myUpchar प्लस+ के साथ पूरेे परिवार के हेल्थ खर्च पर भारी बचत

कोकीन एक नशीला पदार्थ है जो सीधे दिमाग को प्रभावित करता है। हालांकि इसका प्रभाव थोड़ी देर के लिए रहता है, लेकिन इसके सेवन से दिमाग बार-बार कोकीन की ओर आकर्षित होता है और इसे बड़ी मात्रा में लेने के लिए प्रेरित करता है। इसका एक बार सेवन करने से आपको जल्दी ही इसकी लत लग सकती है, इसलिए कोकीन को खतरनाक मादक पदार्थ माना जाता है।

फिलहाल भारत में कोकीन का प्रयोग करना या रखना अवैध है और एनडीपीएस एक्ट के तहत एक दंडनीय अपराध है, लेकिन जो लोग कानून की नजर से बचकर चोरी-छिपे इसका इस्तेमाल करने के लिए मजबूर हैं उनके लिए एक नया शोध काफी फायदेमंद साबित हो सकता है। इस शोध में पता चला है कि एक्सरसाइज के जरिए इस बुरी लत से छुटकारा पाया जा सकता है।

कोकीन की लत से जुड़ा यह शोध न्यूयॉर्क की एक यूनिवर्सिटी में किया गया था। इस यूनिवर्सिटी के शोधकर्ता पैनायोटिस (पीटर) थैनोज ने अपने शोध के परिणामों में पाया कि कोकीन की लत को छुड़ाने में एक्सरसाइज सहायक हो सकती है। यूनिवर्सिटी के शोधकर्ता और वरिष्ठ अनुसंधान वैज्ञानिक डॉ. पनायोटिस थानोस ने अपने अध्ययन में जानवरों पर प्रयोग किया था और इस दौरान उन्होंने पाया कि यदि सप्ताह में पांच बार एक घंटे के लिए ट्रेडमिल पर चलें तो इससे कोकीन लेने से खुद को रोकने पर होने वाले स्ट्रेस में कमी आ सकती है और इस तरह धीरे-धीरे इसकी लत में कमी आती है।

(और पढ़ें - नशे की लत के कारण))

थानोस कहते हैं कि "शोध के परिणामों से पता चला है कि जो लोग कोकीन की लत छोड़ना चाहते हैं उन्हें रोज एरोबिक एक्सरसाइज करने से फायदा होता है। एक्सरसाइज तनाव के प्रति व्यवहारिक और मानसिक प्रतिक्रिया में भी बदलाव लाती है।" उन्होंने कहा कि "इस संदर्भ में और अधिक शोध करने की जरूरत है, ताकि इस बात का पता चल सके कि एक्सरसाइज दूसरे तरह के नशे से भी मुक्ति दिलाती हैं या नहीं।" 

इसके अलावा, शोध से पता चलता है कि नियमित रूप से किया गया व्यायाम, तनाव को कम करने और मूड को अच्छा रखने में अहम भूमिका निभाता है, जिस कारण चिंता व नकारात्मक भावनाओं से दूर रहने में मदद मिलती है। 

शोध के अनुसार, एरोबिक एक्सरसाइज (जिसे "कार्डियो" भी कहा जाता है) तनाव, चिंता और अवसाद जैसी समस्याओं से निजात दिलाने के साथ-साथ हृदय रोग, डायबिटीज और गठिया सहित कई अन्य स्वास्थ्य समस्याओं को भी दूर करने में असरदार है। 

यह अध्ययन एन.वाई रिसर्च फाउंडेशन द्वारा स्पॉन्सर किया गया था, जोकि 'बिहेवियर ब्रेन रिसर्च' के ऑनलाइन एडिशन में प्रकाशित हुआ है। इस शोध के लेखकों में अल्बेनी मेडिकल कॉलेज में न्यूरोसाइंस और एक्सपेरीमेंटल थेराप्यूटिक्स विभाग की लिसा एस. रॉबिसन (डॉ. थानोस की एक पूर्व स्नातक छात्र), न्यूयॉर्क टेक्नोलॉजी कॉलेज ऑफ ओस्टियोपैथिक मेडिसिन की ल्यूक अलेस्सी और इस शोध के प्रमुख डॉ. पनायोटिस थानोस शामिल थे।

एक बार कोकीन लेने पर दिमाग बार-बार इसे लेने के लिए परेशान करता है जिससे किसी को भी बड़ी आसानी से इसकी लत लग जाती है। अगर आप किसी ऐसे व्यक्ति को जानते हैं जिसे कोकीन की लत हो तो उसे एक्सरसाइज करने की सलाह जरूर दें।

(और पढ़ें - नशे से छुटकारा पाने के घरेलू उपाय)

और पढ़ें ...