त्वचा को स्वस्थ रखता है। वास्तव में, यह बालों के विकास को बढ़ावा देता है और भंगुर नाखूनों के इलाज में मदद करता है। इसके अलावा, विटामिन बी7 हड्डियों के विकास और अस्थि मज्जा (बोने मॅरो) के लिए आवश्यक है और कोलेस्ट्रॉल के स्तर को सामान्य बनाए रखने में मदद करता है ।

यद्यपि विटामिन बी-7 की कमी बहुत दुर्लभ होती है, लेकिन यह अगर हो तो यह बालों का टूटना, चकत्ते, असामान्य हृदय कामकाज, सुस्ती, एनीमिया और हल्के अवसाद का कारण बन सकती है।

विटामिन बी 7 प्राप्त करने के लिए सबसे अच्छा भोजन विकल्पों में से कुछ हैं मछली, मीठे आलू, बादाम, गाजर, केला, गन्ने का पौधा, पीले फल, हरी पत्तेदार सब्जियां, दाल, भूरे चावल, मिर्च, अंडा योर, सोयाबीन, दलिया, दूध, पनीर, दही और नट्स आदि।

विटामिन बी9 को फोलिक एसिड के रूप में भी जाना जाता है जो हर महिला के लिए आवश्यक होता है क्योंकि यह हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर, अल्जाइमर, अवसाद , कैंसर और स्मृति हानि को रोकने में मदद करता है। यह मस्तिष्क स्वास्थ्य और सेलुलर कार्यों को बढ़ाता है और गर्भावस्था के दौरान प्रजनन और भ्रूण के विकास में सुधार करता है।

(और पढ़ें - गर्भ ठहरने के उपाय और पुत्र प्राप्ति के लिए क्या करें)

गर्भवती महिलाओं में विटामिन बी9 की कमी बच्चे में न्यूरल ट्यूब नामक रोग पैदा कर सकती है जैसे स्पाइना बिफिडा।

विटामिन बी9 से समृद्ध खाद्य पदार्थों में हरी पत्तेदार सब्जियां, संतरे का रस, शतावरी, खरबूजा, स्ट्रॉबेरी, अनाज, फलियां, सेम, पोषण खमीर और अंडे शामिल हैं। 

(और पढ़ें –  प्रेगनेंसी में होने वाली समस्याएं और गर्भवती महिला के लिए भोजन)

विटामिन बी12 एक ओर अन्य आवश्यक विटामिन है जो हर महिला को खाना चाहिए। यह चयापचय, सामान्य कोशिका विभाजन और प्रोटीन संश्लेषण के लिए महत्वपूर्ण होता है। यह विटामिन हृदय रोग, याददाश्त और एनीमिया को रोकने में मदद करता है।

यह भी अवसाद का इलाज और स्वस्थ तंत्रिका तंत्र और मस्तिष्क कामकाज को बनाए रखने में मदद करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। विटामिन बी 12 की कमी, चिड़चिड़ापन, अवसाद और भ्रम की स्थिति पैदा कर सकती है। यह जीभ और मुंह की सूजन भी पैदा कर सकती है।

विटामिन बी12 के लिए कुछ सर्वोत्तम खाद्य स्रोत हैं पनीर, अंडे, मछली, मांस, दूध, दही और अनाज आदि।

विटामिन सी एक प्रतिरक्षा बूस्टर के रूप में जाना जाता है और विटामिन सी के महिलाओं के लिए कई स्वास्थ्य लाभ होता हैं। यह ऊतको के विकास को बढ़ावा देता है, कुछ प्रकार के कैंसर, हृदय रोग और ऊतक क्षति को कम करता है। यह लाल रक्त कोशिकाओं के निर्माण में भी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

सबसे अच्छे विटामिन सी युक्त खाद्य पदार्थ हैं ब्रोकली, अंगूर, कीवी, नारंगी, मिर्च, आलू, स्ट्रॉबेरी, स्प्राउट्स और टमाटर आदि।

(और पढ़ें – विटामिन सी के फायदे)

विटामिन डी एक वसा में घुलनशील विटामिन है जो कैल्शियम के अवशोषण को बढ़ावा देता है और हड्डियों को मजबूत रखने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। विटामिन डी कई काठिन्य(multiple sclerosis), संधिशोथ (Rheumatoid arthritis) और विभिन्न प्रकार के कैंसर के खतरे को कम करता है।

यह मासिक धर्म सिंड्रोम के लक्षणों को कम करने में मदद करता है। यह आपकी दृष्टि की रक्षा करने में भी मदद करता है। इस विटामिन की कमी आपकी हड्डियों को कमजोर कर देती है जो ऑस्टियोपोरोसिस का कारण बन सकती हैं।

दिन में 15 मिनट के लिए ली गई सूर्य की रोशनी आपके शरीर को पर्याप्त मात्रा में विटामिन डी दे सकती है। इसके अलावा, आप वसायुक्त मछली, दूध और अंडे जैसे विटामिन डी से भरपूर खाद्य पदार्थ खा सकते हैं।

(और पढ़ें – विटामिन डी के स्रोत)

विटामिन ई में एंटी एजिंग गुण होते हैं जो कोशिका क्षति से लड़ते है और उम्र बढ़ने के परिवर्तन को धीमा करती है। यह विटामिन हृदय रोग, मोतियाबिंद, याददाश्त और कैंसर के कुछ प्रकार को भी रोकने में मदद करता है।

इसके अलावा, विटामिन ई त्वचा और बालों के लिए आवश्यक होता है। यह अक्सर बाल और त्वचा की देखभाल के उत्पादों में मिलाया जाता है। विटामिन ई में समृद्ध खाद्य पदार्थ हैं गेहूं के बीज, बादाम, पालक, मार्जरीन, मकई का तेल, मूंगफली का मक्खन, कुसुम तेल और सूरजमुखी के बीज आदि। 

(और पढ़ें – विटामिन ई के स्रोत)

विटामिन के मजबूत हड्डियों को बढ़ावा देने, सामान्य रक्त के थक्के को बनाए रखने और विभिन्न हृदय रोगों के खतरे को कम करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह विशेष विटामिन प्रतिरक्षा कामकाज और ऊर्जा के लिए आवश्यक है।

विटामिन के सर्वश्रेष्ठ भोजन स्रोतों में से कुछ हैं साबुत अनाज से बने खाद्य उत्पाद, हरी पत्तेदार सब्जियां, सोयाबीन तेल और मछली का तेल आदि।

और पढ़ें ...